Nibandh Tyohaar

जन्माष्टमी पर भाषण 2019 – Krishna Janmashtami Speech in Hindi, English & Gujarati for students

Krishna Janmashtami Speech in Hindi

Krishna Janmashtami 2019: भारत में कृष्णा जन्माष्टमी पर्व का बहुत महत्व है| यह हिन्दू धर्म का त्यौहार है| यह पर्व भगवान् कृष्ण के जन्मोत्सव पर मनाया जाता है| उन्होंने धरती पर मानव रूप में जन्म लिया था वे मानव जीवन को बचाने के लिए और मानव के दुखों को दूर कर सकते हैं। इस पर्व पर बहुत से हिन्दू धर्म के अनुयाई व्रत रखते है ताकि वे भगवान् कृष्ण को प्रसन्न कर सके| इसे कई अन्य नामों से भी जाना जाता है जैसे – कृष्णाष्टमी, गोकुलाष्टमी, अष्टमी रोहिणी, श्री कृष्ण जयंती, श्री कृष्णा जयंती आदि।

आज के इस पोस्ट में हम आपको श्री कृष्ण पर निबंध, जन्माष्टमी इन हिंदी, जन्माष्टमी का त्योहार, जन्माष्टमी स्पीच, जन्माष्टमी का महत्व, जन्माष्टमी निबंध मराठी, आदि की जानकारी आदि की जानकारी इन मराठी, हिंदी, इंग्लिश, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलगु, आदि की जानकारी देंगे जिसे आप अपने स्कूल के निबंध प्रतियोगिता, कार्यक्रम या भाषण प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है| ये भाषण खासकर कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है

Janmashtami Speech in Hindi

सभी जातियां अपने महापुरुषों का जन्म दिवस बड़ी धूमधाम से मनाती आई हैं । हिन्दुओं के महापुरुष भगवान् श्रीकृष्ण का जन्म दिवस भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाया जाता है ।

कृष्ण के भक्त उनका जन्म दिवस सहस्त्रों वर्षों से मनाते आ रहे हैं । वर्तमान समय में इनकी महिमा और बढ़ी है । भारतीय ही नहीं, विदेशी भी कृष्णभक्त हैं और विदेशों में कृष्णदेवालय स्थापित किए जा रहे हैं । दिन-प्रतिदिन उनके भक्तों की संख्या बढ़ रही है ।

आज से लगभग पाँच सहस्त्र वर्ष पूर्व कृष्ण का जन्म हुआ था । मथुरा में कंस नामक राजा राज्य करता था । उसकी प्राणों से प्रिय एक बहन देवकी थी । देवकी का विवाह कंस के मित्र वसुदेव के साथ हुआ । अपनी बहन का रथ हांककर वह स्वयं अपनी बहन को ससुराल छोड़ने जा रहा था ।

तभी अकाशवाणी हुई कि देवकी का आठवां पुत्र उसका काल होगा । इतना सुनते ही उसने रथ को वापिस मोड़ लिया तथा देवकी और वसुदेव को कारागार में डाल दिया । एक-एक करके उसने देवकी की सात सन्तानों की हत्या कर डाली ।

धरती को कंस जैसे पापी के पापों के भार से मुक्त करने के लिए श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद की कृष्ण पक्ष की गहन अन्धेरी रात में हुआ । कारागार के द्वार स्वत: खुल गए । वसुदेव ने मौके का फायदा उठाया और उसे अपने मित्र नन्द के यहाँ छोड़ आए ।

कंस को किसी तरह उसके जीवित होने का संदेश मिल गया । उसने श्रीकृष्ण को मारने के अनेक असफल प्रयास किए और स्वयं काल का ग्रास बन गया । बाद में श्रीकृष्ण ने अपने माता-पिता को मुक्त कराया । जन्माष्टमी के दिन प्रात: काल लोग अपने घरों को साफ करके मन्दिरों में धूप और दीये जलाते हैं । इस दिन लोग उपवास भी रखते हैं । मन्दिरों में सुबह से ही कीर्तन, पूजा पाठ, यज्ञ, वेदपाठ, कृष्ण लीला आदि प्रारम्भ होते हैं ।

जो अर्द्धरात्रि तक चलते हैं । ठीक 12 बजे चन्द्रमा के दर्शन साथ ही मन्दिर शंख और घड़ियाल की ध्वनि से गूंज उठता हैं, आरती के बाद लोगों में प्रसाद बांटा जाता है । लोग उस प्रसाद को खाकर अपना व्रत तोड़तें है और अपने घर आकर भोजन इत्यादि करते हैं ।

जन्माष्टमी पर मन्दिर चार-पांच दिन पहले से ही सजने प्रारम्भ हो जाते हैं । इस दिन मन्दिरों की शोभा अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँच जाती है । बिजली से जलने वाले रंगीन बल्बों से मन्दिरों को सजाया जाता है । जगह-जगह पर झाकियां निकलती हैं जो गली, मोहल्लों और दुकानों से होती हुई मंदिरों तक पहुँचती हैं ।

मन्दिरों में देवकी-वसुदेव-कारागार कृष्ण हिण्डोला विशेष आकर्षण के केन्द्र होते हैं । सभी भक्तगण हिण्डोले में रखी कृष्ण प्रतिमा को झुलाकर जाते हैं । श्रीकृष्ण के जन्म-स्थल मथुरा और वृन्दावन में मन्दिरों की शोभा अद्वितीय होती है । भक्तगणों का सुबह से तांता लगा रहता है । जो अर्धरात्रि तक थामे नहीं थमता ।

इस दिन समाज सेवक भी मन्दिरों में आकर कार्य में हाथ बंटाते हैं । इस दिन मन्दिरों में इतनी भीड़ हो जाती हैं कि लोगों को पंक्तियों में खड़े होकर भगवान के दर्शन करने पड़ते हैं । सुरक्षा की दृष्टि से मन्दिर के बाहर पुलिस के कुछ जवान तैनात रहते हैं ।

श्रीकृष्ण के व्यक्तित्व में उनके गुण थे, जिसके कारण वह हिन्दुओं के महानायक बने-उन्होंने गरीब मित्र सुदामा से मित्रता निभाई, दुराचारी शिशुपाल का वध किया, पाण्डुपुत्र युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ में आने वाले अतिथियों के पैर धोए और जूठी पत्तलें उठाईं, महाभारत के युद्ध में अपने स्वजनों को देखकर विमुख अर्जुन को आत्मा की अमरता का संदेश दिया, जो हिन्दुओं का धार्मिक ग्रंथ ‘श्रीमद्‌भगवतगीता’ बना ।

यही ग्रंथ आज दार्शनिक परम्परा की आधारशिला है । उन्हीं श्रीकृष्ण की प्रशंसा में ‘भगवत् पुराण’ अनेक नाटक और लोकगीत लिखे गए जो आज भी मन्दिरों में गाये जाते हैं । श्रीकृष्ण का चरित्र हमें लौकिक और आध्यात्मिक शिक्षा देता है । गीता में उन्होंने स्वयं कहा है कि व्यक्ति को मात्र कर्म करना चाहिए फल की इच्छा नहीं रखनी चाहिए ।

‘कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन’ निष्काम कर्म व्यक्ति को कर्मठ बनाता है । फल प्राप्ति की भावना से उठकर वह देवत्व को प्राप्त कर देवमय ही हो जाता है ।

Speech on Janmashtami in Hindi

जन्माष्टमी 2019: कृष्णा जन्मणाष्टमी एक धार्मिक पर्व है जो की हर साल आता है| इस वर्ष यह पर्व 3 सितम्बर को सोमवार के दिन है| इस दिन पूरे भारत के हिन्दू धर्म के अनुयाई कृष्ण की मूर्ती पर अन्य प्रकार के मिष्ठान का भोग लगाते है| आइये अब हम आपको श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर भाषण, जन्माष्टमी पर निबंध हिंदी में, krishna janmashtami speech, janmashtami speech for students in hindi, shri krishna janmashtami speech in hindi, जन्माष्टमी पर स्पीच, जन्माष्टमी पर कविता, janmashtami speech in school, Janmashtami Nibandh in Gujarati, speech on janmashtami in school, कृष्ण जन्माष्टमी फोटो, short speech on janmashtami in english, Janmashtami Quotes in Hindi, स्पीच व जन्माष्टमी, Krishna Janmashtami Whatsapp Status, स्पीच ओं जन्माष्टमी इन स्कूल, स्पीच ों जन्माष्टमी, जन्माष्टमी स्पीच इन हिंदी फॉर स्टूडेंट्स, आदि की जानकारी किसी भी भाषा जैसे Hindi, हिंदी फॉण्ट, मराठी, गुजराती, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection जिसे आप अपने अध्यापक, मैडम, mam, सर, बॉस, माता, पिता, आई, बाबा, sir, madam, teachers, boss, principal, parents, master, relative, friends & family whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं हिंदी में 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|साथ ही आप Anchoring Script for Janmashtami Celebration in Hindi भी देख सकते हैं| आप सभी को जन्माष्टमी की शुभकामनाएं

कृष्णा जन्माष्टमी हिंदू धर्म के लोगों द्वारा हर साल मनाया जाने वाला एक प्रमुख त्यौहार है। यह भगवान कृष्ण की जयंती या जन्म तिथि के रूप में मनाया जाता है भगवान कृष्ण हिंदू धर्म के भगवान हैं, जिन्होंने पृथ्वी पर एक मानव के रूप में जन्म लिया था ताकि वह मानव जीवन की रक्षा कर सकें और अपने भक्तों के दुख दूर कर सके। ऐसा माना जाता है कि कृष्ण भगवान विष्णु के आठवें अवतार थे।

भगवान कृष्ण को गोविंद, बालगोपाल, कान्हा, गोपाल और लगभग 108 नामों से जाना जाता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान कृष्ण को प्राचीन समय से हिंदू धर्म के लोगों द्वारा उनकी विभिन्न भूमिकाओं और शिक्षाओं (जैसे भगवद गीता) के लिए पूजा जाता है।

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, भगवान कृष्ण का जन्म अष्टमी (8 वें दिन) को कृष्ण पक्ष में श्रावण महीने के अंधेरी आधी रात में हुआ था। भगवान कृष्ण ने अपने भक्तों के लिए इस धरती पर जन्म लिया और शिक्षक, संरक्षक, दार्शनिक, भगवान, प्रेमी, के रूप विभिन्न भूमिकाएं निभाईं। हिंदू लोग भगवान विष्णु की पूजा करते हैं और विभिन्न प्रकार के कृष्ण के रुपों की पूजा करते हैं।

उनके हाथों एक बांसुरी और सिर पर एक मोर का पंख रहता है। कृष्ण अपनी रासलीलाओं और अन्य गतिविधियों के लिए अपने मानव जन्म के दौरान बहुत प्रसिद्ध हैं। भारत के साथ-साथ कई एनी देशों में भी हर साल अगस्त या सितंबर के माह में बड़े उत्साह, तैयारी और खुशी के साथ जन्माष्टमी मनाते हैं। पूर्ण भक्ति, आनन्द और समर्पण के साथ लोग जन्माष्टमी (जिसे सटम आथम, गोकुलाष्टमी, श्री कृष्ण जयंती आदि कहते हैं) का जश्न मनाते हैं।

यह भद्रप्रद माह में आठवें दिन प्रतिवर्ष मनाया जाता है। लोग व्रत रखते हैं, पूजा करते हैं, भक्ति गीत गाते हैं, और भगवान कृष्ण के भक्ति में भव्य उत्सव के लिए दहीहंडी, रास लीला और अन्य समाहरोह का आयोजन करते हैं। इस वर्ष भी सभी वर्षों की तरह पूरे भारत के साथ-साथ ही विदेशों में भी कृष्णा जन्माष्टमी (भगवान कृष्ण की जन्मगांठ) को लोग हर्ष और उल्लास के साथ मनाएंगे।

जैसे ही विवाहित जीवन शुरू होता है, हर दंपति चाहता है कि सारे जीवन के लिए उनका एक अनूठा बच्चा हो, हालांकि, सभी जोड़े इस आशीर्वाद को प्राप्त करते हैं, किसी को जल्दी हो जाता है और किसी को प्राकृतिक कारणों के कारण बाद में होता है। मातृत्व के विशेष उपहार के लिए सभी विवाहित महिलाएं कृष्ण जन्माष्टमी के दिन व्रत रखती है।

यह माना जाता है जो इस दिन पूर्ण विश्वास के साथ व्रत पूजा करते हैं, वास्तव में एक शिशु का आशीर्वाद उन्हें जल्द ही प्राप्त होता हैं। कुछ अविवाहित महिलायें भी भविष्य में एक अच्छा वर और बच्चा पाने के लिए इस दिन उपवास रखतीं हैं। पति और पत्नी दोनों द्वारा उपवास और पूर्ण भक्ति के साथ पूजा अधिक प्रभावकारी होता है।

लोग सूर्योदय से पहले सुबह उठते हैं, एक अनुष्ठान स्नान करते हैं, नए और साफ-सुथरे कपड़े पहनकर तैयार होते हैं और ईष्ट देव के सामने पूर्ण विश्वास और भक्ति के साथ पूजा करते हैं। वे पूजा करने के लिए भगवान कृष्ण के मंदिर में जाते हैं और प्रसाद, धूप, बत्ती घी दीया, अक्षत, कुछ तुलसी के पत्ते, फूल, भोग और चंदन चढ़ाते हैं।

वे भक्ति गीतों और संतान गोपाल मंत्र गाते हैं। अंत में, वे भगवान कृष्ण की मूर्ति की आरती कपूर या घी दीया से करते हैं और भगवान से प्रार्थना करते हैं। लोग अंधेरी आधी रात से भगवान के जन्म समय तक पूरे दिन के लिए उपवास रखते हैं।

कुछ लोग जन्म और पूजा के बाद अपना उपवास तोड़ते हैं लेकिन कुछ लोग सूर्योदय के बाद सुबह में अपना उपवास तोड़ते हैं। भगवान कृष्ण के जन्म के बाद भक्ति और पारंपरिक गीत और प्रार्थनाएं गाते हैं। राजा कंस के अन्याय से लोगों को रोकने के लिए भगवान कृष्ण ने द्वापार युग में जन्म लिया था। ऐसा माना जाता है कि अगर हम पूरी भक्ति, समर्पण, और विश्वास से प्रार्थना करते हैं तो वो हमारी प्रार्थना ज़रूर सुनते हैं। वह हमारे सभी पापों और दुखों को भी मिटा देते हैंऔर हमेशा मानवता की रक्षा करते हैं।

Speech on Krishna Janmashtami

Speech on Janmashtami in Hindi

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि – जन्माष्टमी का पावन पर्व योगीराज श्रीकृष्ण के जन्म देसी महीने की भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है । श्रीकृष्ण मथुरा राज्य के सामंत वासुदेव- देवकी की आठवीं संतान थे । एक आकाशवाणी सुनकर कि वासुदेव- देवकी के गर्भ से जन्म लेने वाला बालक ही अत्याचारी और नृशंस राजकुमार कंस की मृत्यु का कारण बनेगा, भयभीत कंस ने उन्हें काल- कोठरी में बंद कर दिया । वहां जन्म लेने वाली देवकी की सात संतानों को तो कंस ने मार दिया, लेकिन आठवीं संतान को अपने शुभचिंतकों की सहायता से वासुदेव ने अपने परम मित्र नंद के पास पहुंचा दिया । वहीं नंद, यशोदा की गोद में पला-बढ़ा एवं बाद में मथुरा पहुंच कर कंस का वध करके अपने माता-पिता एवं नाना उग्रसेन को कारागार से मुक्त करवाया । जन्माष्टमी का पवित्र त्योहार इन्हीं की पवित्र स्मृति में,इनके किए प्रतिष्ठित कार्यों आदि के प्रति श्रद्धांजलि समर्पित करने के लिए पूरे भारतवर्ष में हिंदू समाज में मनाया जाता है ।

त्योहार मनाने की विधि – सनातन धर्म को मानने वाले लोग इस दिन श्रद्धा एवं प्रेम से व्रत रखते हैं । घर में साफ-सफाई करके धूप-दीप से सजाते हैं । गांव में लोग कुछ दिन पहले से ही पकवान बनाने प्रारंभ कर देते हैं । मंदिरों को खूब सजाया जाता है । मंदिरों में सारा दिन भजन कीर्तन होता रहता है । भिन्न-भिन्न प्रकार की झांकियां दिखाई जाती हैं । अर्धरात्रि पर चंद्रमा के दर्शन करके सनातनी लोग अपना व्रत समाप्त करते हैं । दूध, फलाहार एवं मिष्ठान लेते हैं ।

जन-जीवन में महत्ता – अत्याचारी कंस से प्रजा की रक्षा करने वाले श्रीकृष्ण तपस्वी, मनस्वी, योगी, दार्शनिक, महाराजा, सेनापति एवं कूटनीतिज्ञ थे । उन्होंने पापियों का नाश करके धर्म की स्थापना की थी । इस महापुरुष के जन्मदिन का गौरव जन्माष्टमी को प्राप्त है । भारत में इस त्योहार का अत्यधिक महत्त्व है ।

झांकियों का प्रदर्शन – गांवों तथा नगरों में अनेक स्थानों पर झूलों एवं झांकियों का प्रदर्शन किया जाता है जिन्हें देखने मंदिरों में लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं । कई स्थानों पर बाजारों में भी झांकियां निकाली जाती हैं । स्कूलों में भी जन्माष्टमी का महत्त्व बच्चों को बताने के लिए कार्यक्रम किया जाता है । मंदिरों में गीता का अखंड पाठ किया जाता है । देवालयों की शोभा विशेषकर मथुरा एवं वृदांवन में देखने योग्य होती है । सांस्कृतिक दृष्टि से श्रीकृष्ण ने अपने श्रीमुख से गीता का प्रवचन दिया था, उसका पाठ किया करते हैं । इस प्रकार जन्माष्टमी का उत्सव बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

भारत मे समय पाकर ऐसे-ऐसे महापुरुषो, कर्मयोगियों एव नीतिवानों ने जन्म लिया कि अपनी अनवरत कर्मठता, चारित्रिक दृढता, रंजक और रक्षक कार्यो के बल पर उन्होंने अवतार का-सा महत्त्व प्राप्त कर लिया । दूसरे कुछ लोगों का तो प्रकाट्‌य (अवतार) ही अन्याय-अत्याचार का नाश कर अन्यायियों-अत्याचारियो से जीवन-समाज के सत् तत्त्वों और सज्जनों की रक्षा करना था । भगवान श्रीकृष्ण एक इसी तरह के अवतार माने गए हैं । उन्हें भगवान् विष्णु के चौबीस अवतारों मे से एक सोलह-कला-सम्पूर्ण अवतार स्वीकार किया गया है ‘जन्माष्टमी’ नामक हिन्दू पर्व का सम्बन्ध इन्हीं भगवान श्रीकृष्ण के जन्म अर्थात् अवतार के साथ है । उन्ही के प्रकट होने के दिन को हर वर्ष बडी धूमधाम से, उत्सव-उत्साह के साथ मनाया जाता है ।

जन्माष्टमी का सम्बन्ध समग्र हिन्दू समाज के साथ है । हिन्दू समाज मे, क्योकि तैंतीस करोड देवी देवताओ और चौबीस अवतारी को मान्यता प्राप्त है, अत: वे वेष्णवजन इस त्योहार को अत्यन्त हार्दिकता एवं धूमधाम से मनाया करते हैं कि जो अपने-आप को कृष्णभक्ति शाखा या कृष्णोपासना से सम्बद्ध मानते हैं । श्रीकृष्ण मथुरा के राज्य के अन्तर्गत आने वाले प्रमुख सामन्त वसुदेव-देवकी के आठवे बेटे थे । एक आकाशवाणी सुनकर कि वसुदेव-देवकी के गर्भ से जन्म लेने वाला बालक ही अत्याचारी और नृशंस राजकुमार कस की मृत्यु का कारण बनेगा, भयभीत कस ने अपनी बहन देवकी और बहनोई वसुदेव को जेल की काल कोठरी में बन्द कर दिया था ।

वहाँ जन्म लेने वाली सात सन्तानों का तो कंस ने वध कर डाला; पर शुभचिन्तक सामन्ती की सहायता से वसुदेव ने अपनी आठवीं सन्तान को ब्रजभूमि में स्थित नदग्राम में अपने परम मित्र नंद के पास पहुँचा दिया । वहीं नंद-यशोदा की गोद में पल-पुसकर श्रीकृष्ण बडे हुए और बाद मे मथुरा पहुँच कर कंस का वध करके अपने माता-पिता और नाना उग्रसेन की कारागार से मुक्ति का कारण भी बने । बाद में भगवान श्रीकृष्ण ने महाभारत के युद्ध के सूत्रधार बन कर अपने सखा अर्जुन को ‘अमिद्‌भगवदगीता’ के कर्मयोग का ज्ञानोपदेश दिया, यह एक अलग कहानी है । इन भगवान श्रीकृह्या का जन्म देशी महीनें भाद्रपद के कृष्ण क्स की अष्टमी तिथि की आधी रात के समय हुआ था ।

Janmashtami Speech in English

Janmashtami is a Hindu festival celebrating the birth of Krishna. Janmashtami is celebrated as the birthday of Lord Sri Krishna.

Krishna Janmashtami is also known as Sri Krishna Jayanti, Krishnashtami, Gokulashtami and sometimes simply as Janmashtami. Hindus observed this festival to celebrate the birthday of their beloved God Sri Krishna. The birth of Lord Krishna marks the end of inhumanity and cruelty over mankind. Krishna is a symbol of righteousness. Sri Krishna was born at mid-night of this day. Krishna Janmashtami is observed on the Ashtamitithi, the eighth day of the dark half or Krishna Paksha of the month of Shraavana. He is considered as an avatar of the God Vishnu. The day is celebrated with great zeal and devotion. The Lord Krishna devotees observe fast for the entire day and night, worshipping him. Temples of Sri Krishna are beautifully decorated. Thousands of Hindu men and women wear new clothes and gather in these temples to celebrate the birthday of their beloved God. The priest chants mantras and worship Lord Sri Krishna. Some temples also conduct readings of the Hindu religious scripture Bhagavad Gita. Religious plays or Raslilas are performed to recreate events from the life of Lord Krishna. Janmashtami is one such festival that is celebrated equally in North and South India. Different parts of the country celebrate the festival differently.

Janmaashtami or Gokulashtami, popularly known in Mumbai and Pune as DahiHandi, is celebrated as an event which involves making a human pyramid and breaking an earthen pot (handi) filled with buttermilk (dahi), which is tied at a convenient height.

The town of Dwarka in Gujarat which is Krishna’s own land witnesses hordes of visitors gathering here for celebrations.Places in Uttar Pradesh that are associated with Krishna’s childhood, such as Mathura, Gokul and Vrindavan, attract visitors from all over India, who go there to participate in the festival celebrations.

Krishnashtami brings much joy and feeling of unity.The festival is celebrated with zeal and rejoicings all over the country and in various other parts of the world wherever there exist Hindu societies.

Janmashtami Par Bhashan

कहा जाता है कि जब कृष्ण का जन्म हुआ था तब कारागार के सभी पहरेदार सो गए थे देवकी-वासुदेव की बेड़ियाँ स्वतः ही खुल गई थीं और कारागार के दरवाजे स्वतः ही खुल गये थे। फिर आकाशवाणी ने वासुदेव को बताया कि वे अभी कृष्ण को गोकुल पहँचा दें।

तत्पश्चात् कृष्ण के पिता वासुदेव कृष्ण को सूप में सुलाकर वर्षा ऋतु में उफनती हुई नदी पार कर के गोकुल ले गए और नंद के यहाँ छोड़ आए, सभी लोग इसे कृष्ण का ही चमत्कार मानते हैं.

कंस ने तो कृष्ण के सात भाइयों को पैदा होते ही मार दिया था। फिर कृष्ण ने बचपन से युवावस्था तक कंस सहित अनेक राक्षसों का वध किया और अपने भक्तों का उद्धार किया।

यही कारण है कि लोग उन्हें ईश्वर का अवतार मानकर उनकी पूजा-अर्चना एवं भक्ति करते हैं.

मथुरा और वृन्दावन जहाँ भगवान् श्रीकृष्ण ने अपना बचपन बिताया था वहां की जन्माष्टमी पुरे विश्व में बहुत प्रसिद्ध है| कृष्ण का जन्म रात के 12 बजे उनके मामा कंस के कारागार में हुआ था.

यह त्योहार कभी अगस्त और कभी सितम्बर में पड़ता है। कृष्ण जन्माष्टमी से एक दिन पहले सप्तमी को लोग व्रत रखते है और आधी रात को 12 बजे कृष्ण का जन्म हो जाने के बाद घंटे-घड़ियाल बजाकर श्री कृष्ण की आरती उतारते हैं.

तत्पश्चात् सभी लोग अपने आस-पड़ोस और मित्र-रिश्तेदारों को ईश्वर का प्रसाद वितरण करके खुशी प्रकट करते हैं। फिर वे स्वयं खाना खाते है, इस प्रकार पूरे दिन व्रत रखकर यह त्यौहार मनाया जाता है.

वही बच्चो के लिए भी जन्माष्टमी किसी बड़े उत्सव से कम नहीं होता| श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के दिन बच्चे अपने घरों के सामने हिंडोला सजाते हैं, वे हिंडोले (पालने) में छोटे से कृष्ण को सुला देते हैं। कंस का कारागार बना देते हैं.

उसमें देवकी और वासुदेव को बिठा देते हैं कारागार के बाहर सिपाही तैनात कर देते हैं, इसी प्रकार उसके आसपास अन्य खिलौने रख देते हैं| इन्हें देखने के लिए आस-पास के बहुत लोग आते हैं| वहाँ एक तरह का मेला-सा लग जाता है.

जहाँ स्थान अधिक होता है वहाँ झूले और खिलौने बेचने वाले भी आ जाते हैं, बच्चे वहाँ हिंडोला देखने के साथ-साथ झूला झूलते हैं और खिलौने वगैरह भी खरीदते हैं| विशेषकर जन्माष्टमी के दिन बच्चे बहुत उत्साहित होते हैं क्योंकि कई प्रकार के खिलौने खरीदकर उन्हें हिंजोला सजाना होता है.

कई स्थान पर कृष्ण-लीला भी होती है। इसमें मथुरा का जन्मभूमि मंदिर और बांके बिहारी का मंदिर मुख्य है.

वही भारत के कुछ जगहों पर जन्माष्टमी के दिन अनेक जगह दही-हांडी प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है, दही-हांडी प्रतियोगिता में सभी जगह के बाल-गोविंदा भाग लेते हैं|

छाछ-दही आदि से भरी एक मटकी रस्सी की सहायता से आसमान में लटका दी जाती है और बाल-गोविंदाओं द्वारा मटकी फोड़ने का प्रयास किया जाता है.

दही-हांडी प्रतियोगिता में विजेता टीम को उचित इनाम दिए जाते हैं|

उपसंहार :-

मै अंत में यह ज़रूर बोलना चाहूँगा कि जन्माष्टमी के दिन व्रत रखने का विधान बहुत पहले से ही चला आ रहा है, आपको अपनी सामर्थ्य के अनुसार फलाहार करना चाहिए| कोई भी भगवान हमें भूखा रहने के लिए नहीं कहता इसलिए अपनी श्रद्धा अनुसार ही आप व्रत करें.

पूरे दिन व्रत में कुछ भी न खाने से आपके स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ सकता है। इसीलिए हमें श्रीकृष्ण के संदेशों को अपने जीवन में अपनाना चाहिए.

Janmashtami Speech in Gujarati

જન્માષ્ટમી કૃષ્ણના જન્મની ઉજવણીનો એક હિન્દુ તહેવાર છે. જન્માષ્ટમીને ભગવાન શ્રીકૃષ્ણના જન્મદિવસ તરીકે ઉજવવામાં આવે છે.

કૃષ્ણ જન્માષ્ટમીને શ્રી કૃષ્ણ જયંતી, ક્રિષ્નાશ્ટીમી, ગોકૌલાશત્મી અને કેટલીક વખત માત્ર જન્માષ્ટમી તરીકે ઓળખવામાં આવે છે. હિંદુઓએ તેમના પ્રિય ભગવાન શ્રી કૃષ્ણના જન્મદિવસની ઉજવણી માટે આ તહેવારનું નિરીક્ષણ કર્યું. ભગવાન કૃષ્ણનું જન્મ માનવજાત પર અમાનુષી અને ક્રૂરતાનો અંત છે. કૃષ્ણ સદ્ગુણોનું પ્રતીક છે. શ્રીકૃષ્ણ આ દિવસે મધ્યરાત્રિમાં થયો હતો. કૃષ્ણ જન્માષ્ટમી અષ્ટમિતિધિ, ​​શ્રાવાના મહિનાના આઠમા દિવસ અથવા કૃષ્ણ પક્ષના આઠમી દિવસે જોવા મળે છે. તેમને ભગવાન વિષ્ણુના અવતાર માનવામાં આવે છે. આ દિવસે મહાન ઉત્સાહ અને ભક્તિ સાથે ઉજવવામાં આવે છે. ભગવાન કૃષ્ણ ભક્તો આખો દહાડો ઉપવાસ કરે છે, તેમની પૂજા કરે છે. શ્રી કૃષ્ણના મંદિરો સુંદર શણગારવામાં આવે છે. હજારો હિન્દુ પુરુષો અને સ્ત્રીઓ નવાં વસ્ત્રો પહેરે છે અને તેમના પ્યારું ભગવાનનો જન્મદિવસ ઉજવવા માટે આ મંદિરોમાં ભેગા થાય છે. પાદરી મંત્રના મંત્રી અને ભગવાન શ્રીકૃષ્ણની ઉપાસના કરે છે. કેટલાક મંદિરો હિન્દુ ધાર્મિક ગ્રંથ ભગવદ ગીતાના વાંચન પણ કરે છે. ભગવાન શ્રીકૃષ્ણના જીવનમાંથી ઘટનાઓને ફરીથી બનાવવા માટે ધાર્મિક નાટકો અથવા રાસ્લિલાસ કરવામાં આવે છે. જન્માષ્ટમી એક એવો તહેવાર છે જે ઉત્તર અને દક્ષિણ ભારતમાં સમાન રીતે ઉજવવામાં આવે છે. દેશના જુદા જુદા ભાગો તહેવારને અલગ રીતે ઉજવણી કરે છે.

મુંબઈ અને પૂણેમાં લોકપ્રિય રીતે જાણીતા જનમાષ્ટમી અથવા ગોકુલશત્મી, એક ઘટના તરીકે ઉજવવામાં આવે છે જેમાં એક માનવ પિરામિડ બનાવવામાં આવે છે અને છાશ (દહીં) સાથે ભરેલી માટીના વાસણ (હાથી) ભંગ કરે છે, જે અનુકૂળ ઊંચાઈથી બંધાયેલ છે.

ગુજરાતમાં દ્વારકાના નગર જે કૃષ્ણની પોતાની ભૂમિ સાધના માટે ઉજવણી કરનારા મુલાકાતીઓનો ચુકાદો ધરાવે છે. ઉત્તર પ્રદેશમાં આવેલા સ્થળો જેમ કે મથુરા, ગોકુલ અને વૃંદાવન જેવા કૃષ્ણના બાળપણ સાથે સંકળાયેલા છે, જે સમગ્ર ભારતમાં મુલાકાતીઓને આકર્ષે છે. તહેવાર ઉજવણીમાં ભાગ લેવો.

કૃષ્ણશ્ત્મતી એકતાના ખુબ આનંદ અને લાગણી લાવે છે. આ તહેવાર દેશભરમાં અને વિશ્વના અન્ય ભાગોમાં જ્યાં હિન્દુ સમાજ અસ્તિત્વમાં હોય ત્યાં ઉત્સાહ અને આનંદ સાથે ઉજવણી કરવામાં આવે છે.