kavita

Lohri Poems – Lohri Poems In Punjabi | लोहड़ी पर कविता

Lohri poems in hindi

Lohri 2019:वह लोहड़ी का त्यौहार, जो मुख्य रूप से पूरे भारत में सिखों और हिंदुओं द्वारा मनाया जाता है, सर्दियों के मौसम के अंत का प्रतीक है और पारंपरिक रूप से उत्तरी गोलार्ध में सूर्य का स्वागत करने के लिए माना जाता है। मकर संक्रांति से एक रात पहले मनाया गया, इस अवसर में प्रसाद के साथ अलाव के चारों ओर एक पूजा परिक्रमा शामिल होती है। यह त्यौहार बहुत ही धूमधाम और शो के साथ मनाया जाता है, खासकर उत्तर भारतीय क्षेत्र में। वर्ष के पहले हिंदू त्योहारों में से एक, इसे अनिवार्य रूप से किसानों का त्योहार, फसल का त्योहार कहा जाता है, जिससे किसान सर्वोच्च होने का शुक्रिया अदा कर सकते हैं।

Lohri poems in hindi

आई आई लोहरी आई
सबको हो बहुत बधाई
लकड़ी सजा के
आग लगा के
फुलले रेवड़ी
खूब खाई
सबको लोहरी की
बहुत बधाई

कंडा कंडा नी लकडियो कंडा सी
इस कंडे दे नाल कलीरा सी
जुग जीवे नी भाबो तेरा वीरा सी
पा माई पा, काले कुत्ते नू वी पा
कला कुत्ता दवे वदायइयाँ
तेरियां जीवन मझियाँ गईयाँ
मझियाँ गईयाँ दित्ता दुध
तेरे जीवन सके पुत्त
सक्के पुत्तां दी वदाई
वोटी छम छम करदी आई

Lohri poems in punjabi language

ਲੋਹਾਡੀ – ਲੋਹਦੀ ਆਈ,
ਸਰਦੀ ਦਾ ਅੰਤ ਹੋ ਗਿਆ,
ਦਿਨ ਦੀ ਖੁਸ਼ੀ ਵਿੱਚ,
ਹਰ ਕਿਸੇ ਦੇ ਨਾਲ ਮਿਲਕੇ ਲਾਬਿੰਗ ਕਰੋ
13 ਜਨਵਰੀ ਦਿਨ ਹੈ,
ਖ਼ੁਸ਼ੀ ਦਾ ਕੈਂਪ ਹੈ,
ਸੁੰਦਰੀ-ਮੁੰਦਰੀ ਦੇ ਗਾਣੇ ਵਿਚੋਂ,
ਅਸੀਂ ਲੋਹੜੀ ਦੇ ਤਿਓਹਾਰ ਦਾ ਜਸ਼ਨ ਮਨਾਇਆ.
ਲੋਹੜੀ ਲੋਹੜੀ ਆਈ,
ਇਕੱਠੇ ਅਸੀਂ ਸਾਰੇ,
ਦੂਜਾ ਦੇਣ ‘ਤੇ ਵਧਾਈਆਂ,
ਜਾਤੀਵਾਦ ਨੂੰ ਖਤਮ ਕਰਕੇ,
ਇਕੱਠੇ ਅਸੀਂ ਸਾਰੇ ਜਨਤਾ ਨੂੰ ਸਾੜ ਦਿੱਤਾ.
ਮੂੰਗਫਲੀ
ਲੋਹਰੀ ਗਾਣੇ ਨਾਲ,
ਇਸ ਤਿਉਹਾਰ ਦਾ ਤਿਉਹਾਰ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਹੈ!
ਕੁਝ ਦਿਨ ਪਹਿਲਾਂ ਦੇ ਬੱਚੇ
ਘਰ ਜਾਓ ਅਤੇ ਲੋਹਾਡੀ ਤੋਂ ਪੁੱਛੋ,
ਡੀ ਨੀ ਮਾਂ ਲੋਹਰੀ,
ਤੁਹਾਡੇ ਦੁਆਰਾ ਇੱਕ ਪੂਰੀ ਗੈਂਗ ਹੈ,
ਡੀ ਨੀ ਮਾਂ ਲੋਹਰੀ,
ਤੁਹਾਡੇ ਦੁਆਰਾ ਇੱਕ ਪੂਰੀ ਗੈਂਗ ਹੈ!
ਲੋਹੜੀ ਮੈਂ ਲੋਹਾਦੀ ਆਇਆ,
ਇਸ ਦੇ ਸਾਰੇ ਪਾਬੰਦੀ!
|| ਹੈਪੀ ਲੋਹੜੀ ||

Lohri poems in english

Lohri Poems In Punjabi

Here we go everyone,clapping singing
Merrily around the bonfire
Festivity bells in the ringing
Enjoying winter to the fullest
Praises we are all
For the carnival of harvest call
Rich poor celebrate with their fellow
Leave all gates adoor and hearts mellow
Sesame topped jaggery sweets
Peanuts popcorns mouth watering treat
To the dhols dance to the beat
Old and new fast tracks
With mouth full of hot snacks
Disco and west take a backseat
Bhangra thrill takes over
Traditions customs gives cover
Shimmring costumes of the state trend high
With headgear and jootis
the look is complete and all delight
Not one soul to stay indoors
Grand gala this is
So we shout out loud,Encore!!Encore!!

Happy lohri poems

आज है फिर से लोहरी आयी
सभी जनों को खूब बधाई
आज लकड़ी खूब जलेंगी
आग संग महफ़िल सजेंगी
खान पान संग होगा गाना बजाना
लोहरी के पंजाबी गीत गुनगुनाना
फुल्ले रेवड़ी मूंगफली होगी अग्नि को अर्पित
हर्ष और उल्लास को होगा त्यौहार समर्पित
कंडा कंडा नी लकडियो कंडा सी
इस कंडे दे नाल कलीरा सी
जुग जीवे नी भाबो तेरा वीरा सी,
पा माई पा, काले कुत्ते नू वी पा
कला कुत्ता दवे वदायइयाँ,
तेरियां जीवन मझियाँ गईयाँ,
मझियाँ गईयाँ दित्ता दुध,
तेरे जीवन सके पुत्त,
सक्के पुत्तां दी वदाई,
वोटी छम छम करदी आई|

Lohri festival poems in hindi

ऊपर हमने आपको लोहरी पोएम इन हिंदी, lohri poem in punjabi, poem, poem in hindi, poem in hindi language, poem in english, festival poem in hindi, happy lohri poems in hindi, hindi poem on lohri festival, आदि की जानकरी
किसी भी भाषा जैसे Hindi, हिंदी फॉण्ट, मराठी, गुजराती, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language व Font में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection जिसे आप अपने स्कूल व सोशल नेटवर्किंग साइट्स जैसे whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं|

लोहड़ी आई – लोहड़ी आई,
सर्दी खत्म होने को आई,
दिन बड़े होने की ख़ुशी में,
सब ने मिलकर लोहड़ी मनाई|
13 जनवरी का दिन है आया,
खुशियों ने हैं डेरा डाला,
सुंदरी-मुंदरी के गीतों से,
हम सब ने लोहड़ी का है त्योहार मनाया|
लोहड़ी आई लोहड़ी आई,
मिलकर हम सब,
एक दूजे को दे बधाई,
जात-पात का भेद मिटाकर,
मिलकर हम सब ने ढांड जलाई|
मूंगफली रेवड़ी अग्नि में डालकर
लोहड़ी के गीतों से,
इस त्योहार की शोभा बढाई!
कुछ दिन पहले से बच्चों ने,
घर घर जाकर लोहड़ी मांगी,
दे नी माएं लोहड़ी,
तेरे द्वारे सारी टोली है आई,
दे नी माएं लोहड़ी,
तेरे द्वारे सारी टोली है आई!
लोहड़ी आई- लोहड़ी आई,
सबने इसे दिल से मनाई!
|| हैप्पी लोहड़ी ||

Leave a Comment