Hindi Lekh Nibandh

Short Essay on Sardar Vallabhbhai Patel

शार्ट एस्से ऑन सरदार वल्लभभाई पटेल: सरदार वल्लभ भाई झावर भाई पटेल हमारे भारत देश के सबसे महत्वपूर्ण सामाजिक और राजनीतिक नेताओं में से एक थे। उनको भारत के लौह पुरुष यानी की iron man of india भी कहा जाता है| उन्होंने हमारे देश की आजादी के लिए काफी संघर्ष किया था और यह उन्ही की म्हणत का कमाल है की आज हम आज़ाद आस्मान के निचे सांस ले पा रहे हैं | यही कारण है की आज़ादी की लड़ाई में उनकी एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका थी। वह 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के नदियाद में पैदा हुए था और उन्हें सरदार पटेल के नाम से भी संबोधित किया जाता था। आज हम आपको सरदार पटेल के कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण निबंध यानी की essay, जीवनी (biography), short paragraphs, Composition, Paragraph, Article हिंदी, english pdf पेश करेंगे जो की 500 words में दिए हुए हैं|उनके नाम पर गुजरात में sardar patel statue of unity भी बन रहा है|

जीवनी (biography)


जन्म: 31 अक्टूबर 1875
जन्म स्थान: नाडियाड शहर, गुजरात
माता-पिता: पिता झवेरभाई, एक किसान, और माँ लाड बाई, एक साधारण महिला
पत्नी: Jhaberaba, जिनका बहुत ही कम उम्र में निधन हो गया
बच्चे: बेटी Maniben (1904 में) का जन्म; बेटा दहयाभाई (1905 में) का जन्म
मौत: दिसम्बर 15, 1950
Click To Tweet
सरदार वल्लभभाई पटेल पर निबंध

सरदार वल्लभभाई पटेल पर लघु निबंध

सरदार पटेल जी के ऊपर लघु निबंध यानी की essay आप निचे से जान सकते हैं| ये निबंध आप कई भाषा language में पढ़ सकते हैं|

 

Essay in hindiEssay in Englishin gujarati in tamil

सरदार बल्‍लभ भाई पटेल का जन्‍म 31 अक्टूबर, 1875 ई. में नाडियाड, गुजरात (Gujarat) में हुआ था
इनके पिता का नाम झवेरभाई पटेल एवं माता का नाम लाड़बाई था
पटेल जी ने सन 1897 में 22 साल की उम्र में उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा पास की और उसके बाद लन्‍दन जाकर बैरिस्टर की पढाई की और वापस आकर अहमदाबाद में वकालत का कार्य किया था
सरदार पटेल जी का विवाह सन 1893 में 16 वर्ष की अवस्‍था में झावेरबा के साथ हुुआ था
सरदार पटेल जी की की पत्नी की मृत्यु 1908 में हो गई थी
सरदार पटेल जी के बारदोली सत्याग्रह का नेतृत्व करनेे पर और सत्याग्रह की सफलता पर वहाँ की महिलाओं ने सरदार की उपाधि प्रदान की
सरदार पटेल जी को गांधीजी के नमक सत्याग्रह के पक्ष में प्रचार करने के कारण 7 मार्च, 1930 को गिरफ्तार कर साबरमती जेल में डाल दिया जहॉ इन्‍होनें भूख हडताल कर दी थी
भारत के एकीकरण में उनके महान योगदान के लिये उन्हे भारत का “लौह पुरूष” के रूप में जाना जाता है
पटेल जी 2 सितम्बर, 1946 को अंतरिम सरकार में गृह, सूचना एवं प्रसारण मंत्री बनाया गया था
गृहमंत्री के रूप में सरदार पटेल पहले व्यक्ति थे जिन्होंने भारतीय नागरिक सेवाओं आईसीएस का भारतीयकरण कर इन्हें भारतीय प्रशासनिक सेवाएं आईएएस बनाया
सरदार पटेल जी का निधन 15 दिसम्बर, 1950 को हो गया था
सरदार बल्‍लभ भाई पटेल को मरणोपरान्त वर्ष 1991 में भारत के सर्वोच्‍च सम्‍मान भारत रत्‍न से सम्‍मानित किया गया था यह अवार्ड उनके पौत्र विपिनभाई पटेल द्वारा स्वीकार किया गया
सरदार पटेल जी के सम्‍मान में अहमदाबाद के हवाई अड्डे का नामकरण सरदार वल्लभभाई पटेल अन्तराष्ट्रीय हवाई अड्डा रखा गया है
सरदार वल्लभ भाई पटेल की 137वीं जयंती के अवसर पर 31 अक्टूबर, 2013 को गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के नर्मदा ज़िले में सरदार पटेल के स्मारक का शिलान्यास किया।इसका नाम ‘एकता की मूर्ति’ (स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी) रखा गया है
सरदार पटेल की यादों को ताजा रखने के लिए अहमदाबाद के शाहीबाग में सरदार बल्‍लभ भाई पटेल मेमोरिल सोसाइटी में सरदार पटेल का थ्री डी संग्राहालय तैयार किया गया है

Sardar Vallabhbhai Patel was born in 1875 at Karamsad, a village in Kaira district in Gujarat. He was a farmer coming from a farmer’s family. At school, he was a naughty and mischievous boy. In due course, he passed his matriculation examination and after some years he passed the Law examination. He practiced as a lawyer at Godhra.

He carried on a roaring legal practice. As he was ambitious, he went to England and became a barister-at-law. In 1923, he became the leader of Bardoli Satyagraha. Since then, he came to be called Sardar Patel. His elder brother, Mr. Vithalbhai Patel, was the President of the Indian Legislative Assembly.

He was jailed several times in connection with the freedom movement. He was the right hand man of Mahatma Gandhi and his most trusted lieutenant. It was Patel who maintained discipline in the Congress ranks. In 1936, the Congress at the General Election won the majority of seats in seven provinces of British India.

Sardar Patel, as the most important member of the Central Parliamentary Board, controlled with a firm hand the Congress Ministries in the seven provinces. In 1947, India was partitioned into Pakistan and free India. Sardar Patel became free India’s first deputy Prime Minister, pandit Jawaharlal Nehru being the first Prime Minister. He was in charge of the Home Department and administered law and order.

Future historians will marvel at his organizing capacity and superhuman ability. The integration of 600 Princely States and the elimination of autocratic rule of the Maharajas and Nawabs will ever stand out as his unique and greatest achievement. He did it without bloodshed and in the short span of two years.

Was it not a miracle? To him rightly goes the credit of completely changing the map of India. Tribal raiders and Pakistani troops attacked Kashmir and tried to secure accession by force. He saw the writing on the wall. The Indian armies landed in Kashmir by air.

The tide was stemmed, the tables were turned. The tribal raiders and Pakistani troops were made to flee. Cease-fire was proclaimed in January 1949. The police action against the Nizam of Hyderabad showed his iron will to see a thing through, no matter how insurmountable the difficulties and how great the opposition.

He was essentially a man of action. He was India’s man of destiny. He was the steel man of India. He was the brightest luminary on the home front. He was a walking volcano with fires raging in his heart. He was not a man to be ignored or trifled with. Defeat he never knew, weakness he never felt and indiscipline he never tolerated.

He was a pillar of fire and enthusiasm, but like a practical statesman, he was also calm and unfathomable. He never hesitated to take a decisive step. He combined quickness of decision with resourcefulness.

He was the greatest administrator and the best statesman that India has ever produced. His death on 15th December 1950, left India poorer. By his death free India has suffered a loss in political leadership that is difficult to repair.

Tસરદાર વલ્લભભાઈ પટેલનો જન્મ 31 મી ઓક્ટોબર, 1875 ના રોજ નડિયાદ, ગુજરાત (ગુજરાત) માં થયો હતો.
તેમના પિતાનું નામ ઝેવરાભાઈ પટેલ હતું અને માતાનું નામ લાડાાબી હતું.
પટેલ જી પાસ તેમણે મેટ્રિક 1897 માં 22 વર્ષની ઉંમરે કાર્ય હતી, અને તે પછી અમદાવાદ પાછા આવવા બેરીસ્ટરનું અને હિમાયતીઓ દ્વારા લન્ડન અભ્યાસ
સરદાર પટેલનો લગ્ન 1893 માં 16 વર્ષની વયે જાવેદ બાબા સાથે થયો હતો
સરદાર પટેલની પત્નીનું 1908 માં અવસાન થયું
સરદાર પટેલ જી બારડોલી સ્ત્રીઓ જીવી સત્યાગ્રહ Krnee અને સત્યાગ્રહ સફળતા બાદ ત્યાં સરદાર શીર્ષક આપ્યું
સરદાર પટેલ જી ગાંધીના મીઠું 7 માર્ચ સત્યાગ્રહ તરફેણમાં પ્રચાર ધરપકડ 1930 સાબરમતી જેલમાં મૂકી હતી જ્યાં તેમણે ભૂખ હડતાલ મેળવી
ભારતના એકીકરણમાં તેમના મહાન યોગદાન માટે તેમને ભારતના “આયર્ન મૅન” તરીકે ઓળખવામાં આવે છે.
2 જી, 1946 ના રોજ વચગાળાની સરકારમાં પટેલ જીને હોમ, માહિતી અને પ્રસારણ મંત્રી બનાવવામાં આવ્યા હતા.
ગૃહ પ્રધાન સરદાર પટેલ હતો પ્રથમ ભારતીય નાગરિક ICS Indianising સેવાઓ ભારતીય વહીવટી સેવાઓ અધિકારી કર્યો
15 ડિસેમ્બર, 1950 ના રોજ સરદાર પટેલનું અવસાન થયું.
Srdar Bllb બાઇ પટેલ મરણોત્તર એનાયત કરવામાં આવ્યો હતો ભારતનું સર્વોચ્ચ નાગરિક બહુમાન, ભારત રત્ન 1991 માં એવોર્ડ તેના પૌત્ર Vipinbai પટેલ દ્વારા સ્વીકારવામાં આવી હતી
સરદાર વલ્લભભાઈ પટેલ ઇન્ટરનેશનલ એરપોર્ટને સરદાર પટેલના માનમાં અમદાવાદ એરપોર્ટ તરીકે નામ આપવામાં આવ્યું છે.
31 ઓક્ટોબર, 2013 ના રોજ પટેલ ના 137 મી વર્ષગાંઠ પ્રસંગે Srdar Vllb બાઇ પૂર્વ, ગુજરાતના મુખ્યમંત્રી નરેન્દ્ર મોદી પ્રતિમા ઉદ્ઘાટન વાસ્તવિકતા ગુજરાત નર્મદા જિલ્લામાં સરદાર પટેલ ના “યુનિટી સ્મારક કહેવાય મૂકવામાં આવ્યો છે (યુનિટી ઓફ લીબર્ટી)
સરદાર પટેલ શાહીબાગ અમદાવાદ ની યાદો માં તેને તાજી Srdar Bllb બાઇ પટેલ Memoril સોસાયટી રચાયેલ છે રાખવા સરદાર પટેલ ત્રણ ડી સંગ્રહાલય

சர்தார் வல்லபாய் பட்டேல் குஜராத்தில் (குஜராத்) நாடியாட்டில் 1875 அக்டோபர் 31 இல் பிறந்தார்.
அவரது தந்தையின் பெயர் சவேர்பாய் பட்டேல் மற்றும் தாயின் பெயர் லடாபாய்.
படேல் ஜி பாஸ் அவர் மெட்ரிக்குலேசன் 1897 ல் 22 வயதில் பணி இருந்தது, அகமதாபாத் திரும்பி வர நீதித்துறையில் மற்றும் ஆதரவாளர்களால் லண்டன் அதிலிருந்து அதன்
சர்தார் பட்டேல் 1893 ஆம் ஆண்டில் 16 வயதில் ஜாவேத் பாபாவுடன் திருமணம் செய்து கொண்டார்
சர்தார் பட்டேலின் மனைவி 1908 இல் இறந்தார்
சர்தார் பட்டேலின் பர்டோலி சத்தியாக்கிரகத்தின் வெற்றி மற்றும் சத்தியாக்கிரகத்தின் வெற்றியில், அங்கு பெண்களுக்கு சர்தார்
அவர் உண்ணாவிரத போராட்டத்தை பெற்று அங்கு சர்தார் படேல் ஜி இருந்தது காந்தியின் உப்பு சத்தியாக்கிரகம் ஆதரவாக பிரச்சார 7 மார்ச் கைது 1930 சபர்மதி சிறையில் வைத்து
இந்தியாவின் ஒருங்கிணைப்பில் அவரது பங்களிப்புக்காக இந்தியாவின் “அயர்ன் மேன்”
செப்டம்பர் 2, 1946 அன்று இடைக்கால அரசாங்கத்தில் உள்துறை, தகவல் மற்றும் ஒளிபரப்புத்துறை அமைச்சராக பட்டேல் ஜி ஆனார்.
சர்தார் படேல் இந்திய சிவில் சர்வீசஸ் ஐசிஎஸ்ஸை இந்தியர்களாகவும் ஐ.ஏ.எஸ் இந்திய நிர்வாக சேவைகளாகவும் ஆற்றிய முதல் அமைச்சராகவும் இருந்தார்
சர்தார் படேல் டிசம்பர் 15, 1950 இல் இறந்தார்.
Srdar Bllb பாய் படேல் இறந்தபின் இந்தியாவின் உயரிய சிவிலியன் விருதான வழங்கப்பட்டது பாரத ரத்னா 1991 இல் அவரது பேரன் Vipinbai படேல் விருது ஏற்றுக் கொள்ளப்பட்டது
சர்தார் வல்லபாய் படேல் சர்வதேச விமான நிலையம் சர்தார் படேல் மரியாதைக்குரிய அஹமதாபாத் விமான நிலையமாக குறிப்பிடப்பட்டுள்ளது.
அக்டோபர் 31, 2013 பட்டேலின் 137 ஆண்டு விழாவை முன்னிட்டு Srdar Vllb பாய் கிழக்கு, குஜராத் முதல்வர் நரேந்திர மோடி சிலை திறந்து வைத்தார் உண்மையில், குஜராத் நர்மதா மாவட்டத்தில் சர்தார் பட்டேலின் “யூனிட்டி நினைவுச்சின்னம் என்று (ஒருமைப் சிலை) வைக்கப்பட்டுள்ளது
சர்தார் படேல் Shahibag அகமதாபாத் நினைவுகள் உள்ள சர்தார் படேல் முச்சக்கர டி அருங்காட்சியகத்தில் அது புதிய Srdar Bllb பாய் படேல் Memoril சமூகம் வடிவமைக்கப்பட்டுள்ளது வைக்க

 

 

Leave a Comment