Nibandh

मदर डे स्पीच इन स्कूल इन हिंदी – मदर्स डे पर भाषण – Mother’s day speech in hindi

मातृ दिवस 2018: मातृ दिवस हम में से प्रत्येक के लिए विशेष है और दुनिया भर में हर जगह मनाया जाता है। वास्तव में कई शैक्षिक संस्थानों और संगठनों में यह दिन महान उत्साह के साथ मनाया जाता है। मां के दिन भाषण देने के लिए कुछ की जरूरत है। इसलिए हमारे छात्रों और अन्य लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए, जो भाषण लिखने में संघर्ष का सामना करते हैं, हम समझने और स्पष्ट भाषणों को आसान बनाते हैं दोनों, छोटे भाषण और मां के दिन लंबे भाषण। आज के इस पोस्ट में हम आपको mother day special speech in hindi, mothers day speech in hindi pdf, mother’s day, essay in hindi language, आदि की जानकारी देंगे|Happy Mothers Day ????

Mother Day Speech in Hindi

Mothers Day Date 2018: मातृ दिवस हर वर्ष पूरे विश्व में 14 मई को मनाया जाता है| यह दिन SUNDAY यानी रविवार को पड़ रहा है| इस पोस्ट के द्वारा आपको international mother language day speech in hindi, मातृ दिवस कब मनाया जाता है, माँ का महत्व क्या है, मातृ दिवस पर निबंध, Mothers day 5 lines, speech on Mothers day in hindi, मदर डे कविता, Mother’s day speech for school, Mothers Day Quotes in Hindi, Mothers day speech in Marathi, happy Mothers day lines, short note on Mother day मातृ दिवस मराठी, मदर्स डे स्पेशल, mother’s day speech in hindi language, mother’s day speech for students in hindi, आदि की जानकारी मिलेगी|

पहली धरकन भी मेरी, धरकी की तेरे भीतर जमीन को तेरी छोरकर बता फिर में जाऊ कहा. आँखे खोली जब पहली दफ़ा तेरा चेहरा ही दिखा जिंदगी का हर लम्हा जीना तुझसे ही सिखा.

खामोश सी मेरी जुबाह को सुर भी तुने ही दिया श्वेत पड़ी मेरी अभिलाशाओ को रंगों से तूने भर दिया.

अपना निवाला छोर कर मेरी खातिर तूने भण्डार भरे…. में भले नाकामियाब रही फिर भी मैरे होने का तूने अहंकार भरा.

वो रात को छिपकर जब तू अँधेरे में अकेले रोया करती थी दर्द होता था मुझे भी शिश्किया मैंने भी सुनी थी….. नासमझ थी में जब इतनी खुद का भी मुझे भान नही था तू ही बस वो एक थी जिसे मेरी भुक प्यास का पता था.

पहले जब मै बेतहाशा धुल मैं खेला करती थी तेरी चूडियो तेरी पायल की आवाज से डर लगता था, लगता था तू आयेगी बहुत डाटेगी और कान पकड़ कर मुझे ले जाएगी.

माँ आज भी जब किसी दिन मुझे धुँध-धुंध सा लगता है. चूडियो के बीच से तेरी उड़ते गुस्से भरी आवाज को सुनने का मन करता है, मन करता है तू आजाये बहुत डांटे और कान पकड़ कर मुझे ले जाये.

जाना चाहती हूँ उस बचपन में फिरसे जहाँ तेरी गोद में सोया करती थी. जब काम ना हो कोई मेरे मन का तो हर बात पर रोया करती थी जब बिना तेरी लोरियो, कहानियों के लिए पलके जगा नही करती थी माथे पर बिना तेरे मीठे स्पर्श के ये आँखे जगा नही करती थी.

अब और नही घिसने देना चाहती तेरे इन मुलायम हाथों को, चाहती हूँ पूरा करना तेरे सपनों में दिखे हर बातों को…… खुश होगी माँ एक दिन तू भी जब लोग मुझे तेरी बेटी कहेंगे.

जीत लुंगी उस दिन में सारी दुनिया जब मेरी कामियाबी पर हस्ताक्षर लेरे लगे लगेंगे. आई लव यू माँ

मेरी माँ पर भाषण – मदर डे स्पीच इन हिंदी

Happy Mothers Day 2018: अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है मातृ सम्मेलन पर भाषण, Mothers day essay, लेख एसेज, anuched, Happy Mother Day Shayari in Hindi, short paragraphs, pdf, Composition, Paragraph, Article हिंदी, some lines on Mothers day in hindi, short essay on Mother day in hindi font, few lines on mom day in hindi निबन्ध (Nibandh),10 lines on Mothers day in hindi,  मदर डे का त्यौहार व माता दिवस का महत्व पर निबंध लिखें|
मदर डे स्पीच इन स्कूल इन हिंदी

मेरी माँ बहुत प्यारी है| वे रोज सुबह घर में सबसे पहले उठ जाती हैं| घर के सब लोगों का ध्यान मेरी माँ रखती हैं| वे दादा-दादी का पूरा ध्यान रखती है.

पापा, मेरी और मेरी छोटी बहन की हर एक छोटी बड़ी बातों की परवाह भी मेरी माँ करती है.

दादी कहती हैं कि मेरी माँ घर की लक्ष्मी हैं| मैं भी माँ को भगवन के समान मानता हूँ और उनकी हर बात मानता हूँ.

मेरी माँ जॉब भी करती है, घर और ऑफिस दोनों की जिम्मेदारी वे बहुत ही अच्छे से निभाती हैं| उनके सरल और सुलझे व्यवहार की तारीफ उनके ऑफिस के सारे लोग करते हैं.

मेरी माँ गरीबों और बीमारों की भी हर संभव मदद करती हैं| मेरी माँ मेरी सबसे अच्छी दोस्त हैं.

मैं जब कोई गलती करता हूँ तब माँ मुझे डांटती नहीं है बल्कि प्यार से मुझे समझती हैं.

जब मैं दुखी होता हूँ तब मेरी माँ ही मेरे मुरझाए चेहरे पर मुस्कुराहट लेकर आती हैं. उनके प्यार और ममतामयी स्पर्श को पाकर मैं अपने सारे दुख भूल जाता हूँ.

मेरी माँ ममता की देवी समान हैं वे मुझे और मेरी बहन को हमेशा अच्छी-अच्छी बातें बताती हैं.

मेरी माँ आदर्श हैं वे मुझे सच के रस्ते पर चलने की सीख देती हैं समय का महत्व बताती हैं संस्कार सिखाती हैं.

कहते हैं कि माँ ईश्वर के द्वारा हमें दिया गया एक वरदान है जिसकी आंचल की छांव में हम अपने आप को सुरक्षित महसूस करते है और अपने सारे गम भूल जाते हैं.

मैं अपनी माँ से बहुत प्यार करता हूँ और भगवन को धन्यवाद देता हूँ कि उन्होंने मुझे दुनिया की सबसे अच्छी माँ दी|

Mother day speech in school in hindi

Mother's day speech in hindi

मातृ-दिवस हर साल माँ और उसके मातृत्व को सम्मान तथा आदर देने के लिये मनाया जाता है। इसे हर वर्ष मई महीने के दूसरे रविवार के दिन मनाया जाता है। इस दिन को मनाने के लिये माँ को खासतौर पर उनके बच्चों के स्कूलों में आमंत्रित किया जाता है। कई सारे कार्यक्रमों के साथ मातृ-दिवस के लिये शिक्षक ढ़ेर सारी तैयारियाँ करते हैं। कुछ विद्यार्थी हिन्दी और इंग्लिश में कविता तैयार करते है, निबंध लेखन, हिन्दी और इंग्लिश में बातचीत की कुछ पंक्तियाँ, भाषण, इत्यादि तैयार करते हैं। इस दिन माँ अपने बच्चों के स्कूल जाती है और इस उत्सव में शामिल होती है।

माताओं के स्वागत के लिये शिक्षक और विद्यार्थी मिलकर क्लासरुम को सजाते है। ये विभिन्न देशों में अलग-अलग तरीकों और दिनों पर मनाया जाता है हालाँकि भारत में इसे मई महीने के दूसरे रविवार के दिन मनाया जाता है। बच्चे अपनी माँ को एक खास कार्ड देकर (खुद बच्चों के द्वारा बनाया गया) उनके स्कूल में सही समय पर आने के लिये आमंत्रित करते हैं साथ ही बच्चे अनपेक्षित उपहार देकर अपनी माँ को आश्चर्यचकित कर देते है।

Speech On Mother’s Day in Hindi

अगर आप मदर्स डे के लिए हर साल 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 के लिए Few lines on Mothers day in Hindi, Sayings, Slogans, Messages, SMS, Quotes, Whatsapp Status, Words Character तथा भाषा Hindi font, hindi language, English, Urdu, Tamil, Telugu, Punjabi, Haryanvi, Gujarati, Bengali, Marathi, Malayalam, English,Kannada, Nepali के Language Font के 3D Image, HD Wallpaper, Greetings, Photos, Pictures, Pics, Free Download जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है|

एक माँ हर एक की सबसे अच्छी दोस्त होती है क्योंकि वह हर एक चीज का ध्यान रखती है जिसकी हमें जरुरत होती है। इसलिये, उन्हें धन्यवाद और आदर देने के लिये वर्ष का एक दिन समर्पित किया गया है जिसे हर साल हम सभी मातृ-दिवस के रुप में मनाते है। हमलोग बिना अपनी माँ के प्यार और देख-भाल के नहीं रह सकते हैं। वह हमारा बहुत ध्यान रखती है, वह बहुत खुश हो जाती है जब हमलोग हँसते है तथा वह बहुत दुखी हो जाती है जब हमलोग रोते है। इस दुनिया में माँ एकमात्र ऐसी इंसान होती है जो हमें कभी अकेला नहीं छोड़ती। माँ अपने बच्चों के लिये पूरी निष्ठावान होती है।

भारत में हर वर्ष मई महीने के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाता है। इस दिन को मनाने के लिये घर पर हर कोई एक साथ होता है और घर या बाहर जाकर मज़ेदार व्यंजनों का आनन्द लेता है। परिवार के सभी सदस्य माँ को उपहार देते है तथा ढ़ेर सारी बधाईयाँ देते है। हमारे लिये माँ हर वक्त हर जगह मौजूद रहती है। हमारे जन्म लेने से उनके अंतिम पल तक वो हमारा किसी छोटे बच्चे की तरह ख्याल रखती है। हम अपने जीवन में उनके योगदानों की गणना नहीं कर सकते है। यहाँ तक कि हम उनके सुबह से रात तक की क्रिया-कलापों की गिनती भी नहीं कर सकते।

माँ के पास ढ़ेर सारी जिम्मेदारियाँ होती हैं वो उसको लगातार बिना रुके और थके निभाती है। वो एकमात्र ऐसी इंसान है जिनका काम बिना किसी तय समय और कार्य के तथा असीमित होती है। हम उनके योगदान के बदले उन्हें कुछ भी वापस नहीं कर सकते हालाँकि हम उन्हें एक बड़ा सा धन्यवाद कह सकते है साथ ही उन्हें सम्मान देने के साथ ध्यान भी रख सकते है। हमें अपनी माँ को प्यार और सम्मान देना चाहिये तथा उनकी हर बात को मानना चाहिये।

मातृ दिवस पर लेख

मदर्स डे एक ऐसा दिन होता है जो हर बच्चा अपनी माँ के लिये खासतौर से मनाता है। ये एक महत्वपूर्णं उत्सव के तौर पर हर वर्ष मई महीने के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। स्कूलों में बच्चों के साथ मातृ-दिवस मनाने का प्रचलन है। अपने बच्चों के द्वारा माँ ग्रीटिंग्स कार्ड, विशिंग कार्ड तथा दूसरे खास उपहार प्राप्त करती है। इस दिन पारिवारिक सदस्य बाहर जाकर लज़ीज़ पकवानों का लुफ्त उठाते है तथा और खुशी मनाते है। माँ भी अपने प्यारे बच्चों को ढ़ेर सारा प्यार और उपहार तथा देख-भाल करती है।

स्कूल आने के लिये बच्चों के द्वारा खासतौर से अपनी माँ को आमंत्रित किया जाता है जहाँ पर शिक्षक, बच्चे और माँ मातृ-दिवस को खूब अच्छे से मनाते है। माँ अपने बच्चों के लिये उनकी पसंद के मुताबिक मैक्रोनी, चाउमीन, मिठाई, बिस्किट आदि जैसे कुछ खास पकवान बनाती है। इस दिन को पूरी मस्ती के साथ मनाने के लिये माँ और बच्चे दोनों नृत्य, गायन, भाषण आदि जैसे क्रिया-कलापों में भी भाग लेते है। मातृ-दिवस से संबंधित कार्यक्रमों जैसे गायन, नृत्य, भाषण, तुकबंदी व्याख्यान, निबंध लेखन तथा मौखिक बातचीत आदि में बच्चे भाग लेते है। उत्सव के समापन पर माताओं के द्वारा बनाया गया खास पकवान शिक्षकों और विद्यार्थियों को परोसा जाता है। सभी एकसाथ इसको खाते है और इसका आनन्द उठाते है।

Leave a Comment