Essay in Hindi - निबंध Hindi Lekh

National Safety Day Speech in Hindi – राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस पर भाषण

national safety day 2022:  राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस 4 मार्च को मनाया जाता है और 4 मार्च से एक सप्ताह का अभियान आयोजित किया जाता है, जिसे राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह अभियान के रूप में जाना जाता है, जो किसी भी प्रकार की दुर्घटनाओं और दुर्घटनाओं को कम करने के लिए आवश्यक सुरक्षा उपायों पर ध्यान केंद्रित करता है। इस लेख में हम आपको राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस भाषण , Speech की जानकारी देंगे|ये भाषण कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है|

National safety day speech in hindi

national safety day theme 2022: “Nurture young minds”. आज हमारे द्वारा दिए गए National Safety Day पर कुछ संक्षिप्त भाषण (short speech) और लंबे भाषण (long speech), निश्चित रूप से आयोजन समारोह या बहस प्रतियोगिता (debate competition) यानी स्कूल कार्यक्रम में स्कूल या कॉलेज में भाषण में भाग लेने में छात्रों की सहायता करेंगे। इन National Safety Day पर हिंदी स्पीच हिंदी में 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|

चाहे दुनिया का कोई भी देश क्यों ना हो,उस देश की सीमाओं,वहाँ के नागरिकों,महिलाओं और बच्चों की,साथ ही साथ देश की भूमि,पर्यावरण,प्राकृतिक संसाधनों,फसलों, जंगलों, पेड़ पौधों, जीवजन्तुओं तथा जल आदि की सुरक्षा अति आवश्यक है।और अपने देश,वहां के हर नागरिक व समाज की सुरक्षा करना हर नागरिक का कर्तव्य है।

इसी कर्तव्य को निभाने के लिए “राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस/सप्ताह (National Safety Day in India)“ मनाया जाता है।जहां पर लोगों को अपने और अपने लोगों की, अपने राष्ट्र की सुरक्षा के प्रति जागरूक करने के साथ-साथ उनको इस बारे में जानकारी भी दी जाती हैं।

क्या है भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद

4 मार्च 1966 को “राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद” की स्थापना हुई थी।भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद एक स्वशासित संस्था है।यह संस्था लोक सेवा के लिए बनाई गई है।राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद एक गैर लाभकारी और गैर सरकारी संस्था है।इसकी स्थापना “सोसाइटी एक्ट” के तहत 4 मार्च 1966 को मुंबई में की गई।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस की स्थापना
(Establishment of National Safety Day in India)

4 मार्च 1966 को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की स्थापना की गई थी।1972 में “राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद” द्वारा 4 मार्च को “राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस (National Safety Day in India)” मनाने का निर्णय लिया गया।इसीलिए 4 मार्च हर साल राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस (National Safety Day) के रूप में मनाया जाता है।शुरुआत में इसके सदस्यों की कुल संख्या 8000 थी।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस मनाने का उद्देश्य
(Aim to celebrate National Safety Day in India)

कार्य स्थलों पर सुरक्षा को बढ़ावा देने तथा लोगों को अपनी सुरक्षा के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से यह राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस (National Safety Day) प्रतिवर्ष 4 मार्च को पूरे देश में मनाया जाता है।4 मार्च 1966 को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की स्थापना हुई थी।तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने औद्योगिक क्षेत्र में काम करने वाले लोगों की सुरक्षा के लिए व्यापक चेतना जगाने पर विशेष ध्यान देने सम्बन्धी अपने वक्तव्य से इस कार्यक्रम की शुरुआत थी।

यह दिवस (National Safety Day in India) भारत के उन वीर अमर सपूतों को भी समर्पित हैं।जिन्होंने अपने जीवन का सर्वोच्च बलिदान देकर अपनी मातृभूमि की रक्षा की।यह देश इन दिनों भारत माता के इन सपूतों को नमन तथा याद करता है जिन्होंने अपनी मातृभूमि को अपने खून से सींचा है।

देश की सीमाओं के ये प्रहरी (सैनिक) दिन देखते हैं ना रात, धूप देखते ना छांव, भूमि देखते हैं ना ग्लेशियर।बस रात दिन अपने देश की सीमाओं की रक्षा में हर वक्त मुस्तैद रहते हैं।ताकि देश में अमन व शांति का माहौल बना रहे।देशवासी चैन की सांस ले सकें और निश्चिंत होकर सो सके।

राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह (National Safety Week in India)

भारत में प्रतिवर्ष 4 मार्च को National Safety Day मनाया जाता है।लेकिन यह एक दिवसीय कार्यक्रम ना होकर पूरे एक सप्ताह का कार्यक्रम होता है। यानी राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस अभियान को पूरे एक सप्ताह ( 4 मार्च से 10 मार्च ) तक देशभर में चलाया जाता है।इसीलिए इसे “राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह (National Safety week) ” के नाम से भी जाना जाता है।

इसमें भारत के सभी नागरिकों को अपनी सुरक्षा तथा देश की सुरक्षा के प्रति जागरूक किया जाता है।साथ ही यह कार्यक्रम विशेष रूप से औद्योगिक क्षेत्र के श्रमिकों के लिए मनाया जाता है।इसीलिए उद्योगपतियों द्वारा कर्मचारियों /श्रमिकों की सुरक्षा के पूरे इंतजाम किए जाएं।

इस बात पर विशेष जोर दिया जाता है।इसके साथ ही राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस में श्रमिकों को नियमों तथा उनसे जुड़ी योजनाओं की जानकारी दी जाती है।

4th march national safety day speech in hindi/नेशनल सेफ्टी डे स्पीच

प्रस्तावना / राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस क्या है –

लोगों के बीच में सुरक्षा जागरुकता को बढ़ाने के लिए हर साल 4 मार्च को राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस अथवा राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह अभियान मनाया जाता है। भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद एक स्वशासित संस्था है जो लोक सेवा के लिए गैर लाभांस और गैर सरकारी संस्था है जो कुछ सदस्यों के साथ मुंबई में सोसाइटी एक्ट के तहत 4 मार्च 1966 में स्थापित हुआ था। सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण संबंधी सहायता सेवा के साथ उनको लाभ पहुँचाने के द्वारा उनके आर्थिक नुकसान और विभिन्न मानव समस्या सहित जीवन को सुरक्षित करने के लिये वार्षिक आधार पर राष्ट्रीय सुरक्षा अभियान चलाया जाता है। निजी क्षेत्रों में व्यापक तौर पर सुरक्षा जागरुकता कार्यक्रम के प्रदर्शन के द्वारा औद्योगिक दुर्घटना से कैसे सावधान रहे इस बारे में लोगों को जागरुक बनाने के लिये पूरे उत्साह के साथ इस दिवस को मनाया जाता है। राष्ट्रीय सुरक्षा अभियान पूरे सप्ताह चलता है जिस दौरान सुरक्षा जरुरतों के तहत लोगों के लिये विभिन्न प्रकार की खास गतिविधियों को प्रदर्शित किया जाता है।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस कब है / राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह कब है / राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस कब मनाया जाता है / राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह कब मनाया जाता है –

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस अथवा राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह पूरे एक सप्ताह का सुरक्षा अभियान है जो हर साल 4 मार्च से 10 मार्च तक मनाया जाता है। वर्ष २०२१ में, राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह 4 मार्च गुरुवार से लेकर 10 मार्च बुधवार के दिन तक मनाया जायेगा।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का इतिहास –

भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद एक स्वशासित संस्था है जो लोक सेवा के लिए गैर लाभांस और गैर सरकारी संस्था है जो कुछ सदस्यों के साथ मुंबई में सोसाइटी एक्ट के तहत 4 मार्च 1966 में स्थापित हुआ था। इस अवसर पर तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने औद्योगिक सुरक्षा के लिए व्यापक चेतना जगाने का उद्घोष किया था जहाँ आठ हजार सदस्य शामिल हुए थे।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस का उद्देश्य –

विभिन्न स्वास्थ्य और पर्यावरण आंदोलन सहित सुरक्षा के बारे में लोगों को जागरुक करने के लिये पूरे देश भर में राष्ट्रीय स्तर पर राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस अथवा राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह मनाया जाता है। राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस को कार्यस्थलों पर सुरक्षा को बढ़ाने के लिए पूरे भारत वर्ष में मनाया जाता है। सुरक्षा को बढ़ावा देना केवल परिषद की ही जिम्मेदारी नही बल्कि उसमें प्रत्येक व्यक्ति का सहयोग होना चाहिए। राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन द्धारा प्रारंभ किया गया यह अभियान सफल बनाने के लिए आधारित क्रियाकलाप, कानूनी माँग के साथ स्व-अनुपालन और पेशेवर एसएचई (सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण) गतिविधियों को कार्यस्थल पर कर्मचारियों के बीच बढ़ावा देना जरुरी है। राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के प्रति व्यक्तियो को जागरूक करने के लिए सरकार द्धारा कई प्रकार के आयोजन किए जाते है जैसे संगठन के कर्मचारियों द्धारा सुरक्षा के कार्यक्रम दिखाना, अभियान से सम्बंधित फिल्म दिखाना, अभियान से सम्बंधित व्यक्तियों को पुरस्कार वितरित करना, अभियान से पोस्टर लगाना, नारा वितरण करना, चर्चा करना, सेमिनार करना आदि विभिन्न सार्वजनिक समारोह जैसे निम्न राष्ट्रीय स्तर के क्रियाकलाप पूरे सप्ताह के लिये संपन्न होते हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह का लक्ष्य है विभिन्न स्वास्थ्य और पर्यावरण आंदोलन सहित सुरक्षा के बारे में लोगों को जागरुक करना तथा अलग-अलग औद्योगिक क्षेत्रों में मुख्य सुरक्षा भूमिका निभाने के लिये बड़े स्तर पर लोगों की भागीदारी को पाने के लिये यह दिवस मनाया जाता है। अपने कर्मचारियों में सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण क्रियाकलापों को बढ़ावा देने के द्वारा कंपनी के मालिकों के द्वारा सहभागी दृष्टीकोण के उपयोग को ये बड़े स्तर पर अभियान मनाने के द्वारा प्रेरित करता है।

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस की थीम –

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस 2022 का थीम “आधुनिक तकनीक की मदद से सुरक्षा एवं स्वास्थ्य कि गुणवत्ता को बढ़ाना” (Enhance safety and health performance by use of advanced technology) था। हालाँकि राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस 2022 की थीम अभी तक पुष्टि नहीं हुई है।

उपसंहार –

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस पूरे एक सप्ताह का सुरक्षा अभियान है जो हर साल 4 मार्च से 10 मार्च तक मनाया जाता है। स्वास्थ्य संगठनों और औद्योगिक सदस्यों सहित सरकारी और गैर-सरकारी संस्थाओं में एक साथ संसक्ति के द्वारा इसे मनाया जाता है। निम्न लक्ष्यों को पूरा करने के लिये परिषद के द्वारा एसएचई नारों और संदेशों के साथ सभी केन्द्रीय डिज़ाइन विज्ञापन संबंधी सामानों और उपयोगी छपाई जैसे बैज, स्टीकर, बैनर, निर्देश कार्ड, आदि के साथ वो अच्छे से उपलब्ध कराते हैं। कार्यस्थल पर लोगों के बीच एसएचई क्रियाकलापों को विकसित और मजबूत करने का लक्ष्य प्राप्त करना है। अपनी जिम्मेदारी को बहुत अच्छी तरह से निभाने के लिये विभिन्न विषयों के ऊपर औद्योगिक कर्मचारियों के लिये सुरक्षा गतिविधियों पर आधारित शिक्षण कार्यक्रम रखे जाते हैं।

National safety day speech in english pdf

आइये अब हम आपको speech on National Safety Day, National safety day speech in hindi pdf, National safety day speech in telugu pdf, 50th national safety day speech in english, National Safety Day speech in hindi, speech on National Safety Day in hindi, आदि की जानकारी देंगे|

National Safety Day/Safety Week Campaign focuses on the importance of reduction of the rate of industrial accidents and also focuses on the areas that have not yet been covered by any safety legislation. The campaign urges several organisations to participate in developing several activities as per their legal safety requirements. The campaign is mostly comprehensive, general and flexible.

National Safety Day: Objectives

– To spread Safety, Health and Environment (SHE) movement to various parts of the country.

– To ensure the participation of different industrial sectors at different levels.

– To promote a participative approach for the employees in SHE activities.

– To promote several developmental activities required for self-compliance and professional SHE management systems at workplaces.

– To cover voluntary SHE movement sectors.

– To motivate and remind employers, employees, and others of their responsibility in making the workplace safer.

Note: The above objectives highlight the overall goal of creating and strengthening SHE culture in the workplace and integrate it with the work culture.

National Safety Day: History

The Ministry of Labour, Government of India set up the National Safety Council of India (NSC) on 4 March 1966. To develop and sustain the movement on SHE that is focusing on safety, Health and Environment at the national level. Basically, NSC is an autonomous body. Therefore, the foundation day of the National Safety Council was decided to observe as National Safety Day in 1972. It was also decided to celebrate it as National Safety Week (NSW) Campaign that will last for one week.

Let us tell you that in 1962 during the 22nd Labour Minister’s Conference a decision was taken in a conference focusing on ‘Safety in factories’.

About National Safety Council (NSC)

As mentioned above on 4 March 1966, the National Safety Council was established by the Ministry of Labour, Government of India (GOI) to sustain a voluntary movement on SHE at the national level. It is an apex non-profit making, tripartite body that is registered under the Societies Registration Act 1860 and the Bombay Public Trust Act 1950.

Activities focusing on the objectives of NSC are performed including conducting specialised training courses, conferences, seminars, and workshops, conducting consultancy studies like safety audits, hazard evaluation, and risk assessment, etc. Not only this several national and international conferences like XIII World Congress (1993) and APOSHO Conferences (1995 and 2016). It also implemented several prestigious projects that are organised by NSC. In the course of more than 50 years of service, it has built technical experts and competence to meet the emerging challenges.

National safety day speech in telugu

పరిచయం / జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం అంటే ఏమిటి –

ప్రజలలో భద్రతపై అవగాహన పెంచేందుకు ప్రతి సంవత్సరం మార్చి 4న జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం లేదా జాతీయ భద్రతా వారోత్సవాల ప్రచారం నిర్వహిస్తారు. నేషనల్ సెక్యూరిటీ కౌన్సిల్ ఆఫ్ ఇండియా అనేది స్వయం పాలనా సంస్థ, ప్రజా సేవ కోసం లాభాపేక్ష లేని మరియు ప్రభుత్వేతర సంస్థ, కొంతమంది సభ్యులతో ముంబైలో సొసైటీస్ చట్టం ప్రకారం 4 మార్చి 1966న స్థాపించబడింది. భద్రత, ఆరోగ్యం మరియు పర్యావరణ మద్దతు సేవతో వారికి ప్రయోజనం చేకూర్చడం ద్వారా ఆర్థిక నష్టం మరియు వివిధ మానవ సమస్యలతో సహా వారి జీవితాలను సురక్షితంగా ఉంచడానికి జాతీయ భద్రతా ప్రచారం వార్షిక ప్రాతిపదికన నిర్వహించబడుతుంది. ప్రైవేట్ రంగాలలో విస్తృతమైన భద్రతా అవగాహన కార్యక్రమాలను నిర్వహించడం ద్వారా పారిశ్రామిక ప్రమాదాల పట్ల ఎలా జాగ్రత్త వహించాలో ప్రజలకు తెలియజేయడానికి ఈ రోజును పూర్తి ఉత్సాహంతో జరుపుకుంటారు. జాతీయ భద్రతా ప్రచారం వారం పొడవునా అమలు చేయబడుతుంది, ఈ సమయంలో భద్రతా అవసరాల క్రింద ప్రజల కోసం వివిధ రకాల ప్రత్యేక కార్యకలాపాలు ప్రదర్శించబడతాయి.

జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం ఎప్పుడు / జాతీయ భద్రతా వారం ఎప్పుడు / జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం ఎప్పుడు జరుపుకుంటారు / జాతీయ భద్రతా వారోత్సవం ఎప్పుడు జరుపుకుంటారు

నేషనల్ సేఫ్టీ డే లేదా నేషనల్ సేఫ్టీ వీక్ అనేది ప్రతి సంవత్సరం మార్చి 4 నుండి మార్చి 10 వరకు జరుపుకునే ఒక-వారం భద్రతా ప్రచారం. 2021 సంవత్సరంలో, మార్చి 4 గురువారం నుండి మార్చి 10 బుధవారం వరకు జాతీయ భద్రతా వారోత్సవం నిర్వహించబడుతుంది.

జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం చరిత్ర –

నేషనల్ సెక్యూరిటీ కౌన్సిల్ ఆఫ్ ఇండియా అనేది స్వయం పాలనా సంస్థ, ప్రజా సేవ కోసం లాభాపేక్ష లేని మరియు ప్రభుత్వేతర సంస్థ, కొంతమంది సభ్యులతో ముంబైలో సొసైటీస్ చట్టం ప్రకారం 4 మార్చి 1966న స్థాపించబడింది. ఈ సందర్భంగా అప్పటి రాష్ట్రపతి డాక్టర్ సర్వేపల్లి రాధాకృష్ణన్ పారిశ్రామిక భద్రతపై విస్తృత చైతన్యం తీసుకురావాలని ప్రకటించగా ఎనిమిది వేల మంది సభ్యులు పాల్గొన్నారు.

జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం లక్ష్యం –

వివిధ ఆరోగ్య మరియు పర్యావరణ ఉద్యమాలతో సహా భద్రత గురించి ప్రజలకు అవగాహన కల్పించడానికి జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం లేదా జాతీయ భద్రతా వారోత్సవాలను దేశవ్యాప్తంగా జాతీయ స్థాయిలో జరుపుకుంటారు. పని ప్రదేశాలలో భద్రతను పెంచడానికి భారతదేశం అంతటా జాతీయ భద్రతా దినోత్సవాన్ని జరుపుకుంటారు. భద్రతను పెంపొందించడం కౌన్సిల్ బాధ్యత మాత్రమే కాదు, అందరి సహకారం ఉండాలి. రాష్ట్రపతి డాక్టర్ సర్వేపల్లి రాధాకృష్ణన్ ప్రారంభించినది, కార్యక్షేత్రాల ఆధారిత కార్యకలాపాలను ప్రోత్సహించడం, చట్టపరమైన అవసరాలకు స్వీయ-అనుకూలత మరియు వృత్తిపరమైన (భద్రత, ఆరోగ్యం మరియు పర్యావరణం) కార్యకలాపాలను కార్యాలయంలో విజయవంతం చేయడానికి ఉద్యోగులలో ప్రోత్సహించడం అవసరం. జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం గురించి ప్రజలకు అవగాహన కల్పించేందుకు ప్రభుత్వం వివిధ రకాల కార్యక్రమాలను నిర్వహిస్తుంది, సంస్థ ఉద్యోగులు భద్రతా కార్యక్రమాలను ప్రదర్శించడం, ప్రచారానికి సంబంధించిన చిత్రాలను ప్రదర్శించడం, ప్రచారానికి సంబంధించిన ప్రజలకు బహుమతులు పంపిణీ చేయడం, పెట్టడం. ప్రచారం నుండి పోస్టర్లు, నినాదాల పంపిణీ, చర్చలు, సెమినార్లు మొదలైన వివిధ పబ్లిక్ ఫంక్షన్లు. ఈ వారం మొత్తం క్రింది జాతీయ స్థాయి కార్యకలాపాలు జరుగుతాయి. వివిధ ఆరోగ్య మరియు పర్యావరణ ఉద్యమాలతో సహా ప్రజలకు భద్రత గురించి అవగాహన కల్పించడం మరియు వివిధ పారిశ్రామిక ప్రాంతాలలో కీలకమైన భద్రతా పాత్రను పోషించడానికి పెద్ద ఎత్తున ప్రజల భాగస్వామ్యాన్ని పొందడం జాతీయ భద్రతా వారోత్సవాల లక్ష్యం. ఈ సామూహిక ప్రచారం కంపెనీ యజమానులు తమ ఉద్యోగులలో భద్రత, ఆరోగ్యం మరియు పర్యావరణ కార్యకలాపాలను ప్రోత్సహించడం ద్వారా భాగస్వామ్య విధానాన్ని ఉపయోగించడాన్ని ప్రోత్సహిస్తుంది.

జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం థీమ్ –

జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం 2022 యొక్క థీమ్ “అధునాతన సాంకేతికతను ఉపయోగించడం ద్వారా భద్రత మరియు ఆరోగ్య పనితీరును మెరుగుపరచండి”. అయితే 2022 జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం థీమ్ ఇంకా నిర్ధారించబడలేదు.

ఎపిలోగ్ –

జాతీయ భద్రతా దినోత్సవం అనేది ప్రతి సంవత్సరం మార్చి 4 నుండి మార్చి 10 వరకు జరుపుకునే ఒక వారం భద్రతా ప్రచారం. ఇది ఆరోగ్య సంస్థలు మరియు పరిశ్రమ సభ్యులతో సహా ప్రభుత్వ మరియు ప్రభుత్వేతర సంస్థల ఏకకాల సంఘం ద్వారా జరుపుకుంటారు. కింది లక్ష్యాలను సాధించడానికి, నినాదాలు మరియు సందేశాలతో పాటుగా కేంద్రంగా రూపొందించబడిన అన్ని ప్రకటనల సామగ్రిని మరియు బ్యాడ్జ్‌లు, స్టిక్కర్‌లు, బ్యానర్‌లు, ఇన్‌స్ట్రక్షన్ కార్డ్‌లు మొదలైన ఉపయోగకరమైన ప్రింట్‌లను అందిస్తుంది. కార్యాలయంలోని వ్యక్తుల మధ్య కార్యకలాపాలను అభివృద్ధి చేయడం మరియు బలోపేతం చేయడం అనే లక్ష్యాన్ని సాధించడం. వారి బాధ్యతను బాగా నెరవేర్చడానికి, పారిశ్రామిక కార్మికులకు వివిధ విషయాలపై భద్రతా కార్యకలాపాల ఆధారంగా విద్యా కార్యక్రమాలు నిర్వహించబడతాయి.

National safety day speech in tamil pdf

அறிமுகம் / தேசிய பாதுகாப்பு தினம் என்றால் என்ன –

மக்களிடையே பாதுகாப்பு விழிப்புணர்வை அதிகரிக்க ஒவ்வொரு ஆண்டும் மார்ச் 4 ஆம் தேதி தேசிய பாதுகாப்பு தினம் அல்லது தேசிய பாதுகாப்பு வார பிரச்சாரம் கொண்டாடப்படுகிறது. இந்திய தேசிய பாதுகாப்பு கவுன்சில் என்பது சுயராஜ்ய அமைப்பு, பொது சேவைக்கான இலாப நோக்கற்ற மற்றும் அரசு சாரா அமைப்பாகும், இது மும்பையில் சில உறுப்பினர்களுடன் சங்கங்கள் சட்டத்தின் கீழ் 4 மார்ச் 1966 இல் நிறுவப்பட்டது. பாதுகாப்பு, சுகாதாரம் மற்றும் சுற்றுச்சூழல் ஆதரவு சேவை மூலம் அவர்களுக்குப் பயனளிக்கும் வகையில் பொருளாதார இழப்பு மற்றும் பல்வேறு மனிதப் பிரச்சனைகள் உட்பட அவர்களின் உயிர்களைப் பாதுகாப்பதற்காக ஆண்டுதோறும் தேசிய பாதுகாப்பு பிரச்சாரம் மேற்கொள்ளப்படுகிறது. தனியார் துறைகளில் பரந்த அளவிலான பாதுகாப்பு விழிப்புணர்வு நிகழ்ச்சிகளை நடத்துவதன் மூலம் தொழில்துறை விபத்துக்களில் எவ்வாறு ஜாக்கிரதையாக இருக்க வேண்டும் என்பது குறித்து மக்களுக்கு விழிப்புணர்வு ஏற்படுத்துவதற்காக இந்த நாள் முழு உற்சாகத்துடன் கொண்டாடப்படுகிறது. தேசிய பாதுகாப்பு பிரச்சாரம் வாரம் முழுவதும் இயங்குகிறது, இதன் போது பாதுகாப்பு தேவைகளின் கீழ் மக்களுக்கு பல்வேறு சிறப்பு நடவடிக்கைகள் காட்டப்படும்.

தேசிய பாதுகாப்பு தினம் எப்போது / தேசிய பாதுகாப்பு வாரம் எப்போது / தேசிய பாதுகாப்பு தினம் எப்போது கொண்டாடப்படுகிறது / தேசிய பாதுகாப்பு வாரம் எப்போது கொண்டாடப்படுகிறது

தேசிய பாதுகாப்பு தினம் அல்லது தேசிய பாதுகாப்பு வாரம் என்பது ஒவ்வொரு ஆண்டும் மார்ச் 4 முதல் மார்ச் 10 வரை கொண்டாடப்படும் ஒரு வார பாதுகாப்பு பிரச்சாரமாகும். 2021 ஆம் ஆண்டில், தேசிய பாதுகாப்பு வாரம் மார்ச் 4 வியாழன் முதல் மார்ச் 10 புதன்கிழமை வரை அனுசரிக்கப்படும்.

தேசிய பாதுகாப்பு தினத்தின் வரலாறு –

இந்திய தேசிய பாதுகாப்பு கவுன்சில் என்பது சுயராஜ்ய அமைப்பு, பொது சேவைக்கான இலாப நோக்கற்ற மற்றும் அரசு சாரா அமைப்பாகும், இது மும்பையில் சில உறுப்பினர்களுடன் சங்கங்கள் சட்டத்தின் கீழ் 4 மார்ச் 1966 இல் நிறுவப்பட்டது. இந்தச் சந்தர்ப்பத்தில், அப்போதைய குடியரசுத் தலைவர் டாக்டர் சர்வபள்ளி ராதாகிருஷ்ணன், தொழில்துறை பாதுகாப்புக்கான பரந்த விழிப்புணர்வை உருவாக்குவதாக அறிவித்தார், இதில் எட்டாயிரம் உறுப்பினர்கள் பங்கேற்றனர்.

தேசிய பாதுகாப்பு தினத்தின் நோக்கம் –

தேசிய பாதுகாப்பு தினம் அல்லது தேசிய பாதுகாப்பு வாரம் நாடு முழுவதும் தேசிய அளவில் கொண்டாடப்பட்டு பல்வேறு சுகாதார மற்றும் சுற்றுச்சூழல் இயக்கங்கள் உட்பட பாதுகாப்பு குறித்து மக்களுக்கு விழிப்புணர்வு ஏற்படுத்துகிறது. பணியிடங்களில் பாதுகாப்பை அதிகரிக்க இந்தியா முழுவதும் தேசிய பாதுகாப்பு தினம் கொண்டாடப்படுகிறது. பாதுகாப்பை மேம்படுத்துவது சபையின் பொறுப்பு மட்டுமல்ல அது அனைவரின் ஒத்துழைப்பாகவும் இருக்க வேண்டும். குடியரசுத் தலைவர் டாக்டர். சர்வபள்ளி ராதாகிருஷ்ணன் அவர்களால் தொடங்கப்பட்டது, பணியிடத்தில் உள்ள ஊழியர்களிடையே செயல்பாடுகள் சார்ந்த செயல்பாடுகள், சட்டத் தேவைகளுடன் சுய இணக்கம் மற்றும் தொழில்முறை (பாதுகாப்பு, சுகாதாரம் மற்றும் சுற்றுச்சூழல்) செயல்பாடுகளை ஊக்குவிப்பது அவசியம். தேசிய பாதுகாப்பு தினத்தை பற்றி மக்களுக்கு விழிப்புணர்வு ஏற்படுத்தும் வகையில், நிறுவன ஊழியர்களின் பாதுகாப்பு நிகழ்ச்சிகள், பிரச்சாரம் தொடர்பான திரைப்படங்கள் காட்டுதல், பிரச்சாரம் தொடர்பான மக்களுக்கு பரிசுகள் வழங்குதல், போடுதல் என பல்வேறு வகையான நிகழ்ச்சிகளை அரசு ஏற்பாடு செய்கிறது. பிரச்சாரத்தின் சுவரொட்டிகள், முழக்க விநியோகம், கலந்துரையாடல்கள், கருத்தரங்குகள் போன்ற பல்வேறு பொது நிகழ்ச்சிகள். பின்வரும் தேசிய அளவிலான நடவடிக்கைகள் வாரம் முழுவதும் நடத்தப்படுகின்றன. தேசிய பாதுகாப்பு வாரத்தின் குறிக்கோள், பல்வேறு சுகாதாரம் மற்றும் சுற்றுச்சூழல் இயக்கங்கள் உள்ளிட்ட பாதுகாப்பு குறித்து மக்களுக்கு விழிப்புணர்வை ஏற்படுத்துவதும், பல்வேறு தொழில்துறை பகுதிகளில் முக்கிய பாதுகாப்புப் பாத்திரத்தை வகிக்க பெரிய அளவில் மக்களின் பங்களிப்பைப் பெறுவதும் ஆகும். இந்த வெகுஜன பிரச்சாரம் நிறுவன உரிமையாளர்கள் தங்கள் ஊழியர்களிடையே பாதுகாப்பு, சுகாதாரம் மற்றும் சுற்றுச்சூழல் நடவடிக்கைகளை மேம்படுத்துவதன் மூலம் பங்கேற்பு அணுகுமுறையைப் பயன்படுத்துவதை ஊக்குவிக்கிறது.

தேசிய பாதுகாப்பு தினத்தின் தீம் –

தேசிய பாதுகாப்பு தினம் 2022 இன் கருப்பொருள் “மேம்பட்ட தொழில்நுட்பத்தைப் பயன்படுத்தி பாதுகாப்பு மற்றும் ஆரோக்கிய செயல்திறனை மேம்படுத்துதல்” என்பதாகும். இருப்பினும் 2022 தேசிய பாதுகாப்பு தினத்தின் தீம் இன்னும் உறுதிப்படுத்தப்படவில்லை.

எபிலோக் –

தேசிய பாதுகாப்பு தினம் என்பது ஒவ்வொரு ஆண்டும் மார்ச் 4 முதல் மார்ச் 10 வரை கொண்டாடப்படும் ஒரு வார பாதுகாப்பு பிரச்சாரமாகும். இது சுகாதார நிறுவனங்கள் மற்றும் தொழில்துறை உறுப்பினர்கள் உட்பட அரசு மற்றும் அரசு சாரா நிறுவனங்களின் ஒரே நேரத்தில் கூட்டமைப்பால் கொண்டாடப்படுகிறது. பின்வரும் இலக்குகளை அடைவதற்காக, ஸ்லோகங்கள் மற்றும் செய்திகளுடன், மையமாக வடிவமைக்கப்பட்ட அனைத்து விளம்பரப் பொருட்களையும் பேட்ஜ்கள், ஸ்டிக்கர்கள், பேனர்கள், அறிவுறுத்தல் அட்டைகள் போன்ற பயனுள்ள பிரிண்ட்களையும்  வழங்குகிறது. பணியிடத்தில் உள்ள மக்களிடையே  செயல்பாடுகளை மேம்படுத்துதல் மற்றும் வலுப்படுத்துதல் என்ற இலக்கை அடைய. அவர்களின் பொறுப்பை மிகச் சிறப்பாக நிறைவேற்றும் வகையில், தொழில்துறை தொழிலாளர்களுக்கு பல்வேறு பாடங்களில் பாதுகாப்பு நடவடிக்கைகள் அடிப்படையிலான கல்வித் திட்டங்கள் வைக்கப்படுகின்றன.

National safety day speech in kannada

ಪರಿಚಯ / ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನ ಎಂದರೇನು –

ಜನರಲ್ಲಿ ಭದ್ರತಾ ಜಾಗೃತಿಯನ್ನು ಹೆಚ್ಚಿಸಲು ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನ ಅಥವಾ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ವಾರದ ಅಭಿಯಾನವನ್ನು ಪ್ರತಿ ವರ್ಷ ಮಾರ್ಚ್ 4 ರಂದು ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಭಾರತದ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಭದ್ರತಾ ಮಂಡಳಿಯು ಸ್ವ-ಆಡಳಿತ ಸಂಸ್ಥೆಯಾಗಿದ್ದು, ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಸೇವೆಗಾಗಿ ಲಾಭರಹಿತ ಮತ್ತು ಸರ್ಕಾರೇತರ ಸಂಸ್ಥೆಯಾಗಿದ್ದು, ಕೆಲವು ಸದಸ್ಯರೊಂದಿಗೆ ಮುಂಬೈನಲ್ಲಿ ಸೊಸೈಟೀಸ್ ಆಕ್ಟ್ ಅಡಿಯಲ್ಲಿ 4 ಮಾರ್ಚ್ 1966 ರಂದು ಸ್ಥಾಪಿಸಲಾಗಿದೆ. ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಭದ್ರತಾ ಅಭಿಯಾನವನ್ನು ವಾರ್ಷಿಕ ಆಧಾರದ ಮೇಲೆ ಆರ್ಥಿಕ ನಷ್ಟ ಮತ್ತು ವಿವಿಧ ಮಾನವ ಸಮಸ್ಯೆಗಳು ಸೇರಿದಂತೆ ಸುರಕ್ಷತೆ, ಆರೋಗ್ಯ ಮತ್ತು ಪರಿಸರ ಬೆಂಬಲ ಸೇವೆಯೊಂದಿಗೆ ಅವರಿಗೆ ಪ್ರಯೋಜನವನ್ನು ನೀಡುವ ಮೂಲಕ ಅವರ ಜೀವನವನ್ನು ಸುರಕ್ಷಿತಗೊಳಿಸಲು ಕೈಗೊಳ್ಳಲಾಗುತ್ತದೆ. ಖಾಸಗಿ ವಲಯಗಳಲ್ಲಿ ವ್ಯಾಪಕವಾದ ಸುರಕ್ಷತಾ ಜಾಗೃತಿ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮಗಳನ್ನು ನಡೆಸುವ ಮೂಲಕ ಕೈಗಾರಿಕಾ ಅಪಘಾತಗಳ ಬಗ್ಗೆ ಹೇಗೆ ಎಚ್ಚರವಹಿಸಬೇಕು ಎಂಬುದರ ಕುರಿತು ಜನರಿಗೆ ಅರಿವು ಮೂಡಿಸಲು ಈ ದಿನವನ್ನು ಪೂರ್ಣ ಉತ್ಸಾಹದಿಂದ ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಭದ್ರತಾ ಅಭಿಯಾನವು ವಾರವಿಡೀ ನಡೆಯುತ್ತದೆ, ಈ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಭದ್ರತಾ ಅಗತ್ಯಗಳ ಅಡಿಯಲ್ಲಿ ಜನರಿಗೆ ವಿವಿಧ ವಿಶೇಷ ಚಟುವಟಿಕೆಗಳನ್ನು ಪ್ರದರ್ಶಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ.

ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನ ಯಾವಾಗ / ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ವಾರ ಯಾವಾಗ / ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನವನ್ನು ಯಾವಾಗ ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ / ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ಸಪ್ತಾಹವನ್ನು ಯಾವಾಗ ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ

ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನ ಅಥವಾ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ವಾರವು ಪ್ರತಿ ವರ್ಷ ಮಾರ್ಚ್ 4 ರಿಂದ ಮಾರ್ಚ್ 10 ರವರೆಗೆ ಆಚರಿಸಲಾಗುವ ಒಂದು ವಾರದ ಭದ್ರತಾ ಅಭಿಯಾನವಾಗಿದೆ. 2021 ರಲ್ಲಿ, ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಭದ್ರತಾ ವಾರವನ್ನು ಮಾರ್ಚ್ 4 ಗುರುವಾರದಿಂದ ಮಾರ್ಚ್ 10 ಬುಧವಾರದವರೆಗೆ ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ.

ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನದ ಇತಿಹಾಸ –

ಭಾರತದ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಭದ್ರತಾ ಮಂಡಳಿಯು ಸ್ವ-ಆಡಳಿತ ಸಂಸ್ಥೆಯಾಗಿದ್ದು, ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಸೇವೆಗಾಗಿ ಲಾಭರಹಿತ ಮತ್ತು ಸರ್ಕಾರೇತರ ಸಂಸ್ಥೆಯಾಗಿದ್ದು, ಕೆಲವು ಸದಸ್ಯರೊಂದಿಗೆ ಮುಂಬೈನಲ್ಲಿ ಸೊಸೈಟೀಸ್ ಆಕ್ಟ್ ಅಡಿಯಲ್ಲಿ 4 ಮಾರ್ಚ್ 1966 ರಂದು ಸ್ಥಾಪಿಸಲಾಗಿದೆ. ಈ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ ಎಂಟು ಸಾವಿರ ಸದಸ್ಯರು ಭಾಗವಹಿಸಿದ್ದ ಕೈಗಾರಿಕಾ ಸುರಕ್ಷತೆಗಾಗಿ ವ್ಯಾಪಕ ಪ್ರಜ್ಞೆ ಮೂಡಿಸುವುದಾಗಿ ಅಂದಿನ ರಾಷ್ಟ್ರಪತಿ ಡಾ.ಸರ್ವೆಪಲ್ಲಿ ರಾಧಾಕೃಷ್ಣನ್ ಘೋಷಿಸಿದ್ದರು.

ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನದ ಉದ್ದೇಶ –

ವಿವಿಧ ಆರೋಗ್ಯ ಮತ್ತು ಪರಿಸರ ಚಳುವಳಿಗಳು ಸೇರಿದಂತೆ ಸುರಕ್ಷತೆಯ ಬಗ್ಗೆ ಜನರಿಗೆ ಅರಿವು ಮೂಡಿಸಲು ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನ ಅಥವಾ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ಸಪ್ತಾಹವನ್ನು ದೇಶಾದ್ಯಂತ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಮಟ್ಟದಲ್ಲಿ ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಕೆಲಸದ ಸ್ಥಳಗಳಲ್ಲಿ ಸುರಕ್ಷತೆಯನ್ನು ಹೆಚ್ಚಿಸಲು ಭಾರತದಾದ್ಯಂತ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನವನ್ನು ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಭದ್ರತೆಯನ್ನು ಉತ್ತೇಜಿಸುವುದು ಪರಿಷತ್ತಿನ ಜವಾಬ್ದಾರಿ ಮಾತ್ರವಲ್ಲ ಅದು ಎಲ್ಲರ ಸಹಕಾರವೂ ಆಗಿರಬೇಕು. ಅಧ್ಯಕ್ಷ ಡಾ. ಸರ್ವಪಲ್ಲಿ ರಾಧಾಕೃಷ್ಣನ್ ಅವರು ಪ್ರಾರಂಭಿಸಿದ, ಇದು ಯಶಸ್ವಿಯಾಗಲು ಕೆಲಸದ ಸ್ಥಳದಲ್ಲಿ ಉದ್ಯೋಗಿಗಳಲ್ಲಿ ಚಟುವಟಿಕೆ ಆಧಾರಿತ ಚಟುವಟಿಕೆಗಳು, ಕಾನೂನು ಅವಶ್ಯಕತೆಗಳೊಂದಿಗೆ ಸ್ವಯಂ ಅನುಸರಣೆ ಮತ್ತು ವೃತ್ತಿಪರ (ಸುರಕ್ಷತೆ, ಆರೋಗ್ಯ ಮತ್ತು ಪರಿಸರ) ಚಟುವಟಿಕೆಗಳನ್ನು ಉತ್ತೇಜಿಸುವುದು ಅವಶ್ಯಕ. ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನದ ಬಗ್ಗೆ ಜನರಿಗೆ ಅರಿವು ಮೂಡಿಸಲು ಸರ್ಕಾರವು ವಿವಿಧ ರೀತಿಯ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮಗಳನ್ನು ಆಯೋಜಿಸುತ್ತದೆ, ಉದಾಹರಣೆಗೆ ಸಂಸ್ಥೆಯ ನೌಕರರು ಸುರಕ್ಷತಾ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮಗಳ ಪ್ರದರ್ಶನ, ಅಭಿಯಾನಕ್ಕೆ ಸಂಬಂಧಿಸಿದ ಚಲನಚಿತ್ರಗಳ ಪ್ರದರ್ಶನ, ಅಭಿಯಾನಕ್ಕೆ ಸಂಬಂಧಿಸಿದ ಜನರಿಗೆ ಬಹುಮಾನ ವಿತರಣೆ, ಹಾಕುವುದು. ಪ್ರಚಾರದ ಪೋಸ್ಟರ್‌ಗಳು, ಘೋಷಣೆ ವಿತರಣೆ, ಚರ್ಚೆಗಳು, ವಿಚಾರ ಸಂಕಿರಣಗಳು ಮುಂತಾದ ವಿವಿಧ ಸಾರ್ವಜನಿಕ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮಗಳು. ಈ ಕೆಳಗಿನ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಮಟ್ಟದ ಚಟುವಟಿಕೆಗಳು ಇಡೀ ವಾರ ನಡೆಯುತ್ತವೆ. ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ಸಪ್ತಾಹದ ಗುರಿಯು ವಿವಿಧ ಆರೋಗ್ಯ ಮತ್ತು ಪರಿಸರ ಚಳುವಳಿಗಳು ಸೇರಿದಂತೆ ಸುರಕ್ಷತೆಯ ಬಗ್ಗೆ ಜನರಿಗೆ ಅರಿವು ಮೂಡಿಸುವುದು ಮತ್ತು ವಿವಿಧ ಕೈಗಾರಿಕಾ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ ಪ್ರಮುಖ ಸುರಕ್ಷತಾ ಪಾತ್ರವನ್ನು ವಹಿಸಲು ದೊಡ್ಡ ಪ್ರಮಾಣದಲ್ಲಿ ಜನರ ಭಾಗವಹಿಸುವಿಕೆಯನ್ನು ಪಡೆಯುವುದು. ಈ ಸಾಮೂಹಿಕ ಅಭಿಯಾನವು ಕಂಪನಿಯ ಮಾಲೀಕರಿಂದ ತಮ್ಮ ಉದ್ಯೋಗಿಗಳಲ್ಲಿ ಸುರಕ್ಷತೆ, ಆರೋಗ್ಯ ಮತ್ತು ಪರಿಸರ ಚಟುವಟಿಕೆಗಳನ್ನು ಉತ್ತೇಜಿಸುವ ಮೂಲಕ ಭಾಗವಹಿಸುವ ವಿಧಾನವನ್ನು ಪ್ರೋತ್ಸಾಹಿಸುತ್ತದೆ.

ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನದ ಥೀಮ್ –

ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನದ 2022 ರ ಥೀಮ್ “ಸುಧಾರಿತ ತಂತ್ರಜ್ಞಾನದ ಬಳಕೆಯಿಂದ ಸುರಕ್ಷತೆ ಮತ್ತು ಆರೋಗ್ಯ ಕಾರ್ಯಕ್ಷಮತೆಯನ್ನು ಹೆಚ್ಚಿಸಿ”. ಆದಾಗ್ಯೂ 2022 ರ ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನದ ಥೀಮ್ ಇನ್ನೂ ದೃಢೀಕರಿಸಲಾಗಿಲ್ಲ.

ಉಪಸಂಹಾರ –

ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಸುರಕ್ಷತಾ ದಿನವು ಪ್ರತಿ ವರ್ಷ ಮಾರ್ಚ್ 4 ರಿಂದ ಮಾರ್ಚ್ 10 ರವರೆಗೆ ಒಂದು ವಾರದ ಭದ್ರತಾ ಅಭಿಯಾನವಾಗಿದೆ. ಆರೋಗ್ಯ ಸಂಸ್ಥೆಗಳು ಮತ್ತು ಉದ್ಯಮದ ಸದಸ್ಯರು ಸೇರಿದಂತೆ ಸರ್ಕಾರ ಮತ್ತು ಸರ್ಕಾರೇತರ ಸಂಸ್ಥೆಗಳ ಏಕಕಾಲಿಕ ಸಂಘದಿಂದ ಇದನ್ನು ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಕೆಳಗಿನ ಗುರಿಗಳನ್ನು ಸಾಧಿಸಲು, ಘೋಷಣೆಗಳು ಮತ್ತು ಸಂದೇಶಗಳ ಜೊತೆಗೆ ಎಲ್ಲಾ ಕೇಂದ್ರೀಕೃತ ಜಾಹೀರಾತು ಸಾಮಗ್ರಿಗಳನ್ನು ಮತ್ತು ಬ್ಯಾಡ್ಜ್‌ಗಳು, ಸ್ಟಿಕ್ಕರ್‌ಗಳು, ಬ್ಯಾನರ್‌ಗಳು, ಸೂಚನಾ ಕಾರ್ಡ್‌ಗಳು ಮುಂತಾದ ಉಪಯುಕ್ತ ಮುದ್ರಣಗಳನ್ನು ಒದಗಿಸುತ್ತದೆ. ಕೆಲಸದ ಸ್ಥಳದಲ್ಲಿ ಜನರಲ್ಲಿ ಚಟುವಟಿಕೆಗಳನ್ನು ಅಭಿವೃದ್ಧಿಪಡಿಸುವ ಮತ್ತು ಬಲಪಡಿಸುವ ಗುರಿಯನ್ನು ಸಾಧಿಸಲು. ತಮ್ಮ ಜವಾಬ್ದಾರಿಯನ್ನು ಚೆನ್ನಾಗಿ ಪೂರೈಸುವ ಸಲುವಾಗಿ, ಸುರಕ್ಷತಾ ಚಟುವಟಿಕೆಗಳ ಆಧಾರದ ಮೇಲೆ ಶೈಕ್ಷಣಿಕ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮಗಳನ್ನು ವಿವಿಧ ವಿಷಯಗಳ ಮೇಲೆ ಕೈಗಾರಿಕಾ ಕಾರ್ಮಿಕರಿಗೆ ಇರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ.