Hindi Lekh

एपीजे अब्दुल कलाम पर भाषण – APJ Abdul Kalam Speech in Hindi & English for Students & Education

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को रामेश्वरम, तमिलनाडु में हुआ था | कलाम एक मुसलमान परिवार में जन्मे थे | उनके पिता जैनुलअबिदीन एक नाविक और माता आशिअम्मा एक गृहणी थीं | अपने परिवार की आर्थिक स्थति ठीक न होने के कारण उन्हें बचपन से ही काम करना पड़ा था | वह अखबार बांटकर अपने पिता की आर्थिक मदद करते थे | वह पढ़ाई में सामान्य थे और नयी चीज़ सीखने को हमेशा तैयार रहते थे | वह भारत के 11वे राष्ट्रपति व एक प्रख्यात वैज्ञानिक भी थे | कलम जी लोग मिसाइल मैन के नाम से भी जानते हैं | आप ये जानकारी हिंदी, इंग्लिश, मराठी, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलगु, आदि की जानकारी देंगे जिसे आप अपने स्कूल के भाषण प्रतियोगिता, कार्यक्रम या भाषण प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है| ये भाषण कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है|

APJ Abdul Kalam speech in hindi

अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है अब्दुल कलाम पर स्पीच लिखें | आइये अब हम आपको apj abdul kalam speech on education, APJ Abdul Kalam Quotes in Hindi, apj abdul kalam speech in english, Dr. A.P.J Abdul Kalam Essay in Hindi, apj abdul kalam’s speech, अब्दुल कलाम की कविता, 1 minute speech on apj abdul kalam in 500 words, in written, डॉ अब्दुल कलाम मराठी माहिती, about dreams, 3 visions for india, Quiz on APJ Abdul Kalam,  आदि की जानकारी 100 words, 150 words, 200 words, 400 words, किसी भी भाषा जैसे Hindi, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं|

अगर आप सूर्य की तरह चमकना चाहते हैं तो पहले उस सूर्य की तरह जलना सीखिए. फ्रेंड्स इस दुनिया में हर कोई सपने देखता है चाहे वो छोटे से छोटा इंसान हो यां बड़े से बड़ा इंसान. क्यूंकि भगवान् ने इंसान को बनाया ही ऐसा है की हमेशा कुछ न कुछ सपना देखता रहे. कुछ लोगों के सपनों का कोई मतलब होता है जबकि कुछ लोग बेमतलब के सपने देखते हैं.

लेकिन ये सपने ही हैं जो हर इंसान की किस्मत को अलग बना देते हैं, सपने इंसान का जीवन बदल देते हैं, किसी गरीब को बहुत ही कामयाब और अमीर बना देते हैं तो किसी बेहद अमीर को सड़क पर लाकर खड़ा कर देते हैं. सफ़लता और असफ़लता ये दोनों शब्द हमारे देखे गये सपनों से ही निकलते हैं,

रामानुजम, अल्बर्ट आइंस्टीन, स्टीफेन हाकिंग, ऐसी हजारों एक्साम्पल्स हैं इस दुनिया में की कैसे कुछ अपाहिज या मंद्बुधि कहे जाने वाले बच्चे इस दुनिया के महानतम अविष्कारक बन गये. इन लोगों को इस पूरी दुनिया से अलग करने वाले इनके सपने ही थे. हजारों मुश्किलों को सहते हुए इन्होने इस दुनिया में खुद को स्थापित किया.

इसलिए फ्रेंड्स अगर आपका कोई सपना है – अगर आप भी इस आकाश में सूर्य की तरह चमकना चाहते हैं तो फिर उस सूर्य की तरह से जलाना भी सीखो. बिना मेहनत और लगन के कुछ हासिल नहीं होता. एक्साम्स हो यां जिंदगी अगर – टॉप करना चाहते हो तो आलस छोड़ना होगा- सुबह जल्दी उठना होगा – रात को देर से सोना होगा- खुद को तयार करना होगा की मुझे टॉप करना है, इस पर फोकस्ड रहना होगा. हर वो चीज – मोबाइल, इन्टरनेट, टीवी, टाइम पास दोस्त, आपकी गर्लफ्रेंड, बॉयफ्रेंड, सबको जो भी आपका ध्यान भटकाता हैं आपको डिस्ट्रैक्ट करता है उन सबको – छोड़ना होगा.
तब कहीं जाकर आप चमकोगे- उस सूर्य की तरह…..

एपीजे अब्दुल कलाम भाषण

आज 5 सितंबर है और हर साल की तरह हम शिक्षक दिवस मनाने के लिए यहां इकट्ठे हुए हैं। इस अवसर पर इस कार्यक्रम की मेजबानी करते हुए मैं बहुत सम्मानित महसूस कर रहा हूँ। आज शिक्षक दिवस के दिन, मैं उन महान व्यक्तित्वों में से एक के बारे में बात करना चाहता हूं। जो है डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम, जिनकी मैं सदैव प्रशंसा करता हूं औऱ मुझे यकीन है कि उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए हर कोई इस महान मिसाइल मैन की प्रशंसा करता है।

APJ Abdul Kalam Speech in Hindi

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम मेरे लिए एक महान प्रेरणा स्त्रोत रहे है और उनकी पूरी जीवन यात्रा ने मेरे जीवन को सकारात्मक रुप से परिवर्तित करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

हम सभी जानते हैं कि डॉ. कलाम एक भारतीय वैज्ञानिक और एक उदार राजनेता थे। जिन्होंने 2002 से 2007 तक राष्ट्रपति के रूप में भारत की सेवा की। डॉ. कलाम 15 अक्टूबर, 1931 को एक मुस्लिम परिवार में पैदा हुए थे। उनका पूरा नाम अवल पाकिर जैनुलबदीन अब्दुल कलाम है। डॉ कलाम एक तेज छात्र और आज्ञाकारी बालक थे, जिन्होंने आजीविका अर्जित करने में अपने परिवार की मदद की। उनका जन्म भारत के दक्षिण-पूर्वी तट पर स्थित धनुष्कोदी में हुआ था। एक बच्चे के रूप में डॉ. कलाम ने जब आकाश में पक्षियों को उड़ते देखा तब उनके मन में हवाई यात्रा के प्रति आकर्षण पैदा हुआ। डॉ. कलाम के विमान उड़ाने का शौक और भी दृढ हो गया, जब उन्होंने समाचार पत्र में ब्रिटिश लड़ाकू विमान के बारे में एक लेख देखा।

उनके पिता का पेशा नाव बनाने और उसे किराए पर देने का था। कलाम एक बहुत ही उज्ज्वल और मेहनती छात्र थे। अपने पिता का आर्थिक रुप से समर्थन करने के लिए वे अपने इलाके में समाचार पत्र वितरित किया करते थे, लेकिन वे हमेशा अध्ययन के प्रति रुचि रखते थे; वे बहुत ही होनहार छात्र थे, उन्हें विज्ञान और गणित में अधिक रुचि थी। स्कूल खत्म होने के बाद डॉ. कलाम सेंट जोसेफ कॉलेज गए और एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में डिग्री अर्जित करने के लिए उन्होंने मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में दाखिल लिया।

वे हमेशा से एक होनहार छात्र थे और उन्होंने अपने स्कूल तथा कॉलेज में जितना संभव हो सके उतना ज्ञान हासिल किया। डॉ. कलाम स्नातक स्तर की पढ़ाई पूरी करने के बाद भारत के रक्षा विभाग में भर्ती हो गए। भारत की परमाणु क्षमता के विकास में वे प्रमुख व्यक्तियों में से एक थे। उन्होंने अपने योगदान के लिए कई पुरस्कार और सम्मान अर्जित किया। 1998 में विभिन्न सफल परीक्षणों के लिए राष्ट्रीय नायक कलाम को ‘मिसाइल मैन’ का खिताब दिया गया था। डॉ. कलाम मई 1998 में शुरू किए गए पोखरण-द्वितीय परीक्षणों में एक प्रमुख व्यक्ति थे। पोखरण-2 परीक्षण के समय राजस्थान के रेगिस्तान में कुल 5 परमाणु उपकरणों का विस्फोट हुआ था।

हालांकि 2002 में राजनीति ने कभी भी डॉ. कलाम को लुभाया नहीं, फिर भी भारत की सत्ताधारी पार्टी नेशनल डेमोक्रेटिक एलायंस ने उन्हें राष्ट्रपति पद के लिए खुद को नामित करने का अनुरोध किया। एनडीए के समर्थन से, डॉ कलाम ने चुनाव जीता और भारत के 11वें राष्ट्रपति बन गये। एक राष्ट्रपति के रूप में, डॉ कलाम एक बहुत ही सरल जीवन जीते थे और युवा छात्रों को सफल जीवन जीने और देश की सेवा करने के लिए सदैव प्रेरित करते थे। लोगों के राष्ट्रपति के रूप में सम्मानित, डॉ कलाम ने अपने पांच साल के राष्ट्रपति पद के दौरान युवा छात्रों और देश भर के लोगों के साथ 500,000 से अधिक बैठकें आयोजित की। डॉ. कलाम की इस लोकप्रियता ने उन्हें वर्ष 2003 और 2006 के लिए एमटीवी द्वारा आयोजित ‘युवा चिह्न’ का पुरस्कार प्रदान किया।

डॉ. कलाम ने भारत को 1 सत्र तक राष्ट्रपति के रूप में सेवा दी और 27 जुलाई, 2015 को हार्ट अटैक के कारण उनकी मृत्यु हो गई। वे कई विश्वविद्यालयों में एक अतिथि प्राध्यापक तथा प्रेरक शिक्षक की भूमिका निभाते थे।

डॉ. कलाम सभी के लिए एक आदर्श रहे और प्रत्येक व्यक्ति उनकी इन उपलब्धि, योगदान और सादगी के लिए उनका सम्मान करते है। मैं हर छात्र को डॉ कलाम के मार्ग का पालन पर चलने और पूरे सम्मान से जीवन जीने के लिए, अपील करता हूं।

धन्यवाद

APJ Abdul Kalam speech in bengali

আজ 15 অক্টোবর, যা বিশ্বের বিখ্যাত ‘মিসাইল ম্যান অব ইন্ডিয়া’ এর জন্ম তারিখ ড। এপিজে আব্দুল কালাম। তিনি ডিআরডিওর সবচেয়ে বিখ্যাত ব্যক্তিদের মধ্যে একজন ছিলেন এবং এজন্যই আমরা ডিআরডিওতে তার উত্সব উদযাপন করে উদযাপন করি। ড। কালামের পুরো জীবন যাত্রা প্রত্যেকের জন্য এবং বিশেষ করে ডিআরডিওতে কাজরত মানুষের জন্য একটি অসাধারণ অনুপ্রেরণা হয়েছে।

আবদুল কালাম একজন বিখ্যাত বিজ্ঞানী এবং একজন সুপরিচিত প্রকৌশলী ছিলেন। ২00২ থেকে ২007 সাল পর্যন্ত তিনি ভারতের রাষ্ট্রপতি হিসাবেও দায়িত্ব পালন করেন। ২00২ সালে রাষ্ট্রপতি নির্বাচিত হওয়ার পরে তিনি ইতিমধ্যেই একজন সফল এবং সর্বাধিক প্রিয় ব্যক্তি ছিলেন।

ড। কালাম চার দশক ধরে ডিআরডিও (ডিফেন্স রিসার্চ অ্যান্ড ডেভেলপমেন্ট অর্গানাইজেশন) এবং ইস্রো (ইন্ডিয়ান স্পেস রিসার্চ অর্গানাইজেশন) এর মতো বিভিন্ন মর্যাদাপূর্ণ প্রতিষ্ঠানগুলিতে বিজ্ঞানী প্রশাসক ও বিজ্ঞানী হিসাবে অতিবাহিত করেছিলেন।

কলম তামিলনাডুতে খুব নিচু দক্ষিণ ভারতীয় পরিবারে জন্মগ্রহণ করেন। তাঁর পিতা সমুদ্র উপকূলে কাজরত জেলেদের নৌকা বানিয়ে ভাড়া করেছিলেন। শিশু হিসাবে ডঃ কালাম অত্যন্ত আশাবাদী ছাত্র ছিলেন; তিনি ফ্লাইট দিকে একটি বিরাট আকর্ষণ ছিল এবং পরে তিনি Aeronautics অধ্যয়ন গিয়েছিলাম। তিনি মাদ্রাজ ইনস্টিটিউট অফ টেকনোলজি থেকে মহাকাশ প্রকৌশল বিভাগে ডিগ্রি সম্পন্ন করেন। যদিও তিনি একটি যোদ্ধা পাইলটে পরিণত হতে চান তবে তিনি আইএএফ (ভারতীয় বিমান বাহিনী) এর জন্য যোগ্যতা অর্জন করেননি।

এরপর তিনি একজন বিজ্ঞানী হিসেবে ডিআরডিওতে যোগদান করেন এবং পরে তিনি এইরোতে স্থানান্তরিত হন। গবেষণা ও উন্নয়নের ক্ষেত্রে তাঁর উল্লেখযোগ্য অবদানের কারণে তিনি অবশেষে তৎকালীন প্রধানমন্ত্রী অ্যাটল বেহরী বাজপেয়ীর প্রধান বৈজ্ঞানিক উপদেষ্টা হয়ে ওঠে। জাতীয় উপদেষ্টা হিসেবেও তিনি বিশ্বের বিখ্যাত পরমাণু পরীক্ষায় বিশিষ্ট ভূমিকা পালন করেছেন: পোখরান ২।

জনপ্রিয়ভাবে গণপ্রজাতন্ত্রী হিসাবে পরিচিত, ড। কালাম এক সময়ের জন্য রাষ্ট্রপতি পদ ছেড়ে চলে যান। পরে তিনি আন্না বিশ্ববিদ্যালয়ের অধ্যাপক হন এবং এয়ারস্পেস ইঞ্জিনিয়ারিং শেখেন। তিনি একজন ভিজিটর প্রফেসর ছিলেন এবং বেশ কয়েকজন তরুণ-ছাত্রী ও অন্যান্য প্রতিষ্ঠানের মানুষকে অনুপ্রাণিত করেছিলেন।

কালামের পুরো জীবন যাত্রা আমাদের প্রত্যেকের জন্য একটি মহান অনুপ্রেরণা ছিল। তিনি একজন উদার জাতীয়তাবাদী ছিলেন এবং বিশ্বটি তাকে “ভারতের ক্ষেপণাস্ত্রের লোক” ডাকনাম দ্বারা জানে।

যদিও একজন অনুশীলনশীল মুসলিম, ড। কালাম নিজেও ভারতের বিস্তৃত সংস্কৃতিতে জড়িত ছিলেন। তাঁর অতিরিক্ত সময়ে, তিনি ভারতীয় শাস্ত্রীয় সংগীত এবং হিন্দুধর্মের সবচেয়ে পবিত্র গ্রন্থগুলির মধ্যে একটি পড়েন: ভগবত গীতা।

ড। কালাম 40 টিরও বেশি বিশ্ববিদ্যালয় থেকে সম্মানিত ডক্টরেটসহ বিভিন্ন সম্মান অর্জন করেন। তিনি 1 9 81 সালে পদ্মা ভূষণ পুরস্কার, 1 990 সালে পদ্মভূষণ এবং ভারতের প্রতিরক্ষা প্রযুক্তি আধুনিকায়নের ক্ষেত্রে তাঁর অসাধারণ অবদানের জন্য 1997 সালে ভারতকে ‘ভারত রত্ন’ সর্বাধিক বেসামরিক পুরস্কার পান। একজন মহান বিজ্ঞানী এবং মহান ব্যক্তিত্ব হওয়ার পাশাপাশি, তিনিও একজন উজ্জ্বল লেখক ছিলেন। 1999 সালে তিনি তাঁর আত্মজীবনী উইংস অফ ফায়ার সহ বেশ কয়েকটি বই লিখেছিলেন যা ভারতের যুবকদের জন্য একটি বিশাল প্রেরণা।

কালাম সবসময়ই একটি সাধারণ জীবনযাপন করতেন এবং তিনি একজন সুশীল ব্যক্তিত্ব ছিলেন। তিনি ভারতের জন্য স্বীকৃত কিছু করার প্রতি সর্বদা উত্সাহী ছিল। তিনি 2011 সালে “আমি কি আন্দোলন দিতে পারি” তৈরি করেছিলেন; এটি একটি সহানুভূতিশীল সমাজের বিকাশের উদ্দেশ্যে তৈরি করা হয়েছিল।

বৃহস্পতিবার হৃদরোগে আক্রান্ত হওয়ার কারণে ২7 জুলাই, ২015 তারিখে ড। কালাম মারা যান। শেষ যাত্রার সময় তিনি আইআইএম (ইন্ডিয়ান ইনস্টিটিউট অফ ম্যানেজমেন্ট), শিওলং এ বক্তৃতা দেন।

এই কিংবদন্তি ব্যক্তিত্ব সম্পর্কে আমার এই সবই বলার আছে, যিনি ভারতের সামরিক বাহিনীকে শক্তিশালী করতে এবং তার উন্নত বুদ্ধিজীবী ও নৈতিক চিন্তার মাধ্যমে বিশ্বকে আলোকিত করার জন্য একজন ভারতীয় রাষ্ট্রপতি হিসেবে তার সময়কালে কঠোর পরিশ্রম করেছিলেন।

ধন্যবাদ

एपीजे अब्दुल कलाम पर स्पीच

प्रिय छात्रो – आप सभी को सुप्रभात!

आज की कक्षा बाकी कक्षाओं से थोड़ी अलग होने जा रही है, क्योंकि आज मैं आपके पाठ्यपुस्तक से जुड़े किसी भी विषय पर चर्चा करने नहीं जा रहा हूं, बल्कि मैं आपको एक प्रतिष्ठित व्यक्ति के व्यक्तित्व के बारे में बातने जा रहा हूँ जिसकी प्रशंसा हर कोई करता है वो है हमारे आदरणीय डॉ एपीजे अब्दुल कलाम जिन्हें लोग अपनी प्रेरणा मानते है और उन्हें मिसाइल मैन ऑफ इंडिया का शीर्षक भी प्रदान किया गया, वे हमारे भारत के 11वें राष्ट्रपति भी रहे, परन्तु हमे खेद है कि आज ये प्रतिष्ठित व्यक्ति हमारे बीच नहीं रहे। वे एक महान वैज्ञानिक, गहन विचारक और प्रेरक वक्ता भी थे।

हम सभी के लिए वास्तव में एक प्रेरणादायक व्यक्ति डॉ. कलाम जिन्होंने भारत के एक दूर-दराज के रामेश्वरम नामक दक्षिणी भारतीय गांव में एक बहुत ही सामान्य पृष्ठभूमि वाले परिवार में जन्म लिया था। यह वह स्थान था, जहां उन्हें एक चलती ट्रेन से फेंके जाने वाले समाचार पत्रो के बंडलों को इकट्ठा करने का पहला काम मिला। उन्होंने अपने जीवन के अनुभवों को हर किसी, खासतौर से बच्चों के साथ साझा किया और बताया है कि, कैसे वे अपनी पहली कमाई और काम करने के उन दिनों को याद करके कीतना गर्व महसूस करते है।

लेकिन ये महान व्यक्ति जिसने लाखों लोगों को प्रेरित किया, उन्होंने भी कई प्रतिष्ठित लोगों से प्रेरणा ली जिनसे उन्हें भारत के मिसाइल मैन की उपाधि प्राप्त करने में मदद मिली। आइए उन व्यक्तित्वों में से एक के बारे में जानें जिन्होंने डॉ. कलाम के व्यक्तित्व को आकार देने में मदद की। सबसे पहले, इयादुराई सुलैमान जो कलाम के अध्यापक थे और जिससे कलाम को बहुत लगाव था। इयादुराई सुलैमान के सोच प्रक्रिया से कलाम बहुत प्रभावित हुए औऱ उन्होंने उन्हें एक मंत्र दिया, वह यह था कि “जीवन में सफल होने और परिणामों को प्राप्त करने के लिए, आपको तीन शक्तिशाली शक्तियों, इच्छा, विश्वास और अपेक्षाओं को समझना चाहिए।”

इयादुराई सुलैमान वास्तव में एक महान शिक्षक थे, क्योंकि उन्होंने अपने छात्रों के व्यक्तित्व को आकार देने और उनके अन्दर आत्मनिर्भरता की भावना ढूंढने में उनकी सदैव मदद किया करते थे। उन्होंने अब्दुल कलाम को बताया कि “विश्वास के साथ, आप अपना भाग्य भी बदल सकते हैं।” यहीं से कलाम की वास्तविक यात्रा शुरू हुई औऱ उन्होंने लोगो को प्रेरणा दी और उनकी भलाई के लिए अनेक काम किए।

उन्हें इस बात पर दृढ़ विश्वास था कि, भले ही उनके माता-पिता अशिक्षित है फिर भी वह संसार में अपने कार्यो से एक अमिट छाप छोड़ सकते है। बचपन के दिनों में डॉ अब्दुल कलाम आकाश में पक्षियों को उड़ते देख उनसे बहुत ही प्रभावित रहते थे। इसके अलावा दिलचस्प बात यह भी थी कि वे रामेश्वरम से विमान यात्रा करने वाले पहले व्यक्ति बने।

कई सालों बाद जब अब्दुल कलाम मदुरै कामराज विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह के कार्यक्रम में गये तो उन्होंने अपने सबसे पसंदीदा शिक्षक रेव इयादुराई सुलैमान को मंच पर देखा। जब उन्होंने अपना भाषण समाप्त किया तो, डॉ अब्दुल कलाम उनके आगे सिर झुकाया और कहा, “सपने देखने वालों के महान सपने हमेशा पुरे हो जाते हैं”।

उसके शिक्षक ने बदले में उनसे दबे हुए स्वर में कहा, “आपने न केवल अपने लक्ष्यों को प्राप्त किया है, कलाम, बल्कि आपने उन्हें ग्रहण किया है”। डॉ कलाम ने हर काम में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और अपने कार्यो से न केवल अपने शिक्षक बल्कि पूरे देश को गर्व महसूस कराया। इसलिए छात्रों आप सभी उनके द्वारा बताये गये नक्शेकदम का पालन करे और ईमानदारी से अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में कार्य करे।

धन्यवाद

APJ Abdul Kalam speech in english for students

Respected Principal, Teachers and Dear Students!

Today is 5th September and like every year we have assembled here to celebrate the Teachers Day. I am extremely honored to have been given the opportunity to host this program. On the day of teacher’s day, I would like to talk about one of the greatest personalities who I admire a lot, Dr.APJ Abdul Kalam. I am sure everyone admires the great missile man for his notable contributions to our nation.

Dr. APJ Kalam has been a great motivation for me and his entire life journey has played a very significant role in transforming my life in a positive way.

We all know that Dr. Kalam was an Indian scientist and a benevolent politician who served India as the President from the year 2002 to 2007. His full name was Avul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam. Born on October 15, 1931, into a Muslim family, Dr. Kalam was a sharp student and an obedient child who helped his family in earning the livelihood. He was born in Dhanushkodi located on the southeastern coast of India. As a child, Dr. Kalam developed a great fascination with air travel by watching birds. This hobby of Kalam later developed into a mission to join aeronautics; the mission got stronger after he saw an article in the newspaper about a British fighter plane.

His father’s profession was to build and rent boats. Kalam was a very bright and hardworking student. He distributed newspapers in his locality to support his father. But he always had great interest towards studies; he was a very promising student and showed enormous likings towards science and mathematics. Dr. Kalam went to St. Joseph’s College after passing from school and attended Madras Institute of Technology to earn his degree in aeronautical engineering.

He was always a promising student and grasped as much knowledge as possible in his school and college. Dr. Kalam joined the defense department of India after completing his graduation. He was one of the prominent figures in developing India’s nuclear capabilities. He earned several accolades and respect for his contributions. Considered as the national hero for various successful tests in 1998, Kalam was given the title of ‘Missile Man’.

Dr. Kalam was also a key figure in the Pokhran-II tests launched in May 1998. A total of 5 nuclear devices were exploded in the deserts of Rajasthan in the Pokhran-II test.

Though Politics never enticed Dr. Kalam, in the year 2002, the then ruling party of India National Democratic Alliance requested him to nominate himself for the President’s post. With the support of NDA, Dr. Kalam won the election and became the 11th President of India. As a President too, Dr. Kalam lived a very simple life and motivated young students to live a successful life and serve the nation. Regarded as the President of the people, Dr. Kalam conducted over 500,000 one-to-one meetings with young students and people across the nation during his five-year Presidential term. This immense popularity of Dr. Kalam earned him the award of ‘Youth Icon’ for the year 2003 and 2006 hosted by MTV.

Dr. Kalam served India as the president for 1 term and died due to cardiac arrest on July 27, 2015. He was a visiting professor and motivational guru at several universities.

Dr. Kalam has been a legend and every person respects this great personality for his achievements, contributions and his simplicity. I appeal to every student to follow the path of Dr. Kalam and live an honorable life throughout.

Thank You

Leave a Comment