Quotes in Hindi Whatsapp Status Hindi

Veer Savarkar Quotes in Hindi – वीर सावरकर के अनमोल विचार – Veer Savarkar Ke Vichar

Veer Savarkar Quotes in Hindi
Spread the love

वीर सावरकर का जन्म 28 मई, 1883 को भागपुर, नासिक गांव में हुआ था और 26 फरवरी, 1966 को बॉम्बे (अब मुंबई) में उनका निधन हो गया था। उनका पूरा नाम विनायक दामोदर सावरकर है। वह एक स्वतंत्रता सेनानी, राजनीतिज्ञ, वकील, समाज सुधारक और हिंदुत्व के दर्शन के सूत्रधार थे। वह हिंदू महासभा के एक प्रमुख व्यक्ति थे, जिन्होंने 7 वर्षों तक उक्त समाज के अध्यक्ष का पद संभाला था। दर्शन, धर्म और राष्ट्र के विचार के बारे में कुछ बेहतरीन वीर सावरकर उद्धरणों की सूची यहां दी गई है।

veer savarkar death anniversary –  Thoughts In Hindi

veer savarkar punyatithi date:  26/02/2022,  इस लेख में हम आपको Veer Savarkar Thoughts In Hindi, atal bihari vajpayee anmol vichar, वीर सावरकर के प्रेरक कथन, वीर सावरकर के हिंदी कोट्स, on hindutva, वीर सावरकर के राजनीतिक विचार , राष्ट्र धर्म पर शायरी, english, sanskrit, congress, tamil, kannada, swatantra veer savarkar quotes in marathi, best quotes, malayalam, quotes, आदि की जानकारी देंगे|


मनुष्य की सम्पूर्ण शक्ति का मूल उसके अहम की प्रतीति में ही विद्यमान है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

कष्ट ही तो वह चाक शक्ति है जो मनुष्य को कसौटी पर परखती है और उसे आगे बढ़ाती है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

जिस राष्ट्र में शक्ति की पूजा नहीं, शक्ति का महत्व नहीं, उस राष्ट्र की प्रतिष्ठा कौड़ी कीमत की है। प्रतिष्ठा के न होने का प्रमाण है – पड़ोसी देश लंका ,पूर्वी पकिस्तान, पश्चिमी पकिस्तान में हिन्दुओं के साथ हो रहा दुर्व्यहार, जिसके लिए भारत सरकार मात्र विरोध – पत्र ही भेज सकती है, कर कुछ नहीं सकती।
Copy Tweet
Copied Successfully !

ज्ञान प्राप्त होने पर किया गया कर्म सफलतादायक होता है। क्योंकि ज्ञानयुक्त कर्म ही समाज के लिए हितकारक है। ज्ञान प्राप्ति जितनी कठिन है, उससे अधिक कठिन है – उसे संभाल कर रखना। मनुष्य तब तक कोई भी ठोस पग नहीं उठा सकता यदि उसमें राजनीतिक, ऐतिहासिक,अर्थशास्त्रीय एवं शासनशास्त्रीय ज्ञान का अभाव हो।
Copy Tweet
Copied Successfully !

वीर सावरकर के प्रेरक कथन


समान शक्ति रखने वालों में ही मैत्री संभव है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

महान लक्ष्य के लिए किया गया कोई भी बलिदान व्यर्थ नहीं जाता है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

भारत की स्वतंत्रता का और सार्वभौम संघ – राज्य बनाने का श्रेय किसी एक गुट को नहीं, अपितु उसका श्रेय पिछली दो तीन पीढ़ी के सर्वदलीय देशभक्तों को सामूहिक रूप से है। स्वयं को असहयोगवादी और अहिंसक कहलाने वाले हजारों देशभक्तों ने इस स्वतंत्रता के लिए जो भारतव्यापी कार्य किया, उसके प्रति हम सबको कृतज्ञता व्यक्त करनी चाहिए।
Copy Tweet
Copied Successfully !

वीर सावरकर के हिंदी कोट्स


कर्तव्य की निष्ठा संकटों को झेलने में, दुख उठाने में और जीवन भर संघर्ष करने में ही समाविष्ट है। यश – अपयश तो मात्र योगायोग की बातें हैं।
Copy Tweet
Copied Successfully !

अगर संसार को हिन्दू जाति का आदेश सुनना पड़े। तो ऐसी स्थिति उपस्थित होने पर उनका वह आदेश गीता और गौतम बुद्ध के आदेशों से भिन्न नहीं होगा।
Copy Tweet
Copied Successfully !

देशभक्ति का अर्थ यह कदापि नहीं है कि आप उसकी हड्डियां भुनाते रहें। यदि क्रांतिकारियों को देशभक्ति की हड्डियां भुनाती होतीं तो वीर हुतात्मा धींगरा, कन्हैया कान्हेरे और भगत सिंह जैसे देशभक्त फांसी पर लटककर स्वर्ग की पुण्य भूमि में प्रवेश करने का साहस न करते। वे ‘ए’ क्लास की जेल में मक्खन, डबल रोटी और मौसम्बियों का सेवन कर, दो-दो माह की जेल यात्रा से लौट कर अपनी हड्डियां भुनाते दिखाई देते।( वीर सावरकर के विचार )
Copy Tweet
Copied Successfully !

veer savarkar quotes on hindutva


इतिहास, समाज और राष्ट्र को पुष्ट करने वाला हमारा दैनिक व्यवहार ही हमारा धर्म है। धर्म की यह परिभाषा स्पष्ट करती है कि कोई भी मनुष्य धर्मातीत रह ही नहीं सकता। देश के इतिहास, समाज के प्रति विशुद्ध प्रेम एवं न्यायपूर्ण व्यवहार ही सच्चा धर्म है। (वीर सावरकर के विचार)
Copy Tweet
Copied Successfully !

समय से पूर्व कोई मृत्यु को प्राप्त नहीं करता और जब समय आ जाता है तो कोई अर्थात कोई भी इससे बच नहीं सकता। हजारों लाखों बीमारी से ही मर जाते हैं। पर जो धर्म युद्ध में मृत्यु प्राप्त करते हैं, उनके लिए तो अनुपम सौभाग्य की बात है। ऐसे लोग तो पुण्यात्मा ही होते हैं।
Copy Tweet
Copied Successfully !

अपने देश की, राष्ट्र की, समाज की स्वतन्त्रता हेतु प्रभु से की गई मूक प्रार्थना भी सबसे बड़ी अहिंसा की द्दोतक है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

उन्हें शिवाजी को मनाने का अधिकार है, जो शिवाजी की तरह अपनी मातृभूमि को आजाद कराने के लिए लड़ने के लिए तैयार हैं।
Copy Tweet
Copied Successfully !

वीर सावरकर के राजनीतिक विचार


वर्तमान परिस्थिति पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा
इस तथ्य की चिंता किये बिना ही इतिहास लेखक को इतिहास लिखना चाहिए
और समय की जानकारी को विशुद्ध और सत्य रूप में ही प्रस्तुत करना चाहिए।
Copy Tweet
Copied Successfully !

अन्याय का जड़ से उन्मूलन कर सत्य और धर्म की स्थापना हेतु क्रांति,
रक्तचाप प्रतिशोध आदि प्रकृतिप्रदत्त साधन ही हैं।
अन्याय के परिणामस्वरूप होने वाली वेदना और उद्दण्डता ही तो इन साधनों की नियन्त्रण करती है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

राष्ट्र धर्म पर शायरी


हिन्दू जाति की गृहस्थली है – भारत। जिसकी गोद में महापुरुष, अवतार, देवी-देवता और देव – जन खेले हैं। यही हमारी पितृभूमि और पुण्यभूमि है। यही हमारी कर्मभूमि है और इससे हमारी वंशगत और सांस्कृतिक आत्मीयता के सम्बन्ध जुड़े हैं।
Copy Tweet
Copied Successfully !

हमारी पीढ़ी ऐसे समय में और ऐसे देश में पैदा हुई है कि प्रत्येक उदार एवं सच्चे हृदय के लिए यह बात आवश्यक हो गई है कि वह अपने लिए उस मार्ग का चयन करे जो आहों, सिसकियों और विरह के मध्य से गुजरता है। बस,यही मार्ग कर्म का मार्ग है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

हिन्दू धर्म कोई ताड़पत्र पर लिखित पोथी नहीं, जो ताड़पत्र के चटकते ही चूर चूर हो जायेगा। आज उत्पन्न होकर कल नष्ट हो जायेगा। यह कोई गोलमेज परिषद का प्रस्ताव भी नहीं, यह तो एक महान जाति का जीवन है। यह एक शब्द-भर नहीं, अपितु सम्पूर्ण इतिहास है। अधिक नहीं तो चालीस सहस्त्राब्दियों का इतिहास इसमें भरा हुआ है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

swatantra veer savarkar quotes in english


Our daily behavior which reinforces history, society and nation is our religion. This definition of religion makes it clear that no human being can remain beyond religion. Pure love and just behavior towards the country's history, society is the true religion. (views of Veer Savarkar)
Copy Tweet
Copied Successfully !

No one dies prematurely and when the time comes, no one can escape from it. Thousands of millions die of disease. But it is a matter of unparalleled luck for those who die in war of religions. Such people are only pious souls.
Copy Tweet
Copied Successfully !

The silent prayer made to the Lord for the freedom of our country, of the nation, of the society is also a sign of the greatest non-violence.
Copy Tweet
Copied Successfully !

He has the right to persuade Shivaji, who like Shivaji is ready to fight for the freedom of his motherland
Copy Tweet
Copied Successfully !

savarkar quotes in sanskrit


बहुसंख्यकों के लिए सुलभ और अनुकूल भाषा ही राष्ट्रभाषा के पद पर सुशोभित ही सकती है, अतः बहुसंख्यक हिन्दुओं की सांस्कृतिक भाषा हिन्दी ही सम्पूर्ण देश में समझी जा सकती है और यह राष्ट्रभाषा बन सकती है। इसे संस्कृतनिष्ठ बनाने के लिए उर्दू और अंग्रेजी के शब्दों को प्रयुक्त न किया जाये। दृढ़ता से डटे रहकर ही विदेशियों के भाषाई आक्रमण को विफल किया जा सकता है। इसकी पूर्ण सफलता के लिए हिन्दू संकल्प लें कि – संस्कृतनिष्ठ हिन्दी ही हमारी राष्ट्रभाषा तथा नागरी लिपि ही हमारी राष्ट्रलिपि है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

ऋषि दयानंद ने ठीक ही तो उद्घोष किया था कि हिंदुस्तान के अखिल हिन्दुओं की राष्ट्रभाषा हिन्दी है। विदेशी शब्दों की घुसपैठ के कारण हिन्दी भ्रष्ट न हो। इसके लिए जागरूक रहने की आवश्यकता है। भाषा राष्ट्रीयता का एक प्रमुख अंग है। हमारी संस्कृति, सभ्यता, इतिहास, न्याय, दर्शन आदि सर्वांगी विषय इसी भाषा में हैं।
Copy Tweet
Copied Successfully !

veer savarkar quotes marathi


इतिहास, समाज आणि राष्ट्राला बळ देणारे आपले दैनंदिन व्यवहार हाच आपला धर्म आहे. धर्माची ही व्याख्या स्पष्ट करते की धर्माच्या पलीकडे कोणीही मनुष्य राहू शकत नाही. देशाच्या इतिहासाप्रती शुद्ध प्रेम आणि न्याय्य वागणूक हाच खरा धर्म आहे. (वीर सावरकरांची मते)
Copy Tweet
Copied Successfully !

कोणीही अकाली मरत नाही आणि वेळ आली की त्यातून कोणीही सुटू शकत नाही. हजारो लाखो लोक रोगाने मरतात. पण धर्मयुद्धात मृत्युमुखी पडणाऱ्यांसाठी ही अतुलनीय भाग्याची गोष्ट आहे. असे लोक केवळ पवित्र आत्मा असतात.
Copy Tweet
Copied Successfully !

veer savarkar quotes on congress


देशहित के लिए अन्य त्यागों के साथ जन-प्रियता का त्याग करना सबसे बड़ा और ऊँचा आदर्श है, क्योंकि ‘वर जनहित ध्येयं केवल न जनस्तुति:’ शास्त्रों में उपयुक्त ही कहा गया है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

मन सृष्टि के विधाता द्वारा मानव-जाति को प्रदान किया गया एक ऐसा उपहार है, जो मनुष्य के परिवर्तनशील जीवन की स्थितियों के अनुसार स्वयं अपना रूप और आकार भी बदल लेता है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

veer savarkar quotes in tamil


வரலாறு, சமூகம் மற்றும் தேசத்தை வலுப்படுத்தும் நமது அன்றாட நடத்தை நமது மதம். மதத்தின் இந்த வரையறை, எந்த மனிதனும் மதத்திற்கு அப்பால் இருக்க முடியாது என்பதை தெளிவுபடுத்துகிறது. உண்மையான மதம் என்பது நாட்டின் வரலாற்றில் தூய்மையான அன்பும் நியாயமான நடத்தையும் ஆகும். (வீர் சாவர்க்கரின் பார்வை)
Copy Tweet
Copied Successfully !

யாரும் அகால மரணம் அடைவதில்லை, நேரம் வரும்போது அதிலிருந்து யாரும் தப்ப முடியாது. பல்லாயிரக்கணக்கான மக்கள் நோயால் இறக்கின்றனர். ஆனால், மதப் போரில் இறப்பவர்களுக்கு அது ஈடிணையற்ற அதிர்ஷ்டம். அப்படிப்பட்டவர்கள் புண்ணிய ஆத்மாக்கள் மட்டுமே.
Copy Tweet
Copied Successfully !

நமது நாடு, தேசம், சமுதாயம் ஆகியவற்றின் சுதந்திரத்திற்காக இறைவனிடம் செய்யும் மௌன பிரார்த்தனையும் மிகப்பெரிய அகிம்சையின் அடையாளம்.
Copy Tweet
Copied Successfully !

சிவாஜியைப் போலவே தாய்நாட்டின் விடுதலைக்காகப் போராடத் தயாராக இருக்கும் சிவாஜியை வற்புறுத்த அவருக்கு உரிமை உண்டு
Copy Tweet
Copied Successfully !

veer savarkar quotes in kannada


ಇತಿಹಾಸ, ಸಮಾಜ ಮತ್ತು ರಾಷ್ಟ್ರವನ್ನು ಬಲಪಡಿಸುವ ನಮ್ಮ ದೈನಂದಿನ ನಡವಳಿಕೆ ನಮ್ಮ ಧರ್ಮವಾಗಿದೆ. ಧರ್ಮದ ಈ ವ್ಯಾಖ್ಯಾನವು ಯಾವುದೇ ಮಾನವ ಧರ್ಮವನ್ನು ಮೀರಿ ಉಳಿಯಲು ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ ಎಂದು ಸ್ಪಷ್ಟಪಡಿಸುತ್ತದೆ. ನಿಜವಾದ ಧರ್ಮವೆಂದರೆ ದೇಶದ ಇತಿಹಾಸದ ಕಡೆಗೆ ಶುದ್ಧ ಪ್ರೀತಿ ಮತ್ತು ನ್ಯಾಯಯುತ ನಡವಳಿಕೆ. (ವೀರ್ ಸಾವರ್ಕರ್ ಅವರ ಅಭಿಪ್ರಾಯಗಳು)
Copy Tweet
Copied Successfully !

ಯಾರೂ ಅಕಾಲಿಕವಾಗಿ ಸಾಯುವುದಿಲ್ಲ ಮತ್ತು ಸಮಯ ಬಂದಾಗ, ಯಾರೂ ಅದರಿಂದ ತಪ್ಪಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಸಾಧ್ಯವಿಲ್ಲ. ಸಾವಿರಾರು ಮಿಲಿಯನ್ ಜನರು ರೋಗದಿಂದ ಸಾಯುತ್ತಾರೆ. ಆದರೆ ಧರ್ಮಗಳ ಯುದ್ಧದಲ್ಲಿ ಸಾಯುವವರಿಗೆ ಇದು ಅಪ್ರತಿಮ ಅದೃಷ್ಟದ ವಿಷಯವಾಗಿದೆ. ಅಂತಹ ಜನರು ಪುಣ್ಯಾತ್ಮರು ಮಾತ್ರ.
Copy Tweet
Copied Successfully !

ನಮ್ಮ ದೇಶದ, ರಾಷ್ಟ್ರದ, ಸಮಾಜದ ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯಕ್ಕಾಗಿ ಭಗವಂತನಲ್ಲಿ ಮಾಡಿದ ಮೌನ ಪ್ರಾರ್ಥನೆಯೂ ಅತ್ಯಂತ ದೊಡ್ಡ ಅಹಿಂಸೆಯ ಸಂಕೇತವಾಗಿದೆ.
Copy Tweet
Copied Successfully !

ಶಿವಾಜಿಯಂತೆಯೇ ಮಾತೃಭೂಮಿಯ ಸ್ವಾತಂತ್ರ್ಯಕ್ಕಾಗಿ ಹೋರಾಡಲು ಸಿದ್ಧರಾಗಿರುವ ಶಿವಾಜಿಯನ್ನು ಮನವೊಲಿಸುವ ಹಕ್ಕು ಅವರಿಗೆ ಇದೆ
Copy Tweet
Copied Successfully !

swatantra veer savarkar quotes in marathi


आपल्या देशाच्या, राष्ट्राच्या, समाजाच्या स्वातंत्र्यासाठी परमेश्वराकडे केलेली मूक प्रार्थना हेही श्रेष्ठ अहिंसेचे लक्षण आहे.
Copy Tweet
Copied Successfully !

शिवरायांचे मन वळवण्याचा अधिकार त्याला आहे, जो शिवाजीप्रमाणे मातृभूमीच्या स्वातंत्र्यासाठी लढायला तयार आहे.
Copy Tweet
Copied Successfully !

veer savarkar best quotes


महान हिन्दू संस्कृति के भव्य मन्दिर को आज तक पुनीत रखा है संस्कृत ने। इसी भाषा में हमारा सम्पूर्ण ज्ञान, सर्वोत्तम तथ्य संग्रहित हैं। एक राष्ट्र, एक जाति और एक संस्कृति के आधार पर ही हम हिन्दुओं की एकता आश्रित और आधृत है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

यह जाति का अहंकार ब्राह्मणों से लेकर चाण्डाल तक सारे के सारे हिन्दू समाज की हड्डियों में प्रवेश कर उसे चूस रहा है और पूरा हिन्दू समाज इस जाति अहंकारगत द्वेष के कारण जाति कलह के यक्ष्मा की प्रबलता से जीर्ण शीर्ण हो गया है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

veer savarkar quotes in malayalam


ചരിത്രത്തെയും സമൂഹത്തെയും രാഷ്ട്രത്തെയും ശക്തിപ്പെടുത്തുന്ന നമ്മുടെ ദൈനംദിന പെരുമാറ്റം നമ്മുടെ മതമാണ്. മതത്തിന്റെ ഈ നിർവചനം വ്യക്തമാക്കുന്നത് ഒരു മനുഷ്യനും മതത്തിന് അതീതമായി തുടരാനാവില്ല എന്നാണ്. രാജ്യത്തിന്റെ ചരിത്രത്തോടുള്ള ശുദ്ധമായ സ്നേഹവും നീതിയുക്തമായ പെരുമാറ്റവുമാണ് യഥാർത്ഥ മതം. (വീർ സവർക്കറുടെ കാഴ്ചകൾ)
Copy Tweet
Copied Successfully !

