Nibandh

विश्व जनसंख्या दिवस पर निबंध 2018 – World Population Day Essay in Hindi – 11 जुलाई वर्ल्ड पॉपुलेशन डे एस्से

विश्व जनसंख्या दिवस 2018: विश्व जनसंख्या दिवस एक बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है| जैसा की हम जानते ही है की पृथ्वी पर धीरे धीरे जनसंख्या रेट बढ़ता जा रहा है जिसके वजह से बहुत सी समस्या उत्पन्न हो गई है| इसकी वजह से भारी मात्रा में पेड़ काटे जा रहे है जिसके चलते प्रदुषण बढ़ता जा रहा है और ग्लोबल वार्मिंग का खतरा बनने लगा है| हर साल पूरे विश्व में 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है| इस दिवस को मनाने का मुख्या कारण सभी लोगो को जनसंख्या संतुलन और बढ़ती आबादी एक बारे में जागरूक करवाना है| आज के इस पोस्ट में हम आपको वर्ल्ड पापुलेशन डे पर एस्से, विश्व जनसंख्या दिवस इंग्लिश निबंध, वर्ल्ड पापुलेशन डे एस्से इन हिंदी, विश्व जनसंख्या दिवस पर एस्से इन मराठी, हिंदी, इंग्लिश, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलगु, आदि की जानकारी देंगे जिसे आप अपने स्कूल के स्पीच प्रतियोगिता, debate competition, कार्यक्रम या भाषण प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है| ये निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है|

विश्व जनसंख्या दिवस निबंध

World population day theme 2018: इस साल की विश्व जनसंख्या दिवस 2018 थीम है “Family Planning is a Human Right” यानी की “पारिवारिक योजना एक मानव अधिकार है”| आज हमारे द्वारा दिए गए वर्ल्ड पॉपुलेशन डे पर कुछ संक्षिप्त निबंध (short essays) और लंबे निबंध (long essays), Posters on World Population Day with Slogans, essay writing in school, ये विश्व जनसंख्या दिवस पर भाषण, विश्व जनसंख्या दिवस पर स्पीच, विश्व जनसंख्या दिवस पर नारे, जागतिक लोकसंख्या दिवस निबंध, विश्व जनसंख्या दिवस पर कविता, एस्से ओं वर्ल्ड पापुलेशन डे, Pictures of world population day, topic on world population day, विश्व जनसंख्या निश्चित रूप से आयोजन समारोह या बहस प्रतियोगिता (debate competition) यानी स्कूल कार्यक्रम में स्कूल या कॉलेज में निबंध में भाग लेने में छात्रों की सहायता करेंगे। इन वन महोत्सव पर हिंदी स्पीच हिंदी में 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|

11 जुलाई को सालाना पूरे विश्व में विश्व जनसंख्या दिवस के रुप में एक महान कार्यक्रम मनाया जाता है। पूरे विश्व में जनसंख्या मुद्दे की ओर लोगों की जागरुकता को बढ़ाने के लिये इसे मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की संचालक परिषद के द्वारा वर्ष 1989 में इसकी पहली बार शुरुआत हुई। लोगों के हितों के कारण इसको आगे बढ़ाया गया था जब वैश्विक जनसंख्या 11 जुलाई 1987 में लगभग 5 अरब (बिलीयन) के आसपास हो गयी थी।

2012 विश्व जनसंख्या दिवस उत्सव के थीम (विषय) के द्वारा पूरे विश्व भर में ये संदेश “प्रजनन संबंधी स्वास्थय सुविधा के लिये सार्वभौमिक पहुँच” दिया गया था जब पूरे विश्व की जनसंख्या लगभग 7,025,071,966 थी। लोगों के चिरस्थायी भविष्य के साथ ही ज्यादा छोटे और स्वस्थ समाज के लिये सत्ता द्वारा बड़े कदम उठाये गये थे। प्रजनन संबंधी स्वास्थ देख-रेख की माँग और आपूर्ति पूरी करने के लिये एक महत्वपूर्णं निवेश किया गया है। जनसंख्या घटाने के द्वारा सामाजिक गरीबी को घटाने के साथ ही जननीय स्वास्थ्य बढ़ाने के लिये कदम उठाये गये थे।

ये विकास के लिये एक बड़ी चुनौती थी, जब वर्ष 2011 में पूरे धरती की जनसंख्या 7 बिलीयन के लगभग पहुँच गयी थी। वर्ष 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के संचालक परिषद के फैसले के अनुसार, ये अनुशंसित किया गया था कि हर साल 11 जुलाई को वैश्विक तौर पर समुदाय द्वारा सूचित करना चाहिये और आम लोगों के बीच जागरुकता बढ़ाने के लिये विश्व जनसंख्या दिवस के रुप में मनाना चाहिये तथा जनसंख्या मुद्दे का सामना करने के लिये वास्तविक समाधान पता करना चाहिये। जनसंख्या मुद्दे के महत्व की ओर लोगों का जरुरी ध्यान केन्द्रित करने के लिये इसकी शुरुआत की गयी थी।

Vishwa Jansankhya Diwas Par Nibandh

विश्व जनसंख्या दिवस कब मनाया जाता है: संयुक्त राष्ट्र द्वारा विश्व जनसंख्या दिवस जिसे वर्ल्ड पापुलेशन डे भी कहते हैं प्रत्येक वर्ष 11 जुलाई को मनाया जाता है| इस साल भी यह दिन 11 जुलाई 2018 को मनाया जाएगा| अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है विश्व जनसंख्या दिवस पर निबंध लिखें| यहाँ हमने हर साल 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 व 2018 के अनुसार World Population Day essay for school, world population day essay pdf, essay on world population day in 150 words, Thoughts on World Population Day in Hindi, paragraph on world population day, Vishwa Jansankhya Diwas nibandh , विश्व जनसंख्या दिवस पर लेख, विश्व जनसंख्या दिवस 2018 का थीम, essay on world population day for class 9, world population day essay for class 5, world population day essay for students, world population day essay 500 words, वर्ल्ड पापुलेशन डे एस्से, world population day essay hindi दिया हुआ जिसे आप अपने स्कूल कम्पटीशन में लिख सकते है|

विश्व जनसंख्या दिवस

आज 11 जुलाई को पूरी दुनिया में विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है। विश्व जनसंख्या दिवस, विश्व आबादी से जुड़े मुद्दों और जागरुकता को लेकर मनाया जाता है। यूं तो मानव ने हर क्षेत्र में तेजी से प्रगति की है और यह प्रक्रिया लगातार जारी है। नए-नए तकनीकि अविष्कार ने मानव जीवन को बिल्कुल बदल कर रख दिया है, लेकिन इस अंधाधुंध विकास के बीच के कई समस्याएं भी चुनौती के रूप में सामने खड़ी हुई हैं। इनमें एक समस्या है तेजी से बढ़ती जनसंख्या। इसको नियंत्रित करने के लिए लंबे समय से प्रयास जारी हैं, लेकिन बावजूद इसके जनसंख्या में वृद्धि लगातान बढ़ती जा रही है। खासकर विकासशील देशों में जनसंख्या विस्फोट गहरी चिंता का विषय है।

कब हुई शुरुआत

विश्व जनसंख्या दिवस की शुरूआत 11 जुलाई 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम द्वारा की गई थी। उस वक्त विश्व की जनसंख्या लगभग 5 अरब थी। इस जनसंख्या की ओर ध्यान देते हुए 11 जुलाई 1989 को वर्ल्ड पॉपूलेशन डे की घोषणा की गई।

क्यों और कैसे मनाया जाता है

इस दिवस का उद्देश्य ये है कि विश्व का हर नागरिक इस ओर ध्यान दे और जनसंख्या नियंत्रण में अपना योगदान दे। इस दिन बढ़ती जनसंख्या के समाधान और इस ओर जागरुकता फैलाने के लिए राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई क्रियाकलाप किए जाते हैं। इनमें शैक्षणिक जानकारी सत्र, निबंध लेखन प्रतियोगिता, विभिन्न विषयों पर लोक प्रतियोगिता, पोस्टर वितरण, सेमिनार और चर्चा शामिल हैं। इन क्रियाकलापों द्वारा परिवार नियोजन और गर्भ से जुड़ी तमाम जानकारियों से लोगों को जागरुक किया जाता है।

जनसंख्या से जुड़े भारत के आंकड़े

भारत जनसंख्या वृद्धि में दुनिया के कई देशों से बहुत आगे। बढ़ती जनसंख्या भारत के लिए बहुत बड़ी चिंता का विषय है। आजादी के वक्त (1947) भारत की आबादी 34.20 करोड़ थी जो आज बढ़ कर 1 अरब 25 करोड़ से भी ऊपर पंहुच चुकी है। भारत में दुनिया की 15 फीसद आबादी रहती है और भारत के पास विश्व का 2.4 प्रतिशत भू- भाग है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है जनसंख्या वृद्धि किस तरह एक विकराल समस्या है।

Essay on World Population Day in Hindi language

यद्यपि आपको इस कारण के बारे में पता होना चाहिए कि हमने क्यों यहां सबको इकट्ठा किया है लेकिन उन सभी के लिए जो अभी भी यहाँ मौजूद होने के बारे में सोच रहे हैं मैं जल्दी ही इस मीटिंग के उद्देश्य को आपके साथ साझा करूँगा। असल में हमें इस साल संयुक्त राष्ट्र द्वारा शुरू किए गए विश्व जनसंख्या दिवस के जश्न के लिए स्थानीय एजेंसियों से एक पत्र प्राप्त हुआ है। यह दिन हर साल 11 जुलाई को लोगों के अधिकारों के प्रचार के लिए मनाया जाने वाला एक वार्षिक उत्सव है और साथ ही उन्हें अपने परिवार की बेहतर तरीके से योजना बनाने में मदद करने के लिए मनाया जाता है। यह लोगों के बीच जागरूकता फैलाने के लिए घटनाओं, गतिविधियों और सूचनाओं का समर्थन करता है ताकि वे अपने अधिकारों का उपयोग कर सकें और अपने परिवार के बारे में उचित निर्णय ले सकें।

हमारा संगठन पूरे शहर में उत्साहपूर्वक विश्व जनसंख्या दिवस का जश्न मनाने के लिए प्रसिद्ध है। मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि स्थानीय और साथ ही राज्य सरकार ने हमें अपने अधिकारों के बारे में जागरूकता फैलाने और पारिवारिक नियोजन के बारे बात करने के लिए हमारी प्रशंसा की है।

सौभाग्य से इस बार हमारे पास लोगों को उनके अधिकारों और जिम्मेदारियों से अवगत कराने के अलावा व्यापक योजनाएं हैं। हम उन्हें उन कुछ बीमारियों के बारे में भी सूचित करेंगे जो आपके परिवार के गैर-नियोजन के कारण आक्रमण कर सकती हैं। हम सभी जानते हैं कि हमारे देश में छोटी उम्र में लड़की का विवाह करना अभी भी प्रचलित है। लड़कियों की शादी करने के बाद से ही उनसे बच्चों को जन्म देने की उम्मीद की जाती है और अगर वे लड़की को जन्म देते हैं तो उनसे लड़के को जन्म देने की उम्मीद की जाती है। यह प्रयास उस समय तक चलता है जब तक वे एक लड़के को जन्म नहीं दे देती। दुर्भाग्य से हमारे देश में लिंग असमानता अभी भी एक प्रमुख मुद्दा है। लोगों को शायद ही कभी यह महसूस हो कि अगर एक नाबालिग़ लड़की गर्भवती हो गई तो उसे कई स्वास्थ्य समस्याओं से गुजरना पड़ सकता है और यह अंततः उसके अपने स्वास्थ्य के साथ-साथ उसके गर्भ में पल रहे बच्चे को भी प्रभावित कर सकता है जिसे वह जन्म देने वाली है। कुपोषण ऐसी गर्भावस्था से उत्पन्न सबसे प्रमुख रोगों में से एक है।

World Population Day Essay in Hindi

World Population Day Essay in Hindi

आज 11 जुलाई को पूरी दुनिया में विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है। विश्व जनसंख्या दिवस, विश्व आबादी से जुड़े मुद्दों और जागरुकता को लेकर मनाया जाता है। यूं तो मानव ने हर क्षेत्र में तेजी से प्रगति की है और यह प्रक्रिया लगातार जारी है। नए-नए तकनीकि अविष्कार ने मानव जीवन को बिल्कुल बदल कर रख दिया है, लेकिन इस अंधाधुंध विकास के बीच के कई समस्याएं भी चुनौती के रूप में सामने खड़ी हुई हैं। इनमें एक समस्या है तेजी से बढ़ती जनसंख्या। इसको नियंत्रित करने के लिए लंबे समय से प्रयास जारी हैं, लेकिन बावजूद इसके जनसंख्या में वृद्धि लगातान बढ़ती जा रही है। खासकर विकासशील देशों में जनसंख्या विस्फोट गहरी चिंता का विषय है।

विश्व जनसंख्या दिवस की शुरूआत 11 जुलाई 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम द्वारा की गई थी। उस वक्त विश्व की जनसंख्या लगभग 5 अरब थी। इस जनसंख्या की ओर ध्यान देते हुए 11 जुलाई 1989 को वर्ल्ड पॉपूलेशन डे की घोषणा की गई।

इस दिवस का उद्देश्य ये है कि विश्व का हर नागरिक इस ओर ध्यान दे और जनसंख्या नियंत्रण में अपना योगदान दे। इस दिन बढ़ती जनसंख्या के समाधान और इस ओर जागरुकता फैलाने के लिए राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई क्रियाकलाप किए जाते हैं। इनमें शैक्षणिक जानकारी सत्र, निबंध लेखन प्रतियोगिता, विभिन्न विषयों पर लोक प्रतियोगिता, पोस्टर वितरण, सेमिनार और चर्चा शामिल हैं। इन क्रियाकलापों द्वारा परिवार नियोजन और गर्भ से जुड़ी तमाम जानकारियों से लोगों को जागरुक किया जाता है।

भारत जनसंख्या वृद्धि में दुनिया के कई देशों से बहुत आगे। बढ़ती जनसंख्या भारत के लिए बहुत बड़ी चिंता का विषय है। आजादी के वक्त (1947) भारत की आबादी 34.20 करोड़ थी जो आज बढ़ कर 1 अरब 25 करोड़ से भी ऊपर पंहुच चुकी है। भारत में दुनिया की 15 फीसद आबादी रहती है और भारत के पास विश्व का 2.4 प्रतिशत भू- भाग है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है जनसंख्या वृद्धि किस तरह एक विकराल समस्या है।

World population day short essay in Hindi

इन anuched, short paragraphs, pdf, Composition, Paragraph, Article हिंदी, some lines on van mahotsav in hindi, world population day 2018 theme, 5 lines on World Population Day in hindi, short essay onWorld Population Day in hindi font, few lines on World Population Day in hindi निबन्ध (Nibandh) Sayings, Slogans, Messages, SMS, Quotes, Whatsapp Status, Words Character तथा भाषा Hindi font, hindi language, English, Urdu, Tamil, Telugu, Punjabi, English, Haryanvi, Gujarati, Bengali, Marathi, Malayalam, Kannada, Nepali के Language Font के 3D Image, Pictures, Pics, HD Wallpaper, Greetings, Photos, Free Download कर सकते हैं|

विश्व जनसंख्या 11 जुलाई को मनाया जाता है और आज इसे दुनिया भर में मनाया जा रहा है। इसका उद्देश्य वैश्विक जनसंख्या मुद्दों के बारे में जागरूकता फैलाना है। लोगों को परिवार के नियोजन, मातृ स्वास्थ्य, गरीबी के महत्व जैसे विभिन्न मुद्दों से अवगत होना चाहिए। आंकड़ों के मुताबिक 2016 तक विश्व की आबादी 7 अरब तक पहुंच गई है जो वाकई विश्व के लिए एक गंभीर मुद्दा है।

ईश्वर की कृपा से हमें पृथ्वी पर कई संसाधनों का आशीर्वाद मिला है लेकिन क्या हम वास्तव में उन संसाधनों को बनाए रखने में सक्षम हैं या हम इस तरह के संसाधनों को संभाल सकते हैं। नहीं हम इतना सब कुछ नहीं कर सकते। अच्छे भविष्य के लिए हमें इस बढ़ती आबादी को नियंत्रित करने की जरूरत है।

इस दिन का जश्न मनाने के उद्देश्य को भी स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों से जोड़ा जाता है क्योंकि हर साल महिलाएं प्रजनन अवधि में प्रवेश कर रही हैं और प्रजनन स्वास्थ्य के प्रति ध्यान देना जरूरी है। लोगों को परिवार नियोजन, गर्भ निरोधकों और सुरक्षा उपायों के उपयोग के बारे में पता होना चाहिए जो सेक्स से संबंधित मुद्दों को रोक सकते हैं।

हाल के अध्ययन के अनुसार यह देखा गया था कि 15-19 आयु वर्ग के बीच के युवा यौन संबंध बनाने की ओर आकर्षित हो रहे हैं जिससे यौन संचारित बीमारियों का जन्म हो रहा है।

World population day essay in English

Welcome to the celebration of 7th World Population Day. As you know, like every year we are celebrating this day with equal enthusiasm and new theme. In 1989, the Governing Council of United Nations Development Programme recommended to celebrate World Population Day on 11th July with the objective to highlight the importance and urgency to population related issues.

As you all know that every year our NGO selects a theme based on population and try to create awareness about the same. So this year’s theme would be gender equality and protection of girl child. Since our establishment, we have been fighting against female foeticide. Girls are equally important as that of boys and perhaps even more because the entire humanity owes its existence to them and they help strike a social balance in our society. There was a great reduction in the number of women compared to men, till few years ago. Due to an increase in crimes rate against women such as dowry deaths, female foeticide, rape, forced illiteracy, gender-based discrimination, etc women have always been suppressed. In order to equalize the boy-girl ratio, it is important that people start saving the girl child.

We travel in rural and semi-urban areas in order to identify such cases where women unfortunately become the victims of evil forces in our society. Female trafficking, domestic violence, forced prostitution and female foeticide have become serious threats for the safety of women. Therefore, we try to provide possible assistance to women who are living under deprived conditions so that they can liberate themselves from these inhuman conditions. We also try to make them aware of various acts implemented by the government such as gender equality, protection of women from domestic violence act 2005, proper education, ban of female infanticide, immoral traffic (prevention) act, etc in order to protect them in the society.

World population day essay in Malayalam

7-ാം ലോക ജനസംഖ്യാ ദിനത്തിൻറെ ആഘോഷത്തിലേക്ക് സ്വാഗതം. നിങ്ങൾക്ക് അറിയാവുന്നതുപോലെ, ഓരോ വർഷവും ഞങ്ങൾ സമാനമായ ആവേശവും പുതിയ തീമഹാസവും ആഘോഷിക്കുന്നു. 1989-ൽ ഐക്യരാഷ്ട്ര വികസന പരിപാടിയുടെ ഭരണസംവിധാന സമിതി ജനസംഖ്യാ സംബന്ധമായ പ്രശ്നങ്ങളിൽ പ്രാധാന്യം നൽകിക്കൊണ്ട് ജനാധിപത്യ ദിനാചരണം ജൂലൈ 11 ന് ആഘോഷിച്ചു.

എല്ലാ വർഷവും നമ്മുടെ എൻജിഒ ജനസംഖ്യാടിസ്ഥാനത്തിലുള്ള ഒരു തീം തിരഞ്ഞെടുക്കുകയും അത് സംബന്ധിച്ച് അവബോധം സൃഷ്ടിക്കാൻ ശ്രമിക്കുകയും ചെയ്യുമെന്ന് നിങ്ങൾക്ക് അറിയാം. ഈ വർഷത്തെ തീം ലിംഗ സമത്വവും പെൺകുട്ടിയുടെ സംരക്ഷണവും ആയിരിക്കും. നമ്മുടെ സ്ഥാപനം മുതൽ, നമ്മൾ പെൺ ഭ്രൂണഹത്യയ്ക്കെതിരേ പോരാടുകയാണ്. പെൺകുട്ടികൾ ആൺകുട്ടികളുടേതുപോലും ഒരുപോലെ പ്രാധാന്യമർഹിക്കുന്നു. കാരണം, മുഴു മനുഷ്യവർഗ്ഗവും അവരുടെ നിലനിൽപ്പിന് കടപ്പെട്ടിരിക്കുന്നതിനാൽ അവർ സമൂഹത്തിൽ ഒരു സാമൂഹിക ബാലൻസ് നിർത്താൻ സഹായിക്കുന്നു. സ്ത്രീകളെ അപേക്ഷിച്ച് വളരെ കുറവ് സ്ത്രീകളായിരുന്നു. സ്ത്രീധന മരണങ്ങൾ, സ്ത്രീ ഭ്രൂണഹത്യ, ബലാത്സംഗം, നിർബന്ധിത നിരക്ഷരത, ലിംഗഭേദം അടിസ്ഥാനത്തിലുള്ള വിവേചനങ്ങൾ മുതലായവ സ്ത്രീകൾക്കെതിരായ കുറ്റകൃത്യ നിരക്ക് വർദ്ധിച്ചതിനാൽ എല്ലായ്പ്പോഴും അടിച്ചമർത്തപ്പെട്ടിട്ടുണ്ട്. ആൺകുട്ടികളുടെ അനുപാതം തുല്യമാക്കുന്നതിന് പെൺകുട്ടി കുഞ്ഞിനെ സംരക്ഷിക്കാൻ തുടങ്ങും.

നമ്മുടെ സമൂഹത്തിലെ ദുർബല ശക്തികളുടെ ഇരകളായ സ്ത്രീകളെ അത്തരം സാഹചര്യങ്ങളിൽ തിരിച്ചറിയുന്നതിനായി ഗ്രാമീണ, അർധനഗര മേഖലകളിൽ ഞങ്ങൾ സഞ്ചരിക്കുന്നു. സ്ത്രീകളെ കടത്തൽ, ഗാർഹിക അതിക്രമങ്ങൾ, നിർബന്ധിത വേശ്യാവൃത്തി, പെൺ ഭ്രൂണഹത്യ എന്നിവ സ്ത്രീകളുടെ സുരക്ഷയ്ക്കായി ഗുരുതരമായ ഭീഷണി ഉയർത്തുന്നു. അതുകൊണ്ട്, ദുർബലമായ സാഹചര്യങ്ങളിൽ ജീവിക്കുന്ന സ്ത്രീകൾക്ക് ഈ മനുഷ്യത്വരഹിതമായ സാഹചര്യങ്ങളിൽ നിന്നും തങ്ങളെ മോചിപ്പിക്കുവാൻ കഴിയുമെന്ന് ഞങ്ങൾ ശ്രമിക്കുന്നു. 2005 ലെ ഗാർഹിക അതിക്രമങ്ങൾ, സ്ത്രീകൾക്ക് സംരക്ഷണം, വനിതാ ശിശുഹത്യ നിരോധനം, അധാർമിക ട്രാഫിക് (പ്രിവൻഷൻ) നിയമം മുതലായവയിൽ നിന്നും സംരക്ഷിക്കുന്നതിനായി ഗവൺമെൻറ് നടപ്പിലാക്കിയ വിവിധ പ്രവൃത്തികളെക്കുറിച്ച് അവരെ ബോധവാനായി ശ്രമിക്കുന്നു. സമൂഹം.

World population day essay in gujarati

studymode essay on world population day in gujarati, world population day essay in gujarati language

7 મી વર્લ્ડ પોપ્યુલેશન ડેની ઉજવણીમાં આપનું સ્વાગત છે. જેમ તમે જાણો છો, દર વર્ષે આપણે સમાન ઉત્સાહ અને નવી થીમ સાથે આ દિવસ ઉજવણી કરીએ છીએ. 1989 માં, યુનાઈટેડ નેશન્સ ડેવલપમેન્ટ પ્રોગ્રામની ગવર્નિંગ કાઉન્સિલે વસ્તી સંબંધિત મુદ્દાઓની મહત્વ અને તાકીદને પ્રકાશિત કરવાના ઉદ્દેશ સાથે 11 મી જુલાઇએ વિશ્વ વસતી દિવસની ઉજવણી કરવાની ભલામણ કરી હતી.

જેમ તમે બધા જાણો છો કે દર વર્ષે અમારા એનજીઓ વસ્તી પર આધારિત થીમ પસંદ કરે છે અને તે વિશે જાગૃતિ લાવવાનો પ્રયાસ કરો. તેથી આ વર્ષની થીમ જાતિ સમાનતા અને છોકરીનું રક્ષણ કરશે. અમારી સ્થાપનાથી, અમે સ્ત્રી ભ્રૂણ હત્યા સામે લડતા છીએ. છોકરાઓ એ છોકરાઓની જેમ અને કદાચ વધુ મહત્વનું છે કારણ કે સમગ્ર માનવતા તેમના અસ્તિત્વને બાકી છે અને તેઓ આપણા સમાજમાં સામાજિક સંતુલનને હડતાલ કરવા માટે મદદ કરે છે. પુરૂષોની તુલનામાં સ્ત્રીઓની સંખ્યામાં ઘણો ઘટાડો થયો હતો, થોડા વર્ષો પહેલા. દહેજની મોત, સ્ત્રી ભ્રૂણહત્યા, બળાત્કાર, ફરજ પડી નિરક્ષરતા, લિંગ આધારિત ભેદભાવ વગેરે જેવી સ્ત્રીઓ સામે ગુનાખોરીના દરમાં વધારો થવાને કારણે મહિલાઓ હંમેશા દબાવી દેવામાં આવી છે. છોકરા-છોકરીના ગુણોત્તરને સરખાવવા માટે, તે મહત્વનું છે કે લોકો બાળકને બચાવવા શરૂ કરે છે.

અમે આવા કિસ્સાઓ ઓળખવા માટે ગ્રામીણ અને અર્ધ-શહેરી વિસ્તારોમાં મુસાફરી કરીએ છીએ જ્યાં મહિલાઓ કમનસીબે આપણા સમાજમાં દુષ્ટ બળોના ભોગ બને છે. મહિલા વેપાર, ઘરેલું હિંસા, ફરજિયાત વેશ્યાગીરી અને સ્ત્રી ભ્રૂણહત્યા મહિલાઓની સલામતી માટે ગંભીર જોખમ બની ગઇ છે. તેથી, અમે વંચિત પરિસ્થિતિઓ હેઠળ જીવેલા સ્ત્રીઓને શક્ય સહાય પૂરી પાડવાનો પ્રયાસ કરીએ છીએ જેથી તેઓ પોતાને આ અમાનવીય પરિસ્થિતિઓથી મુક્ત કરી શકે. અમે તેમને સરકાર દ્વારા અમલમાં આવતાં વિવિધ કૃત્યો જેમ કે જાતિ સમાનતા, ઘરેલુ હિંસા અધિનિયમ 2005, યોગ્ય શિક્ષણ, સ્ત્રી બાળહત્યા પર પ્રતિબંધ, અનૈતિક ટ્રાફિક (નિવારણ) અધિનિયમ, વગેરેના રક્ષણ માટે તેમને પરિચિત બનાવવાનો પ્રયત્ન પણ કરીએ છીએ. સમાજ.

Leave a Comment