news

मासिक विनायका चतुर्थी 2022 – Masik Vinayaka Chaturthi Dates 2022 List

Masik Vinayak Chaturthi 2022- हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, चतुर्थी तिथि भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र भगवान गणेश से जुड़ी हुई है। हिंदू कैलेंडर में, प्रत्येक चंद्र महीने में दो चतुर्थी तिथियां (चौथे दिन), विनायक चतुर्थी और संकष्टी चतुर्थी होती हैं। एक चंद्र मास में, विनायक चतुर्थी अमावस्या के बाद, या अमावस्या, शुक्ल पक्ष के दौरान होती है, और संकष्टी चतुर्थी कृष्ण पक्ष के दौरान पूर्णिमा, या पूर्णिमा के बाद होती है। भगवान गणेश एक हिंदू देवता हैं जो समृद्धि, ज्ञान और सौभाग्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्हें विद्या का देवता और बाधाओं को दूर करने वाला कहा जाता है।

Also check – Vinayak Chaturthi recipe

Importance of Vinayaka Chaturthi

Why We Celebrate Masik Vinayaka Chaturthi? – Important of Vinayak Chaturthi

विनायका चतुर्थी और संकष्टी चतुर्थी को हर माह में २ बार मनाया जाता है| इस दिन लोग भगवान् गणेश को की पूजा करके पुरे दिन का व्रत रखते है| पूजा करने के बाद व्रत का समापन किया जाता है| हिन्दू समाज में गणेश जी को बहुत मन जाता है, और हर शुभ कार्य से पहले उनकी पूजा की जाती है| गणेश जी को ‘बाधाओं को दूर करने’ के रूप में माना जाता है। भगवान गणेश समृद्धि, ज्ञान और अच्छे भाग्य का प्रतीक हैं।

इसलिए मासिक विनायका चतुर्थी को हर माह में गणेश जी को याद करने और संकटो को दूर करने के लिए मनाया जाता है| यह एक मासिक परंपरा है| मुख्या रूप से सबसे महत्वपूर्ण गणेश चतुर्थी होती है जो भाद्रपदा के महीने में मनाई जाती है, यह 10 दिन का त्यौहार होता है जिसमे गणेश जी की मूर्ति को घर में लाया जाता है और फिर विसर्जन करके गणेश चतुर्थी का अंतत किया जाता है|

Vinayak Chaturthi Vrat Vidhi 2022- How is vinayaka chaturthi celebrated?

विनायक चतुर्थी  Masik Vinayaka Chaturthi के दिन गणेश जी के लिए व्रत रखने की परंपरा है| हिन्दू धर्म में कोई भी व्रत तब तक सफल नहीं है जब तक उसे पूर्ण विद्धि से न किया जाये| तोह आज हम इस पोस्ट में आपको विनायक चतुर्थी २०२२ के व्रत की विधि बताने जा रहे है|

  • किसी भी व्रत की शुरआत प्रातः काल से पहले हो जाती है, व्रत शुरू करने के लिए आपको ब्रह्मा मुहूर्त में उठना होगा|
  • स्नान करके नए वस्त्र पहनकर तैयार हो जाये और संकल्प करे|
  • इसके बाद गणेश जी का ध्यान करे और उगते हुए सूर्य को अर्घ दें|
  • अब आपको पुरे दिन व्रत रखना होगा| आप फल ले सकते है पर किसी भी प्याज़, अदरक और मांस से बानी चीजे नहीं खा सकते|
  • इसके बाद गणेश जी की पूजा की जाती है और मोदक का प्रसाद बनता है| इसमें व्रत कथा पढ़ी जाती है और गणेश की की आरती गयी जाती है|
  • सूर्य अस्त होने के बाद आप व्रत पूर्ण करके भोजन ले सकते है| इस प्रकार आप Masik Vinayaka Chaturthi का व्रत रख सकते है|

Masik Vinayaka Chaturthi

मासिक विनायका चतुर्थी- Masik Vinayaka Chaturthi dates 2022 list 

अगर आप जानना चाहते है की is today vinayaka chaturthi, आपकी मदद के लिए हमने sankashti chaturthi dates 2022 list यह शेयर की हुई है| 

तारीखतिथि 
6 जनवरी विनायक चतुर्थी जनवरी 2022
४ फरवरी विनायक चतुर्थी फरवरी 2022
६ मार्च विनायक चतुर्थी मार्च 2022
५ अप्रैल विनायक चतुर्थी अप्रैल 2022
५ मई विनायक चतुर्थी मई 2022
३ जून विनायक चतुर्थी जून 2022
३ जुलाई विनायक चतुर्थी जुलाई 2022
१ अगस्त विनायक चतुर्थी अगस्त 2022
३१ अगस्त विनायक चतुर्थी अगस्त 2022
२९ सितम्बर विनायक चतुर्थी सितम्बर 2022
२९ अक्टूबर विनायक चतुर्थी अक्टूबर 2022
२७ नवंबर विनायक चतुर्थी नवंबर 2022
२६ दिसंबर विनायक चतुर्थी दिसंबर 2022

Story of Vinayak Chaturthi

कहा जाता है कि देवी पार्वती ने स्नान करते समय भगवान गणेश को अपनी रक्षा के लिए रेत से बनाया था। यहां तक ​​​​कि भगवान शिव को भी निर्दोष भगवान गणेश द्वारा प्रवेश से वंचित कर दिया गया था, जो अपनी मां को समर्पित रूप से देख रहे थे। प्रवेश पाने के लिए, एक क्रोधित भगवान शिव ने उसका सिर काट दिया। भगवान शिव को देवी पार्वती ने सूचित किया था कि गणेश उनके बच्चे थे, और उन्होंने गणेश के जीवन का अनुरोध किया।

शिव ने देवताओं को एक मृत व्यक्ति की तलाश करने का निर्देश दिया जो अभी भी उत्तर की ओर देख रहा था। केवल एक मृत हाथी जिसका सिर उत्तर की ओर था, देवों को मिला, जो उसका सिर भगवान शिव के पास ले गए, जिन्होंने इसे भगवान गणेश के गले में रखा। भगवान गणेश को वक्रतुंडा और गजानंद भी इसी कारण से जाना जाता है।

Also check – Ganesh Chaturthi Shayari