Nibandh

ईद पर निबंध 2019 – Short Essay on Eid in Hindi, Urdu & Arabic for Class 1-12 – Bakra Eid Essay

ईद पर निबंध इन हिंदी

Bakrid 2019: ईद उल जुहा का इस्लामिक धर्म में बहुत महत्व है| इसे बकरी ईद भी कहा जाता है|  इस भव्य त्यौहार को सभी बड़े प्रेम से मनाते है| इस त्यौहार को पूरे विश्व में मनाया जाता है| ईद उल जुहा पर निबंध ’ यानि कि ‘ईद’ का त्योहार मुस्लिम समुदाय का एक बहुत ही मुख्य त्योहार है । विश्व के सभी कोनों में फैले मुस्लिम लोग इसे बड़ी ही श्रद्‌धा एवं उल्लासपूर्वक मनाते हैं| यह त्यौहार भाईचारे और एकता का प्रतीक है| इस दिन सभी लोग प्रातःकाल उठकर नए कपडे पहनकर सुबह ईद की नमाज़ पड़ने जाते है और एक दुसरे के गले मिलकर भाईचारा बढ़ाते है| आज के इस पोस्ट में हम आपको ईद पर निबंध हिंदी में, ईद का त्योहार पर निबंध, ईद त्योहार पर निबंध, eid par nibandh hindi में, ईद पर एक निबंध, हिंदी में ईद पर निबंध, word doc short essay on eid in Hindi व हिंदी एस्से ओन ईद उल फितर आदि की जानकारी देंगे जिसे आप अपने स्कूल के कार्यक्रम या भाषण प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है|

ईद उल जुहा पर निबंध

ईद-उल-जुहा (बकरीद) (अरबी में عید الاضحیٰ जिसका मतलब क़ुरबानी की ईद) इस्लाम धर्म में विश्वास करने वाले लोगों का एक प्रमुख त्यौहार है। रमजान के पवित्र महीने की समाप्ति के लगभग ७० दिनों बाद इसे मनाया जाता है। इस्लामिक मान्यता के अनुसार हज़रत इब्राहिम अपने पुत्र हज़रत इस्माइल को इसी दिन खुदा के हुक्म पर खुदा कि राह में कुर्बान करने जा रहे थे, तो अल्लाह ने उसके पुत्र को जीवनदान दे दिया जिसकी याद में यह पर्व मनाया जाता है।

इस शब्द का बकरों से कोई संबंध नहीं है। न ही यह उर्दू का शब्द है। असल में अरबी में ‘बक़र’ का अर्थ है बड़ा जानवर जो जि़बह किया (काटा) जाता है। उसी से बिगड़कर आज भारत, पाकिस्तान व बांग्ला देश में इसे ‘बकरा ईद’ बोलते हैं। ईद-ए-कुर्बां का मतलब है बलिदान की भावना। अरबी में ‘क़र्ब’ नजदीकी या बहुत पास रहने को कहते हैं मतलब इस मौके पर भगवान इंसान के बहुत करीब हो जाता है। कुर्बानी उस पशु के जि़बह करने को कहते हैं जिसे 10, 11, 12 या 13 जि़लहिज्ज (हज का महीना) को खुदा को खुश करने के लिए ज़िबिह किया जाता है। कुरान में लिखा है : हमने तुम्हें हौज़-ए-क़ौसा दिया तो तुम अपने अल्लाह के लिए नमाज़ पढ़ो और कुर्बानी करो।

ईद पर निबंध इन हिंदी

Eid 2019 Date in India: हिन्दुस्तान में ईद 2019 (Eid al-adha 2019) यानी की eid mubarak 2019 11 august 2019 को शुरू होकर 12 august 2019 को खत्म होगी| अब हम आपको  eid par nibandh in urdu, ईद पर हिन्दी कविता, ईद मुबारक पर निबंध, ईद उल जुहा मुबारक शायरी, बकरा ईद पर निबंधEid Mubarak Quotes in Hindi, ईद पर निबंध लिखो, ईद उल फितर पर निबंध, ईद पर निबंध in marathi, ईद पर निबंध for class 2, ईद पर निबंध लिखे, बकरी ईद पर निबंध, ईद पर निबंध उर्दू में, ईद पर निबंध in english, eid पर निबंध हिंदी में, रमजान ईद पर निबंध, ईद पर निबंध लिखिए, Eid par nibandh in hindi, eid par nibandh in english, ईद par nibandh, ईद पर छोटा निबंध, यानी की ईद पर निबंध हिंदी में 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं| आप सभी को ईद मुबारक हो.

ईद-उल-फितर’ अथवा ‘ईद’ का त्योहार मुस्लिम समुदाय का मुख्य त्योहार है । विश्व के सभी कोनों में फैले मुस्लिम लोग इसे बड़ी ही श्रद्‌धा एवं उल्लासपूर्वक मनाते हैं ।

वास्तव में ईद का त्योहार समाज में खुशियाँ फैलाने, पड़ोसियों के सुख-दु:ख में भागीदार बनने तथा जन-जन के बीच सौहार्द फैलाने में महत्चपूर्ण भूमिका अदा करता है । हमारे देश में जब ईद का त्योहार आता है, मुसलमानों के अतिरिक्त अन्य सभी समुदायों के व्यक्ति खुशी से झूम उठते हैं ।

मुस्लिमों के लिए रमजान का महीना विशेष धार्मिक महत्व रखता है । यह उनके दृष्टिकोण में उनके लिए आत्मशुदधि का महीना होता है । सभी मुस्लिम जन इस महीने में पूरे दिन का उपवास रखते हैं । इसका वे इतनी कठोरता से पालन करते हैं कि वे दिन भर जल की एक बूँद भी ग्रहण नहीं करते हैं ।

भी लोग दिन के पाँच बजे निश्चित समय पर खुदा को ‘नमाज’ अदा करते हैं तथा अपने व सभी परिजनों की आत्मशुद्‌धि के लिए दुआ करते हैं । रमजान के पूरे महीने सभी मुस्लिम सूर्यास्त के पश्चात् ही भोजन व जल ग्रहण करते हैं ।

परंतु इस्लाम में कुछ असहाय, बीमार तथा लाचार व्यक्तियों को व्रत से छूट दी गई है लेकिन सभी सक्षम व्यक्तियों के लिए रमजान के महीने में व्रत रखना अनिवार्य है । रमजान महीने के अंतिम दिन सभी मुस्लिम चाँद को देखने की उत्सुकता रखते हैं क्योंकि चाँद के दिखाई देने के पश्चात् ही दूसरे दिन ‘ईद’ मनाई जाती है ।

सभी मुसलमान इस त्योहार को बड़ी धूम-धाम से विशेष तैयारी के साथ मनाते हैं । ईद के त्योहार में संपूर्ण वातावरण एकरस हो जाता है । अमीर-गरीब, जवान या बूढ़ा सभी जनों में बराबर उत्साह देखा-जा सकता है । सभी अपनी शक्ति व सामर्थ्य एवं रुचि के अनुसार नए वस्त्र, नए आभूषण, जूते, चप्पल व अन्य भौतिक सुख की सामग्री की खरीद करते हैं ।

चारों ओर फलों व मिठाइयों की दुकानों में लंबी भीड़ देखी जा सकती है । वातावरण में एक नई रौनक आ जाती है । ईद के दृश्य का सजीव चित्रण महान् उपन्यासकार मुंशी प्रेमचंद ने अपनी प्रसिद्‌ध कहानी ‘ईदगाह’ में किया है ।

Eid Par Nibandh in Hindi

अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है write Short eid speech essay in hindi, eid Essay In Urdu, eid essay in hindi 100 words, Festival of eid essay 1000 words, eid essay in punjabi, लेख एसेज, anuched, short paragraphs, pdf, Composition, Paragraph, Article हिंदी, some lines on eid in hindi, 10 lines on Festival of eid in hindi, short essay on Festival of eid in hindi font, few lines on eid in hindi निबन्ध (Nibandh) निबंध लिखें|साथ ही आप अलविदा माहे रमजान इमेजेज भी देख सकते हैं| आप सभी को ईद मुबारक हो! दुआ में याद रखना |

Short Essay on Eid in Hindi Urdu

ईद मुस्लमानों का एक महत्वपूर्ण त्योहार है । मुसलमानों के बारह महीनों में एक महीने का नाम रमजान है । रमजाने का महीना बड़ा ही पवित्र माना जाता है । इस्लाम धर्म में पवित्र रमजान के पूरे महीने रोजे अर्थात् उपवास रखने के बाद नया चांद देखने के अवसर पर ईद-उल-फितर का त्योहार मनाया जाता है । यह रोजा तोडने के त्योहार के रूप में भी लोकप्रिय है । यह त्योहार रमजान के अंत में मनाया जाता है ।

मुस्लिम धर्मावलंबियों के लिए यह अवसर भोज और आनंद का होता है । फितर शब्द अरबी के ‘फतर’ शब्द से बना । जिसका अर्थ होता है टूटना । फितर शब्द का एक अन्य अर्थ भी होता है जो फितरह शब्द से निकलता है । जिसका अर्थ होता है भीख । अन्य इस्लामी त्योहारों की तरह रमजान एक दिन विशेष पर नहीं आता है । यह इस्लामी केलेंडर का नौवां महीना होता है । इस प्रकार यह पूरा माह ही त्योहारों की तरह होता है । इबादत या प्रार्थना, भोजन और मेल-मिलाप इस त्योहार की प्रमुख विशेषता है ।

इस दिन की रस्मों में सुबह सबसे पहले नहाना, नए कपड़े पहनना,सुगंधित इत्र लगाना, ईदगाह जाने से पहले खजूर खाना आदि मुख्य है । आमतौर पर पुरुष सफेद कपड़े पहनते है । सफेद रंग पवित्रता और सादगी का प्रतीक है । इस पवित्र दिन पर बड़ी संख्या में मुस्लिम अनुयायी सुबह जल्दी उठकर ईदगाह, जो ईद की विशेष प्रार्थना के लिए एक बड़ा खुला मैदान होता है, में इबादत ओर नमाज अदा करने के लिए इकट्ठे होते हैं ।

नमाज से पहले सभी अनुयायी कुरान में लिखे अनुसार, गरीबों को अनाज की नियत मात्रा दान देने की रस्म निभाते हैं । जिसे फितर देना कहा जाता है । फितर या एक धर्मार्थ उपहार है, जो रोजा तोडने के उपलब्ध में दी जाती है । इसके बाद इमाम द्वारा ईद की विशेष इबादत और दो रकत नमाज अदा करवाई जाती है । ईदगाह में नमाज की व्यवरथा इस त्योहार विशेष के लिए होती है । अन्य दिनों में नमाज मरिजदों में ही अदा की जाती है ।

ईद खुशी का दिन है । यह हमें मिल-जुलकर रहना सिखाती है । ईद की यह शिक्षा ग्रहण कर लेने पर जीवन और भी आनन्दमय हो जायेगा।

Eid Par Nibandh in Urdu

इन ईद मुबारक एस्से को आप Hindi, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Kannada, Malayalam, Nepali के Language व Font के अनुसार बधाई सन्देश, Poem के Image, Wallpapers, स्पेशल ईद 2019, Photos, इस साल के साथ वर्ष 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 के लिए Message, SMS, Quotes, Saying, Slogans, Pictures अपने परिवार, दोस्तों, friends, girlfriend, boyfriend, पति-पत्नी, रिश्तेदार, बॉस, टीचर आदि को गंगा दशहरा विशेष पिक्स, shubecchha, शुभेच्छा, फोटो, इमेजेज, वॉलपेपर आदि जिसे आप whatsapp, facebook व instagram पर अपने groups में share कर सकते हैं|

ईद पर निबंध 2018

عید مسلمانوں کا ایک اہم تہوار ہے. رامجن مسلمانوں کے بارہ مہینے میں ایک ماہ کا نام ہے. رمضان کا مہینہ مقدس سمجھا جاتا ہے. رمضان المبارک کے روزہ رمضان المبارک کے روزہ عید الفطر کا جشن منایا جاتا ہے، جس کا مطلب اسلام میں روزہ ہے. روزا توڑنے کے تہوار کے طور پر یہ بھی مشہور ہے. رمضان کے آخر میں یہ تہوار منایا جاتا ہے.

یہ موقع مسلم عقیدوں کے لئے ضیافت اور خوشی کے لئے ہے. فطر کا لفظ عربی لفظ ‘فونٹ’ سے حاصل کیا جاتا ہے. جس کا مطلب بریکج ہے. لفظ فطر کا ایک اور معنی ہے، جو فترا لفظ سے باہر آتا ہے. جس کا مطلب ہے begging دوسرے اسلامی تہواروں کی طرح رامز ایک خاص دن نہیں آتی ہے. یہ اسلامی کیلنڈر کا نویں مہینہ ہے. اس طرح یہ پورے مہینے تہواروں کی طرح ہے. ایبٹ آباد یا نماز، خوراک اور مصالحت اس تہوار کی اہم خصوصیت ہے.

اس دن کے مراحل میں، غسل، غسل، عطر پہننے، خوشبو خوشبو، بتوں سے پہلے تاریخوں کا کھانا، وغیرہ اہم ہے. عام طور پر مرد سفید کپڑے پہنتے ہیں. وائٹ رنگ پاکیزگی اور سادگی کی علامت ہے. اس مقدس دن پر، ایک بہت بڑی تعداد میں مسلم پیروکاروں کو ابتدائی طور پر اٹھایا جاتا ہے اور ادگہ میں دعا اور دعا کرنے کے لئے جمع ہوتا ہے، جس میں عید کے خصوصی نماز کے لئے ایک بڑا کھلی زمین ہے.

ناممکن سے پہلے، تمام پیروکاروں نے غریبوں کو ایک مقررہ رقم کا عطیہ دینے کے لئے ایک رسم ادا کیا ہے، جیسا کہ قرآن میں لکھا ہے. جس کو فطر کہا جاتا ہے. فطر یا ایک خیراتی تحفہ، جو روزا کے دستیاب وقفے میں دیا جاتا ہے. اس کے بعد، امام کی خصوصی دعا اور امام رضی اللہ تعالی عنہ کی طرف سے پیش کی گئی ہیں. ادگا میں ناماز کا تہوار اس خاص تہوار کے لئے ہے. دوسرے دنوں میں صرف مجیدین میں صرف ادا کیا جاتا ہے.

عید خوشی کا دن ہے. یہ ہمیں ایک دوسرے کے ساتھ رہنے کے لئے سکھاتا ہے. جب آپ اس عید کی تعلیم حاصل کرتے رہیں گے تو زندگی زیادہ مزاج ہوگی.

Essay on Eid in English

‘Id-ul-Fitr’ or ‘Eid’ is one of the greatest festivals of Muslims. It is celebrated to mark the end of Ramzan. Eid is an Arabic word meaning ‘festivity’, while Fiṭr means ‘breaking the fast’. It was during the month of Ramzan that Holy Quran was revealed to Prophet Mohammed. It is celebrated all over the world by all Muslims.

The Muslims fast during the month of Ramzan. At the end of the month, Eid is celebrated with feats. For Muslims, the festival of Id-ul-Fitr is occasion of showing gratitude to God and remembering him.

Muslims all over the world make great preparations for the festival of Id-ul-Fitr. All Muslims buy new clothes. When the new moon is seen just after the fast of thirty days, the next day Eid is declared. All look very happy. On this day they wake up very early in the morning, clean their teeth, have a bath and wear the best of clothing which one possesses and also apply perfume.

Eid prayer is performed in open areas like fields, community centers, etc. or at mosques. After the prayers, Muslims visit their relatives and friends. On Eid gifts are also given to children and immediate relatives.