Hindi Lekh

गुरु तेग़ बहादुर शहीदी दिवस पर भाषण – Guru Tegh Bahadur’s Martyrdom Day Speech in Hindi & English

गुरु तेग बहादुर शहीदी दिवस 2018: सिख समुदाय के नौवे गुरु तेग बहादुर जी एक सदाचारी व्यक्ति थे | गुरु तेग बहादुर का जन्म 18 अप्रैल 1621 को अमृतसर में हुआ था | गुरु तेग बहादुर सिखों के 9वे गुरु थे और उनका असली नाम त्याग मल था | उनकी शहादत के लिए गुरु तेग बहादुर की पुण्यतिथि 24 नवंबर को शहीदी दिवस के तौर पर मनाया जाता है | इस्लाम कबूल न करने पर चांदनी चौक में मुग़ल बादशाह औरंगजेब ने उनका सिर कटवा दिया था | आज उसी जगह पर शीषगंज नाम से गुरुद्वारा बना हुआ है | उनके त्याग और बलिदान के लिए उन्हें “हिन्द दी चादर” भी कहा जाता है |

गुरु तेग़ बहादुर शाहिद दिवस स्पीच

आइये अब हम आपको Guru Teg Bahadur Ji Pictures, गुरु तेग़ बहादुर पर भाषण, गुरु तेग़ बहादुर शहीदी दिवस पर कविता,speech on guru tegh bahadur in english, Guru Tegh Bahadur’s Martyrdom Day Essay, guru teg bahadur speech, गुरु तेग बहादुर शहीदी दिवस, आदि की जानकारी किसी भी भाषा जैसे Hindi, Urdu, गुरु तेग बहादुर शहीदी दिवस कोट्स, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font , 100 words, 150 words, 200 words, 400 words में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं|

सिखों के नौवें गुरु गुरु तेग बहादुर की पुण्यतिथि को शहीदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। गुरु तेग बहादुर 24 नवंबर 1675 को शहीद हुए थे। कुछ इतिहासकारों के अनुसार गुरु तेग बहादुर 11 नवंबर 1675 को शहीद हुए थे। मुगल बादशाह औरंगजेब ने गुरु तेग बहादुर को सिर कटवा दिया था। औरंगजेब चाहता था कि सिख गुरु इस्लाम स्वीकार कर लें लेकिन गुरु तेग बहादुर ने इससे इनकार कर दिया था। गुरु तेग बहादुर के त्याग और बलिदान के लिए उन्हें “हिंद दी चादर” कहा जाता है। मुगल बादशाह ने जिस जगह पर गुरु तेग बहादुर का सिर कटवाया था दिल्ली में उसी जगह पर आज शीशगंज गुरुद्वारा स्थित है। गुरु तेग बहादुर का जन्म 18 अप्रैल 1621 को अमृतसर में हुआ था। गुरु तेग बहादुर का असली नाम त्याग मल था। उन्हें “करतारपुर की जंग” में मुगल सेना के खिलाफ अतुलनीय पराक्रम दिखाने के बाद तेग बहादुर नाम मिला। 16 अप्रैल 1664 को वो सिखों को नौवें गुरु बने थे।

माना जाता है कि चार नवंबर 1675 को गुरु तेग बहादुर को दिल्ली लाया गया था। मुगल बादशाह ने गुरु तेग बहादुर से मौत या इस्लाम स्वीकार करने में से एक चुनने के लिए कहा। उन्हें डराने के लिए उनके साथ गिरफ्तार किए गए उनके तीन ब्राह्मणों अनुयायियों का सिर कटवा दिया गया लेकिन गुरु तेग बहादुर नहीं डरे। उनके साथ गिरफ्तार हुए भाई मति दास के शरीर के दो टुकड़े कर दिए गये, भाई दयाल दास को तेल के खौलते कड़ाहे में फेंकवा दिया गया और भाई सति दास को जिंदा जलवा दिया गया। गुरु तेग बहादुर ने जब इस्लाम नहीं स्वीकार किया तो औरंगजेब ने उनकी भी हत्या करवा दी। अपनी शहादत से पहले गुरु तेग बहादुर ने आठ जुलाई 1975 को गुरु गोविंद सिंह को सिखों का दसवां गुरु नियक्त कर दिया था।

Guru tegh bahadur bhashan

आप ये जानकारी हिंदी, इंग्लिश, मराठी, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलगु, आदि की जानकारी देंगे जिसे आप अपने स्कूल के भाषण प्रतियोगिता, कार्यक्रम या स्पीच प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है| ये स्पीच कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है|

गुरु तेगबहादुर जी का जन्म पंजाब के अमृतसर नगर में हुआ था। ये गुरु हरगोविन्द जी के पाँचवें पुत्र थे। आठवें गुरु इनके पोते ‘हरिकृष्ण राय’ जी की अकाल मृत्यु हो जाने के कारण जनमत द्वारा ये नवम गुरु बनाए गए। इन्होंने आनन्दपुर साहिब का निर्माण कराया और ये वहीं रहने लगे थे । उनका बचपन का नाम त्यागमल था। मात्र 14 वर्ष की आयु में अपने पिता के साथ मुग़लों के हमले के ख़िलाफ़ हुए युद्ध में उन्होंने वीरता का परिचय दिया। उनकी वीरता से प्रभावित होकर उनके पिता ने उनका नाम त्यागमल से तेगबहादुर (तलवार के धनी) रख दिया।

युद्धस्थल में भीषण रक्तपात से गुरु तेगबहादुर जी के वैरागी मन पर गहरा प्रभाव पड़ा और उनका का मन आध्यात्मिक चिंतन की ओर हुआ। धैर्य, वैराग्य और त्याग की मूर्ति गुरु तेगबहादुर जी ने एकांत में लगातार 20 वर्ष तक ‘बाबा बकाला’ नामक स्थान पर साधना की। आठवें गुरु हरकिशन जी ने अपने उत्तराधिकारी का नाम के लिए ‘बाबा बकाले’ का निर्देश दिया। गुरु जी ने धर्म के प्रसार लिए कई स्थानों का भ्रमण किया। आनंदपुर साहब से कीरतपुर, रोपण, सैफाबाद होते हुए वे खिआला (खदल) पहुँचे। यहाँ उपदेश देते हुए दमदमा साहब से होते हुए कुरुक्षेत्र पहुँचे। कुरुक्षेत्र से यमुना के किनारे होते हुए कड़ामानकपुर पहुँचे और यहीं पर उन्होंने साधु भाई मलूकदास का उद्धार किया।

इसके बाद गुरु तेगबहादुर जी प्रयाग, बनारस, पटना, असम आदि क्षेत्रों में गए, जहाँ उन्होंने आध्यात्मिक, सामाजिक, आर्थिक, उन्नयन के लिए रचनात्मक कार्य किए। आध्यात्मिकता, धर्म का ज्ञान बाँटा। रूढ़ियों, अंधविश्वासों की आलोचना कर नये आदर्श स्थापित किए। उन्होंने परोपकार के लिए कुएँ खुदवाना, धर्मशालाएँ बनवाना आदि कार्य भी किए। इन्हीं यात्राओं में 1666 में गुरुजी के यहाँ पटना साहब में पुत्र का जन्म हुआ। जो दसवें गुरु- गुरु गोविंद सिंह बने।

Guru tegh bahadur speech in hindi

गुरु तेगबहादुर जी सिखों के नौवें गुरु माने जाते हैं। औरंगज़ेब के शासन काल की बात है। औरंगज़ेब के दरबार में एक विद्वान पंडित आकर रोज़ गीता के श्लोक पढ़ता और उसका अर्थ सुनाता था, पर वह पंडित गीता में से कुछ श्लोक छोड़ दिया करता था।

एक दिन पंडित बीमार हो गया और औरंगज़ेब को गीता सुनाने के लिए उसने अपने बेटे को भेज दिया परन्तु उसे बताना भूल गया कि उसे किन किन श्लोकों का अर्थ राजा से सामने नहीं करना था। पंडित के बेटे ने जाकर औरंगज़ेब को पूरी गीता का अर्थ सुना दिया। गीता का पूरा अर्थ सुनकर औरंगज़ेब को यह ज्ञान हो गया कि प्रत्येक धर्म अपने आपमें महान है किन्तु औरंगजेब की हठधर्मिता थी कि वह अपने के धर्म के अतिरिक्त किसी दूसरे धर्म की प्रशंसा सहन नहीं थी।

Guru tegh bahadur bhashan

औरंगज़ेब ने सबको इस्लाम धर्म अपनाने का आदेश दे दिया और संबंधित अधिकारी को यह कार्य सौंप दिया। औरंगज़ेब ने कहा -‘सबसे कह दो या तो इस्लाम धर्म कबूल करें या मौत को गले लगा लें।’ इस प्रकार की ज़बर्दस्ती शुरू हो जाने से अन्य धर्म के लोगों का जीवन कठिन हो गया।

जुल्म से ग्रस्त कश्मीर के पंडित गुरु तेगबहादुर के पास आए और उन्हें बताया कि किस प्रकार इस्लाम को स्वीकार करने के लिए अत्याचार किया जा रहा है, यातनाएँ दी जा रही हैं। हमें मारा जा रहा है। कृपया आप हमारे धर्म को बचाइए। गुरु तेगबहादुर जब लोगों की व्यथा सुन रहे थे, उनके 9 वर्षीय पुत्र बाला प्रीतम (गुरु गोविंदसिंह) वहाँ आए और उन्होंने पिताजी से पूछा- ‘पिताजी, ये सब इतने उदास क्यों हैं? आप क्या सोच रहे हैं?’ गुरु तेगबहादुर ने कश्मीरी पंडितों की सारी समस्याएं बाला प्रीतम को बताईं तो उन्होंने पूछा- ‘इसका हल कैसे होगा?’ गुरु साहिब ने कहा- ‘इसके लिए बलिदान देना होगा।’
बाला प्रीतम ने कहा-‘ आपसे महान पुरुष कोई नहीं है। बलिदान देकर आप इन सबके धर्म को बचाइए।’
उस बच्चे की बातें सुनकर वहाँ उपस्थित लोगों ने पूछा- ‘यदि आपके पिता बलिदान देंगे तो आप यतीम हो जाएँगे। आपकी माँ विधवा हो जाएगीं।’

बाला प्रीतम ने उत्तर दिया- ‘यदि मेरे अकेले के यतीम होने से लाखों बच्चे यतीम होने से बच सकते हैं या अकेले मेरी माता के विधवा होने जाने से लाखों माताएँ विधवा होने से बच सकती है तो मुझे यह स्वीकार है।’
तत्पश्चात गुरु तेगबहादुर जी ने पंडितों से कहा कि आप जाकर औरंगज़ेब से कह दें कि यदि गुरु तेगबहादुर ने इस्लाम धर्म ग्रहण कर लिया तो उनके बाद हम भी इस्लाम धर्म ग्रहण कर लेंगे |

गुरु तेगबहादुर दिल्ली में औरंगज़ेब के दरबार में स्वयं गए। औरंगज़ेब ने उन्हें बहुत से लालच दिए, पर गुरु तेगबहादुर जी नहीं माने तो उन पर ज़ुल्म किए गये, उन्हें कैद कर लिया गया, दो शिष्यों को मारकर गुरु तेगबहादुर जी को ड़राने की कोशिश की गयी, पर वे नहीं माने। उन्होंने औरंगजेब से कहा- ‘यदि तुम ज़बर्दस्ती लोगों से इस्लाम धर्म ग्रहण करवाओगे तो तुम सच्चे मुसलमान नहीं हो क्योंकि इस्लाम धर्म यह शिक्षा नहीं देता कि किसी पर जुल्म करके मुस्लिम बनाया जाए।’

गुरुद्वारा शीश गंज साहिब – औरंगजेब यह सुनकर आगबबूला हो गया। उसने दिल्ली के चाँदनी चौक पर गुरु तेगबहादुर जी का शीश काटने का हुक्म ज़ारी कर दिया और गुरु जी ने हँसते-हँसते बलिदान दे दिया। गुरु तेगबहादुरजी की याद में उनके ‘शहीदी स्थल’ पर गुरुद्वारा बना है, जिसका नाम गुरुद्वारा ‘शीश गंज साहिब’ है।

Guru tegh bahadur speech

धर्म, मानवता, सिद्धांतों के लिए शहीद होने वाले गुरु तेग बहादुर जी का स्थान सिख धर्म में विशेष महत्व रखता है। इन्हें “हिन्द-दी-चादर” के नाम से भी जाना जाता है। कश्मीरी पंडितों के लिए शहीद होने वाले गुरु तेज बहादुर जी का जन्म 1 अप्रैल 1621 को अमृतसर नगर में पिता छठे गुरु श्री हरगोविंद साहिब एवं माता नानकी के घर हुआ था। इनकी मृत्यु 11 नवम्बर 1675 में हुई।

बचपन से ही गुरु तेग बहादुर अपना अधिक समय ध्यान में लीन रहकर बिताते थे। वह अमृतसर में जन्मे थे और गुरु हरगोबिंद साहिब के सबसे छोटे बेटे थे। गुरु हर किशन साहिब के निधन होने से पहले उन्होंने अगले गुरु की पहचान बताई थी कि वह बाबा बाकल होंगे और गुरु तेग बहादुर बाकल में ही रहते थे।

पहले पांच नानकों की तरह उन्हें भी शबद का रहस्योमय अनुभव हुआ था और उन्होंने भी कई गीतों का लेखन किया। गुरु नानक की तरह ही उन्होंने भी कई जगहों का भ्रमण किया। उनके जीवन का अंत सिख प्रतिबद्धता की धार्मिक स्वतंत्रता और सहिष्णुता के लिए एक जबरदस्त सीख बनकर उभरा।

औरंगज़ेब द्वारा हिन्दू पंडितों को ज़बरदस्ती मुस्लिम धर्म में परिवर्तित किया जा रहा था तब गुरु तेग बहादुर ने हिन्दू धर्म के लिए लड़ाई लड़ी थी। उन्होंने मुगल शासक के सामने एक शर्त रखी कि यदि वह उनका धर्म परिवर्तन करा पाया तो सभी हिन्दू अपना धर्म परिवर्तन करा लेंगे।

इसके बाद औरंगज़ेब ने उन्हें कई प्रकार से प्रताड़नाएं पहुंचाई लेकिन वह उन्हें हरा नहीं पाया और अंत में उसने गुरु के सिर को कलम करवा दिया। कहा जाता है कि जेल में प्रस्थान करने से पहले गुरु जी ने औरंगज़ेब को एक चिट्ठी लिखी थी जो उन्होंने केवल अपने शहीद होने के बाद ही औरंगज़ेब तक पहुंचाने को कहा था। यह भी कहा जाता है कि जब वह जेल में थे उन्होंने मुगल साम्राज्य के पतन और पश्चिमी ताकतों के आने की भी भविष्यवाणी कर दी थी।

Leave a Comment