कबीर के दोहे इन हिंदी अर्थ सहित

कबीर के दोहे इन हिंदी अर्थ सहित

Posted by

Kabir ke Dohe in Hindi Arth Sahit: कबीर दास, भारत के सबसे महानतम कवि व महान संत थे| कबीर जी का जन्म 1440 में हुआ था और उनकी मृत्यु 1518 में हो गई थी। इस्लाम के अनुसार कबीर का अर्थ “महान” है। कबीर पंथ एक विशाल धार्मिक समुदाय है जो कबीर को संत मट्ट संप्रदायों की उत्पत्ति के रूप में पहचानता है| आज हम आपके सामने कबीर के दोहे मीठी वाणी व कबीर के पद और सबद प्रस्तुत कर रहे हैं वह भी उनके हिंदी अर्थ सहित|

यह भी देखें: स्वामी विवेकानंद पर हिन्दी निबंध

कबीर दास दोहे

Click To Tweet Click To Tweet Click To Tweet Click To Tweet Click To Tweet Click To Tweet

संत कबीर के दोहे

Click To Tweet Click To Tweet Click To Tweet Click To Tweet Click To Tweet Click To Tweet Click To Tweet Click To Tweet [bctt tweet=”दोहा  “जैसा भोजन खाइये, तैसा ही मन होय। जैसा पानी पीजिये, तैसी बानी सोय।”

यह भी देखें :  हिन्दू नव वर्ष पर कविता 2018 - Hindu New Year Poem in Hindi - हिन्दू नव वर्ष पोएम इन हिंदी - Hindu Nav Varsh Kavita Hindi me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *