Nibandh

शेतकरी आत्महत्या निबंध – Farmer Suicide Essay in Marathi – Shetkari Aatmhatya Nibandh Marathi Language

आज के समय में जहा भारत का शहरी छेत्र दिन प्रति दिन निर्माण के छेत्र में आगे बढ़ता जा रहा है वही ग्रामीण छेत्र पिछड़ता जा रहा है| बहुत बार देखा गया है की जब भी भारत का वित्तीय बजट आता है तो उसमे शहरी और व्यवसाय के छेत्र के लिए बहुत लाभदायक योजना होती है परन्तु ग्रामीण छेत्र के लिए बहुत काम योजना होती है| पूरी दुनिया की बात करे तो भारत एकमात्र ऐसा देश है जिसके किसान आये दिन आत्महत्या करके अपना जीवन का त्याग कर देते है| इसके बहुत से मुख्या कारण है| आज के इस पोस्ट में हम आपको शेतकरी आत्महत्या पर हिंदी में निबंध, किसान आत्महत्या निबंध, कृषि शेतकरी आत्महत्या निबंध इन हिंदी, आदि की जानकारी देंगे|

शेतकरी आत्महत्या उपाय निबंध

तो आइये अब हम आपको भारतातील शेतकरी आत्महत्या निबंध, शेतकरी आत्महत्या निबंध pdf, शेतकरी आत्महत्या कविता, शेतकरी आत्महत्या प्रकल्प, शेतकरी आत्महत्या उपाय, शेतकरी आत्महत्या प्रस्तावना, शेतकरी आत्महत्या आकडेवारी, शेतकरी आत्महत्या उपाय योजना, आदि के सम्बंद में जानकारी देंगे|साथ ही सावित्रीबाई फुले कविता व फेयरवेल कविता मराठी भी देखें|

भारत में अन्य देशों की तरह किसानों के आत्महत्या के मामले अन्य व्यवसायों की तुलना में कहीं ज्यादा हैं। आंकड़े बताते हैं कि देश में कुल आत्महत्याओं का 11.2% हिस्सा किसान कर रहे हैं। भारत में किसानों की आत्महत्या के लिए कई कारक योगदान करते हैं। यहां इन कारणों की विस्तृत जानकारी दी गई है और साथ ही संकट में किसानों की मदद के लिए सरकार द्वारा उठाए गए उपायों की जानकारी दी गई है।

भारत में किसान आत्महत्या कर रहे हैं इसके कई कारण हैं। मुख्य कारणों में से एक देश में अनियमित मौसम की स्थिति है। ग्लोबल वार्मिंग ने देश के अधिकांश हिस्सों में सूखा और बाढ़ जैसी चरम मौसम की स्थिति पैदा की है। ऐसी चरम स्थितियों से फसलों को नुकसान पहुंचता है और किसानों के पास खाने को कुछ नहीं बचता। जब फसल की उपज पर्याप्त नहीं होती तो किसान अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए कर्ज लेने पर मजबूर हो जाते हैं। ऋण चुकाने में असमर्थ कई किसान आमतौर पर आत्महत्या करने का दुर्भाग्यपूर्ण कदम उठाते हैं।

ज्यादातर किसान परिवार के एकमात्र कमाने वाले व्यक्ति होते हैं। उन्हें परिवार की मांगों और जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए लगातार दबाव का सामना करना पड़ता है और उसे पूरा करने में असफल होने की वजह से अक्सर तनाव में रहने वाला किसान आत्महत्या का कदम उठा लेता है। भारत में किसान आत्महत्या के मामलों की बढ़ती संख्या के लिए ज़िम्मेदार अन्य कारकों में कम उत्पादन की कीमतें, सरकारी नीतियों में बदलाव, खराब सिंचाई सुविधाएं और शराब की लत शामिल है।

किसान आत्महत्या को नियंत्रित करने के उपाय

देश में किसानों की आत्महत्याओं के मामलों को नियंत्रित करने के लिए भारत सरकार द्वारा उठाए गए कुछ कदम इस प्रकार हैं:

रिलीफ पैकेज 2006
महाराष्ट्र मनी लैंडिंग (विनियमन) अधिनियम 2008
कृषि ऋण छूट और ऋण राहत योजना 2008
महाराष्ट्र राहत पैकेज 2010
केरल के किसानों के ऋण राहत आयोग (संशोधन) बिल 2012
आय स्रोत पैकेज पैकेज विविधता 2013
मोनसेंटो के रॉयल्टी में 70% कटौती
प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना (किसानों के लिए फसल बीमा)
प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना
सोइल हेल्थ कार्ड

यह दुख की बात है कि किसान आत्महत्या कर लेते है क्योकि वे अपने जीवन में वित्तीय और भावनात्मक उथल-पुथल का सामना करने में असमर्थ हैं। इन मामलों को नियंत्रित करने के लिए सरकार को प्रभावी कदम उठाने चाहिए।

शेतकरी निबंध

यहाँ आप Shetkari Aatmhatya essay in Hindi language स्टूडेंट्स के लिए 100, 150, 250, 350, 400 व 450 words (शब्दों) में देख व pdf डाउनलोड कर सकते हैं| साथ ही class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चे इन्हे अपने स्कूल फंक्शन celebration व प्रोग्राम में सुना सकते हैं| शेतकरी आत्महत्या एस्से इन मराठी इस प्रकार हैं:

Farmer Suicide Essay in Marathi

 

भारत में हर साल किसान आत्महत्या के कई मामले उज़ागर होते है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार वर्ष 2004 में दर्ज की गई किसान आत्महत्याओं के मामले 18,241 थे – जो आज तक एक वर्ष में दर्ज किए गये उच्चतम संख्या थी। आंकड़े बताते हैं कि देश में कुल आत्महत्याओं का 11.2% किसान आत्महत्या करते हैं। कई कारण जैसे कि सूखा और बाढ़, उच्च ऋण, प्रतिकूल सरकारी नीतियां, सार्वजनिक मानसिक स्वास्थ्य समस्या और गरीब सिंचाई सुविधाएं आदि जैसी कई स्थितियां भारत में किसानों के आत्महत्या के मामलों की बढ़ती संख्या के लिए जिम्मेदार माने जाते है। यह मामला गंभीर है और सरकार इस समस्या को नियंत्रित करने के लिए काम कर रही है।
संकट में किसानों की मदद करने और आत्महत्याओं को रोकने के लिए भारत सरकार द्वारा उठाए गए कुछ क़दमों की जानकारी यहां दी गई है:
वर्ष 2006 में भारत सरकार ने महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल और आंध्र प्रदेश में 31 जिलों की पहचान की और किसानों की परेशानी को कम करने के लिए एक अनूठे पुनर्वास पैकेज पेश किया। इन राज्यों में किसान आत्महत्याएं उच्च दर पर हैं।
महाराष्ट्र सरकार ने किसानों को निजी धन उधार को विनियमित करने के लिए मनी लेंडिंग (विनियमन) अधिनियम, 2008 पारित किया। यह निजी उधारदाताओं द्वारा किसानों को दिए गए ऋण पर अधिकतम ब्याज दर निर्धारित करता है क्योंकि भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा निर्धारित धन उधार दर की तुलना में थोड़ा अधिक है।
भारत सरकार ने कृषि ऋण माफी और ऋण राहत योजना को वर्ष 2008 में शुरू किया जिसका लाभ 3 करोड़ 60 लाख से अधिक किसानों को हुआ। इस योजना के तहत किसानों द्वारा बकाया ऋण मूलधन और ब्याज का हिस्सा बंद करने के लिए कुल 653 अरब रुपये खर्च किए गए थे।
महाराष्ट्र सरकार ने गैर-लाइसेंसधारित लेन-देनदारों को 2010 में ऋण चुकौती के लिए गैरकानूनी बना दिया था। किसान इस पैकेज के तहत कई अन्य लाभों के हकदार थे।
केरल के किसानों के ऋण राहत आयोग (संशोधन) बिल 2012
2012 में केरल ने केरल के किसानों के ऋण राहत आयोग अधिनियम 2006 को संशोधित किया था ताकि 2011 के माध्यम से व्यथित किसानों को ऋण प्रदान किया जा सके।
आय स्रोत पैकेज विविधता 2013
सरकार ने महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और केरल जैसे किसान-आत्महत्या प्रवण क्षेत्रों के लिए इस पैकेज को पेश किया है।
राज्यों की पहल
भारत में कई राज्य सरकारों ने किसान आत्महत्याओं को रोकने के लिए विशेष प्रयास किए हैं। संकट में किसानों की सहायता के लिए समूह समर्पित किए गए हैं और मौद्रिक सहायता प्रदान करने के लिए धन भी जुटाया है।
हाल ही में मोदी सरकार ने भारत में किसानों के आत्महत्या के मुद्दे से निपटने के लिए कदम उठाए हैं। सरकार ने मोनसेंटो के रॉयल्टी में 70% कटौती की है। किसानों को इनपुट सब्सिडी में राहत दी है और प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना (किसानों के लिए फसल बीमा) और प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना का शुभारंभ किया है। सरकार मृदा स्वास्थ्य कार्ड (सोइल हेल्थ कार्ड) भी जारी कर रही है जिसमें किसानों को कृषि उत्पादकता बढ़ाने में मदद करने के लिए पोषक तत्वों और उर्वरकों की फसलवार सिफारिशें शामिल हैं।
किसान आत्महत्या एक गंभीर मुद्दा है हालांकि सरकार ने संकट में किसानों की मदद के लिए कई तरह के पैकेजों की शुरुआत की है लेकिन किसान आत्महत्या मामलों को पूरी तरह खत्म नहीं कर पाए हैं। यह सही वक़्त है कि भारत सरकार इस मुद्दे की संवेदनशीलता को पहचाने और इसके प्रति काम करें जिससे यह समस्या जल्द समाप्त हो जाए।

शेतकरी आत्महत्या निबंध मराठी

Farmers Suicide Essay in marathi language, composition, short paragraph, hindi font यानी की हिंदी व मराठी भाषा में होगी|

शेतकरी आत्महत्या निबंध

 

भारतात दरवर्षी आत्महत्या करणार्या अनेक घटनांची नोंद केली जाते. अशी अनेक कारणे आहेत ज्यामुळे शेतकर्यांनी हे कठोर पाऊल उचलण्यास भाग पाडले. भारतात, शेतकरी आत्महत्या योगदान काही सामान्य घटक दुष्काळ, पूर, आर्थिक संकट, कर्ज, आरोग्य, कौटुंबिक जबाबदाऱ्या, सरकारी धोरणे, बदल, दारू कमी उत्पादन खर्च आणि गरीब सिंचन पुनरावृत्ती सुविधा आहेत. येथे शेतकरी आत्महत्याच्या आकडेवारीवर सविस्तर दृष्टिकोन आहे आणि या मुद्याच्या कारणाबाबत चर्चा झाली आहे.
आकडेवारीनुसार देशात एकूण आत्महत्या करणाऱ्यांच्या 11.2% शेतकरी आत्महत्या करतात. 2005 आणि 2015 च्या दरम्यान 10 वर्षांच्या कालावधीत देशातील शेतकरी आत्महत्यांचा दर 1.4 ते 1.8 / 100,000 च्या दरम्यान होता. 2004 मध्ये भारतातील शेतकऱ्यांच्या आत्महत्यांचे सर्वाधिक साक्षीदार झाले. यावर्षी आतापर्यंत 18, 241 शेतकर्यांनी आत्महत्या केल्या आहेत.
2010 मध्ये नॅशनल क्राइम रेकॉर्ड्स ब्युरोने एकूण 135,59 9 आत्महत्या घडल्या, त्यापैकी 15, 9 63 आत्मघाती प्रकरणे नोंदविली. 2011 मध्ये देशात 135,585 आत्महत्या घडल्या, त्यापैकी 14,207 शेतकरी होते. 2012 मध्ये, एकूण आत्महत्या करणाऱ्या 11.2% शेतकरी होते, त्यातील एक चतुर्थांश महाराष्ट्र होता. 2014 मध्ये 5,650 शेतकर आत्मघाती प्रकरणांची नोंद झाली. महाराष्ट्र, पाँडिचेरी आणि केरळ राज्यातील शेतकर्यांमधील आत्महत्यांचे सर्वाधिक दर
शेतकर्यांच्या आत्महत्येची प्रकरणे केवळ भारतामध्येच दिसत नाहीत, परंतु या समस्येने जागतिक स्तरावर पाहिले आहे. इंग्लंड, कॅनडा, ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका आणि यूएसए यासारख्या विविध देशांतील शेतकरी देखील अशाच समस्यांना तोंड देत आहेत. अमेरिका आणि ब्रिटनसारख्या देशांमध्ये, अन्य व्यवसायांतील लोकांच्या तुलनेत शेतकरी आत्महत्यांचे प्रमाण अधिक आहे.
भारतातील शेतकऱ्यांच्या आत्महत्यांचे काही प्रमुख कारणे येथे पाहा:
अपु-पिके पावसाचे पीक उत्पादनात घट घडण्याचे एक मुख्य कारण आहे. वारंवार दुष्काळ पडलेल्या भागात, पीक उत्पादनात मोठी घट झाली आहे. अशा भागातील शेतकर्यांच्या आत्महत्यांचे प्रकरण अधिक आढळून आले आहे.
शेतकरी दुष्काळ ग्रस्त जितके जास्त ते पूरमुळे प्रभावित होतात. जोरदार पावसामुळे शेतांमध्ये पाणी अधिक येते आणि पीक खराब होते.
शेतकरी सहसा जमिनीचा विकास करण्यासाठी निधी वाढवतात आणि सहसा या कामासाठी प्रचंड कर्ज घेतात. हे कर्ज देण्यास असमर्थता शेतकरी आत्महत्यांचा आणखी एक प्रमुख कारण आहे.
भारत सरकार सूक्ष्म आर्थिक धोरण, उदारीकरण, खाजगीकरण आणि जागतिकीकरण नावे, शेतकऱ्यांच्या आत्महत्यांचे कारण मानले जाते केले आहे जे मध्ये बदलते. सध्या वादविवाद हा मुद्दा आहे.
असा दावा केला गेला आहे की बीटी कापसासारख्या जनुकीय सुधारित पिके शेतकऱ्यांच्या आत्महत्यांचे कारण देखील आहेत. याचे कारण म्हणजे बीटी कॉटन बियाण्यांच्या खर्चाच्या सामान्य बियाण्याची संख्या दुप्पट आहे. शेतकरी ही पिके वैयक्तिक, असे पू ँ jidaron वाढण्यास उच्च कर्ज घेणे भाग पडले आहेत आणि नंतर ते बाजार मूल्य पेक्षा कापूस फार कमी किंमतीला विकावे करणे भाग पडले आहेत, जे शेतकरी आणि आर्थिक दरम्यान कर्ज संकट वाढते.
कौटुंबिक खर्चाची भरपाई करण्यास असमर्थता आणि मागणीमुळे मानसिक तणाव निर्माण होतात, जेणेकरून या समस्येने ग्रस्त शेतकरी आत्महत्या करण्यास भाग पाडतात.
शेतकऱ्यांच्या समस्येस मदत करण्यासाठी सरकारने अनेक पावले उचलली आहेत, तरीही भारतातील शेतकऱ्यांच्या आत्महत्यांचे प्रकरण संपत नाहीत. सरकारच्या कर्ज सवलती किंवा सूट यावर लक्ष केंद्रित करण्याऐवजी, सरकारला त्यांच्या समृद्धीची खात्री करण्यासाठी शेतक-याच्या उत्पन्नाची आणि उत्पादकतावर लक्ष केंद्रित करणे आवश्यक आहे.

Leave a Comment