Hindi Lekh

World Poetry Day – विश्व कविता दिवस

World poetry day

world poetry day 2019: विश्व कविता दिवस दुनिया भर के कवियों और कविताओं की सराहना और समर्थन करने का समय है। यह प्रत्येक वर्ष 21 मार्च को आयोजित किया जाता है और संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) की एक पहल है। दुनिया भर में कई लोग प्रत्येक वर्ष 21 मार्च को या उसके आसपास विश्व कविता दिवस मनाते हैं। सरकारी एजेंसियां, शिक्षक, सामुदायिक समूह और व्यक्ति दिन में प्रचार या भाग लेने में शामिल होते हैं।

World poetry day in hindi

विश्व कविता दिवस बच्चों को कक्षाओं में कविता से परिचित कराने का एक अवसर है। यह एक ऐसा समय है जब कक्षाएँ कविता से संबंधित पाठों में व्यस्त हैं, जिसमें छात्र कवियों की जाँच करते हैं और विभिन्न प्रकार की कविताएँ सीखते हैं| कवियों को किताबों की दुकानों, कैफे, विश्वविद्यालयों और स्कूलों में अपने काम को पढ़ने और साझा करने के लिए आमंत्रित किया जा सकता है। पुरस्कार और अन्य रूप या मान्यता कवियों और उनके काम को सम्मानित करने के लिए बनाई जाती है। विश्व कविता दिवस के साथ मेल करने के लिए 21 मार्च को या उसके आसपास विभिन्न कवियों के काम को प्रदर्शित करने के लिए प्रदर्शनियों और काव्य संध्याओं का भी आयोजन किया जाता है।

World poetry day poems

मेरी कविता अगर कभी साकार हुई तो
मधुर मोहिनी मधुऋतु बन कर
सुरभित, सुमनित, सुस्मित बन कर
मेरे मन की मरुस्थली पर
श्यामल बदली सी बरसेगी।
मेरी कविता अगर कभी साकार हुई तो
किसी फूल की पंखुरियों पर
ओस बिन्दु बन कर छलकेगी।

मूक हृदय के स्पन्दन में कितने कोमल भाव प्रतिध्वनित।
युगों युगों की सुप्त वेदना मेरे गीतों में प्रतिबिम्बित।
मेरी पीड़ा अगर कभी मुस्कान हुई तो
सागरिका की लहर लहर पर
शुभ्र ज्योत्सना सी थिरकेगी।
मेरी कविता अगर कभी साकार हुई तो …….।

इन्द्र धनुष के रंग सजाये एक मनोरम प्रतिछवि उज्जवल।
एक प्रेरणा, एक चेतना, संग संग चलती जो प्रतिपल।
मेरी यह अनुभुति कभी अभिव्यक्ति हुई तो
स्नेहसिक्त, गीली आँखों से
आँसू बन कर के ढलकेगी।
मेरी कविता अगर कभी साकार हुई तो …….।

कुछ करने की आकाँक्षा है, कुछ पाने की अभिलाषा है।
सारे स्वप्न सत्य होते हैं, जीवन की यह परिभाषा है।
मेरी आशा अगर कभी विश्वास हुई तो
हिमगिरि की पाषाणी छाती
से गंगा बन कर निकलेगी।
मेरी कविता अगर कभी साकार हुई तो …….।

कितना है विस्तार सृष्टि में, फिर भी कितनी सीमायें हैं।
सब कुछ है उपलब्ध जगत में, फिर भी कितनी कुंठायें हैं।
मेरी धरती अगर कभी आकाश हुई तो
अन्तरिक्ष में उल्का बन कर
टूट टूट कर भी चमकेगी।
मेरी कविता अगर कभी साकार हुई तो …….।

World poetry day quotes

मेरी कविता अगर कभी साकार हुई तो
मधुर मोहिनी मधुऋतु बन कर
सुरभित, सुमनित, सुस्मित बन कर
मेरे मन की मरुस्थली पर
श्यामल बदली सी बरसेगी।
मेरी कविता अगर कभी साकार हुई तो
किसी फूल की पंखुरियों पर
ओस बिन्दु बन कर छलकेगी।

World poetry day images

ऊपर हमने आपको the world poetry day, day ideas, day assembly, 2018, day 2018 theme, day poems, 2019 theme, activities, 2020, facts, आदि की जानकारी दी है जिसे आप फेसबुक या व्हाट्सप्प पर साझा कर सकते है|

World poetry day in hindi

Leave a Comment