Nibandh

हिन्दी दिवस निबंध 2018 – Hindi Diwas Essay in Hindi Pdf Download for Class 1-12 Pdf – Hindi Diwas par Nibandh

हिंदी दिवस 2018: जैसे की हम सभी जानते ही हैं की हिंदी दिवस हर साल 14 सितम्बर को मनाया जाता है | आजकल ज्यादातर लोग हिंदी को छोड़कर अंग्रेजी भाषा को ज्यादा महत्व देने लगे हैं | लेकिन हमे इस बात का ध्यान रखना चाहिए की हिंदी हमारी मातृभाषा है और हमे इसे महत्व देना चाहिए | आज के इस पोस्ट में हम आपको hindi diwas essay in english, hindi diwas par essay, ka nibandh आदि की जानकारी देंगे जिसे आप अपने स्कूल के स्पीच प्रतियोगिता, कार्यक्रम या निबंध प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है| ये निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है|

हिंदी दिवस पर निबंध

अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है टीचर्स डे पर निबंध लिखें| आइये अब हम आपको हिंदी दिवस का निबंध, Hindi Diwas par Kavita, h हिन्दी दिवस पर शायरी, हिंदी दिवस पर एस्से, हिन्दी दिवस पर भाषण, in hindi pdf, 14 september, आदि की जानकारी 100 words, 150 words, 200 words, 400 words, किसी भी भाषा जैसे Hindi, हिंदी फॉण्ट, मराठी, गुजराती, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं| आप सभी को Hindi Diwas ki Shubhkamnaye

भूमिका

भारत एक विशाल देश है । प्राचीनकाल से यहाँ धर्म, भाषा तथा संस्कृति में विविधता होने के बावजूद भारतवासी परस्पर मिल-जुलकर रह रहे हैं । भारत में अनेक भाषाएँ बोली जाती हैं, परन्तु वर्तमान भारतीय संविधान में 19 प्रादेशिक भाषाओं को भारतीय भाषा के रूप में मान्यता मिली है ।

इन भाषाओं में हिन्दी भारतवर्ष में सबसे अधिक बोली जाने वाली भारतीय भाषा है । भारत स्वतंत्र होने के पश्चात् सन् 1949 में, 14 सितम्बर के दिन भारतीय संविधान में देवनागरी लिपि में लिखित हिन्दी को भारत की राजभाषा के रूप में स्वीकृति मिली है । इसी उपलक्ष्य में हर साल 14 सितम्बर के दिन हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है ।

कारण

पूरे भारतवर्ष में हिन्दी सर्वाधिक बोली जाती है । इसे देश की 80 प्रतिशत जनता समझ सकती है अथवा अपने विचार को प्रकट कर सकती है । हिन्दी भाषा सहज सरल है । इसे संस्कृत की भगनी भी कहते हैं । हिन्दी भाषा में अनेक प्रादेशिक भाषाओं का भी अधिकाधिक शब्दों का प्रयोग होता है । उर्दू असमीया, बला, पंजाबी, गुजराती, उड़िया, राजस्थानी आदि कई भाषाओं के शब्द मिलते हैं, जिससे सभी भारतवासी के लिए सहज एवं सुबोध भाषा के रूप में हिन्दी प्रतीत होती है ।

भारत जब अंग्रेजों के अधीन था, तब भी महामानव महात्मा गाँधी जैसे महान नेताओं ने देश की अपनी एक राष्ट्रभाषा होने की जरूरत को बड़ी गहनता से महसूस किया था । उन्होंने आजादी के साथ-साथ राष्ट्रभाषा हिन्दी के प्रचार व प्रसार पर भी बल देते थे । उन्होंने कहा है- ”राष्ट्रभाषा के बिना राष्ट्र दूंगा होता है ।”

प्रत्येक राष्ट्र की अपनी राष्ट्रभाषा होती है । राष्ट्रभाषा के जरिए राष्ट्र की एकता, सौहार्द, भाइचारे जैसे नागरिक-कर्तव्यों का विकास होता है । इन सभी बातों पर ध्यान देते हुए भारतीय संविधान सभा ने हिन्दी भाषा को देश की राजभाषा के रूप में सांविधानिक मर्यादा प्रदान की है ।

आयोजन

हिन्दी दिवस बड़े धूमधाम से मनाया जाता है । हिन्दी दिवस, हिन्दी सप्ताह, हिन्दी पखवाड़ा आदि कई रूपों में इस कार्यक्रम को मनाने का सिलसिला जारी है । खासकर केंद्रीय सरकार के अधीनस्थ सभी कार्यालयों, उपक्रमों, निगमों, संस्थानों में यह दिवस खूब उत्साहपूर्वक मनाए जाते हैं ।

बैंक, रेल, तेल कम्पनी, सरकारी दफ्तरें तथा संस्थानों में हिन्दी दिवस के अवसर पर बड़े-बड़े पोस्टर लगाए जाते हैं । विभिन्न प्रतियोगिता, भाषण आदि कार्यक्रमों में बड़े-बड़े महानुभावों को बुलाए जाते हैं तथा हिन्दी में काम करने वाले कर्मचारियों को पुरस्कार भी दिया जाता है । सरकारी तथा गैर सरकारी सभी क्षेत्रों में हिन्दी को बढ़ावा देने हेतु पूरे सितम्बर महीने तक अनेक कार्यक्रमों द्वारा इस गौरवपूर्ण उपलब्धि को स्मरण किया जाता है ।

उपसंहार

स्वतंत्र भारत की हिन्दी राजभाषा है । महात्मा गाँधी, डॉ.राजेंद्र प्रसाद, काकासाहब कालेलकर जैसे महान व्यक्तियों के अथक परिश्रम के बाद ही वर्तमान हिन्दी को यह सम्मान मिला है । आजकल हिन्दी दिवस केवल दिखाने के लिए आयोजित किए जाते हैं, संविधान में जिस परम उद्‌देश्य से इस भाषा को मर्यादित किया गया है, वह उद्‌देश्य वर्तमान प्राप्त नहीं हो सका । अत: सरकारी, गैर सरकारी कार्यालयों में हिन्दी भाषा में सभी कामकाज करने से ही हिन्दी दिवस प्रायोगिक रूप में सफल सिद्ध होगा ।

हिन्दी दिवस निबंध

हिन्दी दिवस पर निबंध – 250 words

प्रस्तावना

हिन्दी दिवस भारत में हर वर्ष ’14 सितंबर’ को मनाया जाता है। हिन्दी विश्व में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाओं में से एक है। विश्व की प्राचीन, समृद्ध और सरल भाषा होने के साथ-साथ हिन्दी हमारी ‘राष्ट्रभाषा’ भी है। वह दुनियाभर में हमें सम्मान भी दिलाती है। यह भाषा है हमारे सम्मान, स्वाभिमान और गर्व की। हिन्दी ने हमें विश्व में एक नई पहचान दिलाई है। हम आपको बता दें कि हिन्दी भाषा विश्व में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली तीसरी भाषा है।

इतिहास

भारत की स्वतंत्रता के बाद 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एकमत से यह निर्णय लिया कि हिन्दी की खड़ी बोली ही भारत की राजभाषा होगी। इसी महत्वपूर्ण निर्णय के महत्व को प्रतिपादित करने तथा हिन्दी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिए राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर सन् 1953 से संपूर्ण भारत में प्रतिवर्ष 14 सितंबर को ‘हिन्दी दिवस’ के रूप में मनाया जाएगा।

वर्तमान दृष्टि से हिन्दी का महत्व

धीरे-धीरे हिन्दी भाषा का प्रचलन बढ़ा और इस भाषा ने राष्ट्रभाषा का रूप ले लिया। अब हमारी राष्ट्रभाषा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी बहुत पसंद की जाती है। इसका एक कारण यह है कि हमारी भाषा हमारे देश की संस्कृति और संस्कारों का प्रतिबिंब है। आज विश्व के कोने-कोने से विद्यार्थी हमारी भाषा और संस्कृति को जानने के लिए हमारे देश का रुख कर रहे हैं। एक हिन्दुस्तानी को कम से कम अपनी भाषा यानी हिन्दी तो आनी ही चाहिए, साथ ही हमें हिन्दी का सम्मान भी करना सीखना होगा।

कब और क्यों मनाया जाता है

हिन्दी दिवस भारत में हर वर्ष ’14 सितंबर’ को मनाया जाता है। हिन्दी हिन्दुस्तान की भाषा है। राष्ट्रभाषा किसी भी देश की पहचान और गौरव होती है। हिन्दी हिन्दुस्तान को बांधती है। इसके प्रति अपना प्रेम और सम्मान प्रकट करना हमारा राष्ट्रीय कर्तव्य है। इसी कर्तव्य हेतु हम 14 सितंबर के दिन को ‘हिन्दी दिवस’ के रूप में मनाते हैं। कश्मीर से कन्याकुमारी तक, साक्षर से निरक्षर तक प्रत्येक वर्ग का व्यक्ति हिन्दी भाषा को आसानी से बोल-समझ लेता है। यही इस भाषा की पहचान भी है कि इसे बोलने और समझने में किसी को कोई परेशानी नहीं होती।

पहले के समय में अंग्रेजी का ज्यादा चलन नहीं हुआ करता था, तब यही भाषा भारतवासियों या भारत से बाहर रह रहे हर वर्ग के लिए सम्माननीय होती थी। लेकिन बदलते युग के साथ अंग्रेजी ने भारत की जमीं पर अपने पांव गड़ा लिए हैं। जिस वजह से आज हमारी राष्ट्रभाषा को हमें एक दिन के नाम से मनाना पड़ रहा है। पहले जहां स्कूलों में अंग्रेजी का माध्यम ज्यादा नहीं होता था, आज उनकी मांग बढ़ने के कारण देश के बड़े-बड़े स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे हिन्दी में पिछड़ रहे हैं। इतना ही नहीं, उन्हें ठीक से हिन्दी लिखनी और बोलना भी नहीं आती है। भार‍त में रहकर हिन्दी को महत्व न देना भी हमारी बहुत बड़ी भूल है।

अंग्रेजी बाजार में पिछड़ती हिन्दी

आजकल अंग्रेजी बाजार के चलते दुनियाभर में हिन्दी जानने और बोलने वाले को बाजार में अनपढ़ या एक गंवार के रूप में देखा जाता है या यह कह सकते हैं कि हिन्दी बोलने वालों को लोग तुच्छ नजरिए से देखते हैं। यह कतई सही नहीं है। हम हमारे ही देश में अंग्रेजी के गुलाम बन बैठे हैं और हम ही अपनी हिन्दी भाषा को वह मान-सम्मान नहीं दे पा रहे हैं, जो भारत और देश की भाषा के प्रति हर देशवासियों के नजर में होना चाहिए। हम या आप जब भी किसी बड़े होटल या बिजनेस क्लास के लोगों के बीच खड़े होकर गर्व से अपनी मातृभाषा का प्रयोग कर रहे होते हैं तो उनके दिमाग में आपकी छवि एक गंवार की बनती है। घर पर बच्चा अतिथियों को अंग्रेजी में कविता आदि सुना दे तो माता-पिता गर्व महसूस करने लगते हैं। इन्हीं कारणों से लोग हिन्दी बोलने से घबराते हैं।

उपसंहार

आज हर माता-पिता अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा के लिए अच्छे स्कूल में प्रवेश दिलाते हैं। इन स्कूलों में विदेशी भाषाओं पर तो बहुत ध्यान दिया जाता है लेकिन हिन्दी की तरफ कोई खास ध्यान नहीं दिया जाता। लोगों को लगता है कि रोजगार के लिए इसमें कोई खास मौके नहीं मिलते। हिन्दी दिवस मनाने का अर्थ है गुम हो रही हिन्दी को बचाने के लिए एक प्रयास। कोई भी व्यक्ति अगर हिन्दी के अलावा अन्य भाषा में पारंगत है तो उसे दुनिया में ज्यादा ऊंचाई पर चढ़ने की बुलंदियां नजर आने लगती हैं चाहे वह कोई भी विदेशी भाषा हो, फ्रेंच या जर्मन या अन्य।

विश्व हिंदी दिवस पर निबंध – 1000 words

भूमिका : हमारा भारत पश्चिमी रीती-रिवाजों से बहुत प्रभावित है। भारतीय लोग वहां के लोगों की तरह पोशाक पहनते हैं। भरतीय वहां की जीवन शैली का पालन करते हैं , उनकी ही भाषा को बोलना चाहते हैं और हर एक चीज में उनके जैसा बनना चाहते हैं। वे इस बात को समझना ही नहीं चाहते हैं कि भारतीय संस्कृतिक विरासत और मूल्य पश्चिमी संस्कृति की तुलना में अधिक समृद्ध है।

1949 में भारत की संविधान सभा ने हिंदी भाषा की देश की आधिकारिक भाषा के रूप में अपनाया था। भारत के संविधान ने देवनागरी लिपि में लिखी हुई हिंदी भाषा को 1950 में अनुच्छेद 343 के तहत देश की आधिकारिक भाषा के रूप में अपनाया था। इसके साथ-साथ भारत सरकार के स्तर पर अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाओँ का औपचारिक रूप से प्रयोग किया जाने लगा।

साल 1949 में 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा था। हिंदी भाषा का सम्मान करना हर भारतीय का कर्तव्य होता है। हिंदी दिवस भारत में हिंदी का विकास करने के लिए बहुत बड़े पैमाने पर मनाया जाता है। भारत एक ऐसा देश है जहाँ पर बहुत अधिक संस्कृतियाँ पाई जाती हैं।

इन संस्कृतिक भिन्नता की वजह से कई तरह की भाषाएँ भी सम्मिलित होती है। इतनी भाषाओँ के होने की वजह से यहाँ के औपचारिक कार्यों में यह तय कर पाना कठिन हो जाता है कि किस भाषा में सभी औपचारिक कार्य किये जाएँ। इसी वजह से हिंदी को एक मुख्य भाषा के रूप में स्थापित करने की कोशिश की गई है।

इतिहास : हमारा देश कई विधाओं का मिश्रण हैं। उनमें कई भाषाओँ का समावेश है। भारत देश की इन सभी भाषाओँ में हिंदी को देश की मातृभाषा का दर्जा दिया गया है। आज हिंदी दुनिया में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषाओँ में से एक है। हिंदी भाषा का सम्मान देने के लिए हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस और राष्ट्रिय एकता दिवस मनाया जाता है।

हिंदी भाषा को 14 सितम्बर 1949 के दिन आजादी के बाद देश की मातृभाषा का गौरव प्राप्त हुआ था। उसी दिन को याद करने में 1953 में निर्णय लिया गया , जिसके फलस्वरूप हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा था।

14 सितम्बर को स्वदेश में हिंदी दिवस को मनाया जाता है विश्व स्तर पर भी इस खास दिवस को मनाया जाता है। सबसे पहले 10 जनवरी 1975 को नागपुर महाराष्ट्र में विश्व हिंदी दिवस मनाया गया था। उसके बाद 10 जनवरी 2006 को विश्व हिंदी दिवस के रूप में मनाये जाने का ऐलान किया गया था।

हिंदी दिवस का महत्व : हिंदी दिवस हर साल हमें हमारी असली पहचान को याद दिलाता है और देश के सभी लोगों को एक जुट करता है। हम जहाँ भी जाते हैं हमारी भाषा , संस्कृति और मूल्य हमारे साथ रहने चाहिए और यह अनुश्मार्क के रूप में काम करता है। हिंदी दिवस हमें देशभक्ति की भावना के लिए प्रेरित करता है।

आज के समय में लोग हिंदी से ज्यादा अंग्रेजी सीखना पसंद करते हैं क्योंकि अंग्रेजी को पूरी दुनिया में बोला जाता है। अंग्रेजी भी भारत की अधिकारिक भाषाओँ में से एक है। हिंदी दिवस का यह बहुत अधिक महत्व है कि यह हमें हमेशा यह याद दिलाता रहता है कि हिंदी हमारी अधिकारिक भाषा है और यह बहुत अधिक महत्व रखती है।

हिंदी दिवस उत्सव : हिंदी दिवस को स्कूलों , कॉलेजों , और कार्यालयों के साथ-साथ राष्ट्रिय स्तर पर भी मनाया जाता है। इस दिवस पर देश के राष्ट्रपति उन लोगों को पुरस्कार देते हैं जिन्होंने हिंदी भाषा के किसी भी क्षेत्र में उत्कृष्टता प्राप्त की है। स्कूलों व कॉलेजों में प्रबन्धन समिति के द्वारा हिंदी वाद-विवाद , कविता , कहानी बोलने की प्रतियोगिताएं भी रखी जाती हैं।

संस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है और शिक्षक भी हिंदी दिवस के महत्व को समझाने के लिए भाषण देते हैं। बहुत से स्कूल और इंटर स्कूल भी हिंदी वाद-विवाद , हिंदी निबन्ध , कानी लेखन और कविता प्रतियोगिताएं का आयोजन करते हैं। यह दिन हिंदी भाषा को सम्मान देने का होता है जो नई पीढ़ी में लुप्त होता जा रहा है।

हिंदी दिवस को कई कार्यालयों और सरकारी संस्थानों में भी मनाया जाता है। आज के समय में लोग भारतीय संस्कृति को आनन्दित करने के लिए भारतीय जातीय परिधान को पहनते हैं। हिंदी दिवस पर महिलाएं सूट और साड़ियाँ पहनती हैं तो पुरुष कुर्ता पजामा पहनते हैं।

हिंदी दिवस के दिन संस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं और लोग भी उनमे बहुत ही उत्साह के साथ भाग लेते हैं। इस दिन बहुत से लोग हिंदी कविता पढ़ते हैं र हिंदी के महत्व के बारे में भी समझाते हैं।

सबसे अधिक बुलने वाली भाषा : हिंदी भाषा भारत में सबसे व्यापक रूप से प्रयोग की जाने वाली भाषा है। हालाँकि लोग अंग्रेजी भाषा के प्रति आकर्षित होते हैं बहुत से स्कूलों और अन्य जगहों पर इस पर जोर दिया जाता है लेकिन फिर भी हिंदी भाषा हमारे देश में सबसे व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषा के रूप में बनी हुई है।

जब वर्ष 2001 में जनगणना का आयोजन किया गया था तब 422 लाख से भी ज्यादा लोगों ने हिंदी का अपनी मातृभाषा के रूप में उल्लेख किया था। देश में किसी भी अन्य भाषा का कुल आबादी का 10% से अधिक उपयोग नहीं किया जाता है। उत्तर भारत की अधिकांश आबादी हिंदी बोलने वाली है।

उत्तर प्रदेश , मध्य प्रदेश , बिहार , झारखंड , छत्तीसगढ़ , हरियाणा , राजस्थान , उत्तराखंड , और झारखण्ड सहित कई भारतीय राज्यों में हिंदी भाषा को अधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार कर लिया गया है। बिहार देश का पहला राज्य था जिसने अपनी एकमात्र अधिकारिक भाषा के रूप में हिंदी को अपनाया था। बंगाली , तेलुगु और मराठी देश की एनी व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषा है।

संसार में व्यापक रूप से बोली जाने वाली चौथी भाषा : हिंदी भाषा दुनिया की चौथी व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषा है। हिंदी भारत में ज्यादातर जनसंख्या हिंदी बोलने वाली है। अन्य देश जहाँ पर व्यापक रूप से हिंदी बोली जाती है वे देश हैं – पाकिस्तान , नेपाल , मॉरिशस , फिजी , गुयाना और सूरीनाम आदि। पूरी दुनिया भर में लोग हिंदी गीतों और फिल्मों को बहुत पसंद करते है। जो स्पष्ट रूप से हिंदी भाषा के प्रति प्रेम को परिभाषित करता है।

हिंदी को प्राथमिकता न मिलना : दुर्भाग्य से भले ही हिंदी भाषा चौथी व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषा है लेकिन इसके मूल देश में ही लोग इसे कुछ महत्व नहीं देते हैं। स्कूल से लेकर कॉलेज , कार्यलयों तक सभी जगह अंग्रेजी को ही प्राथमिकता दी जाती है और हिंदी को अंग्रेजी से पिछाड दिया जाता है। आज के समय में माता-पिता , शिक्षकों और हर व्यक्ति द्वारा लिखित और मौखिक दोनों रूप से ही अंग्रेजी भाषा को सीखने के महत्व पर जोर दिया जाना मानो एक आम बात हो गयी है क्योंकि इससे रोजगार प्राप्त करने में बहुत मदद मिलती है।

यह देखकर बहुत दुःख होता है कि नौकरियों और पाठ्यक्रमों के लिए भी लोगों को स्मार्ट होने की जरूरत पडती है क्योंकि नौकरी पर रखने वाले अधिकारी भी उन्हें अग्रेजी के संबंधित ज्ञान के आधार पर ही चुनाव करते हैं। बहुत से लोग सिर्फ इस वजह से काम करने के मौके को छोड़ देते हैं क्योंकि वे अंग्रेजी को धाराप्रवाह नहीं बोल पते हैं भले ही वे काम के बारे में पूरी तरह से जानते हों।

महत्व और प्रतिष्ठा से संबंधित घटनाएँ : बहुत से स्कूल और अन्य संस्थान हर वर्ष हिंदी दिवस मानते हैं। यहाँ पर इस दिन के सम्मान में विशेष समारोहों का आयोजन भी किया जाता है। भारत के पर्व पर राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने हिंदी से संबंधित बहुत से क्षेत्रों में उत्कृष्टता के लिए बहुत से श्रेणियों में पुरस्कार भी प्रदान किये हैं।

हिंदी दिवस के सम्मान में भी विज्ञानं भवन नई दिल्ली में एक समारोह भी आयोजित किया गया था। हिंदी दिवस पर विभागों , मंत्रालयों , राष्ट्रीयकृत बैंकों और सार्वजनिक उपक्रमों को राजभाषा पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है।

भोपाल में आयोजित होने वाले एक विश्व हिंदी सम्मेलन में भी प्रधामंत्री जी ने कहा कि अंग्रेजी , हिंदी और चीनी डिजिटल दुनिया पर शासन करने जा रहे हैं ताकि भाषा के महत्व पर जोर दिया जा सके। हमारे केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने भी संयुक्त राष्ट्र में हिंदी के लिए अधिकारिक भाषा का दर्जा लेने का भी मुद्दा उठाया था।

हिंदी का योगदान : भारत देश में हिंदी को अधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकृत करने का कदम स्वागत योग्य है हालाँकि हर साल हिंदी दिवस को मनाने का फैसला वाकई काबिले तारीफ है। हिंदी दिवस एक अनुस्मारक है कि जहाँ भी जाएँ हमें अपने आदर्शों और संस्कृति को नहीं भूलना चाहिए। यही हमें परिभाषित करता है और हमें इसका अंड उठाना चाहिए।

यह दिन विभिन्न सरकारी संस्थानों में उत्साह से मनाया जाता है। बहुत से भारतीयों की कोशिशों की वजह से हिंदी के प्रचार-प्रसार बड़ी तेजी से हो रहा है। पूरी दुनिया में अपने मेहनत और बुद्धिमानी से भारतियों ने उन्नति का मगर खोला है उसे सभी देश ये मानने लगे हैं भारतियों से संबंध अच्छे बनाने के लिए हिंदी एक बेहतरीन माध्यम है।

आज के समय में करोड़ों लोग हिंदी भाषा में कंप्यूटर का प्रयोग कर रहे हैं जी हिंदी के वर्चस्व के लिए एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। आज का दौर डिजिटलाईजेशन का है जिसमें भारत के गांवों को भी इससे जोड़ा जा रहा है इंटरनेट को हर कोने तक पहुंचने की पूरी कोशिश की जा रही है। इन सब के लिए हिंदी माध्यम का जरिया पूरी तरह बन गया सके इसके प्रयास लगतार जारी हैं। इन कदमों को उठाने में काफी सफलता भी हासिल हुई है।

हिंदी दिवस मनाने का कारण : हिंदी दिवस को मनाना आज के समय में बहुत अनिवार्य हो गया है। आज के समय में लोग सिर्फ अंग्रेजी पर ही ध्यान दिया जाता है। लोगों के बीच सिर्फ उन्हीं लोगों को पढ़ा लिखा माना जाता है जो लोग अंग्रेजी बोल पाते हैं और लिख पाते हैं।

कई जगहों पर तो हिंदी बोलने वाले व्यक्तियों के स्टेट्स पर बहुत फर्क पड़ने लगता है। किसी भी भाषा के साथ उसकी संस्कृति जुडी होती है। हमारे भारत की संस्कृति का इतिहास बहुत ही गौरवशाली रहा है। जो भी भारतीय इस सांस्कृतिक इतिहास को पूर्ण रूप से नहीं अपनाता है वह भी पूर्ण रूप से भारतीय नहीं होता है।

अत: हमें अपनी संस्कृति को समझने के लिए हिंदी को जानना बहुत जरूरी होता है। देश के लोगों को आज तक अंग्रेजी भाषा के ज्ञान को पूर्ण रूप से प्राप्त नहीं किया है। कई बार लोग अंग्रेजी भाषा को बोलते समय हिंदी का सहारा लेते हैं। अगर किसी व्यक्ति को हिंदी अच्छी तरह से आती है तो वह किसी भी स्थान पर हिंदी का प्रतिष्ठित रूप से प्रयोग कर सकता है।

हिंदी में ऐसी बहुत सी रचनाएँ हुयी हैं जिन्हें पढकर और उन पर अम्ल करके व्यक्ति के जीवन को बदला जा सकता है। इस तरह की रचनाओं को पढने और समझने के लिए हिंदी को सीखना बहुत जरूरी होता है। हिंदी भाषा से राष्ट्र की एकता और अखंडता को बनाए रखा जा सकता है।

हिंदी दिवस उस दिन को याद करने के लिए मनाया जाता है जिस दिन हिंदी भाषा हमारे देश की अधिकारिक भाषा बनी थी। हिंदी दिवस को जो अंग्रेजी भाषा से प्रभावित हैं उनके बीच हिंदी भाषा के महत्व पर जोर देने और हर पीढ़ी के बीच में इसको बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है।

इससे युवाओं को अपने पूर्वजों के इतिहास को याद दिलाया जा सकता है। इस बात से किसी भी तरह का कोई फर्क नहीं पड़ता है कि हम कहाँ तक पहुंच गये हैं और हम क्या करते हैं। अगर हम अपने देश के इतिहास को जान लेंगे तो हम देश की पकड़ को मजबूत बना सकते हैं। हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस मनाने से भारतीय संस्कृति को संजोया जा सकता है और हिंदी भाषा का सम्मान भी किया जा सकता है।

उपसंहार : अंग्रेजी एक दुनिया भर में बोली जाने वाली भाषा है लेकिन इसके महत्व को अनदेखा नहीं किया जा सकता है। हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि हम एक भारतीय हैं और हमें अपनी राष्ट्र भाषा का सम्मान करना चाहिए। हिंदी भाषा को अधिकारिक भाषा के रूप में अपनाने से यह सिद्ध होता है कि जो लोग सत्ता में रहते हैं वो सभी हिंदी के महत्व को पहचानते हैं और यह इच्छा करते हैं कि लोग हिंदी भाषा को भी महत्व दें।

हिंदी दिवस हमारे सांस्कृतिक जड़ों को फिर से देखने और अपनी समृद्धता का जश्न मनाने का दिन होता है। हिंदी हमारी मातृभाषा है और हमें उसका आदर करना चाहिए और उसका मूल्य समझना चाहिए। हिंदी दिवस को बहुत से स्थानों पर बहुत ही उत्साह के साथ मनाया जाता है। यही समय है जब लोगों को हिंदी दिवस के महत्व को समझना चाहिए क्योंकि हिंदी हमारी राष्ट्र भाषा और हमारी संस्कृतिक आधा को याद करने का दिन है।

Hindi diwas nibandh

Latest 14 September Article In Hindi: हमारा देश हर वर्ष 14 सितम्बर को हिंदी दिवस मनाता हैं. हिंदी हमारे देश की राष्ट्र भाषा हैं. 14 सितम्बर सन 1949 को भारतीय सविंधान सभा ने एक फैसला लिया कि हिंदी भारत की राष्ट्र भाषा होगी, इसी ऐतिहासिक फैसले को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिये भारत की राष्ट्र भाषा प्रचार समिति ने 1953 से हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस मनाने का फैसला किया जो कि भारत में हर राज्य और हर वर्ग तक हिंदी भाषा के प्रचार और प्रसार के लिये इस दिन को चुना गया.

हिंदी दिवस के पीछे इतिहास :

भारत के राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी ने सन 1918 को हिंदी साहित्य सम्मलेन में हिंदी भाषा को राष्ट्र भाषा बनाने को कहा था गाँधी ने हिंदी के विकास और बुनियादी ढांचे को पुरे देश में प्रयोग में लाने को कहा था.

वर्ष 1949 में हिंदी :

आजादी के बाद भारत में 14 सितम्बर को काफी विचार-विमर्श के बाद यह फैसला लिया गया भारतीय सविंधान ने भी अपने 17 के lesson की धारा 343 (1) में कुछ लेख मिलते हैं. जिसमे यह कहा गया हैं ”’ संघ की राज भाषा हिंदी और लिपि देवनागरी होगी संघ के राजकीय प्रयोजनों के लिये प्रयोग में होने वाले अंक का रूप अन्तराष्ट्रीय होगा ”’. क्योंकि यह फैसला 14 सितम्बर को ही लिया गया था.

इस दिन हिंदी को पुरे देश में राष्ट्र भाषा के रूप में चुना गया. देश के राष्ट्र भाषा बनने पर गैर हिंदी राज्य के लोगो ने अपना गुस्सा भी दिखाया था और हिंदी भाषा में भी अंग्रेजी भाषा का प्रभाव पड़ने लगा.

वर्ष 1991 में हिन्दी:

भारत एक कृषि प्रधान देश है यह सबको मालूम होगा, भारत में कृषि का अंशदान 20% ही रह गया हैं और इसका असर भारत की राष्ट्र भाषा में पड़ने लगा हैं. भारत में अंग्रेजी के अलावा दुसरे भाषा की पढाई कई लोगो को मुश्किल लगती है. आज भारत में कई ऐसे राज्य हैं जहाँ हिंदी ना के बराबर बोली जाती हैं. आज भी भारत के हर राज्य अपनी राज्य की भाषा को जायदा महत्व देते हैं जैसे- गुजरात में गुजराती, महाराष्ट्र में मराठी, पंजाब में भाषा पंजाबी, नागालैंड में फुल english, सिक्किम में अपनी भाषा बोलते है.

आज भी भारत में हिंदी राज्य बहुत ही कम हैं जहाँ हिंदी को बढ़ावा दिया जाता हैं जैसे – हिंदी राज्य मध्य प्रदेश, दिल्ली, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश आदि कुछ गिने चुने राज्य ही हिंदी भाषा राज्य हैं. देश के अन्य राज्यों में हिंदी ना के बराबर बोली जाती हैं जिसका मतलब है हिंदी भाषा खतरे हैं और हिंदी का मजाक उड़ाया जाता हैं.

भारत के आज की नव पीढ़ी थोड़ा अंग्रेजी और हिंदी या फिर कुछ लोकल भाषा के साथ मिलकर बोलते हैं. जिससे हिंदी की पहचान कम होती नजर आ रही हैं ये तो रहा समाज का हाल अब बात करे हमारे देश के नेताओं की तो वो देश की संसद और शपथ ग्रहण में भी हिंदी को ना के बराबर बोलते हैं या तो अंग्रेजी या फिर अपनी क्षेत्रीय भाषाओं में बोलते हैं जो कि हिंदी का एक अपमान हैं.

हिंदी भाषा के लिए कार्यक्रम :

भारत में हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में कार्यक्रम होते हैं. इस दिन स्कूल सरकारी प्रतिष्ठान और अन्य जगहों पर हिंदी दिवस के रूप में कार्यक्रम होते हैं. स्कूल और कॉलेजों में निबंध लेखन, वाद – विवाद और हिंदी विचार-विमर्श किया जाता हैं. इस दिन पूरा देश हिंदी के रूप में रंगा होता हैं. सरकार इस दिन पुरस्कार का भी सम्मान रखती हैं, सरकार ऐसे व्यक्ति को यह पुरस्कार देती है जिसने जन-जन तक हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिये अपना बहुमूल्य और कीमती समय देश की राष्ट्र भाषा के लिये लगा दी हो.

सरकार इस दिन 1 लाख रुपये का चैक और कुछ प्रतीक भी देती हैं लेकिन 14 सितम्बर को तो हिंदी – हिंदी होती है और अगले ही दिन हिंदी को भूल जाते हैं इसके लिये सरकार ने कई कार्यक्रम निकाले हैं जैसे- हिंदी सप्ताह राजभाषा जिसमे यह कहा गया हैं कि साल के एक हफ्ते हम हिंदी भाषा के ऊपर देंगे और हिंदी को मजबूत बनाने में अपना वचन का पालन करेंगे.

हिन्दी भाषा की स्थिति :

हिंदी भाषा पुरे विश्व में सबसे ज्यादा बोलने में चौथे नम्बर पर आती हैं लेकिन उसे अच्छी तरह से समझना, पढ़ना तथा लिखना यह बहुत कम संख्यां में लोग जानते है. आज के समय में हिंदी भाषा के ऊपर अंगेर्जी भाषा के शब्दों का ज्यादा असर पड़ा हैं. आज के समय में अंग्रेजी भाषा ने अपनी जड़े ज्यादा घेर ली हैं जिससे हिंदी भाषा के भविष्य में खो जाने की चिंतायें बढ़ गयी हैं.

जो लोग इस हिंदी भाषा में ज्ञान रखते हैं उन्हें हिंदी के प्रति अपने जिम्मेदारी का बोध करवाने के लिये इस दिन को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता हैं जिससे वे सभी अपने कर्तव्यों का सही पालन करके हिंदी भाषा के गिरते हुए स्तर को बचा सकें. लेकिन समाज और सरकार इसके प्रति उदासीन दिखती हैं हिन्दी भाषा को आज भी संयुक्त राष्ट्र संघ की भाषा भी नहीं बनाया जा सका हैं.

हालात ऐसे आ गए हैं कि हिंदी भाषा को हिंदी दिवस के मौके पर सोशल मीडिया पर आज भी ” हिंदी में बोलो “ करके शब्दों का प्रयोग करना पड़ रहा हैं. कुछ पत्रकारों ने मीडिया से कहा हैं कि कम से कम हिंदी दिवस के मौके पर तो हिंदी में बात-चीत करे जिससे हिंदी राष्ट्र भाषा को कुछ सम्मान मिल सकें.

हिंदी दिवस मनाने का उद्देश्य :

अगर हिंदी का विकास करना हैं तो लोगो को दूसरी भाषाओं को छोड़ कर अपनी देश की जन्म भाषा को स्वीकार करना पढ़ेगा इस दिन सभी सरकारी और गैर सरकारी कार्यालय में अंग्रेजी के बदले हिंदी भाषा को उपयोग करने की सलाह दी जाती हैं. जो हर साल हिंदी में अच्छे कार्य और अच्छी तरह से इसका प्रयोग करता है तथा लोगो तक हिंदी भाषा का प्रचार और प्रसार करता हैं तो उसे पुरस्कार से भी सम्मानित किया जाता हैं.

आज भी हमारे समाज में कई लोग हिंदी के बदले विदेशी भाषाओं को ज्यादा तबज्जो देते हैं और इससे हिंदी भाषा खतरे के निशान के ऊपर जाता नजर आ रहा हैं. यहाँ तक की उत्तर प्रदेश के वाराणसी में हिंदी भाषा की संस्था में भी हिंदी भाषा खतरे में हैं. इस 14 सितम्बर को सबसे मेरा निवेदन हैं कि अपनी सभी कार्यो और बोलचाल में हिंदी का ज्यादा प्रयोग करे और दूसरो को भी हिंदी का ज्ञान बताएं.

आज कल संचार का युग हैं इसमें सोशल मीडिया जैसे – Facebook, Whatsaapsaap, Twitter और अन्य मीडिया में हिंदी के कई विकल्प रखे गए हैं और साथ ही हिंदी के भंडार भरे पड़े हैं. इसमें भी हिंदी भाषा के शब्दकोश के बारे में जानकारियाँ दी जाती हैं. सभी को एकजुट होकर हिंदी के विकास को एक नये सिरे से शिखर तक ले जाना होगा हिंदी भाषा के खोते और गिरते हुए स्तर को जिन्दा रखने में ये एक आखिरी हथियार हैं जिससे देश की राष्ट्र भाषा को कुछ सम्मान मिल सकें.

हिंदी के लेखको और हिंदी के जानकारों का कहना है कि अब हिंदी दिवस एक सरकारी कार्य की तरह रह गया हैं साल में एक दिन के सरकार को हिंदी की याद आती हैं. एक दिन के दिवस से हिंदी भाषा का कोई विकास नहीं हो सकता हैं. हमारे समाज में कई ऐसे अंग्रेज लोग भी है जो हिंदी दिवस में मौके पर लोगो का स्वागत अंग्रेजी में बोलकर करते हैं जो हिंदी का एक अपमान हैं.

सरकार लोगो को यह दिखा रही हैं की हम हिंदी के प्रति कार्य कर रहे हैं लेकिन कई बार देखा गया हैं कि सरकारी अफसर भी हिंदी दिवस के मौके पर अंग्रेजी और अन्य भाषाओं में अपने कार्य करते हुए पकड़े गए हैं.

पढ़े : हिंदी दिवस पर 21 बेस्ट नारे !

दोस्तों ! हिंदी हमारे देश की राष्ट्र भाषा हैं जिसपर हमें गर्व होना चाहिए की हम हिंदी भाषी हैं. हमें देश की राष्ट्र भाषा का सम्मान करना चाहिए. हमारे देश में सभी धर्मों के लोग रहते है उनके खान-पान, रहन-सहन और वेश-भूषा अलग-अलग हैं पर एक हिंदी ही हैं जो सभी धर्मों के लोगो को एकता में जोड़ती हैं. हिंदी भाषा हमारे देश की धरोहर हैं जिस तरह हम अपने तिरंगे को सम्मान देते हैं उसी प्रकार अपने देश की राष्ट्र भाषा को भी सम्मान देना चाहिए.

देश के लेखको ने हिंदी के ऊपर कई गीत और रचनाएँ लिखी है जिसमे एक हैं ””’ हिंदी हैं हम वतन हैं हिन्दोस्तान हमारा ””’ ये शब्द देश की शान में लिखे गए हैं और हमें गर्व महसूस कराते हैं. अपने अन्दर और दिलो दिमाग में यह सोच होनी चाहिए की ”’ पहले अपना देश आता हैं बाद में दूसरा देश आता हैं ”’ —- जय हिन्द जय भारत.

हिंदी दिवस का महत्व पर निबंध

भारत में, ‘राष्ट्रीय हिंदी दिवस’ प्रति वर्ष 14 सितंबर को मनाया जाता है। 14 सितंबर 1949 को हिंदी को भारत की राजभाषा के रूप में अपनाया गया था। तब से हर साल 14 सितंबर को भारत में और विदेशों में स्थित सभी केन्द्रीय सरकारी कार्यालयों में हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

हिंदी भारत की आधिकारिक भाषा है। हिंदी भाषा सभी भारतीयों के बीच सौहार्द्र और एकता की भावना को जागृत करती है। भारतीय संविधान के अंतर्गत अनुच्छेद 343 के अनुसार हिंदी को भारतीय संघ की राजभाषा का दर्जा प्रदान किया गया है। हिंदी दिवस के दिन हिन्दी को बढ़ावा देने के लिए कई कार्यक्रम देश भर में आयोजित किए जाते हैं।

चौदह सितंबर समय आ गया है एक और हिंदी दिवस मनाने का आज हिंदी के नाम पर कई सारे पाखंड होंगे जैसे कि कई सारे सरकारी आयोजन हिंदी में काम को बढ़ावा देने वाली घोषणाएँ विभिन्न तरह के सम्मेलन इत्यादि इत्यादि। हिंदी की दुर्दशा पर घड़ियाली आँसू बहाए जाएँगे, हिंदी में काम करने की झूठी शपथें ली जाएँगी और पता नहीं क्या-क्या होगा। अगले दिन लोग सब कुछ भूल कर लोग अपने-अपने काम में लग जाएँगे और हिंदी वहीं की वहीं सिसकती झुठलाई व ठुकराई हुई रह जाएगी।

ये सिलसिला आज़ादी के बाद से निरंतर चलता चला आ रहा है और भविष्य में भी चलने की पूरी पूरी संभावना है। कुछ हमारे जैसे लोग हिंदी की दुर्दशा पर हमेशा रोते रहते हैं और लोगों से, दोस्तों से मन ही मन गाली खाते हैं क्यों कि हम पढ़े-लिखे व सम्मानित क्षेत्रों में कार्यरत होने के बावजूद भी हिंदी या अपनी क्षेत्रीय भाषा के प्रयोग के हिमायती हैं। वास्तव में हिंदी तो केवल उन लोगों की कार्य भाषा है जिनको या तो अंग्रेज़ी आती नहीं है या फिर कुछ पढ़े-लिखे लोग जिनको हिंदी से कुछ ज़्यादा ही मोह है और ऐसे लोगों को सिरफिरे पिछड़े या बेवक़ूफ़ की संज्ञा से सम्मानित कर दिया जाता है।

सच तो यह है कि ज़्यादातर भारतीय अंग्रेज़ी के मोहपाश में बुरी तरह से जकड़े हुए हैं। आज स्वाधीन भारत में अंग्रेज़ी में निजी पारिवारिक पत्र व्यवहार बढ़ता जा रहा है काफ़ी कुछ सरकारी व लगभग पूरा ग़ैर सरकारी काम अंग्रेज़ी में ही होता है, दुकानों वगैरह के बोर्ड अंग्रेज़ी में होते हैं, होटलों रेस्टारेंटों इत्यादि के मेनू अंग्रेज़ी में ही होते हैं। ज़्यादातर नियम कानून या अन्य काम की बातें किताबें इत्यादि अंग्रेज़ी में ही होते हैं, उपकरणों या यंत्रों को प्रयोग करने की विधि अंग्रेज़ी में लिखी होती है, भले ही उसका प्रयोग किसी अंग्रेज़ी के ज्ञान से वंचित व्यक्ति को करना हो। अंग्रेज़ी भारतीय मानसिकता पर पूरी तरह से हावी हो गई है। हिंदी (या कोई और भारतीय भाषा) के नाम पर छलावे या ढोंग के सिवा कुछ नहीं होता है।

माना कि आज के युग में अंग्रेज़ी का ज्ञान ज़रूरी है, कई सारे देश अपनी युवा पीढ़ी को अंग्रेज़ी सिखा रहे हैं पर इसका मतलब ये नहीं है कि उन देशों में वहाँ की भाषाओं को ताक पर रख दिया गया है और ऐसा भी नहीं है कि अंग्रेज़ी का ज्ञान हमको दुनिया के विकसित देशों की श्रेणी में ले आया है। सिवाय सूचना प्रौद्योगिकी के हम किसी और क्षेत्र में आगे नहीं हैं और सूचना प्रौद्योगिकी की इस अंधी दौड़ की वजह से बाकी के प्रौद्योगिक क्षेत्रों का क्या हाल हो रहा है वो किसी से छुपा नहीं है। सारे विद्यार्थी प्रोग्रामर ही बनना चाहते हैं, किसी और क्षेत्र में कोई जाना ही नहीं चाहता है। क्या इसी को चहुँमुखी विकास कहते हैं? ख़ैर ये सब छोड़िए समझदार पाठक इस बात का आशय तो समझ ही जाएँगे। दुनिया के लगभग सारे मुख्य विकसित व विकासशील देशों में वहाँ का काम उनकी भाषाओं में ही होता है। यहाँ तक कि कई सारी बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ अंग्रेज़ी के अलावा और भाषाओं के ज्ञान को महत्व देती हैं। केवल हमारे यहाँ ही हमारी भाषाओं में काम करने को छोटा समझा जाता है।

हमारे यहाँ बड़े-बड़े नेता अधिकारीगण व्यापारी हिंदी के नाम पर लंबे-चौड़े भाषण देते हैं किंतु अपने बच्चों को अंग्रेज़ी माध्यम स्कूलों में पढ़ाएँगे। उन स्कूलों को बढ़ावा देंगे। अंग्रेज़ी में बात करना या बीच-बीच में अंग्रेज़ी के शब्दों का प्रयोग शान का प्रतीक समझेंगे और पता नहीं क्या-क्या।

कुछ लोगों का कहना है कि शुद्ध हिंदी बोलना बहुत कठिन है, सरल तो केवल अंग्रेज़ी बोली जाती है। अंग्रेज़ी जितनी कठिन होती जाती है उतनी ही खूबसूरत होती जाती है, आदमी उतना ही जागृत व पढ़ा-लिखा होता जाता है। शुद्ध हिंदी तो केवल पोंगा पंडित या बेवक़ूफ़ लोग बोलते हैं। आधुनिकरण के इस दौर में या वैश्वीकरण के नाम पर जितनी अनदेखी और दुर्गति हिंदी व अन्य भारतीय भाषाओं की हुई है उतनी शायद हीं कहीं भी किसी और देश में हुई हो।

भारतीय भाषाओं के माध्यम के विद्यालयों का आज जो हाल है वो किसी से छुपा नहीं है। सरकारी व सामाजिक उपेक्षा के कारण ये स्कूल आज केवल उन बच्चों के लिए हैं जिनके पास या तो कोई और विकल्प नहीं है जैसे कि ग्रामीण क्षेत्र या फिर आर्थिक तंगी। इन स्कूलों में न तो अच्छे अध्यापक हैं न ही कोई सुविधाएँ तो फिर कैसे हम इन विद्यालयों के छात्रों को कुशल बनाने की उम्मीद कर सकते हैं और जब ये छात्र विभिन्न परीक्षाओं में असफल रहते हैं तो इसका कारण ये बताया जाता है कि ये लोग अपनी भाषा के माध्यम से पढ़े हैं इसलिए ख़राब हैं। कितना सफ़ेद झूठ? दोष है हमारी मानसिकता का और बदनाम होती है भाषा। आज सूचना प्रौद्योगिकी के बादशाह कहलाने के बाद भी हम हमारी भाषाओं में काम करने वाले कंप्यूटर नहीं विकसित कर पाए हैं। किसी पढ़े-लिखे व्यक्ति को अपनी मातृभाषा की लिपि में लिखना तो आजकल शायद ही देखने को मिले। बच्चों को हिंदी की गिनती या वर्णमाला का मालूम होना अपने आप में एक चमत्कार ही सिद्ध होगा। क्या विडंबना है? क्या यही हमारी आज़ादी का प्रतीक है? मानसिक रूप से तो हम अभी भी अंग्रेज़ियत के गुलाम हैं।

अब भी वक्त है कि हम लोग सुधर जाएँ वरना समय बीतने के पश्चात हम लोगों के पास खुद को कोसने के बजाय कुछ न होगा या फिर ये भी हो सकता है कि किसी को कोई फ़र्क न पड़े। सवाल है आत्मसम्मान का, अपनी भाषा का, अपनी संस्कृति का। जहाँ तक आर्थिक उन्नति का सवाल है वो तब होती है जब समाज जागृत होता है और विकास के मंच पर देश का हर व्यक्ति भागीदारी करता है जो कि नहीं हो रहा है। सामान्य लोगों को जिस ज्ञान की ज़रूरत है वो है तकनीकी ज्ञान, व्यवहारिक ज्ञान जो कि सामान्य जन तक उनकी भाषा में ही सरल रूप से पहुँचाया जा सकता है न कि अंग्रेज़ी के माध्यम से।

वर्तमान अंग्रेज़ी केंद्रित शिक्षा प्रणाली से न सिर्फ़ हम समाज के एक सबसे बड़े तबक़े को ज्ञान से वंचित कर रहे हैं बल्कि हम समाज में लोगों के बीच आर्थिक सामाजिक व वैचारिक दूरी उत्पन्न कर रहे हैं, लोगों को उनकी भाषा, उनकी संस्कृति से विमुख कर रहे हैं। लोगों के मन में उनकी भाषाओं के प्रति हीनता की भावना पैदा कर रहे हैं जो कि सही नहीं है। समय है कि हम जागें व इस स्थिति से उबरें व अपनी भाषाओं को सुदृढ़ बनाएँ व उनको राज की भाषा, शिक्षा की भाषा, काम की भाषा, व्यवहार की भाषा बनाएँ।

इसका मतलब यह भी नहीं है कि भावी पीढ़ी को अंग्रेज़ी से वंचित रखा जाए, अंग्रेज़ी पढ़ें सीखें परंतु साथ-साथ यह भी आवश्यक है कि अंग्रेज़ी को उतना ही सम्मान दें जितना कि ज़रूरी है, उसको सम्राज्ञी न बनाएँ, उसको हमारे दिलोदिमाग़ पर राज करने से रोकें और इसमें सबसे बड़े योगदान की ज़रूरत है समाज के पढ़े-लिखे वर्ग से ,युवाओं से, उच्चपदों पर आसीन लोगों से, अधिकारी वर्ग से बड़े औद्योगिक घरानों से। शायद मेरा ये कहना एक दिवास्वप्न हो क्यों कि अभी तक तो ऐसा हो नहीं रहा है और शायद न भी हो। पर साथ-साथ हमको महात्मा गांधी के शब्द ‘कोई भी राष्ट्र नकल करके बहुत ऊपर नहीं उठता है और महान नहीं बनता है’ याद रखना चाहिए।

Hindi diwas essay

हिन्दी दिवस का इतिहास
हिन्दी दिवस पुरे भारत में हिन्दी भाषा के सम्मान और महत्व को समझने के लिए मनाया जाता हैं। हिन्दी भाषा का एक बहुत ही गहरा इतिहास है जो इंडो-आर्यन शाखा और इंडो-यूरोपीय भाषा परिवार से जुड़ा हुआ है।

भारत की आज़ादी के बाद भारत सरकार ने हिन्दी भाषा को और भी उन्नत बनाने के लिए जोर दिया और इसमें कुछ सुधार और शब्दाबली को बेहतर बनाया गया। भारत के साथ-साथ देवनागरी भाषा अन्य कई देशों में बोली जाती है जैसे – मॉरीशस, फिजी, सूरीनाम, गुयाना, त्रिनिडाड एंड टोबैगो और नेपाल।।

हिन्दी भाषा विश्व में चौथी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है।

स्वाधीनता के बाद भारत के संविधान के अनुसार, देवनागरी लिपि में लिखी गई हिन्दी भाषा को अनुच्छेद 343 के अंतर्गत भारत की आधिकारिक भाषा के रूप में पहले स्वीकार किया गया।

हिन्दी दिवस सभी स्कूल, कॉलेजों और दफ्तरों में मनाया जाता है। इस दिन लगभग सभी शैक्षिक संस्थानों में कई प्रकार के प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता हैं जिनमें स्कूल के बच्चों के साथ-साथ शिक्षक भी भाग लेते हैं।

इस दिन हिन्दी कविताएँ, कहानियाँ और शब्दावली के ऊपर प्रतियोगिताएं आयोजन किये जाते हैं। भारतब में हिन्दी भाषा लगभग सभी राज्यों में बोली जाती है परन्तु ज्यादातर उत्तर भारत में हिन्दी भाषा का ज्यादा बोल-चाल है।

इस दिन भारत के राष्ट्रपति हिन्दी साहित्य से जुड़े कई लोगो को अवार्ड प्रदान करते हैं और उनको सम्मानित करते हैं। हिन्दी दिवस के अवसर पर राजभाषा कीर्ति पुरस्कार, और राजभाषा गौरव पुरस्कार जैसे पुरस्कार दिए जाते हैं।

भारत जैसे विशाल देश में अनेक जाती, धर्म, भाषा के लोग रहते हैं। इस पुरे देश के लोगों का रिश्ता किसी ना किसी प्रकार से एक राज्य से दुसरे राज्य के साथ जुड़ा होता है। व्यापार, सामाजिक, सांस्कृतिक चीजों के कारण सभी लोगों में लेन-देन चलता ही रहता है।

अगर एक राज्य दूरे राज्य से किसी भी प्रकार का सम्बन्ध नहीं रखेगा तो इसमें राज्यों की प्रगति में असर पड़ता है। इसलिए सभी राज्य अन्य सभी राज्यों से किसी ना किसी कारण जुड़ें हैं।

ऐसे में उन सभी के बिच सही प्रकार से व्यवहारिकता को कायम रखने के लिए एक ऐसी भाषा होनी चाहिए जो सबकी समझ आये और आसानी हो। भारत में हिन्दी ही एक ऐसी भाषा है जो एक ओर देश में सर्वाधिक लोगों द्वारा बोली, पढ़ी, और समझी जाने वाली भाषा है और अन्य भाषाओं की तुलना में आसान भी है।

भारत में कई प्रकार की भाषाएँ बोली जाती हैं – असमिया, बंगाली, बोडो, डोगरी, अंग्रेजी, कन्नड़, कश्मीरी, कोंकणी, मैथिली, मलयालम, मराठी, मणिपुरी, नेपाली, ओडिया, पंजाबी, संस्कृत, संताली, सिंधी, तमिल, तेलुगु, उर्दू। यह भाषाएँ अपने-अपने प्रदेशों के लिए मुख्य होती हैं और राज्य का अधिकांश कार्य इन्हीं भाषाओँ के आधार पर होता है।

किसी भी भाषा को राष्ट्र भाषा चुनने से पहले उसके कुछ विशेष गुण होने चाहिए। उस भाषा को देश के ज्यादातर भागों में लिखा पढ़ा जाता हो या उन्हें समझ हो। उस भाषा की शब्दाबली इतनी समर्थ हो की उससे सभी प्रकार के ज्ञान-विज्ञानं के विषयों को अभिव्यक्त किया जा सके।

साथ ही ऐसी भाषा का के साहित्य का एक विशाल भंडार होना चाहिए तथा दर्शन ज्योतिष विज्ञानं, साहित्य और इतिहास के विषय में सभी पुस्तकें होनी चाहिए। भाषा का सुन्दर और सरल होना और भी आवश्यक है।

आज के भारत में हिन्दी ही एक मात्र भाषा है जिसमें यह सब गुण पाए गए हैं इसीलिए हिन्दी को राष्ट्र भाषा के रूप में चुना गया है। आज हिन्दी भाषा को पुरे विश्व भर में सम्मान के नज़रों से देखा जाता है। यहाँ तक की टेक्नोलॉजी के ज़माने में आज विश्व की सबसे बड़ी कंपनियां जैसे गूगल, फेसबुक भी हिन्दी भाषा को बढ़ावा दे रहे।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी जी ने राष्ट्र संघ में अपना प्रथम वक्तव्य हिन्दी भाषा में प्रस्तुत किया। भारत के केंद्र में हिन्दी भाषा का प्रयोग किया जाता है। हिन्दी भाषा का साहित्य पौराणिक और संपन्न है।

आज के दिन भी हिन्दी ही ऐसी भाषा है जिसमें सभी प्रकार से राष्ट्रीय भाषा बनने में पूर्ण समर्थ है। हमें इसका सम्मान करना चाहिए और साथ ही इससे और आगे ले कर जाना चाहिए। धन्यवाद !

जितना हो सके इस पोस्ट को शेयर करें और हिन्दी भाषा को आगे बढ़ाएं।

Leave a Comment