Hindi Lekh

विश्व पोलियो दिवस पर भाषण 2018 – World Polio Day Speech in Hindi – पल्स पोलियो दिवस स्पीच

Polio Divas 2018: पोलियो या ‘पोलियोमेलाइटिस एक ऐसा संक्रामक रोग है जो एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति में खाने के माध्यम से फैलता है | यह रोग ज्यादातर बच्चों के बीच पाया जाता है | यह रोग एक बच्चे को जीवन भर के लिए अपंग बना सकता है | बहुत ही कम मामलों ऐसा देखा गया है की पोलियो का यह विषाणु केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में प्रवेश कर लेता है और सबसे पहले मोटर स्नायु (न्यूरॉन्स) को संक्रमित कर उसे नष्ट कर देता है, जिसके कारण मांसपेशियों में कमजोरी आ जाती है और व्यक्ति को तीव्र पक्षाघात हो जाता है। वैसे तो इस बीमारी का कोई इलाज़ नहीं है लेकिन अगर सही-सही समय अंतराल पर अगर बच्चे का टीकाकरण कराया जाए तो इस रोग से बच सकते हैं | हर साल 24 अक्‍टूबर विश्‍व पाेेलियो दिवस के रूप में मनाया जाता है | आप ये जानकारी हिंदी, इंग्लिश, मराठी, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलगु, आदि की जानकारी देंगे जिसे आप अपने स्कूल के स्पीच प्रतियोगिता, कार्यक्रम या भाषण प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है| ये स्पीच कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है|

विश्व पोलियो दिवस पर स्पीच

Polio divas date: हर वर्ष विश्व पोलियो दिवस 24 अक्टूबर को आता है| अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है पोलियो दिवस पर भाषण लिखें| आइये अब हम आपको राष्ट्रीय पोलियो दिवस, World Polio Day Quotes in Hindi, पल्स पोलियो दिवस 2018, विश्व पोलियो दिवस फोटो, pulse polio divas 2018, Essay on World Polio Day in Hindi, पल्स पोलियो टीकाकरण दिवस, आदि की जानकारी 100 words, 150 words, 200 words, 400 words, किसी भी भाषा जैसे Hindi, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं|

पूरे विश्व में प्रत्येक वर्ष 24 अक्टूबर को विश्व पोलियो दिवस मनाया जाता है। जोनास सॉक ने पोलियो के खिलाफ़ वैक्सीन का विकास किया था। यह दिवस उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए मनाया जाता है। वर्ष 2016 में इस दिवस का मुख्य विषय-‘एक दिन एक फोकसः पोलियो समाप्त’ है। भारत सरकार ने वर्ष 1995 में पोलियो उन्मूलन अभियान की शुरूआत की। 27 मार्च, 2014 को विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) ने भारत को पोलियो मुक्त घोषित किया।

उद्देश्य:

इस दिवस को मनाये जाने का मुख्य उद्देश्य पोलियो जैसी बीमारी के विषय में लोगों में जागरूकता फैलाना है। पोलियो एक संक्रामक बीमारी है, जो पूरे शरीर को प्रभावित करती है। इस बीमारी का शिकार अधिकांशत: बच्चे होते हैं। पोलियो को ‘पोलियोमाइलाइटिस’ या ‘शिशु अंगघात’ भी कहा जाता है। यह ऐसी बीमारी है, जिससे कई राष्ट्र बुरी तरह से प्रभावित हो चुके हैं। हालांकि विश्व के अधिकतर देशों से पोलियो का खात्मा पूरी तरह से हो चुका है, लेकिन अभी भी विश्व के कई देशों से यह बीमारी जड़ से खत्म नहीं हो पायी है।

पोलियो क्या है?

  • पोलियो के बारे में मुख्य तथ्य निम्नलिखित है:
  • पोलियो एक वायरल संक्रमण रोग है, जो कि अपनी प्रकृति में संक्रामक है तथा अति गंभीर मामलों में सांस लेने में कठिनाई एवं अपरिवर्तनीय पक्षाघात का कारण बनता है।
  • यह वायरस व्यक्ति से व्यक्ति में मुख्य रूप से मल के माध्यम से फैलता है या बेहद कम स्तर पर सामान्य माध्यमों (जैसे कि दूषित भोजन एवं पानी) के माध्यम से फैलता है तथा आंत में पनपता है।
  • यह रोग वन्य पोलियो वायरस के कारण होता है।
  • यह रोग मुख्यत: 5 वर्ष की आयु से कम उम्र के सभी बच्चों को प्रभावित करता है।
  • पोलियो को केवल रोका जा सकता है, क्योंकि पोलियो का कोई उपचार उपलब्ध नहीं है।
  • पोलियो वैक्सीन की निर्धारित ख़ुराक से बच्चे को जीवन भर के लिए पोलियो से सुरक्षित किया जा सकता है।
  • पोलियो से दो प्रकार का टीकाकरण सुरक्षित करता हैं। पहला मौखिक टीका है, जिसे मौखिक तौर पर यानि कि दवाई के रूप में पिलाया जाता है तथा दूसरा निष्क्रिय पोलियो वायरस टीका है, जिसे रोगी की उम्र के आधार पर हाथ या पैर में लगाया जाता है।World Polio Day Speech in Hindi

प्रति वर्ष ’24 अक्तूबर’ को ‘विश्व पोलियो दिवस’ के रूप में मनाया जाता है, क्योंकि इसी महीने में जोनास सॉक का जन्म हुआ था। जोनास सॉक वर्ष 1955 में पहली पोलियो वैक्सीन का आविष्कार करने वाली टीम के प्रमुख थे। पोलियो रोधक दवा की कुछ बूंदे बच्चों को पिलाई जाती हैं। कई देशों में पोलियो से निजात दिलाने के लिए यह वैक्सीन बहुत महत्त्वपूर्ण साबित हुई है।

पोलियो के लक्षण:

पोलियो की बीमारी में मरीज़ की स्थिति वायरस की तीव्रता पर निर्भर करती है। अधिकतर स्थितियों में पोलियो के लक्षण ‘फ्लू’ जैसै ही होते हैं, लेकिन इसके कुछ सामान्य लक्षण इस प्रकार होते हैं-

  • पेट में दर्द होना।
  • गले में दर्द।
  • सिर में तेज़ दर्द।
  • जटिल स्‍‍थितियों में हृदय की मांस-पेशियों में सूजन आ जाती है।
  • तेज़ बुखार।
  • खाना निगलने में कठिनाई होना।

पोलियो की रोकथाम:

पोलियो के लिए कोई उपचार उपलब्ध नहीं है। इस रोग को केवल टीकाकरण के माध्यम से रोका जा सकता है। पोलियो टीकाकरण निर्धारित अनुसूची के अनुसार कई बार दिया जा सकता है। यह जीवनभर बच्चे की रक्षा करता हैं। वैक्सीन दो प्रकार के होते हैं, जो कि पोलियो से रक्षा करते हैं-निष्क्रिय पोलियो वायरस वैक्सीन (आईपीवी) एवं जीवित-तनु वैक्सीन मौखिक पोलियो वायरस वैक्सीन (ओपीवी)। मौखिक वैक्सीन को मौखिक रूप से दिया जाता है तथा निष्क्रिय पोलियो वायरस वैक्सीन को रोगी की उम्र के आधार पर हाथ या पैर में लगाया जाता है।

Speech on World Polio Day in Hindi

वर्ष 2013 में दुनिया के केवल तीन देशों अफ्गानिस्‍तान, नाइजीरिया और पाकिस्‍तान में ही पोलियो के मामले सामने आये हैं । वहीं 1988 में 125 देशों में पोलियो ग्रस्‍त लोग थे। जब तक एक भी बच्‍चा पोलियो से ग्रस्‍त है, दुनिया भर में इस बीमारी के फैलने का खतरा बरकरार है। अगर विश्व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन इन देशों से पोलियो को नहीं मिटा पाया, तो दस वर्ष के भीतर हर वर्ष पोलियो के दो लाख नए मामले सामने आ सकते हैं। 24 अक्टूबर विश्व पोलियो दिवस के रूप में मनाया जाता है और इस दिवस का ध्येय है पोलियो जैसी बीमारी के विषय में लोगों में जागरूकता फैलाना। पोलियो एक संक्रामक बीमारी है, जो पूरे शरीर को प्रभावित कर देती हैं और यह बीमारी बच्चों में अधिक होती है।

पोलियो का खतरा

• दूषित पानी का सेवन से पोलियो का खतरा होता है।
• गंदे पानी में तैरने से भी पोलियो वायरस का संक्रमण हो सकता है।
• युवाओं की तुलना में बच्चों में इस बीमारी के फैलने की संभावना अधिक होती है।

पोलियो की रोकथाम

• बच्चे को पोलियो ड्राप पिलाना ना भूलें
• अपने आसपास सफाई रखें
• पौष्टिक आहार लें

पोलियो के लक्षण:

मरीज की स्थिति वायरस की तीव्रता पर निर्भर करती है। अधिकतर स्थितियों में पोलियो के लक्षण फ्लू जैसी ही होते हैं। लेकिन इसके कुछ सामान्य लक्षण हैं:

• पेट दर्द
• उल्टियां आना
• गले में दर्द
• सिरदर्द
• जटिल स्‍‍थितियों में हृदय की मांस पेशियों में सूजन भी आ सकती हैं

पोलियो जैसी बीमारी व्यक्ति के संपूर्ण जीवन को प्रभावित करती है, इस बीमारी के प्रति जागरूक रहें और बच्चों का समय पर टीकाकरण ज़रूर करायें | पोलियो के मामले भले ही तीन वर्षों से भारत में न देखे गए हों, लेकिन खतरा अभी भी बरकरार है।

पल्स पोलियो दिवस पर भाषण

पोलियो एक बेहद संक्रामक बीमारी है जो उतना ही खतरनाक नहीं है जितना कि यह अपंग है। चिकित्सा शर्तों में ‘पोलिओमाइलाइटिस’ के रूप में भी जाना जाता है, यह एक बीमारी है जो घातक ‘पोलिओवायरस’ आमतौर पर 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित करती है, इस कारण से इसे ‘इन्फैंटिल पैरालिसिस’ भी कहा जाता है। वायरस मुख्य रूप से तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है, जिससे व्यक्ति कमजोर अपंग पैर के साथ छोड़ देता है और सामान्य रूप से अपने पूरे जीवन में चलने में असमर्थ रहता है। दुर्लभ मामलों में गर्दन या सिर की मांसपेशियों को भी प्रभावित हो सकता है। केवल 0.5% मामलों में पोलियो परिणाम स्थायी पक्षाघात में मुख्य रूप से अंगों, पैरों, पैर और टखने को प्रभावित करते हैं। 1 9 40 और 1 9 50 के दशक के दौरान पोलियो ने दुनिया भर में करीब 2 मिलियन लोगों को मार डाला या अपंग कर दिया। सौभाग्य से पिछले दो दशकों में दुनिया ने रिकॉर्ड किए गए मामलों की कुल संख्या में भारी गिरावट देखी है, जैसे यूरोप, अमेरिका और दक्षिण पूर्व एशिया जैसे कई हिस्सों में पोलियो मुक्त घोषित किया जा रहा है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन और ग्लोबल पोलियो उन्मूलन पहल 1 9 88 के प्रयासों के लिए धन्यवाद, 1 9 88 में पोलियो संक्रमित मामलों की विश्व स्तर पर दर्ज की गई संख्याएं 350000 से घटकर 2017 में 22 हो गईं। पोलियो टीका आज भी अधिकांश लोगों में भी पहुंच योग्य है। डब्ल्यूएचओ और जीपीईआई के प्रयासों के कारण दुनिया के सबसे दूरस्थ स्थान।

विश्व पोलियो दिवस केवल एक प्रमुख उद्देश्य के साथ मनाया जाता है, अर्थात – दुनिया के सभी हिस्सों से पूरी तरह से पोलियो को खत्म करने के लिए, दुनिया को ‘पोलियो फ्री’ बनाते हैं। यह अवसर जोनास साल्क के जन्म का भी जश्न मनाता है, जिसने सेना के लाखों समर्पित कर्मचारियों और कारणों से किए गए संगठनों के स्वयंसेवकों के प्रयासों के साथ-साथ पोलिओमाइलाइटिस के लिए पहली टीका विकसित करने के लिए टीम का नेतृत्व किया।

यद्यपि अधिकांश देशों से यह रोग समाप्त हो गया है, फिर भी यह अफगानिस्तान, पाकिस्तान और नाइजीरिया में सबसे अधिक हाशिए वाले वर्गों और सबसे गरीब लोगों को प्रभावित करता है। सफलता के बावजूद, अगर हम इस अत्यधिक संक्रामक बीमारी को पूरी तरह खत्म करने में विफल रहते हैं, तो आने वाले दशकों में यह फिर से दिखने की अच्छी संभावना है। इसलिए, विश्व पोलियो दिवस का मुख्य उद्देश्य पूरी तरह से दुनिया से पोलियो वायरस को खत्म करना है और समाज के सबसे हाशिए वाले वर्ग से संबंधित अंतिम बच्चे की टीकाकरण सुनिश्चित करना है।

यह दिन कार्यक्रमों के लिए आवश्यक धन जुटाने के लिए संगठनों को एक मंच भी प्रदान करता है क्योंकि इसे दुनिया के हर बच्चे को सफलतापूर्वक टीकाकरण के लिए अरबों डॉलर की आवश्यकता होती है। विश्व पोलियो दिवस 2017 में रोटरी इंटरनेशनल और बिल और मालिंडा गेट्स फाउंडेशन ने वैश्विक स्तर पर पोलियो को खत्म करने के लिए 450 अरब डॉलर जुटाने के लिए प्रतिबद्ध किया। कर्मचारियों, स्वयंसेवकों और स्थानीय सार्वजनिक और प्रशासन की एक विशाल और समर्पित शक्ति के साथ, प्रत्येक शिशु को मौखिक टीकाकरण प्रदान किया जाता है, जो ‘पोलियो के पूर्ण उन्मूलन’ की दिशा में एक कदम उठाता है।

विश्व पोलियो डे थीम्स
किसी अवसर की थीम्स विभिन्न उद्देश्यों को पूरा कर सकती है। हर साल विश्व पोलियो दिवस को एक नए विषय के साथ मनाया जाता है, जो इसके उद्देश्य के साथ-साथ प्रेरणादायक लाखों को भी निर्दिष्ट करता है जो कारण के लिए प्रतिबद्ध हैं। नीचे उल्लिखित थीम भी लक्ष्य के प्रति एक नए चरण की शुरुआत को हासिल करने या चिह्नित करने के लिए एक उद्देश्य या लक्ष्य प्रदान करती हैं।

विश्व पोलियो डे थीम 2018 – “एंड पोलियो नाउ”।
विश्व पोलियो डे थीम 2017 – “पोलियो उन्मूलन के असंगत नायकों का जश्न”।
विश्व पोलियो डे थीम 2016 – “अब पोलियो समाप्त करें, आज इतिहास बनाएं”।
विश्व पोलियो डे थीम 2015 – “एंड पोलियो नाउ: हिस्ट्री हिस्ट्री टुडे”।

Leave a Comment