Nibandh

Christmas Essay In Hindi – क्रिसमस डे पर निबंध हिन्दी में – बड़ा दिन एस्से

क्रिसमस का त्यौहार हमारे देश के बड़े-2 त्योहारों में से एक त्यौहार है यह त्यौहार ईसाई धर्म के लोगो द्वारा मनाया जाता है और हर साल यह त्यौहार 25 दिसंबर के दिन ही आता है इसे बड़ा दिन भी कहते है | अक्सर अपने देखा होगा की छोटे बच्चो Kids को स्कूलों में Christmas Day Celebration In School के बारे में पढ़ाया जाता है तथा उसमे हर क्लास के बच्चे क्रिसमस डे एस्से in hindi for class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 और 12 इस तरह से इंटरनेट पर सर्च करते है व स्कूलों ले प्रोग्राम में भाग लेते है इसीलिए हम आपको क्रिसमस के ऊपर कुछ बेहतरीन निबंध के बारे में बताते है जिन्हे आप पढ़ सकते है |

Essay On Christmas in Hindi Short | Download


ईसाईयों के लिये क्रिसमस एक महत्वपूर्ण त्योहार है हालाँकि ये पूरी दुनिया में दूसरे धर्मों के लोगों द्वारा भी मनाया जाता है। ये एक प्राचीन उत्सव है जो वर्षों से शीत ऋतु में मनाया जाता है। ये प्रभु ईशु के जन्मदिवस पर मनाय जाता है। पारिवारिक सदस्यों में सभी को सांता क्लाज़ के द्वारा क्रिसमस की मध्यरात्रि में उपहार बाँटने की बड़ी परंपरा है। सांता रात के समय सभी के घरों में जाकर उनको उपहार बाँटता है खासतौर से बच्चों को वो मजाकिया उपहार देता है। बच्चे बड़ी व्याकुलता से सांता और इस दिन का इंतजार करते है। वो अपने माता-पिता से पूछते है कि कब सांता आयेगा और अंतत: बच्चों का इंतज़ार खत्म होता है और ढ़ेर सारे उपहारों के साथ सांता 12 बजे मध्यरात्रि को आता है।
इस पर्व में मिठाई, चौकोलेट, ग्रीटींग कार्ड, क्रिसमस पेड़, सजावटी वस्तुएँ आदि भी पारिवारिक सदस्यों, दोस्तों, रिश्तेदार और पड़ोसियों को देने की परंपरा है। लोग पूरे जूनून के साथ महीने के शुरुआत में ही इसकी तैयारीयों में जुट जाते है। इस दिन को लोग गाने गाकर, नाचकर, पार्टी मनाकर, अपने प्रियजनों से मिलकर मनाते है। प्रभू ईसा, ईसाई धर्म के संस्थापक के जन्मदिवस के अवसर पर ईसाईंयों द्वारा इस उत्सव को मनाया जाता है। लोगों का ऐसा मानना है कि मानव जाति की रक्षा के लिये प्रभु ईशु को धरती पर भेजा गया है।
Click To Tweet

Christmas Essay In Hindi 100 Words

क्रिसमस के दिन किसी भी class 1, Class 2, Class 3, Class 4, Class 5, Class 6, Class 7, Class 8, Class 9 तक के निबंधों को यहाँ से जान सकते है या अगर आप christmas essay in hindi pdf, essay on christmas vacation in hindi, essay on christmas vacation in hindi, christmas essay written in hindi, essay on christmas in hindi in 150 words 200 Words में भी जान सकते है :


क्रिसमस एक बड़ा त्योहार है जिसे लोगों द्वारा ठंड के मौसम में मनाया जाता है। इस दिन पर सभी एक सांस्कृतिक अवकाश का लुफ्त उठाते है तथा इस अवसर सभी सरकारी (स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय, शिक्षण संस्थान, प्रशिक्षण केन्द्र आदि) तथा गैर-सरकारी संस्थान बंद रहता है। इस उत्सव को लोग बहुत उत्साह और ढ़ेर सारी तैयारीयों तथा सजावट के साथ मनाते है। ये हर साल 25 दिसंबर के दिन मनाया जाता है। इसे ईसा के भोज दिवस के रुप में भी जाना जाता है तथा प्रभु ईसा के जन्मदिवस के सम्मान में मनाया जाता है। ईसाई धर्म के लोगों के लिये ये एक बड़े महत्व का दिन है।
Click To Tweet

Merry Christmas Cake Essay In Hindi


क्रिसमस ईसाइयों का सबसे बड़ा त्योहार है। ईसाई समुदाय के लोग इस त्योहार को बहुत धूमधाम और उल्लास के साथ मनाते हैं। यह त्योहार हर वर्ष 25 दिसंबर को मनाया जाता है। इसी दिन प्रभु ईसा मसीह या जीसस क्राइस्ट का जन्म हुआ था।
जीसस क्राइस्ट एक महान व्यक्ति थे और उन्होंने समाज को प्यार और इंसानियत की शिक्षा दी। उन्होंने दुनिया के लोगों को प्रेम और भाईचारे के साथ रहने का संदेश दिया था। इन्हें ईश्वर का इकलौता प्यारा पुत्र माना जाता है। उस समय के शासकों को जीसस का संदेश पसंद नहीं था। उन्होंने जीसस को सूली पर लटका कर मार डाला था। ऐसी मान्यता है कि जीसस फिर से जी उठे थे।
क्रिसमस के दिन ईसाई लोग अपने घर को भलीभांति सजाते हैं। क्रिसमस की तैयारियां पहले से ही होने लगती हैं। लगभग एक सप्ताह तक छुट्‍टी रहती है। बाजारों की रौनक बढ़ जाती है। घर और बाजार रंगीन रोशनियों से जगमगा उठते हैं।
चर्च में विशेष प्रार्थनाएं होती हैं। लोग अपने रिश्तेदारों एवं मित्रों से मिलने उनके घर जाते हैं। सभी एक-दूसरे को उपहार देते हैं। इस दिन आंगन में क्रिसमस ट्री लगाया जाता है। इसकी विशेष सज्जा की जाती है। इस त्योहार में केक का विशेष महत्व है। मीठे, मनमोहन केक काटकर खिलाने का रिवाज बहुत पुराना है। लोग एक-दूसरे को केक खिलाकर पर्व की बधाई देते हैं। सांताक्लाज का रूप धरकर व्यक्ति बच्चों को टॉफियां-उपहार आदि बांटता है।
ऐसा कहा जाता है कि सांताक्लाज स्वर्ग से आता है और लोगों को मनचाही चीजें उपहार के तौर पर देकर जाता है
Click To Tweet
क्रिसमस डे पर निबंध हिन्दी में

Christmas Day Celebration Essay In Hindi 250 Words


लोगों द्वारा पूरी दुनिया में क्रिसमस को मनाया जाता है, इसे खासतौर से ईसाई धर्म के लोगों द्वारा हर साल 25 दिसंबर के दिन मनाया जाता है। इसे प्रभु ईसा के जन्मदिन पर मनाया जाता है, ये ईसाईयों के भगवान है जिन्होंने ईसाई धर्म की शुरुआत की। ये त्योहार हर साल ठंड के मौसम में आता है हालाँकि लोग इसे पूरी मस्ती, क्रिया-कलाप और खुशी के साथ मनाते है। ये ईसाईयों के लिये एक महत्वपूर्ण त्योहार है जिसके लिये वो लोग ढ़ेर सारी तैयारीयाँ करते है। इस उत्सव की तैयारी एक महीने पहले ही शुरु हो जाती है और क्रिसमस के 12 दिनों के बाद ये पर्व खत्म होता है।
इस दिन लोग क्रिसमस के पेड़ को सजाते है, अपने दोस्त, रिश्तेदार और पड़ोसियों के साथ खुशियाँ मनाते है और उपहार बाँटते है। इस दिन की मध्यरात्री को 12 बजे सांता क्लाज हर एक के घर आते है और चुपचाप बच्चों के लिये उनके घरों में प्यारे-प्यारे उपहार रखते है। अगली सुबह ही अपनी पसंद के उपहार पाकर बच्चे भी बहुत खुश होते है। इस दिन सभी स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय, कार्यालय और दूसरे सरकारी और गैर-सरकारी संस्थान आदि बंद रहते है। पूरे दिन ढ़ेर सारे क्रिया-कलापों द्वारा क्रिसमस अवकाश के रुप में लोग इसका आनन्द उठाते है।
लोग बड़े डिनर पार्टी का लुफ्त उठाते है जिसे भोज कहते है। इस खास मौके पर ढ़ेर सारे लजीज़ व्यंजन, मिठाई, बादाम आदि बनाकर डाईनिंग टेबल पर लगाते है। सभी लोग रंग-बिरंगे कपड़े पहनते है, नृत्य करते है, गाते है, और मज़ेदार क्रिया-कलापों के द्वारा कर खुशी मनाते है। इस दिन ईसाई समुदाय अपने ईश्वर से दुआ करते है, अपने सभी गलतियों के लिये माफी माँगते है, पवित्र गीत गाते है और अपने प्रियजनों से खुशी से मिलते है।
Click To Tweet

Essay On Christmas Tree In Hindi


क्रिसमस ईसाइयों का पवित्र पर्व है जिसे वह बड़ा दिन भी कहते हैं। प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को प्रभु ईसा मसीह के जन्मदिन के रूप में संपूर्ण विश्व में ईसाई समुदाय के लोग विभिन्न स्थानों पर अपनी-अपनी परंपराओं एवं रीति-रिवाजों के साथ श्रद्धा, भक्ति एवं निष्ठा के साथ मनाते हैं।
क्रिसमस के पर्व का एक बड़ा आकर्षण है 'क्रिसमस ट्री' अर्थात 'क्रिसमस वृक्ष'। क्रिसमस के मौके पर क्रिसमस वृक्ष का विशेष महत्व है। आस्था के साथ-साथ इसमें स्वास्थ्य और खुशहाली कि मान्यताएं भी जुडी हैं। 25 दिसम्बर से पहले क्रिसमस की जो सबसे अहम् तयारी है उनमें एक क्रिसमस ट्री की सजावट भी है। बड़े-बच्चे-बुजुर्ग सभी क्रिसमस वृक्ष की सजावट में जुट जाते हैं। इन वृक्षों पर मोमबत्तियों, टॉफियों और बढ़िया किस्म के केकों को रिबन और कागज की पट्टियों से बांधा जाता है।
प्राचीन काल में क्रिसमस ट्री को जीवन की निरंतरता का प्रतीक माना जाता था। मान्यता थी कि इसे सजाने से घर के बच्चों की आयु लम्बी होती है। इसी कारण क्रिसमस डे पर क्रिसमस वृक्ष को सजाया जाने लगा। माना जाता है कि इसे घर में रखने से बुरी आत्माएं दूर होती हैं तथा सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है। बाजार में कई आकार के क्रिसमस ट्री मिलते हैं। इनमें से कुछ सस्ते एवं कुछ काफ़ी महंगे भी होते हैं। कई दुकानों पर यह शोपीस के रूप में कांच के भी उपलब्ध रहते हैं।
Click To Tweet

Short Essay On Christmas Festival In Hindi Language


/साल के बड़े पर्वों में से एक क्रिस्मस है और इसे प्रभु ईसा के भोज दिवस के रुप में भी जाना जाता है। इसे सालाना सभी के द्वारा मनाया जाता है, खासकर ईसाइयों द्वारा। इस दिन प्रभु ईसा का जन्म दिन होता है, जिन्हें क्रिस्मस धर्म के लोगों द्वारा भगवान की संतान माना जाता है। ये सांस्कृतिक अवकाश का दिन होता है जिसका सभी आनन्द लेते है। हर साल 25 दिसंबर को इसे क्रिस्मस डे के रुप में मनाया जाता है और ये ईसाई धर्मावलंबियों के लिये बेहद महत्व का दिन होता है। इस उत्सव के आगमन से पहले ही लोग खूब तैयारीयों के साथ अपने घरों और चर्च आदि को सजाते है।
ईसाईयों में क्रिस्मस के उत्सव की शुरुआत चार हफ्ते पहले से ही होने लगती है और इसके 12वें दिन पर समाप्ति होती है। इसे पूरी दुनिया में एक धार्मिक और पारंपरिक पर्व के रुप में मनाया जाता है। क्रिसमस को मनाने की परंपरा क्षेत्रों के लिहाज से अलग होती है। इस दिन पर उपहार बाँटना, क्रिसमस कार्ड देना, भोज देना, ईसाई भजन और गीत गाने आदि का रिवाज़ है।
Click To Tweet

3 Comments

Leave a Comment