Nibandh

विजयादशमी पर निबंध 2018 – Essay on Vijayadasami in Hindi for Kids Class 1-12

Vijayadashami 2018: विजयादशमी भारत में मनाये जाने वाला एक त्यौहार है जो की हर साल नवरात्रि के समय आता है| इस दिन को दशहरा के नाम से भी जाना जाता है| हिन्दू धर्म में इस दिन का बहुत ही महत्व है| यह दिन महा नवमी के बाद वाले दिन आता है| इस वर्ष यह दिन 19 ओक्टुबर को है| यह दिन बुराई पर अच्छाई का प्रतीक है| इस दिन को विजयदशमी इसलिए भी कहा जाता है क्योकि इसी दिन मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के रावण का वद्ध किया था और माता सीता को उसकी कैद से मुक्त कर दिया था| ये निबंध खासकर कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है|

विजयादशमी पर निबंध

आइये अब हम आपको vijayadashami nibandh in hindi, दशहरा पर निबंध, विजयादशमी एस्से इन हिंदी, विजयादशमी पर कविता आदि की जानकारी 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|

विजयादशमी हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है । यह त्योहार अशिवन महीने के शुक्ल पक्ष में दस दिनों तक मनाया जाता है । इन दिनों माँ दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा-अर्चना की जाती है । त्योहार का अंतिम दिन विजयादशमी के रूप में मनाया जाता है । असत्य पर सत्य की जीत इस त्योहार का मुख्य संदेश है ।

माँ दुर्गा शक्ति की अधिष्ठात्री देवी हैं । जीवन में शक्ति का बहुत महत्त्व है, इसलिए भक्तगण माँ दुर्गा से शक्ति की याचना करते हैं । पं.बंगाल, बिहार, झारखंड आदि प्रांतों में महिषासुर मर्दिनी माँ दुर्गा की प्रतिमा स्थापित की जाती है । नौ दिनों तक दुर्गासप्तशती का पाठ चलता रहता है । शंख, घड़ियाल और नगाड़े बजते हैं । पूजा-स्थलों में धूम मची रहती है । तोरणद्वार सजाए जाते हैं । नवरात्र में व्रत एवं उपवास रखे जाते हैं । मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना होती है । प्रसाद बाँटने और लंगर चलाने के कार्यक्रम होते हैं ।

उत्तर भारत के विभिन्न प्रांतों में रामलीला का मंचन होता है । कहा जाता है कि विजयादशमी के दिन भगवान राम ने लंका नरेश अहंकारी रावण का वध किया था । रावण अत्याचारी और घमंडी राजा था । उसने राम की पत्नी सीता का छल से अपहरण कर लिया था । सीता को रावण के चंगुल से मुक्त कराने के लिए राम ने वानरराज सुग्रीव से मैत्री की । वे वानरी सेना के साथ समुद्र पार करके लंका गए और रावण पर चढाई कर दी । भयंकर युद्ध हुआ । इस युद्ध में मेघनाद, कुंभकर्ण, रावण आदि सभी वीर योद्धा मारे गए । राम ने अपने शरण आए रावण के भाई विभीषण को लंका का राजा बना दिया और पत्नी सीता को लेकर अयोध्या की ओर प्रस्थान किया । रामलीला में इन घटनाओं का विस्तृत दृश्य दिखाया जाता है । इसके द्वारा श्रीराम का मर्यादा पुरुषोत्तम रूप उजागर होता है ।

रामलीलाओं के साथ-साथ अन्य धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं । स्थान-स्थान पर मेलों का आयोजन किया जाता है । बच्चे मेले में उत्साह के साथ भाग लेते हैं । वे झूला झूलते हैं और खेल-तमाशे देखते हैं । हर तरफ उत्साह और उमंग मचा रहता है । विजयादशमी के दिन रावण, मेघनाद और कुंभकर्ण के पुतलों के दहन का कार्यक्रम होता है । इसमें हजारों लोग भाग लेते हैं । पुतले जलाकर लोग बुराई पर अच्छाई की विजय का संदेश दोहराते हैं । इस अवसर पर आकर्षक आतिशबाजी भी होती है । फिर लोग मिठाइयाँ खाते और बाँटते हैं ।

विजयादशमी के दिन माँ दुर्गा की प्रतिमाओं के विसर्जन का कार्यक्रम होता है । ट्रकों और ट्रॉलियों पर प्रतिमाएँ लाद कर लोग गाजे-बाजे के साथ चलते हैं । लोग भारी संख्या में इस जलूस में शामिल होते हैं । प्रतिमाएं विभिन्न मार्गों से होते हुए किसी नदी या सरोवर के तट पर ले जायी जाती हैं । वहाँ इनका विसर्जन कर दिया जाता है । इस तरह दस दिनों तक चलनेवाला उत्सव समाप्त हो जाता है ।

दशहरा भक्ति और समर्पण का त्योहार है । भक्त भक्ति- भाव से दुर्गा माता की आराधना करते हैं । नवरात्र में दुर्गा के नौ विभिन्न रूपों की पूजा होती है । दुर्गा ही आवश्यकता के अनुसार काली, शैलपुत्री, ब्रह्‌मचारिणी ,कुष्मांडा आदि विभिन्न रूप धारण करती हैं और आसुरी शक्तियों का संहार करती हैं । वे आदि शक्ति हैं । वे ही शिव पत्नी पार्वती हैं । संसार उन्हें पूजकर अपने अंदर की आसुरी शक्ति को नष्ट होने की आकांक्षा रखता है । दुर्गा रूप जय यश देती हैं तथा द्वेष समाप्त करती हैं । वे मनुष्य को धन- धान्य से संपन्न कर देती हैं ।

भारत में हिमाचल प्रदेश में कुच्छू घाटी का दशहरा बहुत प्रसिद्ध है । यहाँ का दशहरा देखने देश-विदेश के लोग आते हैं । यहाँ श्रद्‌धा, भक्ति और उल्लास की त्रिवेणी देखने को मिलती है ।

इस तरह दशहरा हर वर्ष आता है और लोगों में भक्तिभाव भर जाता है । पर्व-त्योहारों के माध्यम से लोग अपनी ऊब मिटाते हैं और अपने भीतर कार्य करने का नया उत्साह उत्पन्न करते हैं ।

Vijayadashami essay in hindi

अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है विजयदशमी पर निबंध लिखे| जिसके लिए हम पेश कर रहे हैं विजयादशमी त्योहार पर निबंध.

विजयादशमी (दशहरा) हिन्दुओं का एक सबसे प्रमुख और महत्वपूर्ण त्यौहार है |ये एक राष्ट्रीय त्यौहार है जिसके कई दिन पहले से सभी स्कूल और कोल्लेजों में छूटी रहती है |विजयादशमी को पुरे भारत में बहुत ही उत्साह और उल्लास के साथ मनाया जाता है|ये अलग अलग जगहों में अलग अलग तरीकों से मनाया जाता है |

विजयदशमी साल के तीन अत्यंत शुभ तिथियों में से एक है | बाकी दो शुभ तिथियाँ हैं चैत्र शुक्ल और कार्तिक शुक्ल की प्रतिपदा |विजयादशमी (दशहरा) आश्विन महीने के शुक्ल पक्ष में जो की अक्सर सितम्बर या अक्टूबर में ही मनाया जाता है |ये नवरात्रि में 9 दिनों की पूजा के बाद दसवे दिन में विजयादशमी (दशहरा) के रूप में मनाया जाता है | विजयादशमी को दशहरा ,बिजोया या आयुध पूजा के नाम से भी जाना जाता है|

विजयादशमी (दशहरा) के दिन अयोध्या के राजा दशरथ के पुत्र श्री राम ने लंकापति रावण, जो की उनकी धर्मपत्नी सीता का अपहरण कर लिया था ,उसका वध करके उसके घमंड और आहंकार का सर्वनाश किया था | और अपनी पत्नी को उसके चंगुल से छुड़ा के वापस ले आये थे| और इसी दिन आदिशक्ति जगदम्बा माता दुर्गा ने 9 रात्री एवं 10 दिनों के युद्ध के बाद महिशाशुर नामक एक असुर पर विजय प्राप्त किया था |भगवान् की इसी विजय और जीत की ख़ुशी में इस दशमी तिथि को विजयादशमी या दशहरा के रूप में पुरे भारत में सभी लोग द्वारा बहुत हर्षों-उल्लास के साथ मनाया जाता है |

उत्तर भारत के कई जगहों में भगवान् राम की विजय के ख़ुशी में रामलीला का आयोजन होता है जो की पुरे नाटकीय रूप में भगवान राम का अहंकारी असुर रावण पर विजय पा के अपनी पत्नी सीता के साथ वापस अयोध्या लौटने तक का सफ़र दर्शाता है |और पश्चिम बंगाल,झारखंड जैसे कई जगहों पे माता दुर्गा का शेर पर खड़ी होके महिषासुर का वध करते हुए मूर्ति की स्थापना की जाती है और उनकी पूजा अर्चना की जाती है |भले ही तरीके अलग अलग हो पर विजयदशमी या दशहरा त्यौहार एक ही उद्देश्य से ही पुरे भारत में मनाया जाता है |वो है बुराई पर अच्छाई की जीत का उद्देश्य |

दशहरा को लोग शास्त्र पूजन और नया कार्य प्रारम्भ करते हैं क्यूंकि ऐसा माना जाता है की इस दिन जो भी कार्य शुरू किया जाता है उसपे विजय मिलती है |इस दिन खुले मैदानों में रावण का विशाल पुतला बना कर जलाया जाता है |और बुराई का अंत करके अच्छाई का जीत किया जाता है |दशहरा शक्ति पूजन का पर्व है जो की हमारे अंदर वीरता का प्रकट करता है और अपने साथ ढेर सारी खुशियाँ और मनोरंजन लाता है|

जगह जगह पे मेले का अयोजन होता हे |खाने की और अनेक तरह के मिठाइयों का स्टाल्स लगाये जाते हैं |बच्चों के लिए खिलोनों का और अनेक तरह के घर सजावट का सामान भी मिलते हैं जो की पुरे माहोल को ख़ुशी और जश्न से सजा देते हैं |हम सब नए कपडे पहन कर घरवालों के साथ मेलों का आनंद उठाने और घुमने फिरने के लिए जाते हैं|साथ ही अपने पड़ोसियों,दोस्तों और रिश्तेदारों को विजयदशमी की बधाईयाँ देते हैं | और इसी तरह हम विजयदशमी को बहुत खुशियों के साथ मनाते हैं |

धन्यवाद |

Essay on Vijayadasami in Hindi

जाने dussehra essay 10 lines, dussehra 2018 essay in hindi, Speech on Dussehra in Hindi, विजयादशमी एस्से इन संस्कृत, विजयादशमी का निबंध, विजयादशमी के बारे में निबंध, किसी भी भाषा जैसे Hindi, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection है जिसे आप whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं जो की class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के लिए काफी आवश्यक हैं|

विजयादशमी पर निबंध

 

दशहरा या विजयदशमी या आयुध-पूजा हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। आश्विन शुक्ल दशमी को विजयदशमी का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। यह त्योहार भारतीय संस्कृति के वीरता का पूजक, शौर्य का उपासक है। व्यक्ति और समाज के रक्त में वीरता प्रकट हो इसलिए दशहरे का उत्सव रखा गया है।

भगवान राम ने इसी दिन रावण का वध किया था। इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है। इसीलिए इस दशमी को विजयादशमी के नाम से जाना जाता है। दशहरा वर्ष की तीन अत्यन्त शुभ तिथियों में से एक है, अन्य दो हैं चैत्र शुक्ल की एवं कार्तिक शुक्ल की प्रतिपदा। इसी दिन लोग नया कार्य प्रारम्भ करते हैं, शस्त्र-पूजा की जाती है।

प्राचीन काल में राजा लोग इस दिन विजय की प्रार्थना कर रण-यात्रा के लिए प्रस्थान करते थे। दशहरा का पर्व दस प्रकार के पापों- काम, क्रोध, लोभ, मोह मद, मत्सर, अहंकार, आलस्य, हिंसा और चोरी जैसे अवगुणों को छोड़ने की प्रेरणा हमें देता है।

दशहरा या दसेरा शब्द ‘दश'(दस) एवं ‘अहन्‌‌’ से बना है। दशहरा उत्सव की उत्पत्ति के विषय में कई कल्पनाएं की गई हैं। कुछ लोगों का मत है कि यह कृषि का उत्सव है। दशहरे का सांस्कृतिक पहलू भी है। भारत कृषि प्रधान देश है।

जब किसान अपने खेत में सुनहरी फसल उगाकर अनाज रूपी संपत्ति घर लाता है तो उसके उल्लास और उमंग का ठिकाना हमें नहीं रहता। इस प्रसन्नता के अवसर पर वह भगवान की कृपा को मानता है और उसे प्रकट करने के लिए वह उसका पूजन करता है। तो कुछ लोगों के मत के अनुसार यह रणयात्रा का द्योतक है, क्योंकि दशहरा के समय वर्षा समाप्त हो जाते हैं, नदियों की बाढ़ थम जाती है, धान आदि सहेज कर में रखे जाने वाले हो जाते हैं।

इस उत्सव का सम्बन्ध नवरात्रि से भी है क्योंकि नवरात्रि के उपरांत ही यह उत्सव होता है और इसमें महिषासुर के विरोध में देवी के साहसपूर्ण कार्यों का भी उल्लेख मिलता है।

Vijayadashami Essay in Sanskrit

विजयादशमी भारतीयानां पवित्रं पर्व भवति। एतत् पर्व आश्विनमासस्य शुक्लपक्षस्य दशम्यां तिथौ सम्पाद्यते। इयं तिथिः विजयसूचिका मन्यते। अस्मिन् दिवसे श्रीरामः रावणस्य निधनं कृत्वा विजयं प्राप्तवान्। अस्मिन्नेव दिवसे दुर्गा शुम्भं निशुम्भं च अमारयत्। एतत् दिनं विजयेन सम्बन्धितमस्ति। अतः एतत् दिनं विजयादशमी नाम्ना प्रसिद्धम्।

यद्यपि अयमुत्सवः आश्विनमासस्य शुक्लपक्षस्य दशम्यां तिथौ मन्यते, तथापि उत्सवात् दशदिनपूर्वमेव रामकथायाः रामलीलायाः संकीर्त्तनादीनां च आयोजनं भवति। जनाः उत्साहेन रामलीलां पश्यन्ति। दशम्यां तिथौ रावणकुम्भकर्ण-मेघनादानां च अग्निसंयोगः क्रियते। सायंकाले रामलीलाक्षेत्रे लोकानां विपुलः समागमः भवति।

तस्मिन् समये रामस्य लक्ष्मणस्य हनुमतः च वेशेन कलाकाराः तत्र आगच्छन्ति। हनुमान् च दशहरास्थानमागच्छति। हनुमता कृत्रिमा लंका दह्यते। उपस्थिताः जनाः श्रीरामस्य जयध्वनिं कुर्वन्ति। अयमुत्सवः अधर्मस्य उपरी धर्मस्य, असत्यस्य उपरि सत्यस्य, दुर्जनतायाः उपरि सज्जनतायाः विजयस्य प्रतीकमस्ति। वस्तुतः एषः उत्सवः परमपावनः अस्ति।

Vijayadashami Essay in English

Vijayadashami festival is one of the most significant and longest festivals of the India. It is celebrated every year with full enthusiasm, faith, love and honour by the people of Hindu religion all over the country. It is really the great time to enjoy by all. Students also get holidays for many days from their schools and colleges to fully enjoy the festival of Dussehra. This festival falls two or three weeks earlier to the Diwali every year in the month of September or October. People wait for this festival to occur with huge patience.

India is a country which is very famous for its culture and tradition, fair and festivals. It is a country of fairs and festivals where people celebrate and enjoy every festival with great joy and faith. The festival of Dussehra has been declared by the government of India as the gazetted holiday to allow people to fully enjoy this festival as well as giving importance to the Hindu festival. The meaning of Dussehra is the victory of Lord Rama over the ten headed demon king Ravana. The real meaning of the word Dussehra is the defeat of ten headed (Dus head) demon on tenth day of this festival. Tenth day of this festival is celebrated by burning the Ravana clones by the people all over the country.

There are many myths related to this festival according to the customs and traditions of the people in many regions of the country. This festival was started celebrating by the people of Hindu religion from the day Lord Rama had killed the demon king Ravana on the day of Dussehra (means 10th day of Ashwayuja month of Hindu calendar). Lord Rama had killed Ravana because he had kidnapped the Mata Seeta and was not agree to return her to the Lord Rama. Lord Rama had won the war with Ravana by the help of younger brother Lakshman and Vanar soldier of Hanuman.

According to the Hindu Scripture, Ramayana, it is mentioned that Lord Ram had performed Chandi Hom to make goddess Durga happy and get blessings. In this way Lord Rama, got victory by knowing the secret of Ravana’s killing on 10th day of the war. Finally, he retained his wife Seeta safely after killing the Ravana. Dussehra festival is also known as the Durgotsav because it is considered that on the same day another demon called Mahishasura was killed by the Mata Durga on the tenth day. A huge fair of Ramlila takes place in the Ram-Lila ground where people from nearby regions come to see the fair and dramatic representation of the ramlila.

Leave a Comment