Nibandh

शहीद उधम सिंह पर निबंध – Shaheed Udham Singh’s Martyrdom Day Essay in Hindi & English Pdf Download

Essay on Shaheed Udham Singh in hindi

सरदार उधम सिंह (26 दिसंबर 1899 से 31 जुलाई 1940) भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई में पंजाब के क्रांतिकारी के रूप में पंजीकृत हैं। उन्होंने जलियांवाला बाग नरसंहार के दौरान पंजाब के गवर्नर जनरल माइकल ओ डायर (एन: सर माइकल फ्रांसिस ओ डायर) पर गोली चलाई और उन्हें लंदन में गोली मार दी। कई इतिहासकारों का मानना है कि यह नरसंहार ओ डायर और अन्य ब्रिटिश अधिकारियों की एक सुनियोजित साजिश थी, जो पंजाब पर नियंत्रण बनाए रखने के लिए पंजाब को डराने के उद्देश्य से थे। यही नहीं, ओ डायर बाद में जनरल डायर के समर्थन से भी पीछे नहीं हटे।

Essay on Shaheed Udham Singh in hindi

उधम सिंह का जन्म शेर सिंह के रूप में 26 दिसंबर 1899 को तत्कालीन रियासत पटियाला (वर्तमान में पंजाब, भारत के संगरूर जिले) के ग्राम सुनाम में एक कंबोज परिवार में हुआ था। उनके पिता टहल सिंह कंबोज उस समय पड़ोस के एक अन्य गांव उपली में एक रेलवे क्रॉसिंग पर एक चौकीदार के रूप में कार्यरत थे। शेर सिंह और उनके बड़े भाई, मुक्ता सिंह, कम उम्र में अपने माता-पिता को खो चुके थे; 1901 में उनकी मां की मृत्यु हो गई, और उनके पिता ने 1907 में पालन किया, दो भाइयों को बिना किसी विकल्प के छोड़ दिया, लेकिन 24 अक्टूबर 1907 को अमृतसर के पुतलीघर में केंद्रीय खालसा अनाथालय में प्रवेश लेने के लिए। अनाथालय में, उन्हें सिख धर्म में दीक्षा दी गई और फलस्वरूप प्राप्त किया। नए नाम; शेर सिंह उधम सिंह बने, जबकि उनके भाई ने साधु सिंह का नाम लिया। दुख की बात है कि साधु सिंह की भी 1917 में एक दशक बाद मृत्यु हो गई, जिससे 17 वर्षीय उधम पूरी दुनिया में अकेली रह गईं।

 

रविवार, 13 अप्रैल 1919, बैसाखी का दिन था – नए साल के आगमन का जश्न मनाने के लिए एक प्रमुख पंजाबी त्यौहार – और आस-पास के गांवों के हजारों लोगों ने अमृतसर में आम उत्सव और मौज-मस्ती के लिए एकत्रित किया था। पशु मेले के बंद होने के बाद, सभी लोग जलियांवाला बाग में 6-7 एकड़ के एक सार्वजनिक उद्यान में एकत्र होने लगे, जो चारों तरफ से दीवार पर लगा हुआ था। यह आशंका है कि किसी भी समय एक बड़ा विद्रोह हो सकता है, कर्नल रेजिनाल्ड डायर ने पहले सभी बैठकों पर प्रतिबंध लगा दिया था, हालांकि, यह बहुत कम संभावना थी कि आम जनता को प्रतिबंध का पता था। जलियांवाला बाग में सभा की बात सुनकर, कर्नल डायर ने अपने सैनिकों के साथ मार्च किया, बाहर निकलने पर मुहर लगा दी और अपने आदमियों को पुरुषों, महिलाओं और बच्चों पर अंधाधुंध गोलियां चलाने का आदेश दिया।

गोला-बारूद खत्म होने से पहले दस मिनट के पागलपन में, पूरा तबाही और नरसंहार हुआ था। आधिकारिक ब्रिटिश भारतीय सूत्रों के अनुसार, 379 लोगों की मौत हो गई और 1,100 लोग घायल हो गए, हालांकि, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने 1,500 घायलों के साथ मौतों को 1000 से अधिक होने का अनुमान लगाया। प्रारंभ में, ब्रिटिश साम्राज्य में रूढ़िवादियों द्वारा एक नायक के रूप में प्रतिष्ठित, ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स, ने अपनी नियुक्ति से हटाकर, अपनी पदोन्नति से गुजरने और आगे के रोजगार से रोककर हैरी डायर को बुरी तरह से सताया और अनुशासित किया।

Shaheed udham singh nibandh

Essay on Shaheed Udham Singh

उधम सिंह का जन्म शेर सिंह के नाम से 26 दिसम्बर 1899 को सुनम, पटियाला, में हुआ था। उनके पिता का नाम टहल सिंह था और वे पास के एक गाँव उपल्ल रेलवे क्रासिंग के चौकीदार थे।

सात वर्ष की आयु में उन्होंने अपने माता पिता को खो दिया जिसके कारण उन्होंने अपना बाद का जीवन अपने बड़े भाई मुक्ता सिंह के साथ 24 अक्टूबर 1907 से केंद्रीय खालसा अनाथालय Central Khalsa Orphanage में जीवन व्यतीत किया।

दोनों भाईयों को सिख समुदाय के संस्कार मिले अनाथालय में जिसके कारण उनके नए नाम रखे गए। शेर सिंह का नाम रखा गया उधम सिंह और मुक्त सिंह का नाम रखा गया साधू सिंह। साल 1917 में उधम सिंह के बड़े भाई का देहांत हो गया और वे अकेले पड़ गए।

उधम सिंह ने अनाथालय 1918 को अपनी मेट्रिक की पढाई के बाद छोड़ दिया। वो 13 अप्रैल 1919 को, उस जलिवाला बाग़ हत्याकांड के दिल दहका देने वाले बैसाखी के दिन में वहीँ मजूद थे।

उसी समय General Reginald Edward Harry Dyer ने बाग़ के एक दरवाज़ा को छोड़ कर सभी दरवाजों को बंद करवा दिया और निहत्थे, साधारण व्यक्तियों पर अंधाधुंध गोलियां बरसा दी। इस घटना में हजारों लोगों की मौत हो गयी। कई लोगों के शव तो कुए के अन्दर से मिले।

इस घटना के घुस्से और दुःख की आग के कारण उधम सिंह ने बदला लेने का सोचा। जल्दी ही उन्होंने भारत छोड़ा और वे अमरीका गए। उन्होंने 1920 के शुरुवात में Babbar Akali Movement के बारे में जाना और वे वापस भारत लौट आये।

वो छुपा कर एक पिस्तौल ले कर आये थे जिसके कारण पकडे जाने पर अमृतसर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। इसके कारण उन्हें 4 साल की जेल हुई बिना लाइसेंस पिस्तौल रखने के कारण।

जेल से छुटने के बाद इसके बाद वे अपने स्थाई निवास सुनाम में रहने के लिए आये पर वहां के व्रिटिश पुलिस वालों ने उन्हें परेशां किया जिसके कारण वे अमृतसर चले गए। अमृतसर में उधम सिंह ने एक दुकान खोला जिसमें एक पेंटर का बोर्ड लगाया और राम मुहम्मद सिंह आजाद के नाम से रहने लगे Ram Mohammad Singh Azad. उधम सिंह ने यह नाम कुछ इस तरीके से चुना था की इसमें सभी धर्मों के नाम मौजूद थे।

उधम सिंह भगत सिंह के कार्यों और उनके क्रन्तिकारी समूह से बहुत ही प्रभावित हुए थे। 1935 जब वे कश्मीर गए थे, उन्हें भगत सिंह के तस्वीर के साथ पकड़ा गया था।

उन्हें बिना किसी अपराध के भगत सिंह का सहयोगी मान लिया गया और भगत सिंह को उनका गुरु। उधम सिंह को देश भक्ति गीत गाना बहुत ही अच्छा लगता था और वे राम प्रसाद बिस्मिल के गीतों के बहुत शौक़ीन थे जो क्रांतिकारियों के एक महान कवी थे।

कश्मीर में कुछ महीने रहने के बाद, उधम सिंह ने भारत छोड़ा। 30 के दशक में वे इंग्लैंड गए। उधम सिंह जलियावाला बाग हत्या कांड का बदला लेने का मौका ढूंढ रहे थे। यह मौका बहुत दिन बाद 13 मार्च 1940 को आया।

उस दिन काक्सटन हॉल, लन्दन Caxton Hall, London में ईस्ट इंडिया एसोसिएशन East India Association और रॉयल सेंट्रल एशियाई सोसाइटी Royal Central Asian Society का मीटिंग था। लगभग शाम 4.30 बजे उधम सिंह ने पिस्तौल से 5-6 गोलियां सर माइकल ओ द्व्येर Sir Michael O’Dwyer पर फायर किया और वहीँ उसकी मौत हो गयी।

इस गोलीबारी के समय भारत के राज्य सचिव को भी Secretary of State for India चोट लग गयी जो इस सभा के प्रेसिडेंट President थे। सबसे बड़ी बात तो यह थी की उधम सिंह को यह करने का कोई भी डर नहीं था। वे वहां से भागे भी नहीं बस उनके मुख से यह बात निकली की – मैंने अपने देश का कर्तव्य पूरा कर दिया।

1 अप्रैल, 1940, को उधम सिंह को जर्नल डायर Sir Michael O’Dwyer को हत्यारा माना गया। 4 जून 1940 को पूछताच के लिए सेंट्रल क्रिमिनल कोर्ट, पुराणी बरेली Central Criminal Court, Old Bailey में रखा गया था अलाकी उन्हें जस्टिस एटकिंसन Justice Atkinson के फांसी की सजा सुना दी थी।

15 जुलाई 1940 में एक अपील दायर की गयी थी उन्हें फांसी से बचाने के लिए परन्तु उसको खारीच कर दिया गया। 31 जुलाई 1940 को उधम सिंह को लन्दन के Pentonville जेल में फांसी लगा दिया गया।

उनकी एक आखरी इच्छा थी की उनके अस्थियों को उनके देश भेज दिया जाये पर यह नहीं किया गया। 1975 में भारत सरकार, पंजाब सरकार के साथ मिलकर उधम सिंह के अस्थियों को लाने में सफल हुई। उनको स्राधांजलि देने के लिए लाखों लोग जमा हुए थे।

Udham Singh’s Martyrdom Day essay in Punjabi

ਇਹ 13 ਮਾਰਚ, 1940 ਦਾ ਦਿਨ ਸੀ. ਈਸਟ ਇੰਡੀਆ ਐਸੋਸੀਏਸ਼ਨ ਅਤੇ ਲੰਡਨ ਦੇ ਸੈਕਸਟਨ ਹਾਲ ਦੇ ਰਾਇਲ ਏਸ਼ੀਅਨ ਸੁਸਾਇਟੀ ਦੀ ਤਰਫੋਂ ਇੱਕ ਮੀਟਿੰਗ ਆਯੋਜਿਤ ਕੀਤੀ ਗਈ ਸੀ, ਵਿਸ਼ਵ ਸਥਿਤੀ ਅਤੇ ਅਫਗਾਨਿਸਤਾਨ ਬਾਰੇ. ਆਖਰੀ ਸਪੀਕਰ ਸਰ ਮਾਈਕਲ ਓ’ਡਾਵਰ ਸੀ. ਮੁਲਾਕਾਤ ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੇ ਭਾਸ਼ਣ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਹੋਈ। ਉਸੇ ਸਮੇਂ ਇੱਕ ਭਾਰਤੀ ਨੌਜਵਾਨ ਨੂੰ ਮੀਟਿੰਗ ਵਿੱਚ ਉਠਾਇਆ ਗਿਆ ਸੀ ਅਤੇ ਉਸਨੇ ਜਨਰਲ ਰੀਬੇਰ ਕੈਸੀਨ ਵਿੱਚ ਆਪਣੇ ਰਿਵਾਲਡਰ ਤੋਂ ਕਈ ਗੋਲੀਆਂ ਲਾਈਆਂ ਸਨ. ਗੋਲੀਆਂ ਸ਼ੁਰੂ ਹੁੰਦਿਆਂ ਹੀ ਜਨਰਲ ਡਾਇਰ ਡਿੱਗ ਪਿਆ। ਇਕ ਪੈਨਿਕ ਮਾਰਚ ਨੇ ਅਜੇ ਗੋਲੀਆਂ ਸੁਣਣੀਆਂ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਦਿੱਤੀਆਂ ਸਨ ਅਤੇ ਹਰ ਕੋਈ ਆਪਣੀ ਜਾਨ ਬਚਾਉਣ ਲਈ ਬਚ ਨਿਕਲਿਆ ਸੀ. ਜਦੋਂ ਜਵਾਨ ਨੂੰ ਯਕੀਨ ਹੋ ਗਿਆ ਕਿ ਜਨਰਲ ਡਵਾਇਰ ਮਰ ਗਿਆ ਸੀ ਤਾਂ ਉਹ ਮੁੱਖ ਗੇਟ ਤੇ ਹੌਲੀ ਅਤੇ ਚੁੱਪਚਾਪ ਆ ਗਏ ਅਤੇ ਬ੍ਰਿਟਿਸ਼ ਸਰਜੇਂਟ ਦੇ ਸਾਹਮਣੇ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਗ੍ਰਿਫਤਾਰ ਕਰ ਲਿਆ.

ਇਹ ਵੀਰ ਕ੍ਰਾਂਤੀਕਾਰੀ hamਧਮ ਸਿੰਘ ਸੀ ਜੋ ਵਿਦੇਸ਼ ਗਿਆ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਦੇਸ਼ ਵਿੱਚ ਭਾਰਤ ਵਿੱਚ ਨਿਰਦੋਸ਼ ਕਾਤਲਾਂ ਦੀ ਕੁਰਬਾਨੀ ਦਿੱਤੀ ਅਤੇ ਆਜ਼ਾਦੀ ਦੀ ਲੜਾਈ ਵਿੱਚ ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੀ ਕੁਰਬਾਨੀ ਦਿੱਤੀ। ਸ਼ਹੀਦ ਊਧਮ ਸਿੰਘ ਦਾ ਜਨਮ 26 ਦਸੰਬਰ 1899 ਨੂੰ ਸਰਦਾਰ ਤੁਲਹਲ ਸਿੰਘ ਦੇ ਸਧਾਰਨ ਪਰਵਾਰ ਵਿਚ ਸੁਨਾਮ ਜ਼ਿਲ੍ਹੇ ਸੰਗਰੂਰ ਵਿਚ ਹੋਇਆ. ਬਚਪਨ ਤੋਂ ਬਾਅਦ, ਉਸਦੇ ਮਾਤਾ ਪਿਤਾ ਅਤੇ ਵੱਡੇ ਭਰਾ ਸਾਧੂ ਸਿੰਘ ਸਿਡੋਲ ਆਏ. Hamਧਮ ਸਿੰਘ ਇਸ ਸੰਸਾਰ ਵਿੱਚ ਇਕੱਲਾ ਰਹਿ ਗਿਆ ਸੀ। ਉਸਦੇ ਚਾਚੇ ਚੰਚਲ ਸਿੰਘ ਨੇ ਉਸਨੂੰ ਮਨੀਟੂਲ ਸਿਕਸ ਯਤੀਮਖਾਨਾ, ਅੰਮ੍ਰਿਤਸਰ ਵਿਖੇ ਭਰਤੀ ਕੀਤਾ. ਉਥੇ ਉਸਨੇ ਤਰਖਾਣ ਦਾ ਕੰਮ ਸਿੱਖ ਲਿਆ ਇਸ ਸਮੇਂ ਦੌਰਾਨ ਉਸ ਨਾਲ ਭਗਤ ਸਿੰਘ ਅਤੇ ਕੁਝ ਹੋਰ ਇਨਕਲਾਬੀਆਂ ਨੇ ਸੰਪਰਕ ਕੀਤਾ। . ਇਨਕਲਾਬੀ ਸਰਗਰਮੀਆਂ ਕਾਰਨ ਪੁਲਿਸ ਨੇ ਉਸਨੂੰ ਗ੍ਰਿਫਤਾਰ ਕਰ ਲਿਆ। ਉਹ ਮੁੱਲਾਂ ਅਤੇ ਰਾਵਲਪਿੰਡੀ ਜ਼ਿਲ੍ਹਿਆਂ ਵਿੱਚ ਬ੍ਰਿਟਿਸ਼ ਸਰਕਾਰ ਉੱਤੇ ਚਾਰ ਸਾਲ ਤਸ਼ੱਦਦ .ਾਹਦਾ ਰਿਹਾ। ਫਿਰ ਉਸਨੇ ਅਮ੍ਰਿਤਸਰ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਲੱਕੜ ਦੀ ਦੁਕਾਨ ਸ਼ੁਰੂ ਕੀਤੀ ਅਤੇ ਉਸਦਾ ਨਾਮ ਰਾਮ ਮੁਹੰਮਦ ਸਿੰਘ ਅਜ਼ਾਦ ਰੱਖਿਆ.

6 ਅਪ੍ਰੈਲ, 1919 ਨੂੰ, ਰੋਲੇਟ ਐਕਟ ਦੀ ਵਾਪਸੀ ਲਈ ਭਾਰਤ ਨੂੰ ਦਬਾਉਣ ਲਈ ਇਕ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਦਿਨ ਮਨਾਇਆ ਗਿਆ. ਅਤੇ ਅਪ੍ਰੈਲ ਨੂੰ, ਸਾਰੇ ਭਾਈਚਾਰਿਆਂ ਦੇ ਲੋਕਾਂ ਨੇ ਰਾਮਨਵਮੀ ਦੇ ਤਿਉਹਾਰ ਨੂੰ ਰਾਸ਼ਟਰੀ ਏਕਤਾ ਉਤਸਵ ਵਜੋਂ ਮਨਾਇਆ. ਇਹ ਸਭ ਵੇਖ ਕੇ ਬ੍ਰਿਟਿਸ਼ ਸਰਕਾਰ ਘਬਰਾ ਗਈ। 10 ਅਪ੍ਰੈਲ ਨੂੰ, ਮਹਾਤਮਾ ਗਾਂਧੀ, ਡਾ: ਸਤਪਾਲ ਅਤੇ ਡਾਕਟਰ ਕਿਚਲੂ ਨੂੰ ਗ੍ਰਿਫਤਾਰ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ. ਇਸ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਲੋਕਾਂ ਨੇ ਸ਼ਾਂਤਮਈ ਜਲੂਸ ਕੱ .ਿਆ। ਜਲਦੀ ਹੀ ਜਲੂਸ ਭੰਡਾਰ ਪੁੱਲ ‘ਤੇ ਪਹੁੰਚਦੇ ਹੀ ਫੌਜ ਨੇ ਇਸ’ ਤੇ ਫਾਇਰ ਕਰ ਦਿੱਤਾ, ਕਿਸ ਤੋਂ? ਵੀਹ ਲੋਕ ਮਾਰੇ ਗਏ ਅਤੇ ਬਹੁਤ ਸਾਰੇ ਜ਼ਖਮੀ ਹੋਏ। ਇਸ ਨਾਲ ਲੋਕਾਂ ਦਾ ਭੰਗ ਹੋ ਗਿਆ ਅਤੇ ਬਗਾਵਤ ਹੇਠਾਂ ਆ ਗਈ। ਸਰਕਾਰੀ ਸੰਪਤੀ ‘ਚ ਲੁੱਟ, ਨਸ਼ਟ ਹੋਣ ਅਤੇ ਸਾੜਫੂਕ ਦੀਆਂ ਘਟਨਾਵਾਂ ਵਾਪਰੀਆਂ. ਰਾਹ ਵਿਚ ਆਏ ਅੰਗਰੇਜ਼, ਉਹ ਮਾਰੇ ਗਏ। ਇਹ ਵੇਖਦਿਆਂ ਅਧਿਕਾਰੀਆਂ ਨੇ ਹੱਥ-ਪੈਰ ਫਿਸਲਣੇ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਦਿੱਤੇ। ਸ਼ਹਿਰ ਨੂੰ ਫੌਜ ਦੇ ਹਵਾਲੇ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਸੀ। ਵੀਹ 144 ਲਗਾ ਦਿੱਤੀ ਗਈ ਸੀ ਅਤੇ ਰਾਤ ਨਿਸ਼ਚਤ ਕੀਤੀ ਗਈ ਸੀ. 11 ਤੋਂ 12 ਅਪ੍ਰੈਲ ਤੱਕ ਪੂਰਾ ਸ਼ਹਿਰ ਬੰਦ ਰਿਹਾ. ਵਿਦੇਸ਼ੀ ਸ਼ਾਸਕਾਂ ਦੇ ਜ਼ੁਲਮ ਕਾਨੂੰਨਾਂ ਦੇ ਵਿਰੋਧ ਵਿੱਚ, 19 ਅਪ੍ਰੈਲ, 1919 ਨੂੰ, ਜਲਿਆਂਵਾਲਾ ਬਾਗ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਮੀਟਿੰਗ ਕੀਤੀ ਗਈ, ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਹਜ਼ਾਰਾਂ ਲੋਕ ਇਕੱਠੇ ਹੋਏ। ਬ੍ਰਿਟਿਸ਼ ਸਰਕਾਰ ਇਸ ਤੋਂ ਘਬਰਾ ਗਈ ਉਸ ਸਮੇਂ, ਜਨਰਲ ਡਵੇਅਰ ਸੈਨਾ ਦੇ ਨਾਲ ਜਲਿਆਨੀ ਬਾਲਾ ਬਾਗ ਵਿੱਚ ਦਾਖਲ ਹੋਇਆ ਅਤੇ ਅਚਾਨਕ ਨਿਹੱਥੇ ਲੋਕਾਂ ‘ਤੇ ਫਾਇਰਿੰਗ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਦਿੱਤੀ. ਇਸ ਅਚਾਨਕ ਹੋਏ ਹਮਲੇ ਬਾਰੇ ਲੋਕ ਚੀਕਾਂ ਮਾਰਨ ਲੱਗੇ। ਕਈਆਂ ਨੂੰ ਗੋਲੀਆਂ ਨਾਲ ਭੁੰਨੇ ਹੋਏ ਸਨ, ਕੁਝ ਭਗਦੜ ਵਿੱਚ ਫਸ ਗਏ ਸਨ ਕੁਝ ਨੇ ਖੂਹ ਵਿੱਚ ਛਾਲ ਮਾਰ ਦਿੱਤੀ ਅਤੇ ਜਾਨ ਦਿੱਤੀ. ਦਸ ਮਿੰਟਾਂ ਲਈ, ਰਾਈਫਲਾਂ ਤੋਂ 1654 ਗੋਲੀਆਂ ਚਲਾਈਆਂ ਗਈਆਂ, ਨਤੀਜੇ ਵਜੋਂ ਨ੍ਰਿਤ ਅਤੇ ਮੌਤ ਹੋ ਗਈ. ਜ਼ਬਰਦਸਤ ਗੋਲਾਬਾਰੀ ਵਿਚ 500 ਲੋਕ ਮਾਰੇ ਗਏ ਅਤੇ ਹਜ਼ਾਰਾਂ ਜ਼ਖਮੀ ਹੋਏ। ਇਸਦੇ ਨਾਲ ਹੀ ਪੰਜਾਬ ਵਿੱਚ ਮਾਰਸ਼ਲ ਲਾਅ ਲਾਗੂ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ। ਜਿਸ ਸਮੇਂ ਜਨਰਲ ਡਵਾਈਅਰ ਹੋਲੀ ਹੋਲੀ ਖੇਡ ਰਿਹਾ ਸੀ, ਉਸ ਸਮੇਂ hamਧਮ ਸਿੰਘ ਆਪਣੇ ਹੋਰ ਸਾਥੀ ਸਿੰਘਾਂ ਦੀ ਮਦਦ ਨਾਲ ਸਿੰਘ ਬਾਗ ਵਿਚ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਪਾਣੀ ਦੇਣ ਲਈ ਸੇਵਾ ਕਰ ਰਿਹਾ ਸੀ। ਇਸ ਸੀਟੀ ਨੇ hamਧਮ ਸਿੰਘ ਦੇ ਦਿਲ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਡੂੰਘਾ ਜ਼ਖ਼ਮ ਬਣਾਇਆ ਅਤੇ ਉਸਨੇ ਇਸ ਸੀਟੀ ਅੰਬ ਦਾ ਲਹੂ ਦੀ ਮਿੱਟੀ ਦੇ ਮੱਥੇ ਉੱਤੇ ਰੱਖ ਕੇ ਬਦਲਾ ਲੈਣ ਦੀ ਸਹੁੰ ਖਾਧੀ। ਜਨਰਲ ਜਨਰਲ ਡਵੇਅਰ ਵਾਪਸ ਆਉਣ ਤੋਂ ਬਾਅਦ, ਉਹ ਲੰਡਨ ਵਾਪਸ ਚਲਾ ਗਿਆ ਅਤੇ ਸਰਕਾਰੀ ਪੈਨਸ਼ਨਾਂ ਤੇ ਐਸ਼ ਦੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਨੂੰ ਲੱਭਿਆ. Hamਧਮ ਸਿੰਘ ਦੇ ਮਨ ਵਿਚ, ਤਬਦੀਲੀ ਦੀ ਅੱਗ ਬਲ ਰਹੀ ਸੀ. ਉਹ ਲੁਕ ਕੇ ਛੁਪੇ ਹੋਏ ਕਈ ਦੇਸ਼ਾਂ ਤੋਂ ਲੰਡਨ ਗਿਆ ਅਤੇ ਉਥੇ ਇੰਡੀਆ ਹਾ Houseਸ ਵਿਚ ਠਹਿਰੇ। ਜਨਰਲ ਡਰਾਇਰ ਨੂੰ ਲੱਭਣ ਅਤੇ ਸੈਂਕੜੇ ਭਾਰਤੀਆਂ ਦੇ ਖੂਨ ਦੇ ਬਦਲਾ ਲੈਣ ਲਈ ਇੱਥੇ ਇਕੋ ਜਿਹਾ ਮਕਸਦ ਰਿਹਾ, ਉਸਨੂੰ ਉਹ ਜਾਣਕਾਰੀ ਜਲਦੀ ਮਿਲ ਗਈ ਆਖਰਕਾਰ, ਉਸ ਦੀਆਂ ਸੁੱਖਣਾ ਪੂਰੀਆਂ ਕਰਨ ਦਾ ਮੌਕਾ 13 ਮਾਰਚ ਹੈ. 1940 ਵਿਚ, ਉਸਨੇ ਲੰਡਨ ਦੇ ਸਕਸਨ ਹਾਲ ਵਿਚ ਉਸੇ ਤਰ੍ਹਾਂ ਭੁੰਨਣ ਲਈ ਜਨਰਲ ਡੀਅਰ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕੀਤਾ ਜਿਵੇਂ ਉਹ ਨਿਹੱਥੇ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਗੋਲੀਆਂ ਨਾਲ ਭੁੰਨਦਾ ਸੀ. ਬ੍ਰਿਟਿਸ਼ ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਉਸ ਉੱਤੇ ਮੁਕਦਮਾ ਕੀਤਾ ਅਤੇ ਉਸਨੂੰ ਮੌਤ ਦੀ ਸਜ਼ਾ ਸੁਣਾਈ।

सरदार उधम सिंह एस्से इन हिंदी

ऊपर हमने आपको shaheed udham singh essay in punjabi, udham singh ki jati, shaheed udham singh history in hindi, some lines on shaheed udham singh in hindi, article on shaheed udham singh in hindi, udham singh ki cast kya thi, udham singh in punjabi language, shaheed udham singh ki jati, short speech on udham singh, shaheed udham singh father and mother name, shaheed udham singh family, udham singh son, udham singh last words, आदि की जानकारी दी है |

13 मार्च, 1940 का दिन था । लन्दन के सेक्सटन हाल में ईस्ट इण्डिया एसोसिएशन और रॉयल एशियन सोसाइटी की ओर से विश्व स्थिति और अफगानिस्तान के विषय पर एक गोष्ठी हो रही थी । इसमें अन्तिम वक्ता जनरल सर माइकेल ओ डॉयर थे । उनके भाषण के बाद सभा समाप्त हो गयी । उसी समय सभा में एक भारतीय नौजवान उठा और उसने अपने रिवालवर से जनरल डीयर केसीने में कई गोलियां उतार दीं । गोलियां लगते ही जनरल डॉयर गिर पड़ा । गोलियों की आवाज सुनते ही हाल में भगदड़ मच गई और हर कोई अपनी जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगा । उस नौजवान को जब यह विश्वास हो गया कि जनरल डॉयर मर चुका है तब वह शान्त भाव से धीरे- धीरे चलता हुआ मुख्य द्वार पर आ गया और स्वयं को ब्रिटिश सार्जेन्ट के सामने गिरफ्तार करा दिया ।

यह वीर क्रान्तिकारी ऊधम सिंह था जिसने विदेश में जाकर भारत में निर्दोष लोगों के हत्यारे को उसी के देश में मौत के घाट उतारकर आजादी की लड़ाई में अपनी आहुति दी । शहीद ऊधम सिंह का जन्म 26 दिसम्बर, 1899 को जिला संगरूर के सुनाम में सरदार टहल सिंह के यहाँ एक साधारण परिवार में हुआ । बचपन में ही एक के बाद उसके माता-पिता और बड़ा भाई साधू सिंह परलोक सिधार गये । ऊधम सिंह इस दुनिया में अकेला रह गया । इसके चाचा चंचल सिंह ने उसे मेंटुल सिक्स यतीमखाना, अमृतसर में भर्ती करा दिया । वहाँ उन्होंने बढ़ई का काम सीखा । इसी दौरान उसका सम्पर्क भगत सिंह और कुछ दूसरे क्रान्तिकारियों से हुआ. । क्रान्तिकारी गतिविधियों के कारण पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया । वे चार वर्ष मुल्लान और रावलपिंडी की जेलों में ब्रिटिश हुकूमत की यातनायें सहते रहे । तब उन्होंने अमृतसर में ही एक लकड़ी की दुकान शुरू कर दी और अपना नाम राम मोहम्मद सिंह आजाद रख लिया ।

भारत पर दमन करने वाले रौलेट एक्ट की वापसी के लिये 6 अप्रैल, 1919 को एक विशेष दिवस के रूप में मनाया गया । व अप्रैल को सभी समुदायों के लोगों ने रामनवमी का त्योहार राष्ट्रीय एकता पर्व के रूप में मनाया । यह सब देखकर ब्रिटिश हुकूमत बौखला गयी । 10 अप्रैल को महात्मा गाँधी, डॉक्टर सतपाल और डॉक्टर किचलू को गिरफ्तार कर लिया गया । इसके बाद लोगों ने एक शान्तिप्रिय जुलूस निकाला । जैसे ही यह जुलूस भण्डारी पुल पर पहुँचा, सेना ने इस पर गोली चला दी जिससे? बीस लोग मारे गये और कई घायल हो गये । इससे जनता भड़क उठी और बगावत रार उतर आयी । सरकारी सम्पत्ति की लूट- पाट, तोड़-फोड़ और आगजनी जैसी घटनायें हुईं । जो भी अंग्रेज रास्ते में आया उसे मार दिया गया । यह देखकर अधिकारियों के हाथ-पाँव फूल गये । शहर को सेना के हवाले कर दिया गया । दफा 144 लगा दी गयी और रात का र्म्म लगा दिया गया । 11 से 12 अप्रैल को सारा शहर बन्द रहा । विदेशी शासकों के दमनकारी कानूनों का विरोध करने के लिए 19 अप्रैल, 1919 जलियांवाला बाग में एक सभा का आयोजन किया गया जिसमें हजारों लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी । इससे ब्रिटिश सरकार बौखला गई । तभी जनरल डॉयर ने सेना के साथ जलियांबाला बाग में एक तंग गली से प्रवेश करके अचानक निहत्थे लोगों पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं । लोग इस अचानक हमले से बौखला कर इधर-उधर भागने लगे । कुछ गोलियों से भूने गये, कुछ भगदड़ में रौंदे गये । कुछ ने कुएं में छलांग लगा कर जान दे दी । दस मिनट तक राइफलों से 1654 गोलियां चलाई गयीं जिससे मौत का तांडव नाच होता रहा । भीषण गोलाबारी से 500 लोग मारे गये और हजारों घायल हो गये । इसके साथ ही पंजाब में मार्शल लॉ लगा दिया गया । जिस समय जनरल डॉयर खून की होली खेल रहा था, उस समय ऊधम सिंह बाग में अपने दूसरे साथियों के साथ मिलकर लोगों को पानी पिलाने की सेवा कर रहा था । इस कल्लेआम ने ऊधम सिंह के दिल में एक गहरा घाव कर दिया और उसने खून से रंगी मिट्टी को माथे से लगाकर इस कल्ले आम का बदला लेने की कसम खाई । जनरल डॉयर रिटायर होने के पश्चात् वापिस लन्दन चला गया और सरकारी पेन्हान पर ऐश की जिन्दगी बिताने लगा । ऊधम सिंह के मन में बदले की आग धक- धक कर जल रही थी । वह छिपता-छिपाता कई देशों से होता हुआ लन्दन जा पहुंचा और वहाँ इण्डिया हाऊस में रहने लगा । उसका वहाँ पर ठहरने का एक ही उद्देश्य था कि किसी तरह से जनरल डॉयर का पता लगाना और सैकड़ों भारतवासियों के खून का बदला लेना । उसे वह जानकारी जल्दी ही मिल गई । आखिर उसे अपनी कसम पूरी करने का मौका 13 मार्च. 1940 को मिल गया तब उसने लन्दन के सेक्सन हॉल में जनरल डीयर को गोलियां से उसी प्रकार भूना जैसे उसने निहत्थे लोगों को गोलियां से भूना था । अंग्रेज सरकार ने उस पर मुकद्दमा चलाया और उसे फांसी की सजा दी ।

Leave a Comment