Aastha

हनुमान जी की आरती – Jay Hanuman ki Aarti – Aarti Kije Hanuman Lala Ki

हनुमान आरती

हिन्दू धर्म के अनुसार हनुमान जी भगवान् शिव जी के अवतार है जो कि श्री राम जी के परम भक्त है। हमुमान जी के पिता का नाम केसरी और माता का नाम अंजनी है। हनुमान जी को केसरी नन्दन, अंजनी पुत्र और पवन पुत्र के नाम से भी जाना जाता है। हनुमान जी का जन्म चैत्र माह की शुक्ल पूर्णिमा को हुआ था। जिसे हर साल बजरंगबली जयंती के रूप में मनाया जाता है।

हनुमान जी की भक्ति सबसे सहज और सरल है। जो कि हनुमान चालीसा, मंत्र और Tuesday Aarti यानि Hanuman Ji Aarti के पाठ के माध्यम से किया जाता है। कई बार बुजुर्ग लोग बोलते है कि हनुमान जी की आरती गाओ या Hanuman Ji ki Aarti Sunao पर आरती याद न होने के कारण सुना नहीं पाते लेकिन आज हम इस लेख में Aarti Hanuman Ji Maharaj Ki, Hanuman Aarti Fast, Hanuman ki Aarti Bhajan और Aarti Hanuman Ji के बारे में जानकारी प्रस्तुत कर रहे है।

जिससे आपको आरती याद रखने में मदद मिलेगी और आप Internet के द्वारा भी Aarti Sangrah को Hanuman.Aarti, Hanuman Dada ni Aarti और Jay Bajrangbali ki Aarti के नाम और साथ ही मंगलवार आरती या Mangalwar ki Aarti नाम से भी Search कर सकते है और आप Shri Hanuman Aarti Photo,  Hanuman Aarti pdf, तथा Hanuman Ji ki Aarti mp3 में Download कर सकते है।

श्री हनुमान की आरती (Hanuman Ji Aarti in Hindi) :

हनुमान आरती_1

||आरती कीजै हनुमान लला की ||

आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।।

जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके।।

अनजानी पुत्र महाबलदायी। संतान के प्रभु सदा सहाई।

दे बीरा रघुनाथ पठाए। लंका जारी सिया सुध लाए।

लंका सो कोट समुद्र सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई।

लंका जारी असुर संहारे। सियारामजी के काज संवारे।

लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे। आणि संजीवन प्राण उबारे।

पैठी पताल तोरि जम कारे। अहिरावण की भुजा उखाड़े।

बाएं भुजा असुरदल मारे। दाहिने भुजा संतजन तारे।

सुर-नर-मुनि जन आरती उतारे। जै जै जै हनुमान उचारे।

कंचन थार कपूर लौ छाई। आरती करत अंजना माई।

लंकविध्वंस कीन्ह रघुराई। तुलसीदास प्रभु कीरति गाई।

जो हनुमान जी की आरती गावै। बसी बैकुंठ परमपद पावै।

आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।

Hanuman Ji ki Aarti mp3

Hanuman Aarti in Marathi

हनुमान आरती_2

जय हनुमान लाला यांची आरती

जय हनुमान लाला यांची आरती दुष्ट दलन रघुनाथ कला.
गिरीवार बळकावुन शिवरले. रोगाच्या दोषांकडे डोकावू नका.
अज्ञात पुत्र महाबलदयी। मुलांचा परमेश्वर कायम टिकला.
दे बिरा रघुनाथ पाठे. लंका सोडला सिया सुध ला।
लंकेने कोटाप्रमाणे समुद्र खणला. जाट पवनसुत बार आणला नाही.
लंका जरी असुर कोड. सयारामजींचे कार्य.
लक्ष्मण बेशुद्ध झाला जीवन आणि जीवन ओसंडून वाहत आहे
पैठि पाटल तोरी जाम करी अहिरावणचा बाहू उपटून टाका.
डाव्या हाताला वेग आला. उजवा बाहू संजन तारे.
सुर-नर-मुनी जन आरती झाली. जय जय जय हनुमान उचारे
कांचन थर कपूर ज्योत आरती करात अंजना मै.
लंकविधवंश कीन्ह रघुराई। तुलसीदास प्रभूंनी कीर्ती गायली.
भगवान हनुमानाची आरती गवई. बासी बैकुंठ परमपद पावाई
जय हनुमान लाला यांची आरती दुष्ट दलन रघुनाथ कला.

Hanuman Ji Ni Aarti Lyrics in Gujarati

हनुमान आरती_4

|| આરતી કી જય હનુમાન લાલા કી ||

જય હનુમાન લાલાની આરતી દુષ્ટ દલન રઘુનાથ કલા.

ગિરિવર બળપૂર્વક કાપી નાખ્યો. રોગના ખામીની નજીક ડોકિયું ન કરો.

અજાણ્યો પુત્ર મહાબલાદિ. બાળકો ભગવાન કાયમ સહન.

દે બીરા રઘુનાથ પાઠે. લંકા છૂટે સિયા સુધ લાવ્યા.

લંકાએ કોટની જેમ સમુદ્ર ખોદ્યો હતો. જાટ પવનસુત બાર ન લાવ્યો.

લંકા જરી અસુરા કોડ. સયારામજીનું કાર્ય.

લક્ષ્મણ બેભાન થઈ ગયો જીવન અને જીવન છલકાઇ રહ્યા છે

પાઠિ પાટલ તોરી જામ કરે આહિરાવનનો હાથ કાroી નાખો.

ડાબા હાથ ઉપરના ભાગથી અથડાયા હતા. જમણા હાથ સંતોજન તારાઓ.

સુર-નર-મુનિ જન આરતી કરવામાં આવી હતી. જય જય જય હનુમાન ઉચારે

કંચન થર કપુર જ્યોત આરતી કરત અંજના મૈ.

લંકવિધવંશ કીનહ રઘુરાય. તુલસીદાસ પ્રભુ કીર્તિ ગાયા.

ભગવાન હનુમાનની આરતી ગવાઈ. બાસી બાયકુંઠ પરમાપદા પાવાઈ

જય હનુમાન લાલાની આરતી દુષ્ટ દલન રઘુનાથ કલા.

Hanuman Aarti Song in English

हनुमान आरती_3

|| Aarti Ki Jai Hanuman Lala Ki ||

Let us sing the glory of the baba Hanuman. Wicked Dalan Raghunath Kala.
Girivar shivered with force. Do not peep near the disease defect.
Unknown son Mahabaladayi. Lord of children forever endured.
De Bira Raghunath Pathe. Lanka released Siya Sudh brought.

Lanka dug up the sea like a coat. Jat did not bring Pawansut Bar.
Lanka Jari Asura Code. Sayaramji’s work.
Laxman became unconscious Life and life are overflowing
Paithi Patal Tori Jam Kare Uproot the arm of Ahiravan.
The left arm was hit by an asunder. Right arm Santjan stars.

Sur-Nar-Muni Jan Aarti was performed. Jai Jai Jai Hanuman Uchare
Kanchan thar kapoor flame Aarti Karat Anjana Mai.
Lankvidhavansh Keenh Raghurai. Tulsidas Prabhu sang Kirti.
Aarti Gavai of Lord Hanuman. Basi Baikunth Paramapada Pavai
Let us sing the glory of the baba Hanuman. Wicked Dalan Raghunath Kala.

Leave a Comment