ആരും അകാലത്തിൽ മരിക്കുന്നില്ല, സമയമാകുമ്പോൾ ആർക്കും അതിൽ നിന്ന് രക്ഷപ്പെടാൻ കഴിയില്ല. ദശലക്ഷക്കണക്കിന് ആളുകൾ രോഗം മൂലം മരിക്കുന്നു. എന്നാൽ മതയുദ്ധത്തിൽ മരിക്കുന്നവർക്ക് ഇത് സമാനതകളില്ലാത്ത ഭാഗ്യമാണ്. അത്തരക്കാർ പുണ്യാത്മാക്കൾ മാത്രമാണ്.
Copy Tweet
Copied Successfully !

നമ്മുടെ രാജ്യത്തിന്റെ, രാഷ്ട്രത്തിന്റെ, സമൂഹത്തിന്റെ സ്വാതന്ത്ര്യത്തിനായി ഭഗവാനോട് നടത്തിയ മൗന പ്രാർത്ഥനയും ഏറ്റവും വലിയ അഹിംസയുടെ അടയാളമാണ്.
Copy Tweet
Copied Successfully !

മാതൃരാജ്യത്തിന്റെ സ്വാതന്ത്ര്യത്തിനായി പോരാടാൻ ശിവജിയെപ്പോലെ തയ്യാറുള്ള ശിവജിയെ അനുനയിപ്പിക്കാൻ അദ്ദേഹത്തിന് അവകാശമുണ്ട്
Copy Tweet
Copied Successfully !

veer savarkar jayanti quotes


परतंत्रता तथा दासता को प्रत्येक सद्धर्म ने सर्वदा धिक्कारा है। धर्म के उच्छेद और ईश्वर की इच्छा के खंडन को ही परतंत्रता कहते हैं। सभी परतन्त्रताओं से निकृष्टतम परतंत्रता है – राजनीतिक परतंत्रता। और यही नरक का द्वार है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

प्रतिशोध की भट्टी को तपाने के लिए विरोधों और अन्याय का ईंधन अपेक्षित है, तभी तो उसमें से सद्गुणों के कण चमकने लगेंगे। इसका मुख्य कारण है कि प्रत्येक वस्तु अपने विरोधी तत्व से रगड़ खाकर ही स्फुलित हो उठती है।
Copy Tweet
Copied Successfully !

पतितों को ईश्वर के दर्शन उपलब्ध हों, क्योंकि ईश्वर पतित – पावन जो है। यही तो हमारे शास्त्रों का सार है। भगवददर्शन करने की अछूतों की माँग जिस व्यक्ति को बहुत बड़ी दिखाई देती हैं, वास्तव में वह व्यक्ति स्वयं अछूत है और पतित भी। भले ही उसे चारों वेद कंठस्थ क्यों न हों।
Copy Tweet
Copied Successfully !

हमारे देश और समाज के माथे पर एक कलंक है – अस्पृश्यता। हिन्दू समाज के, धर्म के, राष्ट्र के करोड़ों हिन्दू बन्धु इससे अभिशप्त हैं। जब तक हम ऐसे बनाए हुए हैं, तब तक हमारे शत्रु हमें परस्पर लड़वाकर, विभाजित करके सफल होते रहेंगे। इस घातक बुराई को हमें त्यागना ही होगा।
Copy Tweet
Copied Successfully !