Gulzar’s Shayari – Gulzar Shayari in Hindi | गुलज़ार शायरी

Gulzar's Shayari

गुलज़ार जी का वास्तविक नाम जो की ‘सम्पूर्ण सिंह कारला’ है बहुत ही कम लोग जानते होंगे | गुलज़ार जी हिंदी फिल्मों के प्रसिद्ध गीतकार रह चुके हैं और साथ ही में यह एक कवि, पटकथा लेखक, फ़िल्म निर्देशक तथा नाटककार भी रह चुके हैं | इनका जन्म 18 अगस्त 1934 में पकिस्तान में हुआ था इन्होने अपनी रचनाओं को हिंदी, उर्दू व पंजाबी में भाषाओ में लेखन किया है | इन्हे कई सारे पुरूस्कार भी मिले हुए हैं | आइये अब हम आपको गुलज़ार जी द्वारा लिखी गयी कुछ शायरियों के बारे में बताते हैं|

Gulzar ki shayari


हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते
Click To Tweet


तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं
Click To Tweet

Gulzar shayari in hindi pdf


यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता कोई एहसास तो दरिया की अना का होता
Click To Tweet


मैं चुप कराता हूँ हर शब उमडती बारिश को मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है
Click To Tweet

गुलजार शायरी हिन्दी


ये दिल भी दोस्त ज़मीं की तरह हो जाता है डाँवा-डोल कभी
Click To Tweet


ये रोटियाँ हैं ये सिक्के हैं और दाएरे हैं ये एक दूजे को दिन भर पकड़ते रहते हैं
Click To Tweet

Gulzar Best Shayari in Hindi


हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया
Click To Tweet


भरे हैं रात के रेज़े कुछ ऐसे आँखों में उजाला हो तो हम आँखें झपकते रहते हैं
Click To Tweet

Shayari in hindi on love


यादों की बौछारों से जब पलकें भीगने लगती हैं सोंधी सोंधी लगती है तब माज़ी की रुस्वाई भी
Click To Tweet


फिर वहीं लौट के जाना होगा यार ने कैसी रिहाई दी है
Click To Tweet

Shayari in english


“When you face your fear, you becomefamiliar with it and familiarity makes it lose itsmeaning, loosen its grip—fear ceases to be fear.”
Click To Tweet


“Dreams heed no borders, the eyesneed no visas With eyes shut I walk across theline in time All the time—”
Click To Tweet

Shayari in hindi images

Gulzar's Shayari1

रुके रुके से क़दम रुक के बार बार चले क़रार दे के तिरे दर से बे-क़रार चले
Click To Tweet

Shayari in hindi font


राख को भी कुरेद कर देखो अभी जलता हो कोई पल शायद
Click To Tweet


वो उम्र कम कर रहा था मेरी मैं साल अपने बढ़ा रहा था
Click To Tweet

Shayari in hindi on life


वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर आदत इस की भी आदमी सी है
Click To Tweet


सहमा सहमा डरा सा रहता है जाने क्यूँ जी भरा सा रहता है
Click To Tweet

गुलज़ार शायरी इन हिंदी पीडीएफ


शाम से आँख में नमी सी है आज फिर आप की कमी सी है
Click To Tweet


वो एक दिन एक अजनबी को मिरी कहानी सुना रहा था
Click To Tweet

गुलज़ार शायरी ग़ज़ल


रात गुज़रते शायद थोड़ा वक़्त लगे धूप उन्डेलो थोड़ी सी पैमाने में
Click To Tweet


ये शुक्र है कि मिरे पास तेरा ग़म तो रहा वगर्ना ज़िंदगी भर को रुला दिया होता
Click To Tweet

गुलज़ार शायरी इन हिंदी


ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हाक़ाफ़िला साथ और सफ़र तन्हा
Click To Tweet


मैं चुप कराता हूँ हर शब उमडती बारिश कोमगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है
Click To Tweet

ऊपर हमने आपको गुलज़ार साहब शायरी, शायरी ऑफ़ गुलज़ार, गुलज़ार लव शायरी, gulzar shayari 2 lines, गुलज़ार शायरी ों लव, गुलज़ार शायरी हिंदी, gulzar shayari book, images, in urdu, गुलज़ार की शायरी, download, quotes hindi, dil se shayari, on yaadein, in hindi 2 lines आदि की जानकारी दी है जिसे आप किसी भी भाषा जैसे Hindi, हिंदी फॉण्ट, मराठी, गुजराती, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection जिसे आप अपने friends & family whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *