Nibandh

विजय दिवस पर निबंध – Vijay Diwas Essay in Hindi & English Pdf Download

विजय दिवस 2018 : भारत बहादुर योद्धाओं की भूमि है, जहा मातृभूमि की रक्षा के लिए जीवन की बाज़ी लगाने से भी लोग नहीं कतराते| हमारी भारतीय सेना ऐसे योद्धाओं से भरी है और वर्ष 1971 में, जब हमने पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध पर विजय प्राप्त की, तो दुनिया हमारी भारतीय सेना की बहादुरी का साक्षी है। इस जीत का जश्न मनाने के लिए पूरे भारत में कारगिल विजय दिवा मनाया जाता है।

Essay on vijay diwas in hindi

विजय दिवस कब मनाया जाता है :हर वर्ष भारत में विजय दिवस 16 दिसंबर को मनाया जाता है|

ऑपरेशन विजय की सफलता के नाम पर विजय दिवस का नाम दिया गया। 26 जुलाई 1999 को भारतीय सेना ने सफलतापूर्वक प्रमुख चौकी की कमान संभाली, जो पाकिस्तानी घुसपैठियों द्वारा हमसे छीन ली गयी थी। कारगिल युद्ध 60 से भी अधिक दिनों के लिए लड़ा गया था, यह 26 जुलाई को खत्म हो गया और परिणामस्वरूप दोनों पक्षों, भारत और पाकिस्तान के जीवन में नुकसान के बाद, हमें कारगिल की संपत्ति फिर से हासिल हुई।
कारगिल युद्ध के नायकों के सम्मान में हर साल 26 जुलाई को कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है। यह दिन कारगिल सेक्टर और राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली में मनाया जाता है। साथ ही भारत के प्रधानमंत्री हर साल इस दिन इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति के साथ सैनिकों को श्रद्धांजलि देते है। सशस्त्र बलों के स्मरण के लिए पूरे देश में इस दिन को सम्मान के साथ उन्हें याद किया जाता है।
1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद, दो पड़ोसियों की सेनाओं में प्रत्यक्ष सशस्त्र से संघर्ष लम्बी अवधि तक हुआ – सियाचिन ग्लेशियर को नियंत्रित करने के लिए दोनों देशों के प्रयासों के बावजूद आसपास के पहाड़ों पर सैन्य चौकियों की स्थापना की गई। 1980 के दशक में होने वाली सैन्य झगड़े, 1990 के दौरान, कश्मीर में अलगाववादी गतिविधियों के कारण बढ़ते हुए तनाव और संघर्ष में जिनमें से कुछ को पाकिस्तान द्वारा समर्थित किया गया था और साथ ही 1998 में दोनों देशों द्वारा परमाणु परीक्षणों का संचालन किया गया, एक तनावपूर्ण माहौल बन गया। स्थिति को कम करने के प्रयास में दोनों देशों ने फरवरी 1999 में लाहौर घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किए और कश्मीर संघर्ष के शांतिपूर्ण और द्विपक्षीय समाधान प्रदान करने का वादा किया।
1998-1999 की सर्दियों के दौरान, पाकिस्तानी, सशस्त्र बलों के कुछ लोगों को गुप्त रूप से प्रशिक्षण दिया गया और पाकिस्तानी सैनिकों और अर्धसैनिक बलों को कुछ कथित तौर पर मुजाहिद्दीन के आड़ में भारतीय पक्ष के इलाके की नियंत्रण रेखा में घुसपैठ करा दिया गया। घुसपैठ के कोड का नाम “ऑपरेशन बद्र” था । पाकिस्तान का यह भी मानना ​​था कि इस क्षेत्र में कोई भी तनाव कश्मीर मुद्दे को अंतरराष्ट्रीयकरण करेगा जिससे शीघ्र ही इसका समाधान निकलेगा।
फिर भी एक सक्रिय भूमिका निभाने के लिए भारतीय प्रशासित कश्मीर में एक दशक से लंबे विद्रोह के मनोबल को बढ़ावा देने का एक लक्ष्य हो सकता था। घुसपैठ की सीमा क्षेत्र में भारतीय सैनिकों ने मान लिया था कि घुसपैठिये जिहादी थे, और दावा किया कि वे कुछ दिनों के भीतर ही उन्हें देश से बाहर कर देंगे। एलओसी के साथ कहीं और भी रणनीतियाँ घुसपैठियों द्वारा नियुक्त की गई थी, तब भारतीय सेना को महसूस हुआ कि बड़े हमले की योजना बहुत बड़े पैमाने पर बनाई गई थी। प्रवेश द्वारा जब्त कुल क्षेत्र का आम तौर पर 130 वर्ग किमी – 200 वर्ग किमी के बीच स्वीकार किया गया।
200,000 भारतीय सैनिकों की एक गठजोड़ के साथ भारत सरकार ने ऑपरेशन विजय का जवाब दिया। अंततः 26 जुलाई, 1999 को युद्ध आधिकारिक रूप से बंद हुआ। इसीलिए इस दिन को कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Vijay diwas nibandh

भारत बहादुर योद्धाओं की भूमि है। हम उसके लिए लड़ते है जो हमारा है| हमारी भारतीय सेना ऐसे योद्धाओं से भरा है और १९९९ में, जब हम पाकिस्तान के विरुद्ध कारगिल युद्ध पर विजय प्राप्त की तो विश्व ने हमारी भारतीय सेना की बहादुरी को गवाह किया। इस जीत का जश्न मनाने के लिए पूरे भारत में कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है। भारत भर के स्कूलों और कॉलेजों ने कारगिल विजय दिवस का जश्न मनाने के लिए भाषण प्रतियोगिता, निबंध प्रतियोगिताओं जैसे विभिन्न कार्यक्रमों, समारोहों और प्रतियोगिताओं का आयोजन किया और छात्रों को इस तरह के गौरवशाली दिन से अवगत किया जाता है। इस लेख में, हमने भाषण और निबंध को अलग-अलग प्रदान किया है ताकि आप को अनुसंधान करने और इसे लिखने के लिए परेशानी से गुज़रना नहीं पड़े। तो चलते हैं। कल्पना कीजिए कि सुबह उठने पर आप अपने आपको पहाड़ों में पाएंगे, ठंडे हवाएं अपने श्वास को बर्बाद कर रहे हैं, बर्फ से ढंका पहाड़ और तापमान -४८ डिग्री सेल्सियस नीचे है। आप किसी तरह गर्म कपड़े पहनकर सेह लेंगे लेकिन क्या होगा अगर आपको और ऊंचाई पर ले जाय, जहां सांस लेने में मुश्किल हो जाय। और कोई अनजाने में आप पर हमला कर रहा है इसी तरह की स्थिति तब थी जब हमारी साहसी भारतीय सेना ने लगभग ६० दिनों के लिए युद्ध लड़ा और पाकिस्तानी हमलावरों के वर्चस्व वाले शीर्ष चौकी पर कब्ज़ा कर लिया। यह सही कहा जाता है कि, “योद्धा जन्म नहीं लेते वे इंडियन आर्मी में बनते है।” आगे बढ़ने से पहले, मैं आपको यह बताना चाहता हूं कि युद्ध कैसे शुरू हुआ। लड़ाई कश्मीर के कारगिल जिले के पहले पद पर हुई थी। यह सर्दी का समय था जब पाकिस्तानी सेना ने घुसपैठियों के नाम पर अपने सैनिकों को भेजा और इस क्षेत्र पर कब्जा कर लिया। उनका मुख्य उद्देश्य लद्दाख और कश्मीर के बीच संबंधों को काट देना था और भारतीय सीमाओं के बीच तनाव पैदा करें घुसपैठियों शीर्ष पर थे जबकि भारतीय नीचे पहाड़ी पर थे उनके लिए हमला करना आसान था पाकिस्तानियों ने पद पर कब्जा कर लिया और भारतीय सैनिकों को मौत की सजा दी। और दोनों पक्षों के बीच युद्ध टूट गया। पाकिस्तानी सैनिकों ने शुरू में नियंत्रण रेखा को पार कर दिया जिसे कि एलओसी कहा जाता है और भारत-नियंत्रित क्षेत्र में प्रवेश करता है बाद में स्थानीय चरवाहों ने एलओसी को पार करने वाले संदिग्ध लोगों के बारे में सेना को चिंतित किया। गहराई से देखने के लिए भारतीय सेना ने अतिरिक्त सैनिकों को कारगिल क्षेत्र में लद्दाख से भेज दिया और उन्हें पता चला कि पाकिस्तानी सेना ने एलओसी को पार किया और भारत-नियंत्रित क्षेत्र में प्रवेश किया। दोनों सेनाओं ने जमीन पर दावा वापस लेने के लिए फायरिंग शुरू कर दी। बाद में भारतीय वायु सेना ने घाटी से सभी घुसपैठियों को साफ करने के लिए युद्ध में शामिल हो गए भारतीय सेना के बढ़ते हुए हमले के बाद, और तत्कालीन संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के दबाव ने, पाकिस्तान ने अपने सैनिकों को एलओसी इलाके से वापस ले लिया। भारतीय सेना ने भारतीय वायु सेना के साथ बहुत बहादुरी से लड़ाई की थी, जिन्होंने इस दौरान प्रमुख भूमिका निभाई थी। युद्ध और भारतीय बटालियन ने अपना कब्ज़ा पुनः प्राप्त कर लिया। पाकिस्तान को एलओसी कोड का सम्मान करने और विवादित क्षेत्र पर नियंत्रण लेने की कोशिश करने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अत्यधिक आलोचना की गई। एलओसी का सम्मान करने के लिए सभी देशों द्वारा भारत की प्रशंसा की गई और सफलतापूर्वक सभी युद्ध लड़ाई की।

Vijay diwas essay in english

vijay diwas essay in english

Kargil is situated 204 kilometers eastwards from Srinagar. Total population of this area is 81,000. It is spread over an area of 14,036 square kilometers and is 11,000 feet above the sea level. Therefore, it is covered with ice for 8-9 months of the year. In Dras, the temperature goes down to -50° to -55° C.
In Indian history Kargil will be remembered for 1999 tragedy. Actually 2,000 terrorists illegally occupied the Kargil and developed the temporary forts at important areas. Indian army came to know all this in May 1999. To remove these terrorists India army started ‘Operation Flush Out‘ after which Air-force followed with ‘Operation Vijay‘. Air-force destroyed the important coverings of terrorists with bombarding. The took three months to finish this operation. In this 500 soldiers died and government spend-ed much more than the previous with Pakistan.
Pakistan tried to internationalize this issue but the patience of India made everybody in the word to criticize Pakistan and appreciate India. Ultimately Indian soldiers eradicated the Pakistani terrorists from our sacred earth. This episode stimulated the people of India and they helped the government in all respects. This spread-ed the feeling of patriotism all over India as India has once again proved that he can maintain the oneness of the country at any cost.

विजय दिवस एस्से इन हिंदी

आइये अब हम आपको Vijay Diwas Status in Hindi,विजय दिवस पर एस्से इन हिंदी, Vijay Diwas Quotes , vijay diwas essay,  विजय दिवस फोटो,in hindi, in marathi, आदि की जानकारी विजय दिवस पर कविता,किसी भी भाषा विजय दिवस पर भाषण जैसे Hindi, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font , 100 words, 150 words, 200 words, 400 words में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं|

(या तो तू युद्ध में बलिदान देकर स्वर्ग को प्राप्त करेगा अथवा विजयश्री प्राप्त कर पृथ्वी का राज्य भोगेगा।)
गीता के इसी श्लोक को प्रेरणा मानकर भारत के शूरवीरों ने कारगिल युद्ध में दुश्मन को पाँव पीछे खींचने के लिए मजबूर कर दिया था।
26 जुलाई 1999 के दिन भारतीय सेना ने कारगिल युद्ध के दौरान चलाए गए ‘ऑपरेशन विजय’ को सफलतापूर्वक अंजाम देकर भारत भूमि को घुसपैठियों के चंगुल से मुक्त कराया था। इसी की याद में ‘26 जुलाई’ अब हर वर्ष कारगिल दिवस के रूप में मनाया जाता है।
यह दिन है उन शहीदों को याद कर अपने श्रद्धा-सुमन अर्पण करने का, जो हँसते-हँसते मातृभूमि की रक्षा करते हुए वीरगति को प्राप्त हुए। यह दिन समर्पित है उन्हें, जिन्होंने अपना आज हमारे कल के लिए बलिदान कर दिया।
कारगिल युद्ध की पृष्ठभूमि : कारगिल युद्ध जो कारगिल संघर्ष के नाम से भी जाना जाता है, भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में मई के महीने में कश्मीर के कारगिल जिले से प्रारंभ हुआ था।
इस युद्ध का कारण था बड़ी संख्या में पाकिस्तानी सैनिकों व पाक समर्थित आतंकवादियों का लाइन ऑफ कंट्रोल यानी भारत-पाकिस्तान की वास्तविक नियंत्रण रेखा के भीतर प्रवेश कर कई महत्वपूर्ण पहाड़ी चोटियों पर कब्जा कर लेह-लद्दाख को भारत से जोड़ने वाली सड़क का नियंत्रण हासिल कर सियाचिन-ग्लेशियर पर भारत की स्थिति को कमजोर कर हमारी राष्ट्रीय अस्मिता के लिए खतरा पैदा करना।
पूरे दो महीने से ज्यादा चले इस युद्ध (विदेशी मीडिया ने इस युद्ध को सीमा संघर्ष प्रचारित किया था) में भारतीय थलसेना व वायुसेना ने लाइन ऑफ कंट्रोल पार न करने के आदेश के बावजूद अपनी मातृभूमि में घुसे आक्रमणकारियों को मार भगाया था। स्वतंत्रता का अपना ही मूल्य होता है, जो वीरों के रक्त से चुकाया जाता है।
हिमालय से ऊँचा था साहस उनका : इस युद्ध में हमारे लगभग 527 से अधिक वीर योद्धा शहीद व 1300 से ज्यादा घायल हो गए, जिनमें से अधिकांश अपने जीवन के 30 वसंत भी नही देख पाए थे। इन शहीदों ने भारतीय सेना की शौर्य व बलिदान की उस सर्वोच्च परम्परा का निर्वाह किया, जिसकी सौगन्ध हर सिपाही तिरंगे के समक्ष लेता है।
इन रणबाँकुरों ने भी अपने परिजनों से वापस लौटकर आने का वादा किया था, जो उन्होंने निभाया भी, मगर उनके आने का अन्दाज निराला था। वे लौटे, मगर लकड़ी के ताबूत में। उसी तिरंगे मे लिपटे हुए, जिसकी रक्षा की सौगन्ध उन्होंने उठाई थी। जिस राष्ट्रध्वज के आगे कभी उनका माथा सम्मान से झुका होता था, वही तिरंगा मातृभूमि के इन बलिदानी जाँबाजों से लिपटकर उनकी गौरव गाथा का बखान कर रहा था।
भारत के वीर सपूत :
कैप्टन विक्रम बत्रा
: ‘ये दिल माँगे मोर’ – हिमाचलप्रदेश के छोटे से कस्बे पालमपुर के 13 जम्मू-कश्मीर राइफल्स के कैप्टन विक्रम बत्रा उन बहादुरों में से एक हैं, जिन्होंने एक के बाद एक कई सामरिक महत्व की चोटियों पर भीषण लड़ाई के बाद फतह हासिल की थी।
यहाँ तक कि पाकिस्तानी लड़ाकों ने भी उनकी बहादुरी को सलाम किया था और उन्हें ‘शेरशाह’ के नाम से नवाजा था। मोर्चे पर डटे इस बहादुर ने अकेले ही कई शत्रुओं को ढेर कर दिया। सामने से होती भीषण गोलीबारी में घायल होने के बावजूद उन्होंने अपनी डेल्टा टुकड़ी के साथ चोटी नं. 4875 पर हमला किया, मगर एक घायल साथी अधिकारी को युद्धक्षेत्र से निकालने के प्रयास में माँ भारती का लाड़ला विक्रम बत्रा 7 जुलाई की सुबह शहीद हो गया। अमर शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा को अपने अदम्य साहस व बलिदान के लिए मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च सैनिक पुरस्कार ‘परमवीर चक्र’ से सम्मानित किया गया।
कैप्टन अनुज नायर : 17 जाट रेजिमेंट के बहादुर कैप्टन अनुज नायर टाइगर हिल्स सेक्टर की एक महत्वपूर्ण चोटी ‘वन पिंपल’ की लड़ाई में अपने 6 साथियों के शहीद होने के बाद भी मोर्चा सम्भाले रहे। गम्भीर रूप से घायल होने के बाद भी उन्होंने अतिरिक्त कुमुक आने तक अकेले ही दुश्मनों से लोहा लिया, जिसके परिणामस्वरूप भारतीय सेना इस सामरिक चोटी पर भी वापस कब्जा करने में सफल रही।
इस वीरता के लिए कैप्टन अनुज को मरणोपरांत भारत के दूसरे सबसे बड़े सैनिक सम्मान ‘महावीर चक्र’ से नवाजा गया।
मेजर पद्मपाणि आचार्य : राजपूताना राइफल्स के मेजर पद्मपाणि आचार्य भी कारगिल में दुश्मनों से लड़ते हुए शहीद हो गए। उनके भाई भी द्रास सेक्टर में इस युद्ध में शामिल थे। उन्हें भी इस वीरता के लिए ‘महावीर चक्र’ से सम्मानित किया गया।
लेफ्टिनेंट मनोज पांडेय : 1/11 गोरखा राइफल्स के लेफ्टिनेंट मनोज पांडेय की बहादुरी की इबारत आज भी बटालिक सेक्टर के ‘जुबार टॉप’ पर लिखी है। अपनी गोरखा पलटन लेकर दुर्गम पहाड़ी क्षेत्र में ‘काली माता की जय’ के नारे के साथ उन्होंने दुश्मनों के छक्के छुड़ा दिए। अत्यंत दुर्गम क्षेत्र में लड़ते हुए मनोज पांडेय ने दुश्मनों के कई बंकर नष्ट कर दिए।
गम्भीर रूप से घायल होने के बावजूद मनोज अंतिम क्षण तक लड़ते रहे। भारतीय सेना की ‘साथी को पीछे ना छोडने की परम्परा’ का मरते दम तक पालन करने वाले मनोज पांडेय को उनके शौर्य व बलिदान के लिए मरणोपरांत ‘परमवीर चक्र’ से सम्मानित किया गया।

Leave a Comment