Nibandh

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध 2018 – Essay on National Pollution Control Day in Hindi Pdf Download

National pollution control day 2018: राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस हर साल उन लोगों की याद में मनाया जाता है ज्न्हे हमने 2-3 दिसंबर 1984 की भोपाल गैस त्रासदी में गवा दिया | यह त्रासदी मिथाइल आइसोसाइनेट नामक जहरीली गैस के रिसाव के कारण हुई थी जिसके चलते काफी बड़ी सांख्य में लोगों की मृत्यु हो गयी थी | यह दिन हमे कहीं न कहीं यह भी सिखाता है की प्रकृति को लेकर हमारी लापरवाही कितना भीषण रूप ले सकती है और हमें प्रदूषण को नियंत्रण में रखना कितना आवश्यक है | अगर हम प्रदूषण को नियंत्रण में रखेंगे तो शायद हम नदियों को सूखने, धरती का तापमान दिन पर दिन बढ़ने, जंगलों के जलने, ग्लैशियर्स के पिघलने और जीव-जंतुओं की प्रजातियों को लुप्त होने से बचा सकें |

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस निबंध

आइये आज के इस पोस्ट में हम आपको राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस दिवस कब मनाया जाता है, National Pollution Control Day Speech, विद्यालय की प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध, National Pollution Control Day Slogan , rastriya pradushan niyantran diwas speech in Hindi, National Pollution Control Day Photo, प्रदूषण नियंत्रण पर निबंध हिंदी में, National Pollution Control Day Quotes , प्रदूषण नियंत्रण का महत्व निबंध, आदि की जानकारी किसी भी भाषा जैसे Hindi, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font , 100 words, 150 words, 200 words, 400 words में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं|

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस उन लोगों की याद में मनाया जाता है जिन्होंने भोपाल गैस त्रासदी में अपनी जान गँवा दी थी। उन मृतकों को सम्मान देने और याद करने के लिये भारत में हर वर्ष 2 दिसंबर को मनाया जाता है। भोपाल गैस त्रासदी वर्ष 1984 में 2 और 3 दिसंबर की रात में शहर में स्थित यूनियन कार्बाइड के रासायनिक संयंत्र से जहरीला रसायन जिसे मिथाइल आइसोसाइनेट (एमआईसी) के रूप में जाना जाता है के साथ-साथ अन्य रसायनों के रिसाव के कारण हुई थी। रिपोर्ट के मुताबिक, 500,000 से अधिक लोगों की (जो 2259 के आसपास तुरंत मर गये) एमआईसी की जहरीली गैस के रिसाव के कारण मृत्यु हो गयी। बाद में, मध्य प्रदेश सरकार द्वारा ये घोषित किया गया कि गैस त्रासदी से संबंधित लगभग 3,787 लोगों की मृत्यु हुई थी। अगले 72 घंटों में लगभग 8,000-10,000 के आसपास लोगों की मौत हुई, वहीं बाद में गैस त्रासदी से संबंधित बीमारियों के कारण लगभग 25000 लोगों की मौत हो गयी। ये पूरे विश्व में इतिहास की सबसे बड़ी औद्योगिक प्रदूषण आपदा के रुप में जाना गया जिसके लिये भविष्य में इस प्रकार की आपदा से दूर रहने के लिए गंभीर निवारक उपायों की आवश्यकता है।

गैस त्रासदी के कारक

कई छोटे ड्रमों में भंडारण के स्थान पर बड़े टैंक में एमआईसी भंडारण।
कम लोगों की जगह में अधिक खतरनाक रसायनों (एमआईसी) का प्रयोग।
संयंत्र द्वारा 1980 के दशक में उत्पादन के रोके जाने के बाद गैस का खराब संरक्षण।
पाइपलाइनों में खराब सामग्री की उपस्थिति।
विभिन्न सुरक्षा प्रणालियों के द्वारा सही से काम न करना।
ऑपरेशन के लिए संयंत्रों के स्थान पर हाथ से काम करने पर निर्भरता, विशेषज्ञ ऑपरेटरों की कमी के साथ ही आपदा प्रबंधन की योजना की कमी है।

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस क्यों मनाया जाता है?

हर साल राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाने के प्रमुख कारकों में से एक औद्योगिक आपदा के प्रबंधन और नियंत्रण के साथ ही पानी, हवा और मिट्टी के प्रदूषण (औद्योगिक प्रक्रियाओं या मैनुअल लापरवाही के कारण उत्पन्न) की रोकथाम है। सरकार द्वारा पूरी दुनिया में प्रदूषण को गंभीरता से नियंत्रित करने और रोकने के लिए बहुत से कानूनों की घोषणा की गयी। राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस हर साल 2 दिसंबर को प्रदूषण नियंत्रण अधिनियमों की आवश्यकता की ओर बहुत अधिक ध्यान देने के लिये लोगों को और सबसे अधिक उद्योगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है।

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड

सभी अच्छे और खराब कार्यों के नियमों और कानूनों की राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (NPCB) या केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा जाँच की जाती है जो भारत में प्रदूषण की रोकथाम के लिए सरकारी निकाय है। ये हमेशा जाँच करता है कि सभी उद्योगों द्वारा पर्यावरण अनुकूल प्रौद्योगिकियों का सही तरीके से उपयोग किया जा रहा है या नहीं। महाराष्ट्र में अपना स्वंय का नियंत्रण बोर्ड है जिसे महाराष्ट्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (एमपीसीबी) कहा जाता है, ये प्रदूषण नियंत्रण की तत्काल आवश्यकता के रुप में है, क्योंकि ये उन बड़े राज्यों में से एक है जहाँ औद्योगीकरण की दर बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है। प्राकृतिक संसाधन जैसे जल, वायु, भूमि या वन विभिन्न प्रकार के प्रदूषण द्वारा तेजी से प्रभावित हो रहे हैं जिन्हें सही तरीके से नियमों और विनियमों को लागू करके तुरंत सुरक्षित करना बहुत जरुरी है।

नियंत्रण के क्या उपाय हैं?

शहरी अपशिष्ट जल उपचार और पुन: उपयोग परियोजना
ठोस अपशिष्ट और उसके प्रबंधन का वैज्ञानिक उपचार
अपशिष्ट के उत्पादन को कम करना
सीवेज उपचार सुविधा
कचरे का पुन: उपयोग और अपशिष्ट से ऊर्जा उत्पादन।
जैव-चिकित्सा अपशिष्ट उपचार सुविधा
इलेक्ट्रॉनिक कचरे की उपचार सुविधा
जल आपूर्ति परियोजना
संसाधन रिकवरी परियोजना
ऊर्जा की बचत परियोजना
शहरी क्षेत्रों में खतरनाक अपशिष्ट प्रबंधन
स्वच्छ विकास तंत्र पर परियोजनाएं।

प्रदूषण रोकने के लिये नीति, नियमों के उचित कार्यान्वयन और प्रदूषण के सभी निवारक उपायों के साथ ही राज्य सरकार द्वारा कई अन्य प्रयास किये गए हैं। उद्योगों को सबसे पहले प्रदूषण को कम करने के लिए प्राधिकरण द्वारा लागू किये गये सभी नियमों और विनियमों का पालन करना होगा।

National pollution control day Essay in Hindi

आप ये जानकारी हिंदी, इंग्लिश, मराठी, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलगु, आदि की जानकारी देंगे जिसे आप अपने स्कूल के निबंध प्रतियोगिता, कार्यक्रम या एस्से प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है| ये निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है|

दोस्तो, प्रदूषण हमारी धरती के लिए साइलेंट किलर के समान है। अगर हम मिलकर पलूशन कंट्रोल की दिशा में कदम उठाएं, तो धरती का तापमान बढ़ने, नदियों के सूखने, जंगल को बंजर भूमि में तब्दील होने, ग्लेशियर को पिघलने और जीव-जंतुओं को समाप्त होने से बचाया जा सकता है |

Pollution control day par Nibandh

देश में हर साल 2 दिसंबर को नेशनल पलूशन कंट्रोल डे उन लोगों की याद में मनाया जाता है, जो 2-3 दिसंबर, 1984 भोपाल गैस त्रासदी के शिकार हो गए थे। इस दिन मिथाइल आइसोसाइनेट गैस (मिक) के रिसाव की वजह से तकरीबन 3787 लोग मारे गए थे। इतना ही नहीं, लाखों लोग बुरी तरह से प्रभावित भी हुए थे। आज भी वहां के लोगों पर इसका असर साफ देखा जा सकता है। इस दिवस का मुख्य उद्देश्य लोगों को प्रदूषण नियंत्रण के प्रति जागरूक करना है।

केंद्रीय नियंत्रण बोर्ड

प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का गठन सितंबर, 1974 में किया गया। केंद्रीय और राज्य नियंत्रण बोर्ड द्वारा वायु की गुणवत्ता बहाल करने के लिए वायु अधिनियम 1981 को लागू किया गया है। बोर्ड कार्य-योजना बनाने के साथ समय-समय पर प्रदूषण से संबंधित रिपोर्ट जारी करता है।

प्रदूषण का असर और सरकारी कदम

हर साल 14 अरब टन कचरा समुद्र में फेंक दिया जाता है, जिसमें अधिकतर पर्यावरण के लिए घातक प्लास्टिक होता है।

हर साल एक लाख से अधिक समुद्री पक्षी और एक लाख समुद्री स्तनधारी प्रदूषण के कारण मारे जाते हैं।

चीन कार्बन डाइऑक्साइड का सबसे बड़ा उत्सर्जक है। इसके बाद संयुक्त राज्य अमेरिका का स्थान आता है।

भूजल में 73 अलग-अलग तरह के पेस्टिसाइड (कीटनाशक) पाए जाते हैं, जो पीने के पानी का मुख्य स्रोत है।

नासा जब एक अंतरिक्ष यान का प्रक्षेपण करता है, तो करीब 28 टन कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन होता है। एक औसत कार प्रतिमाह लगभग आधा टन कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जित करती है।

2010 में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और 13 बड़े शहरों में चार पहिया वाहनों के लिए स्टेज-4 उत्सर्जन नियम लागू किया गया।

प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए दिल्ली में सार्वजनिक वाहनों के लिए कम्प्रेस्ड नेचुरल गैस (सीएनजी) का इस्तेमाल किया जा रहा है।

सरकार ने एक जुलाई 2010 से कोयला खदानों में क्लीन एनर्जी सेस लगाने का ऐलान किया, ताकि कार्बन फुटप्रिंट कम करने और दूषित जगह को स्वस्थ बनाने में मदद मिले।

घर में टीवी और म्यूजिक प्लेयर की आवाज ज्यादा नहीं रखोगे। पटाखों का इस्तेमाल कम करोगे और कूड़ा-कचरा नहींजलाओगे, बल्कि उसे नियत स्थान पर डालोगे। नालों, कुओं, तालाबों, नदियों में गंदगी नहीं बहाओगे और पानी की हर एक बूंद को बचाकर रखोगे। प्लास्टिक की थैलियां आदि रास्ते में नहीं फेंकोगे।

प्रदूषण नियंत्रण दिवस दिवस निबंध

आज का युग विज्ञान का युग है । विज्ञान ने जहां मनुष्य के लिए सुख-सुविधाओं के साधन जुटाए हैं और अनेक समस्याओं का समाधान किया है, वहीं दूसरी ओर उसके आविष्कारों द्वारा ऐसी समस्याएं उत्पन्न हुई हैं कि वे वरदान हमारे लिए अभिशाप बन गए हैं । आज के युग में अनेक समस्याएं हैं । प्रदूषण की समस्या उन समस्याओं में से एक है । प्रदूषण दिन प्रतिदिन विकराल रूप धारण करता जा रहा है । प्रदूषण का अर्थ है दोष से युक्त । नाम से ही ज्ञात होता है कि जिसमें विकार या दोष उत्पन्न हो गए हैं वह प्रदूषित हो जाता है ।

आज विज्ञान के विभिन्न आविष्कारों के कारण ही हमारी संपूर्ण धरती का वातावरण प्रदूषित हो गया है । मानव ने अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए सभी संसाधनों का दुरुपयोग किया है । इसका परिणाम प्रदूषण के रूप मैं हमारे सामने हैं । इस प्रदूषण के कारण वातावरण के प्राकृतिक संतुलन में गड़बड़ी पैदा हो गई है । प्रदूषण अनेक प्रकार का होता है-जल प्रदूषण, भूमि प्रदूषण, वायु दूषण, ध्वनि प्रदूषण । आज की सभ्यता को शहरी सभ्यता कह सकते हैं । भारत के कुछ बड़े महानगरों की जनसंख्या एक करोड़ का आकड़ा पार कर चुकी है ।

इस कारण शहरों की दुर्गति हो गई है । दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई जैसे महानगरों में हर प्रकार का प्रदूषण पांव पसार चुका है । लाखों लोग झुग्गी झोपड़ियों मैं निवास करते हैं जहां धूप, पानी और वायु तक का भी प्रबंध नहीं है । सड़कों पर लाखों की संख्या में चलते वाहन कितना प्रदूषण फैलाते हैं । वृक्षों के उग्भाव मैं यह धुःझां मानव के फेफड़ों में जाता है जिस कारण अनेक प्रकार की बीमारियां पैदा होती हैं । नगरों में जरन के स्त्रोत थी धूपित हो चुके है । ध्वनि प्रदूषण का तो कहना ही क्या? इसके कारण जीवन तनावग्रस्त हो गया है । प्रदूषण को रोकने का सर्वोत्तम उपाय है जनसंख्या पर नियंत्रण ।

सरकार को चाहिए कि वह नगरों की सुविधाएं गांवों तक भी पहुंचाए ताकि शहरीकरण की अंधी दौड़ बंद हो । हरियाली को यथासंभव बढ़ावा देना चाहिए । जगह-जगह वृक्ष लगाने चाहिए । प्रदूषण बढ़ाने वाली फैक्टरियों के प्रदूषित जल एवं कचरे को संसाधित करने का प्रबंध करना चाहिए । जल प्रदूषण से सभी नदियां, नहरें, भूमि दूषित हो रही हैं । परिणामस्वरूप हमें प्रदूषित फसलें मिलती हैं, गंदा जल मिलता है । आजकल वाहनों, फैक्टरियों और मशीनों के सामूहिक शोर से रक्तचाप, मानसिक तनाव, बहरापन आदि बीमारियां बढ़ रही हैं ।

जहाँ जनसंख्या बढ़ती है, वहीं उद्योगों की संख्या भी बढ़ती चली जा रही है । इन्हीं उद्योगों से निकलने वाले जहरीले पदार्थ, रसायन आदि नदी-नालों में बहा दिए जाते हैं जो अपने आसपास के क्षेत्रों में प्रदूषित जल से उत्पन्न रोगों को जन्म देते हैं । नगरों व महानगरों से होकर निकलने वाली नदियों का जल प्रदूषित हो गया है, जिससे उस जल का सेवन करने वाले प्राणी अनेक घातक रोगों से ग्रस्त हो जाते हैं । अधिक पैदावार के लिए जब कीटनाशकों का अधिक प्रयोग किया जाता है तो इनका स्वास्थ्य पर घातक प्रभाव पड़ता है ।

परमाणु शक्ति के उत्पादन ने वायु, जल एवं ध्वनि तीनों प्रकार के प्रदूषण को बढ़ावा दिया है । भूमि पर पड़े कूड़े-कचरे के कारण भूमि प्रदूषण होता है । महानगरों में झुग्गी-झोपड़ियों के कारण भी भूमि प्रदूषण होता है । आवास की समस्या को सुलझाने के लिए वनों की कटाई भी वायु प्रदूषण का मुख्य कारण है । जल प्रदूषण से पेट तथा आतों के रोग जैसे हैजा, पीलिया आदि हो जाते हैँ । ध्वनि प्रदूषण से मानसिक तनाव, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग आदि की संभावना रहती है । प्रदूषण के कारण कैंसर, एलर्जी तथा चर्म रोग में भी वृद्धि हो रही है । प्रदूषण की समस्या केवल भारत में ही नहीं है यह पूरे विश्व में विद्यमान है ।

वृक्षारोपण इसे रोकने का सर्वोत्तम उपाय है । वृक्ष हमें ऑक्सीजन देते हैं । वनों की अंधाधुंध कटाई पर रोक लगानी चाहिए । वाहनों के प्रदूषण को रोकने के लिए उनके लिए सी -एन .जी. का प्रयोग अनिवार्य कर देना चाहिए । औद्योगिक इकाईयों द्वारा होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए फैक्टरियां शहर से दूर लगाई जानी चाहिए । प्राकृतिक रूप से बनी खाद के प्रयोग से भूमि प्रदूषण रोका जा सकता है । इसके लिए सभी नागरिकों को एकजुट होकर प्रयास करना होगा ।

राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर निबंध

मनुष्य प्रकृति की सर्व श्रेष्ठ रचना है । जब तक वह प्रकृति .के कार्य में हस्तक्षेप नहीं करता तब तक उसका जीवन सहज और स्वाभाविक गति से चलता रहता है । विज्ञान की प्रगति के कारण औद्योगिक विकास में मनुष्य की रुचि इतनी बढ़ गई है कि वह प्रकृति के साथ अपना सामंजस्य प्रायः समाप्त न बैठा है । वैज्ञानिकों का मत है कि प्रकृति में किसी प्रकार की गन्दगी नहीं । उसका बदला हुआ रूप प्राणी जगत् को किसी प्रकार कीं हानि नहीं पहुंचाता ।

प्रदूषण का कारण
आज के औद्योगिक युग में संयन्त्रों, मोटर-वाहनों, रेलों तथा कल-कारखानों की संख्या अत्यधिक बढ़ गई है । उद्योग जितने बढ़ेंगे, उतनी ही ज्यादा गर्मी फैलाएंगे । धूएँ में से कार्बन मोनोक्साइड काफी मात्रा में निकलती है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती है । अनुमान लगाया गया है कि 960 किलोमीटर की यात्रा में एक मोटर-वाहन जितनी आक्सीजन का प्रयोग करता है, उतनी आक्सीजन मनुष्य .को एक वर्ष के लिए चाहिए । हवाई जहाज., तेल-शोधन, चीनी-मिट्टी की मिल, चमड़ा, कागज, रबर के कारखाने आदि को ईंधन की आवश्यकता होती है । इस ईंधन के जलने से जो धूँआ उत्पन्न होता है, उससे प्रदूषण फैलता है । यह प्रदूषण एक जगह स्थिर नहीं रहता बल्कि वायु के प्रवाह से यह तीव्र गति से सारे संसार को कुप्रभावित करता है । घनी आबादी वाले क्षेत्र इससे अधिक प्रभावित होते हैं । वायु में प्रदूषण फैलता है और आक्सीजन की कमी होने लगती है ।

प्रदूषण की वृद्धि का कारण
टोकियो विश्व भर में सबसे अधिक प्रदूषित नगर है । यहां पुलिस के लिए जगह-जगह पर ऑक्सीजन के सिलण्डर लगे रहते हैं ताकि जरूरत पड़ने पर वे उनका उपयोग कर सकें । धुएं और कुहरे की स्थिति में हवा को छानने के लिए मुँह पर पट्टी बांधनी पड़ती है । इस पर भी वहां आँख, नाक और गले के रोगों की अधिकता बनी रहती है । लन्दन में चार घण्टों तक ट्रैफिक सम्भालने वाले सिपाही के फेफड़ों में इतना विष भर जाता है मानो उसने 105 सिगरेट पिए हों ।

प्रदूषण की समस्या के पीछे जन वृद्धि का संकट भी काम कर रहा है । इस जनवृद्धि के कारण ग्रामों, नगरों .तथा महानगरों को विस्तार देने की आवश्यकता का अनुभव हो रहा है । परिणामस्वरूप जंगल काटकर वहां बस्तियां बसाई जा रही हैं । वृक्षों और वनस्पतियों की कमी के कारण प्रकृति की स्वाभाविक क्रिया में असन्तुलन पैदा हो गया है । प्रकृति जो जीवनोपयोगी सामग्री जुटाती है, उसकी उपेक्षा हो रही है । प्रकृति का स्वस्थ वातावरण दोषपूर्ण हो गया है । इसी को पर्यावरण या प्रदूषण की समस्या कहा जाता है । कल-कारखानों की अधिकता के कारण वातावरण दूषित होता जा रहा है । वाहनों तथा मशीनों के शोर से ध्वनि प्रदूषण फैलता है जिससे कानों के बहरा हो जाने का डर बना रहता है । मनुष्य अनेक प्रकार के शारीरिक तथा मानसिक रोगों का शिकार बनता जा रहा है ।

नियंत्रण की आवश्यकता
जब तक मनुष्य प्रकृति के साथ तालमेल. स्थापित नहीं करता तब तक उसकी औद्योगिक प्रगति व्यर्थ है । इस प्रगति को नियन्त्रण में रखने की जरूरत है । मशीन हम पर शासन न करे बल्कि हम मशीन पर शासन करें । हम ऐसे औद्योगिक विकास से विमुख रहें, जो हमारे सहज जीवन में बाधा डाले । हम वनों, पर्वतों, जलाशयों और नदियों के लाभ से वंचित न हों । नगरों के साथ -साथ ग्राम भी सम्पन्न बने रहे क्योंकि बहुत-सी बातों में नगर ग्रामों पर निर्भर करते हैं । नगरीय संस्कृति के साथ -साथ ग्रामीण संस्कृति का भी विकास होता रहे ।

समाधान
प्रदूषण की समस्या से बचने के लिए यह जरूरी है कि विषैली गैस, रसायन तथा जल-मल उत्पन्न करने वाले कारखानों को आवास के स्थानों से कहीं दूर खुले स्थानों पर स्थापित किया जाए ताकि नगरवासियों को प्राकृतिक खुराक ( ऑक्सीजन, प्राणवायु) प्राप्त होती रहे । इसके साथ ही नगरों के जल-मल के बाहर निकालने वाले नालों को जमीन के नीचे दबाया जाए ताकि ये वातावरण को प्रदूषित न कर सकें । वन महौत्सव के महत्त्व को समझते हुए बारा-बगीचों का विकास किया जाए । सड़कों के किनारों पर वृक्ष लगाएं जाएं । औद्योगिक उन्नति एवं प्रगति की सार्थकता इसमें है कि मनुष्य सुखी, स्वस्थ एवं सम्पन्न बना रहे । इसके लिए यह जरूरी है कि प्रकृति को सहज रूप से अपना कार्य करने के लिए अधिक-से-अधिक अवसर दिया जाए ।

Pollution control day par Nibandh

National Pollution Prevention Day is observed on 2nd December in India. This day is observed in the memory of people who lost their lives in Bhopal gas calamity. Bhopal gas tragedy occurred in the year 1984 on the night of 2–3 December. Many people died due to poisonous gas Methyl Isocyanate also known as MIC. Bhopal Gas Tragedy is considered as one of biggest industrial pollution disasters.

Objectives of the day:

To spread awareness on managing and controlling industrial disasters
To prevent the pollution produced by industrial processes or human negligence
To make people and industries aware about the importance of pollution control acts

Preventive methods taken by the Indian Legislation:

Water (Prevention and Control of Pollution) Act of 1974
Water (Prevention and Control of Pollution) Cess Act of 1977
Air (Prevention and Control of Pollution) Act of 1981
Environment (Protection) Act of 1986
Environment (Protection) Rules of 1986
Manufacture, Storage and Import of Hazardous Chemical Rules of 1989
Manufacture, Storage, Import, Export & Storage of Hazardous Micro- Organisms Genetically Engineered Organisms or Cells Rules of 1989
Chemical Accidents (Emergency, Planning, Preparedness and Response) Rules of 1996
Bio-Medical Waste (Management & Handling) Rules of 1998
Recycled Plastics Manufacture and Usage Rules of 1999
Ozone Depleting Substances (Regulation) Rules of 2000
Noise Pollution (Regulation and Control) Rules of 2000
Municipal Solid Waste (Management & Handling) Rules of 2000
Batteries (Management and Handling) Rules of 2001
Environment Impact Assessment Notification of 2006
The National Green Tribunal Act, 2010
Solid Waste Management Rules, 2016
Hazardous and Other Wastes (Management and Transboundary Movement) Rules, 2016
Bio-Medical Waste Management Rules, 2016
Plastic Waste Management Rules, 2016
E-Waste (Management) Rules, 2016
Construction and Demolition Waste Management Rules, 2016

Due to different types of pollution, natural resources such as water, air, land or forest are being affected speedily. Thus, it is very essential to implement the rules and regulations properly to protect the environment and to reduce the pollution.

The Central Pollution Control Board (CPCB) was constituted in September, 1974 under the Water (Prevention and Control of Pollution) Act, 1974. Further, CPCB was entrusted with the powers and functions under the Air (Prevention and Control of Pollution) Act, 1981. It provides technical guidance to the Ministry of Environment, Forests & Climate Change, Government of India.

Functions of CPCB

To promote cleanliness of streams and wells in different areas of the States by prevention, control and abatement of water pollution.
To improve the quality of air and to prevent, control or abate air pollution in the country.

Facts about air pollution:

  • Nine out of ten people worldwide do not breath safe air.
  • Air pollution kills 7 million people every year globally, 4 million of whom die from indoor air pollution.
  • A microscopic pollutant (PM 2.5) is so tiny that it can pass through mucus membrane and other protective barriers to damage lungs, heart, and brain.
  • The key pollutants include particulate matter, a mix of solid and liquid droplets arising from fuel combustion, nitrogen dioxide from road traffic; ozone at ground level, caused by the reaction of sunlight with pollutants from industrial facilities and vehicle emissions; and sulphur dioxide, and invisible gas from burning fossil fuels like coal.
  • Children and old persons are highly affected by air pollution.
  • Air pollution is also responsible for climate change.

Ways to limit breathing polluted air:

  • Limit walking on busy streets during rush hour, and if you have a young child with you, try and lift them up above the level of vehicle exhausts.
  • Don’t burn waste as the smoke that results damages the health.
  • Promote use of renewable energy.
  • Enhance plantation such as urban forest and green roofs for reducing pollution in urban areas.
  • Turn of lights and electronics not in use.

Leave a Comment