Jesus christ story in hindi

jesus christ story in hindi

ईसा मसीह ईसाई धर्म के लिए एक केंद्रीय व्यक्ति हैं। ईसाई उसे मसीहा (भगवान का पुत्र) के रूप में चित्रित करते हैं। यीशु ने मसीहियों को उनके पापों के लिए मरते हुए और मृतकों से खुद को ऊपर उठाकर परमेश्वर के साथ सामंजस्य स्थापित किया। यीशु का एक अजीब व्यक्तित्व था, और उन्होंने अपने अनुयायियों पर एक स्थायी धारणा बनाई। वह शब्द के गहरे अर्थों में करिश्माई था। यीशु मसीह एक अनुकरणीय और सिद्ध नेता हैं। यीशु मसीह एक दिव्य और पौराणिक प्राणी है; वह ईसाइयों के लिए रूपक है।

यीशु ने एक नए युग के आने का संकेत दिया, जहां सभी लोग सेवा और विश्वास करने के लिए भगवान के बच्चों के रूप में रहेंगे। यीशु ने भाईचारे और परोपकार के मूल नैतिक मूल्यों की शिक्षा दी, जो ईसाई धर्म का मुख्य केंद्र बन गया। ईसा मसीह का जीवन और शिक्षाएँ ईसाइयों के लिए प्रेरणा हैं।

jesus christ birth | birth place

ईसा मसीह का जन्म जीवन के दौरान हुआ था और हेरोड महान के शासनकाल में जिन्होंने पहली शताब्दी ईसा पूर्व के अंत में फिलिस्तीन पर शासन किया था। 25 दिसंबर को, जो ईसाइयों द्वारा हर साल यीशु मसीह के जन्म के दिन की याद में मनाया जाता है। यीशु का जन्म यहूदिया के बेथलहम शहर में वर्जिन मैरी द्वारा एक चरनी में हुआ था। यूसुफ यीशु का पिता था। यूसुफ एक बढ़ई था। जब यीशु का जन्म हुआ था, तब तीन बुद्धिमान पुरुषों ने पूर्व में सितारा (बेथलहम का सितारा) का अनुसरण किया था जहाँ यीशु का जन्म हुआ था। तीन बुद्धिमान व्यक्ति उनके साथ उपहार, गोल्ड, लोहबान, और फ्रैंकिनस बोर करते थे।

लगभग उसी समय राजा हेरोदेस यीशु मसीह के जन्म से बहुत परेशान थे, क्योंकि उन्होंने सुना कि एक नए राजा का जन्म हुआ है। हेरोद उग्र हो गया और उसने अपने सैनिकों को दो साल और उससे कम उम्र के सभी लड़कों को मारने के लिए बेथलेहम में भेज दिया। सैनिकों के पहुंचने से पहले जोसेफ और मैरी बेथलहम से मिस्र भाग गए।

ईसा मसीह की कहानी | ईसा मसीह कौन थे

ऐसा कहा जाता है, रोमन सम्राट आगस्टस के आदेश पर उस देश की जनगणना की आज्ञा दी गयी। उस समय मरियम गर्भवती थी। प्रत्येक व्यक्ति को बेथलहेम में जाकर अपना नाम दर्ज कराना था। वहाँ बड़ी संख्या में लोग आये थे। सभी धर्मशालाये और आवास पूरी तरह से भरे थे। अंत में उनको एक अस्तबल में जगह मिली। उस समय लोग खुद को गर्म रखने के लिए अक्सर घर के अन्दर जानवरों को रखा करते थे, खासतौर पर रात के समय, और यहीं वो पवित्र जगह थी, जहाँ मरियम ने प्रभु यीशु को जन्म दिया और यही पर 25 दिसंबर को आधी रात के समय महाप्रभु ईसा का जन्म हुआ। बेथलहेम के बाहर मौजूद गड़ेरिये जब रात भर अपनी भेड़ों की देखभाल कर रहे थे। जब सुबह हुई तब उनके साथ भी एक आश्चर्यजनक घटना हुई, अगली सुबह एक फ़रिश्ता उनके सामने आया, गड़ेरिये पहले तो उसे देखकर काफी डर गए पर फ़रिश्ते ने उनसे कहा, डरो मत, मेरे पास तुम्हारे लिए एक अच्छी खबर है। आज बेथलहेम में तुम्हारे लिए एक रखवाले ने जन्म लिया है और वो तुम्हें जानवरों की चारा खिलाने वाली एक नाँद में मिलेगा। इसके बाद कई और फ़रिश्ते प्रकट हुए और आकाश में प्रकाश फैल गया, और वे ईश्वर की प्रशंसा में गाने लगे। फरिश्तों के जाने के बाद गड़ेरियों ने आपस में कहा, “चलो, बेथलहेम चलते हैं और वहां जाकर देखते हैं कि क्या हुआ है।” सभी गड़ेरिये बेथलहेम पहुंचे और वहां उन्होंने यीशु को एक नाँद में लेटे हुए देखा, जैसा कि फ़रिश्ते ने बताया था। गड़ेरियो ने जाकर ईसा को देखा और उनकी स्तुति की। ईसाईयों के लिए इस घटना का बहुत महत्व है। वे जीसस को ईश्वर का पुत्र मानते है। अतः ईसाइयो के लिए यह ख़ुशी और उल्लास का दिन था। क्योंकि ईश्वर का पुत्र यीशु सभी के कल्याण करने के लिए पृथ्वी पर आये थे।

कहा जाता है हेरोद राजा के शासन काम ले जब यहूदिया के बेथलहेम में ईसा मसीह का जन्म हुआ, तो उसी समय ज्योतिषी यरूशलम में आकर उनके बारे में पूछने लगे। क्योंकि उन्होंने उसका तारा देखा था और वो उनको प्रणाम करने आए हैं। जब हेरोद राजा ने यह सब सुना तो वो और उसके साथ सारा येरूशलम घबरा गया। तब हेरोद ने ज्योतिषियों को चुपके से बुलाकर उन से पूछा, कि तारा ठीक किस समय दिखाई दिया था और उस ने यह कहकर उन्हें बेथलहेम भेजा दिया, कि जाकर उस बालक के विषय में ठीक ठीक मालूम करो और जब वह मिल जाए तो मुझे समाचार दो ताकि मैं भी आकर उस को प्रणाम करूं। वे राजा की बात सुनकर चले गए। कहा जाता है जो तारा उन्होंने पूर्व में देखा था, वह उन के आगे आगे चला और जंहा बालक था, उस जगह के ऊपर पंहुचकर ठहर गया। उस तारे को देखकर वे अति आनन्दित हुए और उस घर में पहुँचकर उस बालक और उसकी माता मरियम के साथ देखा और दंडवत उसे प्रणाम किया; और अपना अपना थैला खोलकर उसे सोना और लोहबान और गन्धरस की भेंट चढ़ाई और दूसरे मार्ग से होकर अपने देश को चले गए। ऐसा विश्वास किया जाता है की उन ज्योतिषों को स्वप्न में यह चेतावनी मिली थी की हेरोद के पास दोबारा न जाना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *