Essay in Hindi - निबंध

वायु प्रदूषण पर निबंध – Vayu Pradushan Par Nibandh – Essay on Air Pollution in Hindi

एयर_पूलऊटीऑन _1

वायु प्रदूषण देश की बाकी गंभीर समस्या में से एक बन गई है। लोगों को इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है।आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपके लिए लेकर आए है इससे an essay on air pollution,simple,best,essay ,essay on air pollution in hindi,जुड़े समाधान, संकेतात्मक प्रक्रिया, केसे इसे control करे,इस आर्टिककल  के द्वारा आप write a essay on air pollution लिख सकते हैं,चाहे आप उसे 150 words,200 words,350 words में लिखे या फिर 500 words में।

यह एस्से आपको in english,in sanskrit language,in kannada,in marathi,in urdu,in punjabi,small essay ,long essay में भी उपलब्ध है।आप इस निबंध को for class 5 और for class 8 के लिए भी use कर सकते हो or इससे जुड़ी pdf भी download कर सकते हो।भारत देश की राजधानी दिल्ली में  ज्यादा जनसंख्या होने के कारण वायु बहुत दूषित हो चुकी है (in delhi)और लगातार इसकी सीमा बढ़ती दिखाई दे रही हैं।

प्रस्तावना | Preface

आज के आधुनिक युग में प्रदूषण दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है। यह समस्या देश में प्रतिदिन फैलती जा रही है जो की सामान्य लोगों को नुकसान पहुँचा रही है। वायु प्रदूषण का मुख्य कारण है औधोगिकीकरण(Industrialization) क्योंकि इनसे निकलने वाला धुआँ वायु को दूषित करता है और यह वायु में जाकर मिल जाता है और सब जगह धीरे -धीरे चारों ओर फैल जाता हैं।

महानगरों में वायु प्रदूषण अधिक मात्रा में फैला हुआ है क्योंकि यहाँ पर ज्यादा से ज्यादा कारखाने हैं जिनका धुआँ हवा को प्रदूषित करता हैं, शहरों में बढ़ती आबादी के चलते वाहनों की मात्रा बढ़ी हुई है।उनसे निकलने वाला धुआँ बहुत जहरीला होता है जिससे हमारा पर्यावरण खराब हो जाता है साथ ही इन रासायनिक पदार्थों से विभिन्न प्रकार की हानिकारक बीमारियाँ उत्पन्न हो जाती हैं ओर लोग कई प्रकार की बीमारियों की चपेट में आ जाती हैं।

वायु प्रदूषण का अर्थ | What is Air Pollution?

वायु का दूषित होना वायु प्रदूषण कहलाता हैं।काला धुआँ , रासायनिक गैस, मोटर- वाहनों का धुआँ आदि हवा में मिल जाती है और दूषित कर देती हैं।यही धुआँ सांस लेते समय फेफड़ों तक जाता है और लोगों को नुकसान पहुचाता है ,उन्हे नाना प्रकार की बीमारियों का सामना करना पड़ता है जेसे साँस की बीमारी ,दमा,खांसी ,आदि।वायु प्रदूषण पटाखों को चलाने (due to crackers) से भी उत्पन्न होता है और यह in india में अधिक मात्रा में  चलाया जाता है जिससे यहाँ प्रदूषण अधिक मात्रा में है बाकी देशों की अपेक्षा।

एयर_पूलऊटीऑन _2

वायु प्रदूषण का कारण और प्रभाव | Causes and Effects of Air Pollution

  • वाहनों से निकलने वाला धुआँ वायु प्रदूषण फैलाता हैं।
  • Industries से निकलने वाले रासायनिक पदार्थ से भी प्रदूषण बढ़ता  है।
  • Molecular Plant cular Plant से निकली गैस और धूल कढ के द्वारा भी वायु खराब हो जाती है।
  • जंगलों में पेड़-पौधे, कोयला जलना भी हानिकारक सिद्ध होता है।
  • अगर जंगलों में पेड़ों की कटोती लगातार बनी रही तो वायु दूषित रहेगी उसमे कार्बन डाइआक्साइड,कार्बन मोनो ऑक्सईड ,नाइट्रोजन ऑक्सिड,हाइड्रो कार्बन आक्साइड आदि की मात्र बढ़ जाएगी और यह सभी लोगों के लिए खतरनाक बीमारी लाएगी क्योंकि इसमे आक्सिजन की मात्रा में कमी होगी।
  • वायु के प्रदूषण के कारण धातु,स्मारकों और भवनों का नाश हो जाता हैं।
  • लोगों को oxygen की कमी होने के कारण सांस लेने में तकलीफ होती है।
  • कारखानों से निकले रासायनिक पदार्थ व गैस फसलों,पेड़-पौधों बार बुरा असर डालती हैं।

वायु प्रदूषण की रोकथाम के उपाय | Prevention of Air Pollution

  • यह रोकने के लिए हमे  सड़क के किनारे अधिक मात्रा में पेड़ पौधे लगाने चाहिए क्योंकि इन पौधों से निकालने वाली आक्सिजन पर्यावरण को शुद्ध बनाती है।
  • उधयोगों के अंदर  चिमनियों की उच्चाई ज्यादा होनी चाहिए जिससे प्रदूषण कम हो।पेट्रोल से चलने वाले वाहनों में कैटेलिटिक कनवर्टर लगाना चाहिए जिससे प्रदूषण कम हो।
  • घरों में धुआँ वाले उत्पादों का कम से कम उपयोग करना चाहिए।
  • सौर ऊजा और पवन ऊर्जा का अधिक उपयोग में लाना चाहिए।

एयर_पूलऊटीऑन _4

वायु प्रदूषण को कैसे नियंत्रित किया जाए | How to Control Air Pollution

  • Air Pollution को कम किया जा सकता है लेकिन इसको रोकने के लिए हुमए कई प्रकार के प्रयासों को करने की जरूरत है। सभी सरकारी दफ्तरों ओर संगठनों ओर नागरिकों को एक जुट होकर इससे रोकने के उपाय पर अमल करना होगा।
  • ऐसे इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों को उपयोग में लाना होगा जो की काम से काम बिजली की खपत करे।
  • इसके द्वारा हमारी उरग पावर का सही इस्तेमाल होगा।
  • ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने होंगे क्योंकि इन्ही से हमे दवाइयाँ, काद्या पदार्थ,सब्जी,फल,आदि प्राप्त होते हैं।
  • कम से कम वाहनों का उपयोग करे।
  • अपनी आस पास की जगह पर कूड़ा  कचरा न फेके  क्योंकि इसको जलाने से भी वायु प्रदूषित होती है।
  • प्लास्टिक की थैलियों का उपयोग न करे या फिर कम से कम उपयोग में लाए।
  • सरकार को कारखानों से निकलने वाले जानलेवा पदार्थ के लिए कानून बनाए चाहिए जिससे इनकी वजह से लोगों को पपरेशानियों का सामना न करना पड़े।

उपसंहार | Conclusion

यह बहुत ही जानलेवा है ओर इस पर control करना आती आवश्यक हो गया है। सरकार को इससे बचने के लिए लोगों को जागरूक करना होगा जिससे लोग इससे बढ़ने की बजाय कम करने के बारे में सोचे ओर ध्यान दे। जब तक सभी लोग इस बारे में नहीं सोचेंगे तबटक वायु प्रदूषण को खत्म नहीं किया जा सकता।

औद्योगिक क्षेत्रों की जगह शहर से दूर होनी चाहिए , चिमनियाँ लंबी होनी चाहिए,पर्यावरण में वृक्षों की मात्रा को बढ़ाना चाहिए,अपने आस पास स्वच्छ और साफ वातावरण रखना चाहिए तभी हम सभी इस समस्या का समाधान निकाल सकेंगे और अपने देश को वायु प्रदूषण से मुक्ति दिल सकेंगे।

एयर_पूलऊटीऑन _3

Leave a Comment