Hindi Lekh Tyohaar

Short Speech on Dhanteras in Hindi – dhanteras Speech 2018 – धनतेरस पर भाषण पीडीऍफ़ डाउनलोड

Dhanteras 2018: भगवान धन्वंतरि के प्रकट होने के दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाता है | धनतेरस का दिन कार्तिक मास की कृष्ण त्रयोदशी पर पड़ता है | इस दिन भगवान धन्वंतरि की पूजा की जाती है | भगवान धन्वंतरि हाथों में अमृत से भरा कलश लेकर प्रकट हुए थे इसीलिए इस दिन धन (वस्तु) खरीदने की मान्यता है | इस दिन लोग सोने, चांदी से बनी वस्तु खरीदते हैं | यह पर्व दिवाली से पहले आता है और बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है | यह जानकारी 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|

धनतेरस पर भाषण

Dhanteras 2018 date in india: इस साल धनतेरस का पर्व 5 नवंबर 2018 को सोमवार के दिन पड़ रहा है | अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है दशहरा पर भाषण लिखे| जिसके लिए हम पेश कर रहे हैं धनतेरस त्योहार पर निबंध लिखे| यह dhanteras speech, Essay on Dhanteras in hindi, dhanteras par speech, धनतेरस पर कविता, dhanteras speech in english किसी भी भाषा जैसे Hindi, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection है जिसे आप whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं जो की class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के लिए काफी आवश्यक हैं|

धनतेरस का त्यौहार पूरे भारत में पांच दिवसीय दीवाली समारोहों के रूप में मनाया जाता है। धनतेरस शब्द ‘धन’ का ही एक स्वरुप है, जिसका अर्थ है धन और ‘तेरास’ जिसका अर्थ तेरहवे अर्थात् 13वे, इसलिए यह हिन्दूओं के कार्तिक माह (अक्टूबर-नवंबर) में कृष्ण पक्ष के तेरहवें चाँद के दिन पर मनाया जाने वाला त्यौहार है, जो दिवाली से सिर्फ दो दिन पहले मनाया जाता है, जिसमें लोग समृद्धि और अच्छे स्वास्थ्य के साथ आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए भगवान् से प्रार्थना करते हैं। धनतेरस को ‘धनत्रियोदशी’ और ‘धन्वंतरी त्रियोंदशी’ भी कहते है।

धनतेरस के त्योहार को महान उत्साह और आनंद के साथ मनाया जाता है। इस त्यौहार पर, लोग धन की देवी लक्ष्मी जी और मृत्यु के देवता यम की पूजा करते हैं, भगवान यम से अच्छे स्वास्थ्य और देवी लक्ष्मी से समृद्धि के रूप में आशीर्वाद प्राप्त करते है। लोग अपने घरों और कार्यालयों को सजाते है।

परंपरागत सभी अपने घर आँगन के प्रवेश द्वार को सजाने के लिए लोग रंगीन रंगोलियां बनाकर सजावट करते है । चावल के आटे और सिंदूर से लक्ष्मी जी के छोटे पैरों के निशान बनाये जाते हैं जो कि देवी लक्ष्मी के लंबे समय से प्रतीक्षित आगमन का संकेत होता है। धनतेरस पर सोने या चांदी जैसी कीमती धातुओं से बने नए बर्तन या सिक्के खरीदना बहुत लोकप्रिय है क्योंकि यह शुभ माना जाता है और यह हमारे परिवार के लिये सुख सम्रद्धि और अच्छा भाग्य लाता है।

धनतेरस भारत के विभिन्न भागों में अलग-अलग तरह से मनाया जाता है। पश्चिमी भारत के व्यापारिक समुदाय के लिए यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार है। महाराष्ट्र के राज्य में लोग सूखे धनिया के बीज को पीसकर गुड़ के साथ मिलकर एक मिश्रण बनाकर तैयार करते हैं और इसे ‘नैवेद्य’ कहते हैं। ग्रामीण इलाकों में, किसान अपने मवेशियों को सजाते हैं और पूजा करते हैं, क्योंकि वे उनकी आय के मुख्य स्रोत होते हैं। दक्षिण भारत में, लोग गायों को देवी लक्ष्मी के अवतार के रूप में मानते हैं, और इसलिए वहां के लोग गाय का विशेष सम्मान और आदर करते हैं |

Dhanteras speech in hindi

हिन्दू पौराणिक कथाओं के अनुसार, धनतेरस पर लक्ष्मी पूजा प्रदोष काल (लक्ष्मी पूजा के लिए सबसे अच्छा मुहूर्त) में की जानी चाहिए। पूजा सूर्यास्त और दिन के अंत के अगले एक घंटे और 43 मिनट के बाद शुरू की जा सकती है। धनतेरस पूजा को धनवंतरी त्रियोदशी, धनवंतरी जयंती पूजा, यमद्वीप और धनत्रयोदशी के रूप में भी कहा जाता है।

यह पूरे भारत के साथ साथ दूसरे देशों में भी पॉच दिन लम्बे दिवाली समारोह के पहले दिन का त्यौहार है। धनतेरस का अर्थ है, हिन्दू चन्द्र कलैण्डर के अनुसार, अश्विन के महीने में 13 वें दिन (कृष्ण पक्ष में,अंधेरे पखवाड़े) धन की पूजा। इस दिन देवी लक्ष्मी की भी पूजा होती है, और इस दिन कुछ बहुमूल्य वस्तुऍ खरीद कर घर लाने की भी परम्परा है इस मिथक के साथ कि देवी लक्ष्मी घर आयेगी। यह घर के लिये भाग्य और समृद्धि लाता है।

इस महान अवसर पर लोग सामान्यतः अपने घरों की मरम्मत कराते है, साफ सफाई और पुताई कराते है, आंतरिक और बाहरी घर सजाते है, रंगोली बनाते है, मिट्टी के दीये जलाते है और कई और परंपराओं का पालन करते है। वे अपने घर धन और समृद्धि लाने के लिए देवी लक्ष्मी के तैयार किए गए पैरों के निशान चिपकाते हैं।

सूर्यास्त के बाद, देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश जी की गुलाब और गेंदें के फूलों की माला, मिठाई, घी के दिये, धूप-दीप, अगरबत्ती, कपूर को अर्पित करके समृद्धि, बुद्धिमत्ता और अच्छे के लिये पूजा करते है। लोग देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश के मंत्रोंच्चारण, भक्ति गीत और आरती गाते है। लोग नये कपङे और गहने पहनकर जुऍ का खेल खेलते है।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार हिंदुओं द्वारा इस समारोह के अनुसरण करने के पीछे विभिन्न रीति रिवाजों और परंपराओं की किस्में है। लोग नयी चीजें जैसें सोने व चॉदी के सिक्के, गहने, नये बर्तन और अन्य नयी वस्तुओं को खरीदने को अच्छा विचार मानते है। लोगो का मानना है कि घर में नयी चीजें लाना पूरे वर्ष के लिये लक्ष्मी को लाने की पहचान है। लक्ष्मी पूजा शाम को की जाती है, और लोग बुरी आत्माओं परछाई को दूर करने के लिये विभिन्न दीये जलाते है। लोग बुरी शक्तियों को भी दूर करने के लिये भक्ति के गाने, आरती और मंत्र गाते है।

गाँव में लोग अपने मवेशियों को सजाते है और उनकी पूजा करते है क्योंकि उनकी आय का मुख्य स्त्रोत वे ही होते है। दक्षिण भारतीय लोग गायों को सजा कर देवी लक्ष्मी के एक अवतार के रूप में उनकी पूजा करते हैं।

धनतेरस पर घर में नई चीजों को लाना बहुत शुभ माना जाता है। लोग कैलेंडर के अनुसार शुभ मुहूर्त के दौरान लक्ष्मी पूजा करते हैं। कुछ स्थानों पर सात अनाज (गेहूं, चना, जौ, उड़द, मूंग, मसूर) की पूजा की जाती है। माता लक्ष्मी की पूजा के दौरान सुनहरा फूल और मिठाई अर्पित की जाती हैं।

यह त्यौहार सभी लोगों के जीवन में एक बड़ी भूमिका निभाता है। यह सभी के लिए एक बहुत खुशी, धन, समृद्धि, बुद्धि और अच्छा भाग्य लाता है। लोग अपने आस पास से बुरी ऊर्जा और आल्स्य को हटाने के लिये सभी वस्तुओं को साफ करते है। पूजा करने से पहले लोग अपने शरीर, मस्तिष्क और आत्मा को साफ ककरने के लिये नहाते है।

इस दिन देव धनवंतरि का जन्म दिन है, चिकित्सा विज्ञान से संबंधित सभी नए अनुसंधानों इसी दिन स्थापित किये जाते हैं।

धनतेरस पर स्पीच

‘धनतेरस’ का पर्व हिन्दू कैलेण्डर के अनुसार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है। यह हिन्दुओं का प्रसिद्द त्यौहार है तथा इसी दिन से दीवाली के त्यौहार का प्रारंभ हो जाता है।

प्रचलित कथा के अनुसार इस दिन समुद्र मंथन से आयुर्वेद के जनक भगवान् धन्वंतरि अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। उन्होंने देवताओं को अमृतपान कराकर अमर कर दिया था। अतः वर्तमान सन्दर्भ में भी आयु और स्वस्थता की कामना हेतु धनतेरस पर भगवान् धन्वंतरि का पूजन किया जाता है। धनतेरस से ही तीन दिन तक चलने वाला गोत्रिरात्र व्रत भी शुरू होता है।

Short Speech on dhanteras in Hindi

धनतेरस के दिन भगवान् धन्वंतरि का पूजन किया जाता है। सायंकाल दीपक जलाकर घर, दुकान आदि को सजाते हैं। मंदिर, गौशाला, नदी के घाट, कुआं, तालाब एवं बगीचे में भी दीपक लगाते हैं। यथाशक्ति ताम्बे, पीतल, चांदी के गृह-उपयोगी नवीन बर्तन व आभूषण खरीदते हैं।

बदलते दौर के साथ लोगों की पसंद और जरूरत भी बदली है। इसलिए धनतेरस के दिन अब बर्तनों और आभूषणों के आलावा वाहन, मोबाइल आदि भी ख़रीदे जाने लगे हैं। वर्तमान समय में धनतेरस के दिन वाहन खरीदने का फैशन सा बन गया है। इस दिन लोग गाड़ी खरीदना शुभ मानते हैं। कई लोग इस दिन कम्पूटर और बिजली के उपकरण भी खरीदते हैं।

Speech on dhanteras in english

According to the Hindu mythology, Lakshmi Puja should be done at the Dhanteras throughout the Pradosh Kaal (best muhurta for Lakshmi puja). Puja can be started after the sunset and end for next 1 hours and 43 min. The Dhanteras puja is also known as the Dhanwantari Triodasi, Dhanvantri Jayanti Puja, Yamadeep and Dhantrayodashi.

It is the first day celebration of the five days long Diwali festival celebrations throughout the India as well as outside the country. The meaning of Dhanteras is puja of wealth at 13th day (in the Krishna paksha, dark fortnight) of the month of Ashvin according to the Hindu lunar calendar. Goddess Lakshmi puja is held at this day and there is a custom of purchasing precious things and bring it at home in the myth of Lakshmi came at home. It brings home a lot of destiny and prosperity.

At this great occasion people generally repair their home, white washing, thorough cleaning, decorate house interiorly and exteriorly, make Rangolis, light clay diyas and many more traditions to follow. They stick readymade footprints of the Goddess Lakshmi to come wealth and prosperity to their home. After sunset, people offer puja to the Goddess Lakshmi and Lord Ganesh to prosperity, wisdom and well being by offering rose or marigold garland, sweets, ghee diyas, dhoop deep, agarbatti, camphor and etc. People chant mantras, bhakti songs and arti for Goddess Lakshmi and Lord Ganesh. People wear new clothes and jewellery and play the game of gambling.

Short speech on dhanteras

धनतेरस पूरे भारत के साथ साथ दूसरे देशों में भी पॉच दिन लम्बे दिवाली समारोह के पहले दिन का त्यौहार है। धनतेरस का अर्थ है, हिन्दू चन्द्र कलैण्डर के अनुसार, अश्विन के महीने में 13 वें दिन (कृष्ण पक्ष में,अंधेरे पखवाड़े) धन की पूजा। इस दिन देवी लक्ष्मी की भी पूजा होती है, और इस दिन कुछ बहुमूल्य वस्तुऍ खरीद कर घर लाने की भी परम्परा है इस मिथक के साथ कि देवी लक्ष्मी घर आयेगी। यह घर के लिये भाग्य और समृद्धि लाता है।

धनतेरस का जश्न मनाने के पीछे पौराणिक कथा, राजा हिमा के 16 साल के बेटे की कहानी है। उसके बारे में ऐसी भविष्य वाणी हुई थी कि उसकी मृत्यु शादी के चौथे दिन सॉप द्वारा काटने पर होगी। उसका पत्नी बहुत चालाक थी, उसने अपने पति का जीवन बचाने का रास्ते खोज लिया था। उसने उस विशेष दिन अपने पति को सोने नहीं दिया। उसने अपने सभी सोने व चॉदी के बहुत सारे आभूषण और सिक्के इकट्ठे किये और अपने शयन कक्ष के दरवाजे के आगे ढेर बना दिया और कमरे में प्रत्येक जगह दीये जला दिये। अपने पति को जगाये रखने के लिये उसने कहानियॉ सुनायी।

मृत्यु के देवता, यम साँप के रुप में वहॉ पहुंचे। गहनें और दीयों के प्रकाश से उनकी आँखें चौंधिया गयी। वह कमरे में घुसने में पूरी तरह असमर्थ थे, इसलिये उन्होनें सिक्कों के ढेर के ऊपर से कूद कर जाने का निश्चय किया। किन्तु राजकुमार की पत्नी का गीत सुनने के बाद वे वहीं पूरी रात बैठ गये। धीरे धीरे सुबह हो गयी और वे बिना उसके पति को लिये वापस चलें गये। इस तरह उसने अपने पति के जीवन की रक्षा की, तभी उसी दिन से यह दिन धनतेरस के रुप में मनाया जाने लगा।

दिवाली का जश्न मनाने के पीछे एक अन्य कथा, देवताओँ और राक्षसों द्वारा अमृत पाने के लिये समुन्द्र मंथन की कथा है। धनवंतरी (जिन्हें देवताओं के चिकित्सक और भगवान विष्णु के अवतार के रूप में जाना जाता है) सागर मंथन से (अमृत के जार के साथ) निकले थे। यहीं दिन धनतेरस के रुप में मनाया जाता है।

Dhanteras speech in marathi

धनतेरस पाच दिवसीय दिवाळी उत्सव पहिल्या दिवशी चिन्हांकित. धनतेरस उत्सव, जो धंतररावदाशी किंवा धनवंतरी त्र्योडसी म्हणूनही ओळखला जातो, हिंदू महिन्याच्या कार्तिक (ऑक्टोबर / नोव्हेंबर) मध्ये कृष्णा पक्षाच्या शुभराव्या चंद्र दिवशी येतो. धनतेरस या शब्दात “धन” म्हणजे संपत्ती आहे. धनतेरस वर समृद्धी आणि चांगुलपणा देण्यासाठी देवी लक्ष्मीची पूजा केली जाते. म्हणूनच व्यापार समुदायासाठी धन तेरास अधिक महत्व आहे.

धनतेरस तयारी

शुभ दिवस चिन्हित करण्यासाठी घरे आणि व्यवसाय परिसर पुनर्निर्मित आणि सजवलेले आहेत. रंगोली डिझाईन्सच्या सुंदर पारंपारिक आराखड्यांसह प्रवेश व समृद्धि देवीचे प्रवेशाचे प्रवेश रंगीत केले आहे. तिची प्रदीर्घ प्रवासाची प्रतीक्षा करण्यासाठी, लहान पायथ्यावरील सर्व घरांमध्ये भात पिठ आणि वेलमिओन पावडर तयार केले जातात. रात्री सर्व दिवे जळत असतात.

धनतेरस परंपरा

धनतेरस हिंदूंनी सोने किंवा चांदीची वस्तू किंवा किमान एक किंवा दोन नवीन भांडी विकत घेणे शुभ मानले आहे. असा विश्वास आहे की नवीन “धन” किंवा मौल्यवान धातूचा एक प्रकार हा सुदैवाने एक चिन्ह आहे. “लक्ष्मी-पूजा” म्हणजे संध्याकाळच्या वेळी, जेव्हा दुर्दैवाने दुर्दैवाने अंधश्रद्धांच्या सावली दूर फेकण्यासाठी मातीचे छोटे दिवे लावले जातात. “भजन” – देवी-लक्ष्मींच्या स्तुतीमध्ये गायन केले जाते.

धनतेरस उत्सव

धनतेरस उत्सव आणि उत्साहाने साजरा केला जातो. “लक्ष्मी पूजा” संध्याकाळी केली जाते जेव्हा मातीच्या लहान डाययांना अंधश्रद्धांच्या सावली दूर फेकण्यासाठी प्रकाश दिला जातो. भजन आणि भक्तीपूर्ण गाणी- लक्ष्मी देवीच्या स्तुतीमध्ये आणि देवीला पारंपरिक मिठाईंचा “नैवेद्य” अर्पण केला जातो. महाराष्ट्रात गुळगुळीत कोरड्या धणे बियाणे आणि नैवेद्य म्हणून ऑफर करण्यासाठी एक विलक्षण परंपरा आहे.

गावांमध्ये जनावरांना त्यांच्या उत्पन्नाचा मुख्य स्रोत म्हणून शेतकर्यांनी सजविले आणि पूजा केली. दक्षिणी गायींना विशेष देवीची पूजा केली जाते कारण ती देवी लक्ष्मीची अवतार असल्याचे मानतात आणि म्हणून ते आजवर सजवले जातात आणि पूजा करतात

Leave a Comment