Essay on National DeWorming Day in Hindi

Essay on National Deworming Day

National De-Worming Day 2020: इस राष्ट्रीय स्वास्थ्य योजना को स्वास्थ्य कल्याण मंत्रालय के द्वारा वर्ष 2015 के फरवरी महीने में देश में Launch किया गया था। जिसके द्वारा देश के बच्चों को निरोगी बनाने के लिए राष्ट्रीय कृमि निवारण दिवस की शुरुआत हुई थी।

नेशनल डीवॉर्मिंग डे पर इस योजना के तहत राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की Team एक जुट होकर देश प्रदेश के अलग-अलग स्कूलों एवं आंगनबाड़ी केंद्र के जरिये बच्चो के स्वास्थ्य की जांच कर उन्हें कृमि मुक्त बनाने के लिए Albendazole की Tablet खिलाते है और उनको कृमि मुक्त कर उनके स्वास्थ्य को बहतर करते है।

प्रस्तावना (Preface)

Union Ministry of Health and Family Welfare (MoHFW) के द्वारा National Health Mission की शुरुआत  10 February 2015 में की गई थी | यह देश के सभी बच्चों को कृमि मुक्त बनाने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार ने इस National Deworming Day की पहल की है। यह कम समय के चलते बड़ी संख्या में देश के सभी बच्चों के लिए Public Health Programs में से एक है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के जरिये National Health Mission की शुरुआत देश के सभी बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए की गयी है। National Worm Prevention Day के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने National Deworming Day Logo भी बनाया जिससे इस Mission की पहचान हो सके।

इतिहास (History)

NDD का प्रथम चरण वर्ष 2015 के फरवरी माह में आयोजित किया था एवं पूरे 11 States / Union शासित प्रदेशों में 85 % तक की Coverage की गयी थी। जिसके तहत 8.9 crore बच्चों को कृमिनाशक (Anthelmintic) दवाइयां वितरित की गयी थी। इसके उपरांत साल 2016 फरवरी, साल 2016 अगस्त एवं फरवरी और अगस्त Year 2017 तक NDD के चरण में Respectively निर्धारित Target के मुकाबले 77% से 88% तक के बच्चो को Cover किया गया था। और उन सभी बच्चों को Anthelmintic दवाई खिलाई गयी थी। Year 2018 February तक 26.68 Crore बच्चों को एल्बेंडाजोल (Albendazole) की Tablet दी गयी थी। Year 2015 में 1 -19 साल के बच्चों को Albendazole की 114 Crore से भी ज्यादा Dose दी गई थी।

उद्देश्य (Objective)

कृमि निवारण के लिए Ministry of Health and Family Welfare के द्वारा महत्वपूर्ण उद्देश्य निर्धारित किये गए। जिससे की देश के सभी बच्चों को Fit बनाये रखने में मदद हो सके। National Worm Liberation Day का महत्वपूर्ण उद्देश्य यह है की बच्चों के स्वास्थ्य और पोषण की स्थिति को बनाये रखने के लिए स्कूलों तथा आंगनवाड़ी केंद्रों के जरिये 1 से 19 की आयु वर्ग के बच्चों को कृमि मुक्ति के लिए स्कूलों तथा आंगनवाड़ी केंद्रों में जाने से पहले स्कूली आयु के बच्चों (Nominees and Non-Nominees ) को कृमि मुक्ति दवाइयों की Dose देना है। बच्चों को कृमि और कृमि के कारण से होने वाली सभी Problems का Prevention करना है। जिससे देश के सभी बच्चों को कृमि मुक्त बनाया जा सके।

महत्व (Importance)

Ministry of Health and Family Welfare के द्वारा National De-Worming Day का अत्यधिक महत्व है क्योंकि इस नेशनल डी-वॉर्मिंग डे के जरिये सभी बच्चो को निरोगी बनाया जा सकता है। कृमि मर जीवी होते है जो बच्चे के आंत में रहते है। यह कृमि अस्वछता के कारन फैलते है संक्रमक बच्चे के शौच में यह अण्डे होते है। यह अण्डे संक्रमक बच्चे के शौच के जरिए खुले में शौच करने से मिट्टी में मिल जाते है और विकसित होते है अन्य बच्चे नंगे पैर चलने से, गंदे हाथों से खाना खाने से या फिर बिना ढका भोजन खाने से, लार्वा के सम्पर्क में आने से संक्रमित हो जाते है। संक्रमित बच्चे में कृमि के अण्डे व् लार्वा पाए जाते है और बच्चों के स्वास्थ्य को हानि पहुंचाते है। कृमि संक्रमण के कारन बच्चे बिमार हो जाते है और पढ़ाई में ध्यान कम दे पाते है कमजोरी व् दस्त के कारन वह school एवं आंगनबाड़ी भी नहीं जा पाते है और यह समस्या को इस National De-Worming Day के द्वारा समाप्त किया जा सकता है।

यह आम तौर पर तीन प्रकार के होते है:-

  1. राउंड कृमि
  2. व्हिप कृमि
  3.  हुक कृमि

लाभ (Benefit)

कृमि को रोकने के लिए सरकार ने राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस की योजना बनाई है। Ministry of Health and Family Welfare नेशनल डी-वॉर्मिंग डे के बहुत लाभ है। इस दिवस के माध्यम से देश से सभी प्रदेशों के बच्चो को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के द्वारा इस Mission का लाभ मिल रहा है। उनके द्वारा दी जाने वाली Medicine से बच्चे निरोगी और स्वस्थ्य बन रहे है तथा यह सभी Medicines नि:शुल्क प्राप्त होती है। इस नेशनल डी-वॉर्मिंग डे निम्नलिखित है :-

  • खून की कमी में सुधार।
  • बहतर पोषण स्थर।
  • रोग प्रतिरोग क्षमता बढ़ाने में मदद।
  • School एवं आंगनबाड़ी केंद्र में उपस्तिथि तथा सिकने की क्षमता में सुधार लाने में मदद।
  • वातावरण में कृमि की संख्या कम होने पर समुदाय को लाभ।
  • राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर सभी बच्चों को एल्बेंडाजोल (Albendazole) दवाई school तथा आंगनबाड़ी केंद्रों में नि: शुल्क दी जाएगी
  • एल्बेंडाजोल (Albendazole) की Tablet कृमि नियंत्रण में मदद करती है।
  • 1 से 5 वर्ष के बच्चों और School ना जाने वाले बच्चो को कृमि नियंत्रण की Medicine आंगनबाड़ी में आंगनबाड़ी कर्ताओं के द्वारा खिलाई जायेगी तथा 6 से 19 वर्ष के आयु वाले बच्चों को School के Teachers द्वारा खिलाई जायेगी।
  • जो बच्चे राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर बिमारी अथवा अनुस्पस्थि के कारण छूट जाये तो उन्हें यह Medicine मॉप-अप दिवस पर खिलाई जायेगी।

नेशनल डी-वॉर्मिंग डे पर दवाई देने की विधि और Guideline

  • 1 से 2 साल की आयु के बच्चों को आधी Tablet ही दें।
  • गोली को चम्मच की सहायता से गोली का चूरा करके पीने के पानी में मिलाकर पिलाये।
  • 2 से 19 साल की आयु के बच्चों के लिए एक पूरी Tablet दें।
  • गोली को चवाकर खाने के लिए कहें।
  • अपने सामने ही हर बच्चे को दवाई खिलाएं दवाई घर ले जाने को ना दे
  • जो बच्चे बिमार है या अन्य दवाई ले रहे है उन्हें कृमि नियंत्रण की दवाई ना दे।
  • कृमि मुक्ति दिवस पर दवाई देने के साथ-साथ उपस्तिथि रजिस्टर में हर बच्चे के नाम के सामने सही का निशान लगाए।
  • सुनिश्चित करें की मॉप-अप दिवस पर दवाई देने के बाद बच्चे के नाम के सामने सही के दो निशान लगाए।

घवराएँ नहीं इस बातों का ध्यान रखें

जिन बच्चों की आंत में अधिक कृमि होते है उन्हें दवाई लेने के बाद हल्का पेट दर्द, उल्टी या थकान मह्सूस हो सकती है। यह side -effects अस्थाई होते है और वह आम तौर पर School और आंगनबाड़ी में संभाले जा सकते है। किसी भी प्रकार का Side-effect होने पर बच्चे को ठंडी छॉव में आराम कराये उसे पीने का साफ़ पानी दें। एल्बेंडाजोल (Albendazole) आसानी से चवाने वाली गोली है।

उपसंहार (Conclusion)

देश में हर बच्चे को कृमि मुक्त करने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा नेशनल डी-वॉर्मिंग डे में हिस्सा लेना चाहिए। ताकि बच्चों को कृमि मुक्त बनाया जा सके तथा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा नेशनल डी-वॉर्मिंग डे के निर्धारित दिशा निर्देश का पालन करें। सभी को नेशनल डी-वॉर्मिंग डे के लिए जागरूक करके इस योजना का लाभ प्राप्त करे।

1 thought on “Essay on National DeWorming Day in Hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *