Martyrs Day Essay in Hindi – शहीद दिवस पर निबंध

शाहिद _दिवस_इमेज_8

भारत में कई तारीखों पर शहीद दिवस(Shahid Diwas) मनाया जाती हैं जिनमे से कुछ प्रमुख हैं :- 30 जनवरी(January),23rd march, 21 अक्टूबर(October), 17 नवम्बर, 19 नवम्बर(November) तथा 27 मई(May)।इस दिन Prime Minister of India(प्रधान मंत्री ), President of India(राष्ट्र पति) दिल्ली के राजघाट पर बापू की समाधि पर फूलों की माला चढ़ाकर उन्हे श्रद्धांजलि देते है ओर 2 मिनट का मौन व्रत धरण करते हैं।इस आर्टिकल में आपको सहिद दिवस से जुड़ी जानकारी प्राप्त होगी जेसे की shahid diwas date in india कब मनाया जाएगा,shahid diwas of india और Martyr’s Day india 2020 कब हैं आदि।

Facts on Martyrs Day

  • Martyrs Day भारत के इतिहास का बहुत बड़ा दिन हैं क्योंकि इसदिन “Father of Nation” Mahatma Gandhi को गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी।
  • उनकी पुण्यतिथि को हर वर्ष हम सब शहीदी दिवस के रूप मे मानते हैं। यह दिवस हम 30 January को मनाते हैं।
  • सन 1948 में Nathuram Godse ने राष्ट्रीय पिता को गोली से मार दिया था।
  • यह हत्याकांड बिड़ला हाउस में शाम के समय हुआ था,वे उस समय 78 वर्ष के थे।गोडसे राष्ट्र पिता के विचारों से संतुष्ट नहीं थे और इसी कारण उन्होने महात्मा गांधी पर (Fire )किया।
  • shaheed diwas को  हम 23 मार्च 1931 को भी सेलब्रैट करते हैं  है क्योंकि इस दिन Bhagat Singh(भगत सिंह), Rajguru,(राजगुरु )Sukhdev (सुखदेव )को capital punishment (फाँसी) दी थी।

शाहिद _इमेज_5

भगत सिंह युवाओं के लिया प्रेरणास्त्रोत है इसलिए आज भी उनके शहीद दिवस पर शयरियाँ, और कविता जैसे कार्यक्रम होते हैं ।

प्रस्तावना

shaheed diwas 2020 हम अपने शहीदों (Martyr’s) की याद मे बनाते हैं। यह हर एक राष्ट्र(every country) में मनाया जाता है और सभी का मनाने का  अपना अलग दिन होता हैं। यह एक वार्षिक दिन है जो शहीद हुए सैनिक(sainik) को सलामी देने (salute)के लिए मनाया जाता हैं जिन सैनिकों ने बिना अपनी और अपने घर वालों की परवाह किए देश की रक्षा के लिए अपनी जान गवा दी।

शहीद दिवस कैसे मनातें हैं?

इसको हम सर्वोदय दिवस के नाम से भी जानते हैं।जिन सैनिकों ने अपने देश के कल्याण के लिए, प्रगति के लिए और देश को आजाद करनी के लिए अपने प्राण संकट में डाले,अपने परिवार वालों से दूर रहे और लड़ते लड़ते अपने प्राण गवा दिए यह दिवस उन सैनिकों की याद में उन्हे श्रद्धांजलि के तौर पर मनाते हैं।यह दिवस 15 देशों में मनाया जाने वाला दिन है ओर हमारा भारत उन देशों मे से एक हैं।

इस दिवस पर भारत वर्ष में  2 मिनट (2 minute )का मौन धरण किया  जाता है और महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi )और अन्य शहीदों (Martyr’s)को याद किया जाता हैं। सभी रीलिजन(Religion)  के लोग प्रार्थना करते हैं।

शहीद दिवस पर विशेष जानकारी

  1. Bhagat Singh(भगत सिंह) पर 12 साल(12years) की उम्र में जलियाँवाला बाग हत्याकांड(Jallianwala Bagh Tragedy) का बहुत घर असर हुआ और उन्होंने लाहौर(Lahore) में नैशनल कॉलेज(National College) की पढ़ाई को छोड़कर bharat की आजादी के लिए “नोजवान भारत सभा “(Naujawan Bharat Sabha)का आयोजन किया।
  2. सन 1931 को भागत सिंह, सुखदेव गुरु, राजगुरु ने हस्ते-हस्ते बलिदान दिया था।
  3. इन्होंने देश की आजादी के लिए अंग्रेजों से डटकर सामना किया।
  4. उनका नारा ‘इंकलाब जिंदाबाद’ (iनकिलब zindabad )का नारा (slogan)काफी प्रसिद्ध हुआ।

शाहिद _दिवस_7

भगत सिंह का आखिरी पत्र

भगत सिंह ने अपने अंतिम समय में अपने पिता को पत्र लिखा जिसमे उन्होंने अपने दादाजी और अपने देशभक्ति की चर्चा की।उन्होंने कहा की अपनी ज़िंदगी उन्होंने भारत के महान संकल्प के लिए न्योछावर कर दी हैं ,अपने जीवन से जुड़े सभी सुख सुविधाएँ, चेयन ओर आराम,दुख ,सुख त्याग दिए हैं क्योंकि उनके बाल्यकाल के समय दादाजी ने जनेऊ प्रतिज्ञा  संस्कार में वतन की सेवा के लिए उन्हे दान कर दिया था और वे उसी कर्तव्य को पूरा करने के लिए वतन को आत्मसमर्पण कर रहे हैं।

उपसंहार

हमे अपने स्वतंत्रता सेनानियों का सम्मान करना चाहिए , उनके बलिदान और त्याग को याद रखना चाहिए क्योंकि उन्ही सैनिकों के कारण आज हम स्वतंत्र हुए है और अंग्रेजों के शासन से मुक्त कराया।हमे अपने सैनिकों और उनके परिवार जनों पर गर्व करना चाहिए की उनके घर के सदस्य देश के काम आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *