स्वच्छ भारत अभियान पर भाषण 2018 – Swachh Bharat Abhiyan Speech in Hindi, Marathi & English Pdf Download

स्वच्छ भारत अभियान पर भाषण

स्वच्छ भारत अभियान की शुरआत प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने की थी | इस अभियान का उदेश्य लोगों के बीच स्वछता का संदेश देना है की किस तरीके से हम कूड़े-कचरे को उसके सही स्थान पर डालकर अपने आस पास स्वछता बनाए रख सकते हैं और बीमारियों से भी मुक्त रह सकते हैं और इसी तरीके से भारत को स्वच्छ बनाए रखने में अपनी भूमिका निभा सकते हैं | ये स्पीच कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए इन मराठी, हिंदी, इंग्लिश, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलगु, आदि की जानकारी है जिसे आप अपने स्कूल के स्पीच प्रतियोगिता, कार्यक्रम या भाषण प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है|

Speech on swachh bharat abhiyan

आइये अब हम आपको swachh bharat abhiyan speech in hindi, स्वच्छ भारत मिशन पर निबंध, स्वच्छ भारत अभियान स्पीच इन हिंदी, स्वच्छ भारत अभियान speech, स्वच्छता दिवस पर निबंध, swachh bharat abhiyan speech by modi, स्वच्छता दिवस पर भाषण, swachh bharat abhiyan speech for students of narendra modi, 1 minute, 2 minute, 3 minute, 4 minute & 5 minutes, आदि की जानकारी special speech in hindi, आदि की जानकारी (speech recitation activity) निश्चित रूप से आयोजन समारोह या बहस प्रतियोगिता (debate competition) यानी स्कूल कार्यक्रम में स्कूल या कॉलेज में भाषण में भाग लेने में छात्रों की सहायता करेंगे। इन राष्ट्रीय स्वछता अभियान पर हिंदी स्पीच, हिंदी में 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|

मेरे आदरणीय प्रधानाचार्य, अध्यापक और मेरे सहपाठियों, सुबह की नमस्ते। मेरा नाम…….है। मैं कक्षा….में पढ़ता/पढ़ती हूँ। सबसे पहले मैं अपने कक्षा अध्यापक/अध्यापिका को इस महान अवसर पर स्वच्छ भारत अभियान पर आप सभी के सामने अपने विचार प्रस्तुत करने के लिए कुछ समय देने के लिए धन्यवाद कहना चाहूँगा/चाहूँगी। ये कहा जाता है कि, देश के युवा देश का भविष्य होते हैं। इसलिए, एक नागरिक, विद्यार्थी और एक युवा होने के नाते, मैं स्वंय को देश के विकास के लिए जिम्मेदार मानता/मानती हूँ और इस विषय का चुनाव देश में इस मिशन के बारे में भारत के लोगों के बीच में जागरुकता और सुधार लाने के लिए किया है। ये मिशन स्वच्छ भारत अभियान या क्लीन इंडिया कैंपेन भी कहा जाता है। ये भारतीय सरकार द्वारा, 2 अक्टूबर 2014 को, चलाया जाने वाला सबसे बड़ा अभियान है। इस अभियान को शुरु करने की तिथि 2 अक्टूबर चुनी गयी जो महात्मा गाँधी के जन्म की सालगिरह होती है, क्योंकि भारत को स्वच्छ भारत बनाने का सपना बापू का था।

स्वच्छ भारत अभियान आधिकारिक रुप से राजघाट, नई दिल्ली में, प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी के द्वारा स्वंय सड़कों को साफ करके शुरु किया गया। ये अभियान अब तक का सबसे बड़ा स्वच्छता अभियान है जिसमें लगभग 30 लाख सरकारी कर्मचारियों सहित स्कूल और कॉलेजों के बच्चों ने भाग लिया। भारत के प्रधानमंत्री ने अभियान को शुरु करते समय 9 प्रसिद्ध व्यक्तित्वों को अभियान के लिए अपने क्षेत्रों में पहल करने के साथ ही अभियान के बारे में प्रवाह लाने के लिए नामांकित किया था। इन्होंने उन 9 व्यक्तित्वों से भी अगले 9 व्यक्तियों को इस अभियान में शामिल करके इस श्रृंखला को (एक पेड़ की शाखाओं की तरह) तब तक जारी रखने के लिए भी अनुरोध किया था तब तक कि भारत का प्रत्येक नागरिक इस अभियान में शामिल न हो जाये क्योंकि इसे 2020, महात्मा गाँधी की 150वीं सालगिरह तक पूरा करना है।

इस मिशन का लक्ष्य व्यक्तिगत शौचालय, शुष्क शौचालयों को कम लागत वाले स्वस्थ्य शौचालयों में परिवर्तित करना, हैन्ड-पंप, उचित स्नान व्यवस्था, सफाई, स्वच्छ बाजारों या मंडियों, नालियों, नमी को रोकने वाले गढ्ढे, ठोस और द्रव्य अवशिष्ट निराकरण आदि की उचित व्यवस्था के साथ ही लोगों में स्वास्थ्य, साफ-सफाई, पर्यावरण को बनाये रखने और व्यक्तिगत स्वच्छता के बारे में जागरुकता लाना है। इस मिशन से पहले 1999 में 1 अप्रैल, भारत की सरकार ने कुल स्वच्छता अभियान (टोटल सैनिटेशन कैंपेन [टी.एस.सी.]) के नाम से एक अभियान शुरु किया था हालांकि, वो कुछ ज्यादा प्रभावशाली नहीं रहा जिसके बाद इस मिशन में नयी जान डालने के लिए योजना शुरु की गयी, जिसे निर्मल ग्राम पुरस्कार कहा जाता था। इसके बाद 1 अप्रैल 2012 को, इसी कार्यक्रम को निर्मल भारत अभियान नाम दिया गया और अन्त में इसे 2 अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान के नाम से दुबारा शुरु किया गया।

इस अभियान का मुख्य उद्देश्य 2020, 2 अक्टूबर ( महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती) तक भारत के स्वच्छ भारत के सपने को प्राप्त करना है। ये मिशन भारत की सरकार के द्वारा “राजनीति से परे” है और “राष्ट्रीयता की भावना से प्रेरित” करने के लिए, इसका श्रेय पूरे देश के नागरिकों को दिया जायेगा। इसके कुछ अन्य मुख्य उद्देश्य प्रत्येक क्षेत्र में खुले में शौच का उन्मूलन करना, हाथ से शौच उठाने की व्यवस्था को खत्म करना, नगर निगम के ठोस कचरो को दुबारा प्रयोग करने और रीसाइकिल करने के लिए प्रेरित करना, स्वच्छता और स्वास्थ्य के बारे में लोगों के व्यवहार में परिवर्तन लाना, इसे सार्वजनिक स्वास्थ्य से जोड़ते हुए और पूँजी खर्च और रखरखाव के लिए निजी क्षेत्रों को बड़े स्तर पर शामिल करना आदि हैं।

जय हिन्द, जय भारत

स्वच्छ भारत, कुशल भारत।

Swachh bharat abhiyan speech in english

Swachh Bharat Abhiyan is a nationwide cleanliness campaign run by the government of India and initiated by the Prime Minister, Narendra Modi on 2nd of October in 2014 on 145th birthday anniversary of the Mahatma Gandhi. This campaign has been launched to fulfill the aim of cleanliness all over the India. The Prime Minister has requested the people of India to involve in the Swachh Bharat Mission and promote others to do the same for leading our country as a best and clean country of the world. This campaign was first initiated by the Narendra Modi himself by cleaning the road on the way going to launch the campaign.

Swachh Bharat Abhiyan speech in Hindi

The campaign of Swachh Bharat is a biggest ever cleanliness drive of the India during the launch of which around 3 million government employees and students from schools and colleges were participated. On the day of launch, Prime Minister has nominated the names of nine personalities of India to initiate the campaign in their own areas and own decided dates as well as promote the campaign to common public. He also had requested to all nine personalities to invite other nine people from their own end individually to participate in this event as well as continue this chain of inviting nine people until the message reach to each and every Indian people.

He also requested that every Indian should take this campaign as a challenge and try his/her best to make this campaign a successful campaign ever. The chain of nine people is like a branching of the tree. He requested common people to involve in this event and upload the video or images of cleanliness over internet on the various social media websites like Facebook, Twitter, etc so that other people may get promoted and motivated to do the same in their own area. In this way India can be a clean country.

In the continuation of this mission, in March 2017, UP CM Yogi Adityanath has banned chewing paan, gutka and other tobacco products all over UP to ensure cleanliness in the government official buildings.

Swachh bharat abhiyan speech in marathi

आदरणीय प्रिंसिपल आणि शिक्षक / शिक्षकांना नमस्कार. मी वर्ग वाचा …….. या विशेष प्रसंगी मी तुम्हाला स्वच्छ भारत अभियानावरील माझ्या विचारांना प्रत्येकासमोर सादर करू इच्छितो. मी या मोहिमेचा विशेषतः या मोहिमेचा भाग होण्यासाठी आणि लोकांमध्ये स्वच्छ भारत बद्दल जागरुकता पसरविण्यासाठी हा विषय निवडला आहे. स्वच्छ भारत अभियान भारत च्या आतापर्यंत सर्वात मोठी मिशन करून नंतर एक दिवस सरकारी कर्मचारी व शाळा आणि महाविद्यालये सुमारे 30 लाख विद्यार्थी संख्या सहभागी झाले होते लागला. 2 9, 201 9 पर्यंत देशाच्या प्रत्येक कोप-यातील सर्व वयोगटातील लोकांना सहकार्य अपेक्षित आहे. मोहीम विशेषत: गांधी जयंती (च्या महात्मा गांधी स्वच्छ भारत 145 व्या स्वप्न पूर्ण करण्यासाठी) ऑक्टोबर 2, 2014 सुरू करण्यात आली.

महात्मा गांधी स्वच्छ भारताचे स्वप्न पाहिले आणि म्हणाला, “स्वच्छता स्वातंत्र्य अधिक महत्त्वाचे आहे.” 2011 च्या जनगणना आकडेवारीनुसार, तो असा अंदाज होता एकूण ग्रामीण लोकसंख्या केवळ 32,70% लोक शौचालय गाठली आहे की . यू.एन. अहवालाच्या मते, भारत हा एक देश आहे जिथे मोठ्या संख्येने लोक मुक्त शौचालय वापरतात. नवी दिल्लीतील वाल्मिकी बस्ती येथे पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांची राष्ट्रव्यापी स्वच्छता मोहीम सुरू झाली. या मोहिमेच्या वेळी देशाला संबोधित करताना, त्यांनी या मोहिमेत सहभागी होण्यासाठी 125 अब्ज लोकांना विनंती केली होती.

त्यांनी महात्मा गांधी, माजी पंतप्रधान लाल बहादूर शास्त्री आपल्या वाढदिवशी खंडणी देवून नंतर स्वत: ची वाल्मिकी वसाहत मार्ग असे निर्भेळ यश संपादन केले होते. तो म्हणाला, “मोहीम स्वच्छ भारत प्रतीक, आम्हाला पाहण्यासाठी तो फक्त एक प्रतीक गांधीजींनी चिन्हांकित नाही आणि आम्ही भारत साफ करणे आवश्यक आहे. नव्याने निवडलेला सरकार सर्वकाही करत आहे असा मी दावा करीत नाही. या मंदिरे, मशिदी, गुरुद्वारा किंवा इतर कोणत्याही ठिकाणी आपण स्वतःला स्वच्छ ठेवण्याचा प्रयत्न केला पाहिजे. साफ सफाई ही ‘स्वच्छ कामगारांची’ जबाबदारी नाही, ही 125 अब्ज भारतीयांची जबाबदारी आहे. जर भारतीय मंगळवारी सर्वात कमी खर्चात पोहचू शकतील तर आपण आपल्या सभोवतालचे वातावरणही स्वच्छ करू शकत नाही का? ”

खालील प्रमाणे भारत ऑपरेशन स्वच्छ मुख्य उद्देश आहेत: वैयक्तिक शौचालय बांधण्यासाठी मार्ग उघडले मलविसर्जन दूर, स्वच्छता करण्यासाठी जागरूकता आणण्यासाठी, वर्तणुकीशी बदल प्रोत्साहन देण्यासाठी, सर्वसामान्य नागरिकांमध्ये शौचालयांच्या वापर जाहिरात, गावे घन आणि द्रव कचरा काढून टाकणे, गावांमध्ये योग्य पाइपलाइन व्यवस्था करणे, पाणी पुरवठा सुनिश्चित करणे स्वच्छ, उचित व्यवस्था ठेवा इ स्वच्छ आणि विकसित देश स्वच्छ आणि आनंदी नागरिकांसह कायमस्वरूपी बनविणे हा यामागील एकमेव उद्देश आहे.

जय हिंद, जय इंडिया

स्वच्छ भारत, आनंदी भारत

स्वच्छ भारत अभियान स्पीच

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 को राष्ट्रीय स्वच्छता अभियान की घोषणा की। यह सही है अर्थों में महात्मा गांधी को सच्ची श्रद्धांजलि थी क्योंकि बापू सदा ही स्वच्छता पर जोर देते थे। प्रधानमंत्री ने छोटे बड़े सभी नागरिकों से इस अभियान से जुड़ने का आवाहन किया है। उन्होंने स्वयं सड़क पर झाडू लगाकर इस अभियान का शुभारंभ किया है। उनके अनुसार देश को स्वच्छ रखना ना केवल सरकार का बल्कि प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य होता है। स्वच्छ वातावरण भला किसे अच्छा नहीं लगता है।
“गांधीजी के सपनों का भारत बनायेंगे, चारो तरफ स्वच्छता फैलायेंगे”

हम सभी जानते हैं कि गंदगी से कितनी बीमारियां फैलती हैं। मक्खी-मच्छर व कीट-पतंगे जन्म लेते हैं जो चेचक हैजा डेंगू और मलेरिया जैसी बीमारियां फैलाते हैं। यदि हम अपने आसपास स्वच्छता का ध्यान रखेंगे तो इन सभी प्रकार की बीमारियों से बचा जा सकता है। सरकार अपनी ओर से इस अभियान में पूरा जोर लगा रही है। सफाई कर्मचारियों को नियमित रूप से सड़कों का गलियों की सफाई करने के निर्देश दिए गए हैं। गांवों शहरों में सार्वजनिक शौचालय का निर्माण किया जा रहा है। नदी-तालाबों में कूड़ा-कचरा फेंकने पर रोक लगा दी गई है, जगह जगह जमा कूड़े-कचरे का सही निस्तारण किया जा रहा है।
“गंदगी को दूर भगाओ, भारत को स्वच्छ बनाओ”

हम सभी बच्चों और बड़ों का भी यह कर्तव्य है कि हम सबके हित में इस अभियान में सरकार का पूरा सहयोग दें। हमें अपने घरों दफ्तरों स्कूलों में वातावरण को स्वच्छ रखना चाहिए उनके अंदर या बाहर कहीं भी गंदगी कूड़ा गंदा पानी इत्यादि एकत्र नहीं होने देना चाहिए। यहां-वहां थूकना और मल मूत्र त्याग नहीं करना चाहिए। इनके लिए निर्धारित स्थानों पर ही यह करना चाहिए। याद रखें जब हम स्वच्छ रहेंगे तभी हम स्वस्थ रहेंगे और आगे बढ़ेंगे। और अंत में मैं अपनी वाणी को बस इसी नारे के साथ अपनी वाणी को विराम दूंगा की –
“कदम से कदम मिलाना है भारत को स्वच्छ बनाना है”

Swachh bharat abhiyan speech in punjabi

ਸਵੱਛ ਭਾਰਤ ਅਭਿਆਨ ਇੱਕ ਸਾਫ ਭਾਰਤ ਦੀ ਮੁਹਿੰਮ ਹੈ ਅਤੇ ਦੇਸ਼ ਦੀ ਸੜਕਾਂ, ਸੜਕਾਂ ਅਤੇ ਬੁਨਿਆਦੀ ਢਾਂਚੇ ਦੀ ਸਾਂਭ-ਸੰਭਾਲ ਨੂੰ ਯਕੀਨੀ ਬਣਾਉਣ ਲਈ 4041 ਵਿਧਾਨਕ ਸ਼ਹਿਰਾਂ ਨੂੰ ਕਵਰ ਕਰਨ ਲਈ ਭਾਰਤ ਸਰਕਾਰ ਦੁਆਰਾ ਰਾਸ਼ਟਰੀ ਮੁਹਿੰਮ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤੀ ਗਈ ਹੈ. ਭਾਰਤੀ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਨਰਿੰਦਰ ਮੋਦੀ ਨੇ ਆਧੁਨਿਕ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਇਸ ਮਿਸ਼ਨ ਨੂੰ 2 ਅਕਤੂਬਰ ਨੂੰ (ਮਹਾਤਮਾ ਗਾਂਧੀ ਦਾ ਜਨਮ ਦਿਵਸ) 2014 ਵਿਚ ਰਾਜਘਾਟ, ਨਵੀਂ ਦਿੱਲੀ (ਬਾਪੂ ਦਾ ਸਸਕਾਰ) ਵਿਖੇ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤਾ ਸੀ. ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਨੇ ਘਟਨਾ ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤ ਕਰਦਿਆਂ ਖੁਦ ਸੜਕ ਸਾਫ਼ ਕੀਤੀ ਸੀ. ਇਹ ਭਾਰਤ ਵਿਚ ਕਦੇ ਵੀ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਡਾ ਸਫ਼ਾਈ ਗੱਡੀ ਹੈ ਜਦੋਂ ਸਕੂਲਾਂ ਅਤੇ ਕਾਲਜਾਂ ਦੇ ਵਿਦਿਆਰਥੀਆਂ ਸਮੇਤ ਕਰੀਬ 3 ਮਿਲੀਅਨ ਸਰਕਾਰੀ ਮੁਲਾਜ਼ਮਾਂ ਨੇ ਸਫਾਈ ਗਤੀਵਿਧੀਆਂ ਵਿਚ ਹਿੱਸਾ ਲਿਆ.

ਘਟਨਾ ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤ ਦੇ ਦਿਨ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਨੇ ਆਪਣੇ ਖੁਦ ਦੇ ਖੇਤਰਾਂ ਵਿੱਚ ਸਫਾਈ ਮੁਹਿੰਮ ਵਿੱਚ ਭਾਗ ਲੈਣ ਲਈ ਨੌਂ ਵਿਅਕਤੀਆਂ ਦੇ ਨਾਂ ਨਾਮਜ਼ਦ ਕਰ ਦਿੱਤੇ ਹਨ. ਸਕੂਲਾਂ ਅਤੇ ਕਾਲਜਾਂ ਨੇ ਆਪਣੇ ਵਿਸ਼ੇ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ ਕਈ ਸਫਾਈ ਦੀਆਂ ਗਤੀਵਿਧੀਆਂ ਦਾ ਆਯੋਜਨ ਕਰਕੇ ਇਸ ਸਮਾਰੋਹ ਵਿਚ ਹਿੱਸਾ ਲਿਆ ਹੈ. ਭਾਰਤ ਦੇ ਵਿਦਿਆਰਥੀਆਂ ਨੇ ਇਸ ਸਮਾਗਮ ਵਿਚ ਹਿੱਸਾ ਲਿਆ. ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਨੇ ਇਨ੍ਹਾਂ ਨੌਂ ਵਿਅਕਤੀਆਂ ਨੂੰ ਬੇਨਤੀ ਕੀਤੀ ਕਿ ਉਹ 9 ਵਿਅਕਤੀਆਂ ਨੂੰ ਵੱਖਰੇ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਇਸ ਸਫਾਈ ਅਭਿਆਨ ਵਿੱਚ ਹਿੱਸਾ ਲੈਣ ਲਈ ਅਤੇ ਨੌਂ ਵਿਅਕਤੀਆਂ ਨੂੰ ਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਹਰ ਉਮੀਦਵਾਰ ਦੁਆਰਾ ਕਾਲ ਕਰਨ ਦੀ ਲੜੀ ਦੀ ਲਗਾਤਾਰ ਜਾਰੀ ਰਹਿਣ ਲਈ ਬੇਨਤੀ ਕਰੇ ਜਦੋਂ ਤੱਕ ਕਿ ਹਰੇਕ ਭਾਰਤੀ ਵਿੱਚ ਸੰਦੇਸ਼ ਉਪਲਬਧ ਨਾ ਹੋਵੇ ਇਸ ਨੂੰ ਕੌਮੀ ਮਿਸ਼ਨ ਬਣਾਉਣ ਲਈ ਦੇਸ਼ ਦੇ ਕੋਨੇ

ਇਸ ਮਿਸ਼ਨ ਦਾ ਮੰਤਵ ਇੱਕ ਦਰੱਖਤ ਦੇ ਦਰੱਖਤ ਦੀ ਬਣਤਰ ਬਣਾ ਕੇ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦੇ ਸਾਰੇ ਖੇਤਰਾਂ ਵਿੱਚ ਹਰ ਇੱਕ ਭਾਰਤੀ ਦੇ ਨਾਲ ਜੁੜਨ ਦਾ ਹੈ. ਸਵੱਛ ਭਾਰਤ ਮਿਸ਼ਨ ਦਾ ਟੀਚਾ ਗਰੀਬੀ ਰੇਖਾ ਦੇ ਅਧੀਨ ਰਹਿਣ ਵਾਲੇ ਲੋਕਾਂ ਲਈ ਘਰੇਲੂ ਉਦੇਸ਼ਾਂ ਲਈ ਘਰੇਲੂ ਉਦੇਸ਼ਾਂ ਲਈ ਘਰੇਲੂ ਉਦੇਸ਼ਾਂ ਦਾ ਨਿਰਮਾਣ ਕਰਨਾ, ਘੱਟ ਲਾਗਤ ਵਾਲੇ ਸੈਨੇਟਰੀ ਲੈਟਰੀਨ ਬਣਾਉਣਾ, ਹੱਥ ਪੰਪ ਕਰਨਾ, ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਅਤੇ ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਨਹਾਉਣਾ ਦੀ ਸਹੂਲਤ ਮੁਹੱਈਆ ਕਰਵਾਉਣਾ, ਸੈਨਟੀਰੀ ਮਾਰਟ ਦੀ ਸਥਾਪਨਾ, ਡਰੇਨਾਂ ਦਾ ਨਿਰਮਾਣ, ਨਿਕਾਸ ਠੋਸ ਅਤੇ ਤਰਲ ਰਹਿੰਦ-ਖੂੰਹਦ ਦੇ, ਸਿਹਤ ਅਤੇ ਸਿੱਖਿਆ ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਵਧਾਉਣ, ਘਰੇਲੂ ਅਤੇ ਵਾਤਾਵਰਣ ਸਬੰਧੀ ਸਫਾਈ ਸਹੂਲਤਾਂ ਪ੍ਰਦਾਨ ਕਰਨ ਅਤੇ ਹੋਰ ਬਹੁਤ ਸਾਰੀਆਂ

ਪਹਿਲਾਂ ਭਾਰਤ ਦੇ ਵਾਤਾਵਰਨ ਦੀ ਸਫਾਈ ਬਾਰੇ ਕਈ ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਪ੍ਰੋਗਰਾਮ (ਜਿਵੇਂ ਕਿ ਕੁੱਲ ਸੈਨੇਟਸ਼ਨ ਮੁਹਿੰਮ, ਨਿਰਮਲ ਭਾਰਤ ਅਭਿਆਨ, ਆਦਿ) ਪਰ ਭਾਰਤ ਸਰਕਾਰ ਦੁਆਰਾ ਨਿੱਜੀ ਸਫਾਈ ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤ ਕੀਤੀ ਗਈ ਸੀ ਹਾਲਾਂਕਿ ਭਾਰਤ ਨੂੰ ਸਾਫ ਸੁਥਰਾ ਭਾਰਤ ਬਣਾਉਣ ਲਈ ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਪ੍ਰਭਾਵਸ਼ਾਲੀ ਨਹੀਂ ਹੋ ਸਕਿਆ. ਸਵੱਛ ਭਾਰਤ ਅਭਿਆਨ ਦਾ ਮੁੱਖ ਉਦੇਸ਼ ਖੁੱਲੇ ਮੁਕਤ ਕਰਾਉਣ ਦੇ ਰੁਝਾਨ ਨੂੰ ਦੂਰ ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਪੈਨਸ਼ਨਸ਼ੀਲ ਪਖਾਨੇ ਨੂੰ ਬਦਲ ਕੇ ਫਲੱਸ਼ ਟਾਇਲੈਟਾਂ ਨੂੰ ਸੁੱਟਣਾ, ਹੱਥਾਂ ਦੀ ਮੁਰੰਮਤ ਕਰਨ, ਠੋਸ ਅਤੇ ਤਰਲ ਰਹਿੰਦਿਆਂ ਦੇ ਸਹੀ ਨਿਕਾਸ ਨੂੰ ਹਟਾਉਣ, ਲੋਕਾਂ ਵਿਚ ਵਿਵਹਾਰਿਕ ਤਬਦੀਲੀਆਂ ਲਿਆਉਣ, ਸਫਾਈ ਬਾਰੇ ਜਾਗਰੂਕਤਾ ਵਧਾਉਣਾ, ਸਫਾਈ ਸਹੂਲਤ ਲਈ ਨਿੱਜੀ ਖੇਤਰਾਂ ਦੇ

ਇਸ ਅਭਿਆਨ ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਦੁਆਰਾ ਨਾਮਜ਼ਦ ਲੋਕਾਂ ਦੇ ਪਹਿਲੇ 9 ਮੈਂਬਰ ਸਲਮਾਨ ਖਾਨ, ਅਨਿਲ ਅੰਬਾਨੀ, ਕਮਲ ਹਸਨ, ਕਾਮੇਡੀਅਨ ਕਪਿਲ ਸ਼ਰਮਾ, ਪ੍ਰਿਯੰਕਾ ਚੋਪੜਾ, ਬਾਬਾ ਰਾਮਦੇਵ, ਸਚਿਨ ਤੇਂਦੁਲਕਰ, ਸ਼ਸ਼ੀ ਥਰੂਰ ਅਤੇ ਤਾਰਕ ਮਹਿਤਾ ਕਾ ਉਲਟਾ ਚਸ਼ਮਾ ਦੀ ਟੀਮ (ਇੱਕ ਸਭ ਤੋਂ ਮਸ਼ਹੂਰ ਟੀ.ਵੀ. ਸੀਰੀਜ਼) . ਭਾਰਤੀ ਫਿਲਮ ਅਭਿਨੇਤਾ ਆਮਿਰ ਖਾਨ ਨੂੰ ਮਿਸ਼ਨ ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤ ਦੀ ਤਾਰੀਖ ‘ਤੇ ਆਉਣ ਦਾ ਸੱਦਾ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਸੀ. ਵੱਖ-ਵੱਖ ਬ੍ਰਾਂਡ ਅੰਬੈਸਡਰ ਹਨ ਜਿਨ੍ਹਾਂ ਨੂੰ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ ਦੁਆਰਾ ਵੱਖ ਵੱਖ ਖੇਤਰਾਂ ਵਿੱਚ ਸਵੱਛ ਭਾਰਤ ਦੀ ਅਭਿਆਨ ਨੂੰ ਪਹਿਚਾਣ ਅਤੇ ਉਤਸ਼ਾਹਿਤ ਕਰਨ ਲਈ ਚੁਣਿਆ ਗਿਆ ਹੈ. ਉਸਨੇ 8 ਨਵੰਬਰ 2014 ਨੂੰ ਕੁਝ ਹੋਰ ਲੋਕਾਂ (ਅਖਿਲੇਸ਼ ਯਾਦਵ, ਸਵਾਮੀ ਰੰਧਾਚਾਰੀਆ, ਮੁਹੰਮਦ ਕੈਫ, ਮਨੋਜ ਤਿਵਾੜੀ, ਦੇਵਪੀਰਦ ਦਿਵੇਦੀ, ਮਨੂ ਸ਼ਰਮਾ, ਕੈਲਾਸ਼ ਖੇਰ, ਰਾਜੂ ਸ੍ਰੀਵਾਸਤਵਾ, ਸੁਰੇਸ਼ ਰੈਨਾ) ਨੂੰ ਵੀ 2014 ਵਿੱਚ ਨਾਮਜ਼ਦ ਕੀਤਾ ਸੀ ਅਤੇ (ਸੌਰਵ ਗਾਂਗੁਲੀ, ਕਿਰਨ ਬੇਦੀ, ਪਦਮਨਾਭ ਆਚਾਰੀਆ, ਸੋਨਲ ਮਾਨਸਿੰਘ, ਰਾਮੂਜੀ ਰਾਓ, ਆਦਿ) 25 ਦਸੰਬਰ ਨੂੰ 2014 ਵਿੱਚ.

ਯੂਪੀ ਦੀਆਂ ਸਰਕਾਰੀ ਇਮਾਰਤਾਂ ਵਿਚ ਸਾਫ-ਸਫਾਈ ਯਕੀਨੀ ਬਣਾਉਣ ਲਈ, ਉੱਤਰ ਪ੍ਰਦੇਸ਼ ਦੇ ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਦੁਆਰਾ ਚਵਿਉਂ ਪੈਨ, ਗੁਟਕਾ ਅਤੇ ਹੋਰ ਤੰਬਾਕੂ ਉਤਪਾਦਾਂ ‘ਤੇ ਪਾਬੰਦੀ ਲਗਾਈ ਗਈ ਹੈ.

ਸਵੱਰ ਭਾਰਤ ਰਨ, ਸਵੱਛ ਭਾਰਤ ਐਪਸ, ਰੀਅਲ-ਟਾਈਮ ਮਾਨੀਟਰਿੰਗ ਸਿਸਟਮ, ਸਵੱਛ ਭਾਰਤ ਸ਼ੋਅਰ ਫਿਲਮ, ਸਵੱਛ ਭਾਰਤ ਨੇਪਾਲ – ਸਵਸਥ ਭਾਰਤ ਨੇਪਾਲ ਅਭਿਆਨ ਅਤੇ ਹੋਰ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਪ੍ਰੋਗਰਾਮਾਂ ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤ ਕੀਤੀ ਗਈ ਹੈ ਅਤੇ ਇਸ ਨੂੰ ਲਾਗੂ ਕਰਨ ਦੀ ਪ੍ਰਕਿਰਿਆ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤੀ ਗਈ ਹੈ ਅਤੇ ਇਸਦਾ ਉਦੇਸ਼ ਮਿਸ਼ਨ ਦੇ ਮਕਸਦ ਨੂੰ ਸਰਗਰਮੀ ਨਾਲ ਸਹਿਯੋਗ ਦੇਣਾ ਹੈ. ਜਾਰੀ ਰਹਿਣ ਅਤੇ ਇਸ ਮੁਹਿੰਮ ਨੂੰ ਕਾਮਯਾਬ ਬਣਾਉਣ ਲਈ, ਭਾਰਤ ਦੇ ਵਿੱਤ ਮੰਤਰਾਲੇ ਨੇ ਸਵੱਛ ਭਾਰਤ ਉਪਾ ਦਾ ਇੱਕ ਪ੍ਰੋਗਰਾਮ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤਾ ਹੈ. ਇਸਦੇ ਅਨੁਸਾਰ, ਹਰ ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਭਾਰਤ ਵਿੱਚ ਸਾਰੀਆਂ ਸੇਵਾਵਾਂ (5 ਪੈਸੇ ਪ੍ਰਤੀ 100 ਰੁਪਏ) ਤੇ 5% ਹੋਰ ਸਰਵਿਸ ਟੈਕਸ ਅਦਾ ਕਰਨਾ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਜੋ ਇਸ ਸਫਾਈ ਮੁਹਿੰਮ ਵਿੱਚ ਜਾਵੇਗਾ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *