राजीव गांधी का जीवन परिचय – Rajiv Gandhi Biography in Hindi Pdf Download – राजीव गांधी की हत्या का कारण

Rajiv Gandhi Biography in Hindi Pdf Download

राजीव गांधी जयंती 2018: राजीव गाँधी एक महान राजनेता के साथ एक महान व्यक्तित्व के इंसान थे| उनका जन्म 20 अगस्त 1944 में महाराष्ट्र में हुआ था| उनके पिता जी का नाम फिरोज गाँधी जी और माता का नाम इंदरा गाँधी था| उनके भाई की मृत्यु हो जाने के बाद भारतीय जनता कांग्रेस पार्टी की कमान उनके हातो में आ गई| वे भारत के सातवे प्रधानमन्त्री थे| 1984 में जब राजीव जी की माता इंद्रा गाँधी की हत्या हुई थी तो उसके बाद वे भारी बहुमत से प्रधान मंत्री बने थे| प्रधानमंत्री होने के समय उन्होंने बहुत से ऐसे निर्णय लिए जिसने भारत की अर्थव्यवस्था में सुधार किया| आज के पोस्ट में हम आपको राजीव गांधी शिक्षा, rajiv gandhi biography pdf, राजीव गांधी बायोग्राफी इन हिंदी, rajiv gandhi ka jeevan parichay hindi main, rajiv gandhi jeevan parichay in hindi, राजीव गांधी की जीवन परिचय, rajiv gandhi jeevan parichay, राजीव गांधी जी का जीवन परिचय, राजीव गांधी का योगदान, राजीव गांधी की जीवनी, राजीव गांधी का जन्म, राजीव गांधी की हत्या क्यों हुई, राजीव गांधी की हत्या का कारण, जो की खासकर कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों व प्रशंसकों के लिए दिए गए है|

राजीव गांधी की जीवनी

राजीव गांधी का जन्म 20 अगस्त 1944 को देश के प्रसिद्ध राजनीतिक राजवंश नेहरू-गांधी परिवार में हुआ था। उनकी मां इंदिरा गांधी भारत की पहली और एकमात्र महिला प्रधान मंत्री थीं। उनके पिता इंडियन नेशनल कांग्रेस के एक प्रमुख सदस्य फिरोज गांधी और द नेशनल हेराल्ड अख़बार के संपादक थे। राजीव गांधी ने शुरुआत में वेल्लम बॉयज़ स्कूल में भाग लिया और बाद में देहरादून में कुलीन डॉन स्कूल गए। बाद में वह कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में अध्ययन करने के लिए यूनाइटेड किंगडम गए। राजीव ने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में इटली से सोनिया मेनो (बाद में सोनिया गांधी) से मुलाकात की। यूनाइटेड किंगडम से लौटने के बाद, राजीव गांधी ने राजनीति में कम से कम रुचि दिखाई और पेशेवर पायलट बनने पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने बाद में एक पायलट के रूप में भारतीय एयरलाइंस के लिए काम किया।

Rajiv Gandhi Jeevan Parichay Hindi

राजीव गाँधी जी की जयंती यानी जन्मदिवस पर आइये जानें rajiv gandhi history, rajiv gandhi age, rajiv gandhi birthday, rajiv gandhi biography in short, राजीव गांधी पर निबंध, rajiv gandhi biography in hindi language, राजीव गांधी पर स्पीच, rajiv gandhi 73 birth anniversary, Rajeev Gandhi Jayanti pictures, rajiv gandhi biography in tamil, Rajiv Gandhi Quotes in Hindi, rajiv gandhi 73rd birth anniversary, राजीव गांधी मराठी माहिती, rajiv gandhi wiki in hindi, राजीव गांधी के विचार, rajiv gandhi biography in hindi wikipedia, rajiv gandhi biography in hindi pdf, rajiv gandhi born and died, rajiv gandhi wiki in marathi, rajiv gandhi short biography in hindi, image, pics, wallpapers,फोटो, (photos) को save कर download भी कर सकते हैं|

Rajiv Gandhi Jeevan Parichay Hindi

 

राजीव गांधी का जन्म भारत के सबसे प्रमुख राजनीतिक परिवारों में से एक में हुआ था। वह अपने परिवार के तीसरे पीढ़ी के राजनेता बने थे| अपने दादा पंडित जवाहरलाल नेहरू और मां श्रीमती के बाद इंदिरा गांधी के बाद वे भारत के प्रधान मंत्री बने थे| वह 40 वर्ष की आयु में भारत के सबसे कम उम्र के प्रधान मंत्री बने। उनके द्वारा शुरू की गई विकास परियोजनाओं में राष्ट्रीय शिक्षा नीति का ओवरहाल और दूरसंचार क्षेत्र का बड़ा विस्तार शामिल था। बोफोर्स घोटाले में उनकी कथित भागीदारी के कारण राजीव गांधी भी भारत के अधिक विवादास्पद प्रधान मंत्रियों में से एक की सूची में आ गए|

राजीव को अपने परिवार की परंपरा का पालन करने और राजनीति में शामिल होने में कोई रूचि नहीं था। यह उनके छोटे भाई संजय गांधी थे जिन्हें राजनीतिक विरासत के हथियार लेने के लिए तैयार किया जा रहा था। लेकिन विमान दुर्घटना में संजय की समयपूर्व मौत ने राजीव की नियति बदल दी। इंडियन नेशनल कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ सदस्यों ने उन्हें राजीव गांधी से राजनीति में शामिल होने के लिए राजी करने के लिए संपर्क किया लेकिन राजीव अनिच्छुक थे और उनसे “नहीं” कहा। राजनीति में प्रवेश न करने की राजीव की स्थिति में उनकी पत्नी सोनिया गांधी भी खड़ी थे। लेकिन अपनी मां इंदिरा गांधी से निरंतर अनुरोध के बाद, उन्होंने चुनाव लड़ने का फैसला किया।

Rajiv Gandhi Biography in Hindi

31 अक्टूबर, 1984 को इंदिरा गांधी की उनके अंगरक्षकों के हाथो गोली मारकर हत्या के बाद नए दिल्ली निवास में राजीव गांधी ने प्रधान मंत्री के रूप में शपथ ली थी। त्रासदी पर उच्च सवारी करने वाली कांग्रेस पार्टी ने चुनाव के बाद संसद के चुनाव में भारी जीत दर्ज करि|21 मई 1991 को मंच के प्रति अपने रास्ते पर राजीव गांधी को कई कांग्रेस समर्थकों और शुभचिंतकों ने माला दिया था। लगभग 10 बजे, हत्यारे ने उन्हें बधाई दी और उनके पैरों को छूने के लिए नीचे झुक गया। उसके बाद उसने अपने कमर-बेल्ट से जुड़े एक आरडीएक्स विस्फोटक लेटे हुए बेल्ट को विस्फोट कर दिया। श्रीलंका में भारतीय शांति-पालन बल (आईपीकेएफ) की भागीदारी के प्रतिशोध में लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (एलटीटीई) ने उनकी हत्या करि थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *