Dohe

Rahim Ke Dohe

अब्दुल रहीम खान ए खाना जिन्हे हम रहीम के नाम से भी जानते हैं एक माहिर प्रशासक, आश्रयदाता, दानवीर, कूटनीतिज्ञ, बहुभाषाविद, कलाप्रेमी, एवं कवी भी थे| वह मुगल सम्राट अकबर की अदालत में एक कवि थे और मुगल सम्राट अकबर के एक महान तुर्की राजनेता, योद्धा और देखभाल करने वाले बैराम खान के बेटे थे। वह अकबर के बेटे भी कहे जाते थे क्योकि अकबर ने बैराम खान की पत्नी से विवाह किया था। वह एक बहुत उदार व्यक्ति थे और गरीबों और जरूरतमंद लोगों की सहायता के लिए भी जाने जाते थे| यह दोहे खासकर कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है|

Rahim ke dohe

आइये अब हम आपको rahim ke dohe class 6, rahim ke dohe in hindi with meaning class 7, रहीम के दोहे अर्थ सहित class 9, rahim ke dohe in hindi pdf, रहीम के दोहे चित्र सहित, रहीम जी दोहे, आदि जानकारी class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चे इन्हे अपने स्कूल फंक्शन celebration व प्रोग्राम किसी भी भाषा जैसे Hindi, हिंदी फॉण्ट, मराठी, गुजराती, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font का full collection हैं|


कहि ‘रहीम’ संपति सगे, बनत बहुत बहु रीति।
बिपति-कसौटी जे कसे, सोई सांचे मीत॥
Click To Tweet

जाल परे जल जात बहि, तजि मीनन को मोह।
‘रहिमन’ मछरी नीर को तऊ न छाँड़ति छोह॥
Click To Tweet

रहीम के दोहे


चाह गई चिंता मिटी, मनुआ बेपरवाह।
जिनको कछु नहि चाहिये, वे साहन के साह॥
Click To Tweet

दुख में सुमिरन सब करे, सुख में करे न कोय।
जो सुख में सुमिरन करे, तो दुख काहे होय॥
Click To Tweet

Rahim ke dohe in hindi


छिमा बड़न को चाहिये, छोटन को उतपात।
कह रहीम हरि का घट्यौ, जो भृगु मारी लात॥
Click To Tweet

रहिमन पानी राखिये, बिन पानी सब सून।
पानी गये न ऊबरे, मोती, मानुष, चून॥
Click To Tweet

Rahim ke dohe class 9


रहिमन देखि बड़ेन को, लघु न दीजिए डारि ।
जहाँ काम आवे सुई, कहा करे तलवारि॥
Click To Tweet

रहिमन निज संपति बिना, कोउ न बिपति सहाय ।
बिनु पानी ज्‍यों जलज को, नहिं रवि सकै बचाय॥
Click To Tweet

Rahim ji ke dohe

rahim das ke dohe


बिगरी बात बनै नहीं, लाख करौ किन कोय ।
रहिमन फाटे दूध को, मथे न माखन होय॥
Click To Tweet

नाद रीझि तन देत मृग, नर धन हेत समेत।
ते रहीम पशु से अधिक, रीझेहु कछू न देत॥
Click To Tweet

Rahim ke dohe with meaning


धनि रहीम जल पंक को लघु जिय पिअत अघाय ।
उदधि बड़ाई कौन हे, जगत पिआसो जाय॥
Click To Tweet

दीरघ दोहा अरथ के, आखर थोरे आहिं ।
ज्‍यों रहीम नट कुण्‍डली, सिमिटि कूदि च‍ढ़ि जाहिं॥
Click To Tweet

Rahim ke dohe in english with meaning


खीरा सिर ते काटि के, मलियत लौंन लगाय.
रहिमन करुए मुखन को, चाहिए यही सजाय.
Click To Tweet

जैसी परे सो सहि रहे, कहि रहीम यह देह.
धरती ही पर परत है, सीत घाम औ मेह.
Click To Tweet

Rahim ke dohe ka arth


चित्रकूट में रमि रहे, रहिमन अवध-नरेस ।
जा पर बिपदा पड़त है, सो आवत यह देस॥
Click To Tweet

 एकै साधे सब सधै, सब साधे सब जाय ।
रहिमन मूलहिं सींचिबो, फूलै फलै अघाय॥
Click To Tweet

Rahim ke dohe in hindi with meaning class 6


रहिमन निज मन की व्यथा, मन में राखो गोय।
सुनि इठलैहैं लोग सब, बाटि न लैहै कोय॥
Click To Tweet

धरती की सी रीत है, सीत घाम औ मेह ।
जैसी परे सो सहि रहै, त्‍यों रहीम यह देह॥
Click To Tweet

Class 9 rahim ke dohe


थोथे बादर क्वार के, ज्यों ‘रहीम’ घहरात ।
धनी पुरुष निर्धन भये, करैं पाछिली बात ॥
Click To Tweet

 तरुवर फल नहिं खात है, सरवर पियहि न पान।
कहि रहीम पर काज हित, संपति सँचहि सुजान॥
Click To Tweet

Rahim ke dohe class 9th


बिगरी बात बने नहीं, लाख करो किन कोय.
रहिमन फाटे दूध को, मथे न माखन होय.
Click To Tweet

रहिमन धागा प्रेम का, मत तोरो चटकाय.
टूटे पे फिर ना जुरे, जुरे गाँठ परी जाय.
Click To Tweet

Leave a Comment