Nibandh

Essay on Red Cross Day in Hindi – विश्व रेडक्रॉस दिवस पर निबंध – Red Cross Day Short Essay

World red cross day 2018 – रेड क्रॉस डे पूरे विश्व में मनाए जाने वाला पर्व है | यह पर्व हर साल 8 मई को मनाया जाता है| इस दिन को दुननत हेनरी के जन्मदिन के उपलख में मनाया जाता है| वे एक बहुत ही नेक और महान इंसान थे| वे अंतरास्ट्रीय रेड क्रॉस कमिटी के संस्तापक या फाउंडर थे जिसने कई लोगो की जान बचाई| इस कमिटी का गठन स्विसज़रलैंड में हुआ था| वे आपातकालीन स्तिथि में या गरीब स्तिथि वाले लोगो की जरुरत में मदद करती है इसलिए इस दिवस को रेड क्रॉस डे के रूप में बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है| आज के इस पोस्ट में हम आपको paragraph on red cross in hindi, definition of red cross in hindi, slogan on red cross day in hindi, topic on red cross day in hindi, red cross society hindi meaning, red cross society wikipedia in hindi, आदि की जानकारी देंगे|

Essay on World Red Cross Day in Hindi

रेड क्रॉस डे हर वर्ष पूरे विश्व में 8 मई को मनाया जाता है| यह सोमवार को मनाया जा रहा है| आज हम आपके लिए लाये हैं रेड क्रॉस डे एस्से इन हिंदी, रेड क्रॉस डे पर विचार, Red Cross Day Poem in Hindi, रेड क्रॉस दिवस का महत्व व शायरी, रेड क्रॉस डे पर स्लोगन, World Red Cross Day Images, Essay on Red Cross Day in Hindi, रेड क्रॉस डे पर कविता, Red Cross Day Nibandh यानी की रेड क्रॉस डे पर निबंध हिंदी में 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|

विश्व रेडक्रॉस दिवस (World Red Cross Day) को अन्तर्राष्ट्रीय स्वंयसेवक दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। करीब 150 वर्षों से सम्‍पूर्ण विश्व में रेडक्रॉस दिवस को स्वंय सेवक असहाय एवं पीड़ित मानवता की सहायता के लिए मनाते आ रहे हैं। भारत में वर्ष 1920 में पार्लियामेंट्री एक्ट के तहत भारतीय रेडक्रॉस सोसायटी का गठन हुआ, तब से रेडक्रॉस के सेवक भारत में अनेक प्रकार की समस्‍याओं में लगातार निस्वार्थ भाव से अपनी सेवाएं दे रहे हैं। अन्तर्राष्ट्रीय रेडक्रॉस ने वर्ष 1920 को अन्तर्राष्ट्रीय रेडक्रॉस ‘Find the Volunteer inside You’ (अपने अन्दर के स्वयं सेवक को पहचानें) का नारा दिया है। विश्व के लगभग दो सौ देश रेडक्रॉस के विचार पर पूरी तरह से सहम‍ति दे चूूूूके है और सभी देशों के सैनिकों ने चिकित्सा के साथ साथ्‍ा प्रकृति के द्वारा हाेने वाले महाविनाश के द्वारा फंसे लोगों की मदद के लिए रेडक्रॉस हमेशा तैयार रहता है
रेडक्रॉस अभियान को महान मानवता प्रेमी जीन हेनरी डयूनेन्ट ने सम्‍पूर्ण विश्‍व में चलाया जिनका जन्म 8 मई 1828 में हुआ था। इसलिए उनके जन्म दिवस 8 मई को विश्व रेडक्रॉस दिवस के रूप में विश्वभर में मनाया जाता है। और उन्होंने समाज सेवा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किया और लोगों को मानवता की सेवा के लिए प्रेरित किया। मानवता की सेवा करने वाले लोगों के लिए उन्‍होने रेडक्रॉस नामक सोसायटी का गठन किया वर्तमान में विश्व के 186 देशों में रेडक्रॉस सोसायटी कार्य कर रही है। वर्ष 1901 में हेनरी डयूनेंट को मानव सेवा के कार्यों के लिए पहला नोबेल शांति पुरस्कार दिया गया ।

इस संस्था की पहचान के लिए सफ़ेद पट्टी पर लाल रंग के क्रास चिह्न को मान्यता दी गई। आज यह चिह्न पूरे विश्व में पीड़ित मानवता की सेवा का प्रतीक बन गया है। इसके साथ ही विश्व का पहला ब्लड बैंक रेडक्रॉस की पहल पर अमेरिका में 1937 में खोला गया । आज विश्व के अधिकांश ब्लड बैंकों का संचालन रेडक्रॉस एवं उसकी सहयोगी संस्थाओं के द्वारा किया जाता है। रेडक्रॉस द्वारा चलाए गए रक्तदान जागरूकता अभियान के कारण ही आज थैलेसिमिया, कैंसर, एनीमिया जैसी अनेक जानलेवा बीमारियों से हजारों लोगों की जान बच रही है।

Short Essay on World Red Cross Day

अगर आप पृथ्वी दिवस के लिए हर साल 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 के लिए the Red Cross Day essay, Few lines on Red Cross Day in Hindi, Sayings, Slogans, Message, SMS, Quotes, Whatsapp Status, रेड क्रॉस डे पर कविता, Jokes 140 120 Words Character तथा भाषा Hindi, English, Urdu, Tamil, Telugu, Punjabi, Haryanvi, Malayalam, Kannada, English, Bengali, Marathi, Nepali के Language Font के 3D Image, HD Wallpaper, Greetings, Photos, Pictures, Pics, Free Download जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है|

विश्व रेडक्रॉस दिवस पर निबंध

उन दिनों इटली और ऑस्ट्रेलिया के बीच भयंकर युद्ध चल रहा था। जीतने की धुन में आगे बढ़ते सैनिक एक दूसरे को मारने के लिए पूरी तरह तैयार थे।लेकिन मरने वालों और घायलों की किसी को भी चिंता नहीं थी। उन्हें दयनीय दशा में पड़े रहना पड़ता था। इस समस्या को देखते हुए जेनेवा बैंक के एक कर्मचारी जीन हैनरी डूमा ने भावनापूर्ण मनःस्थिति से विचार किया और तुरंत एक उपाय सोचा।उन्होंने नौकरी छोड़ दी। फ्रांसीसी डालजीरिया में एक फार्म खरीदा और दोनों पक्षों से संपर्क साधकर इस बात पर सहमत किया कि घायलों की चिकित्सा और मृतकों की अंत्येष्टि की सुविधा उन्हें दी जाए। इस प्रयास का नाम रखा गया रेडक्रॉस।उसका आरंभ तो छोटे रूप में हुआ, लेकिन आए दिन होने वाले युद्धों में उसकी उपयोगिता बहुत बढ़ गई। अनेक देशों की सरकारों ने रेडक्रॉस को सहयोग दिया।एक आचार संहिता बनी की युद्ध क्षेत्र में घायलों को उठाने के लिए जाने वाले रेडक्रॉस वाहनों को कोई नहीं रोकेगा।
रेडक्रॉस की आज बहुत ही सम्मानजनक स्थिति है। इसका श्रेय डूमा को जाता है। जिन्हें बाद में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया।

Essay On World Red Cross Day

अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है Red Cross Day essay, लेख एसेज, anuched, short paragraphs, pdf, Composition, Paragraph, Article हिंदी, रेड क्रॉस डे पर विशेष, some lines on Red Cross Day in hindi, 10 lines on Red Cross Day in hindi, short essay on Red Cross Day in hindi font, few lines on Red Cross Day in hindi निबन्ध (Nibandh) आदि|

World Red Cross day means 8th of May is celebrated every year as the birthday anniversary of founder of the Red Cross. Henry Dunant was the founder of the Red Cross as well as the founder of International Committee of the Red Cross (ICRC), born in the Geneva in the year 1828. He was the most famous person and became the recipient of 1st Nobel Peace Prize.

World Red Cross Day is an annual event celebration, celebrating the principles of “International Red Cross and Red Crescent Movement”. It is celebrated every year to pay tribute to the volunteers participated in the event as well as welcome their precious contribution for helping people in need.

World Red Cross Day 2018 will be celebrated all across the world by the National Societies affiliates to the ICRC (International Committee of the Red Cross) on 8th of May, at Tuesday.

Red Cross was introduced as a major contribution to the peace after the World War I by an international commission at 14th International Conference of the Red Cross. The principles of the Red Cross Truce was presented and approved on 15th International Conference at Tokyo in the year 1934 to get applicable all across the world in different regions. The possibility of its annual celebration was asked to the “League of the Red Cross Societies (LORCS)” by the International Federation of the Red Cross Societies (IFRC) General Assembly. And just 2 years later the proposal of celebrating this day annually was adopted and was first celebrated as the Red Cross Day on 8th of May in 1948. Later, it was officially named as the “World Red Cross and Red Crescent Day” in the year 1984.

World Red Cross Day is celebrated by the people on international level to alleviate people’s suffering, enhancing their dignity, protecting their life from emergencies and lots of natural disasters including epidemic diseases, flood and earthquakes. It is celebrated by all the sections of the Red Cross organizations to help people by keeping in front it’s all fundamental principles which are humanity, independence, impartiality, neutrality, universality, voluntary and unity.

International Committee of the Red Cross and its members (National Societies) organize lots of programmes and events in order to encourage volunteers as well as facilitate and promote their humanitarian activities. International Red Cross movement members assists the suffered people of any problems. People are motivated to protect their own lives and take care of the dignity of other victims.

It is celebrated annually to honor the founder of an International Red Cross Crescent Movement, Henry Dunant. It is celebrated by the National Societies (affiliated to ICRC) in their countries to aware people about the need of life protection in some drastic conditions. It highlights the international services to motivate people to hugely participate in the life saving activities.

Leave a Comment