Sarkari Yojana

BC सखी योजना रजिस्ट्रेशन 2022 – UP Banking Sakhi Online Registration

उत्तर प्रदेश बीसी सखी योजना को उत्तर प्रदेश राज्य के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ द्वारा 2020 में लांच किया गया था जिसका मुख्य उद्देश्य महिलाओं को आर्थिक लाभ पहुंचाना है। योजना के तहत उत्तर प्रदेश राज्य की महिलाओं को सरकार द्वारा रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे जिससे कि वह आत्मनिर्भर बन पाएंगे एवं अपने परिवार का पालन पोषण आसानी से कर पाएंगी। इस योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों की बैंकिंग कॉरस्पॉडेंट सखी तैनात की जाएंगी जिससे कि राज्य में महिलाओं के रोजगार के अवसर बढ़ पाएंगे। इस लेख में हम आपको बीसी सखी योजना रजिस्ट्रेशन से संबंधित जानकारी देंगे। निवेदन करेंगे इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े|

BC Sakhi app download

यदि आप बिजी सकी और न के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं तो आपको बीसी सखी मोबाइल ऐप को डाउनलोड करना होगा। यदि आप जानना चाहते हैं कि इस ऐप को अपने मोबाइल पर कैसे डाउनलोड करें तो नीचे दी गई प्रक्रिया को ध्यानपूर्वक पढ़ें।

  • सर्वप्रथम लाभार्थी को अपने एंड्राइड मोबाइल पर गूगल प्ले स्टोर खोलना होगा।
  • गूगल प्ले स्टोर के सर्च बार पर क्लिक करें।

bc sakhi registration

  • अब बीसी सखी एप को सर्च करें।
  • ऐप सर्च करने के बाद यूपी बीसी सखी एप आपके सामने खुल जाएगा।
  • आप इंस्टॉल के बटन पर क्लिक करें।
  • इंस्टॉलेशन प्रोसेस पूरी हो जाने के बाद बीसी सखी एप आपके मोबाइल पर डाउनलोड हो जाएगा।

bc sakhi yojana registration

  • सर्वप्रथम अपने मोबाइल पर बीसी सखी ऐप को डाउनलोड करें।
  • ऐप डाउनलोड हो जाने के बाद उसको ओपन करें।
  • होम पेज पर अपना पंजीकृत फोन नंबर दर्ज करें।
  • आपके मोबाइल पर एक 6 अंको का ओटीपी आएगा।
  • ओटीपी को ओटीपी बॉक्स में दर्ज करें।

UTTAR PARDESH SKHI YOJNA

  • अब आपके सामने कोई दिशानिर्देश दिखाई देंगे।
  • दिशा निर्देश ध्यानपूर्वक पढ़ें एवं नेक्स्ट पर क्लिक करें।
  • अब बेसिक प्रोफाइल के विकल्प पर क्लिक करें।
  • अब पूछी गई सभी जानकारी दर्ज करें।
  • अब समिति के बटन पर क्लिक करें।
  • ऐसे ही आपको सभी भागों में दी गई जानकारी दर्ज करनी होगी उसके बाद सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • यदि आप सम्मिट के बटन पर क्लिक नहीं करेंगे तो आप अगले भाग पर नहीं पहुंच पाएंगे।
  • सभी भाग पूरे करने के बाद संबंधित दस्तावेजों को अपलोड करें।
  • अब आपके सामने कुछ प्रश्न खुल जाएंगे जिनका आपको सही ढंग से उत्तर देना होगा।
  • यह प्रश्न बहुविकल्पीय होंगे।
  • प्रशन हिंदी व्याकरण गणित एवं अंग्रेजी से संबंधित होंगे।
  • यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद आपके एप पर एक मैसेज आएगा।
  • जो उम्मीदवार जिन्नत किए गए हैं या चिन्हित नहीं किए गए हैं उससे संबंधित जानकारी आपको आपके माध्यम से प्रदान की जाएगी।

business correspondent sakhi yojana 2022

यूपी बीसी सखी योजना उत्तर प्रदेश राज्य में लागू की गई महिलाओं के हित के लिए एक महत्वपूर्ण योजना है जिसको 22 मार्च 2020 में मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा लांच किया गया था। इस योजना के तहत राज्य की महिलाओं को रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे। योजना के अंतर्गत बिजनेस कॉरस्पॉडेंट सखी की तैनाती की जाएंगी जिससे कि ग्रामीण क्षेत्रों में बसे हुए लोगों को बैंक जाने की आवश्यकता नहीं होगी क्योंकि सरकार द्वारा नियुक्त की गई सखी घर पर आकर पैसों का लेन देन कर पाएंगे।

  • योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं को डिजिटलाइजेशन से जोड़ा जाएगा जिससे कि वह घर घर जाकर ग्रामीण लोगों को बैंकिंग सेवाएं प्रदान कर पाए एवं आसानी से पैसों का लेनदेन कर पाए।
  • इस योजना की मदद से महिलाओं को रोजगार प्राप्त होगा एवं ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को बैंकिंग की सुविधा आसानी से प्राप्त होगी। यूपी बैंकिंग संवाददाता सखी योजना की मदद से ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को रोजगार प्रदान किया जाएगा।
  • योजना के अंतर्गत महिलाओं को प्रतिमा 6 महीने तक ₹4000 की धनराशि सरकार द्वारा दी जाएगी इसके अलावा महिलाओं को लेनदेन के अंतर्गत कमीशन भी प्रदान किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश बी शिक्षक की योजना के मुख्य तत्व

  • उत्तर प्रदेश बीसी सखी योजना को ग्रामीण महिलाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए शुरू किया गया है। योजना के तहत लगभग 58000 महिलाओं को रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे।
  • योजना के तहत चुनी गई महिलाओं को रोजगार दिया जाएगा एवं अगले 6 महीने तक प्रतिमाह ₹4000 की मासिक धनराशि दी जाएगी।
  • सरकार द्वारा महिलाओं को डिजिटल डिवाइस खरीदने हेतु ₹50000 तक की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • ग्रामीण क्षेत्रों के बैंक द्वारा बैंकिंग सखियों को डिजिटल मोड के माध्यम से की गई लेन-देन पर कमीशन भी प्रदान किया जाएगा जो कि उनके कार्य पर निर्भर होगा।
  • योजना के तहत महिलाओं को गांव गांव जाकर लोगों को बैंकिंग के प्रति जागरूक करना होगा।
  • उन्हें घर-घर जाकर ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिंग से जुड़ी सभी सेवाओं को प्रदान करना होगा। बैंकिंग कलर्स फ़ॉन्डेंट सखी को तैनात करने हेतु ₹74000 का खर्च आएगा।
  • सरकार द्वारा प्रतिमा धनराशि इसी वजह से प्रदान की जाएगी ताकि महिलाओं को आर्थिक दिक्कत के कारण इस काम को छोड़ना ना पड़े।

बीसी सखी योजना का कार्यन्वयन

उत्तर प्रदेश बैंकिंग संवादाता योजना को लागू करने हेतु लगभग 35000 स्वयं सहायता समूह को 200 करोड रुपए की धनराशि प्रदान की गई है। यह धनराशि एनआरएलएम यानी राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत प्रदान की गई है। इस राशि की मदद से गैर सरकारी संगठन की महिलाओं को काम करने में मदद मिलेगी। इसके अंतर्गत सभी महिला जो की मांस प्लेट मसाले सिलाई क्राफ्टिंग आदि से संबंधित काम कर रहे हैं उन्हें इस योजना से जोड़ा जाएगा।

बीसी सखी का कार्य

  • ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को ऋण मुहैया करवाना।
  • लोन रिकवरी से संबंधित कार्य।
  • जनधन सेवाएं।
  • स्व सहायता समूह के सदस्यों से संबंधित सेवाएं प्रदान करना।
  • बैंक खाते से घर-घर जाकर जमा एवं निकासी करवाना।

बीसी सखी योजना की पात्रता

  • बीसी सखी योजना के अंतर्गत महिलाएं उत्तर प्रदेश राज्य की मूल निवासी होनी चाहिए।
  • महिलाओं को बैंकिंग से संबंधित सेवाओं की समझ होनी चाहिए।
  • आवेदक महिला कम से कम दसवीं पास होनी चाहिए।
  • अभी तक महिला पैसों का लेनदेन करने में सक्षम होनी चाहिए।
  • नियुक्त की गई महिला को इलेक्ट्रिक डिवाइसेज चलाने की समझ होनी चाहिए।
  • योजना के अंतर्गत उन सभी महिलाओं को नियुक्त किया जाएगा जिनको बैंकिंग के कामकाज की समझ होगी एवं जो पढ़ लिख सकती हैं।

बीसी सखी योजना – 640 ग्राम पंचायतों की तैनाती

ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को आसानी से बैंकिंग सेवाएं प्रदान करने हेतु यह सखी योजना को शुरू किया गया था जिसके अंतर्गत बैंकिंग से जुड़ी सभी सेवाओं को ग्रामीण नागरिकों के घर तक आसानी से पहुंचाया जाएगा। इसी कारण हेतु सरकार द्वारा सखी नियुक्त की जाएंगी। योजना के पहले चरण में लगभग 680 में से 640 ग्राम पंचायतों में इन सखी की तैनाती की जाएगी। सरकार द्वारा नियुक्त की गई सखी को प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाएगा। उत्तर प्रदेश के प्रत्येक ग्राम में योजना के तहत एक सखी महिला मौजूद की जाएगी जोकि क्षेत्र के बैंक से संबंधित सुविधा की देखरेख करेगी पुनाराम इस योजना के तहत ग्रामीण सेल्फ एंप्लॉयमेंट ट्रेंनिंग इंस्टीट्यूट द्वारा इन सभी सखियों को 6 दिन की प्रशिक्षण ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी जिसके अंतर्गत सभी महिलाओं को सरकार द्वारा नियुक्त की गई परीक्षा भी देनी पड़ेगी।

  • जैसे ही महिला यह प्रशिक्षण पास कर लेंगी तो उनको एक प्रमाण पत्र प्रदान किया जाएगा जिसकी मदद से वह गांव में जाकर बैंकिंग सुविधा प्रदान कर सकती हैं।
  • प्रशिक्षण प्रदान करने हेतु सरकार द्वारा 30 महिलाओं का प्रत्येक बैच बनाया जाएगा जिसके दौरान महिलाओं को बैंकिंग से जुड़ी सभी सॉफ्टवेयर एवं टेक्निकल जानकारी प्रदान की जाएगी।
  • साथ ही उन्हें एटीएम एवं बैंक से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की जाएगी। इस योजना के तहत महिलाओं को प्रति माह ₹4000 की मासिक धनराशि प्रदान की जाएगी।
  • साथ ही उन्हें अच्छा काम करने पर प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। समूह से जुड़ी महिलाओं को स्टाइपेंड भी दिया जाएगा जिसकी मदद से प्रदेश की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाया जाएगा।

उत्तर प्रदेश बीसी सखी योजना जनवरी अपडेट

  • जैसा कि हमने आपको ऊपर दर्शाया है कि बीसी सखी योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों तक बैंकिंग सुविधा प्रदान करने हेतु बीसी सखी को नियुक्त किया जाएगा।
  • इससे ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं को रोजगार प्रदान किया जाएगा साथ ही बैंकिंग सुविधा एवं लेनदेन से संबंधित सुविधा प्रदान करने में आसानी होगी।
  • सरकार द्वारा प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में लगभग 60000 बैंकिंग सखी तैनात की जाएंगी जिन को 6 माह तक ₹4000 तक की मासिक धनराशि दी जाएगी तथा जरूरी उत्पाद भी उपलब्ध कराए जाएंगे।
  • हार्डवेयर खरीदने के लिए सरकार द्वारा सखियों को ₹75000 तक का ऋण राशि प्रदान की जाएगी जो कि ब्याज मुक्त होगी।
  • उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिंग सखी का चयन प्रारंभ हो चुका है जो कि प्रशिक्षण के माध्यम से किया जा रहा है।
  • इस योजना के तहत प्रशिक्षण रूरल सेल्फ एंप्लॉयमेंट इंस्टीट्यूट द्वारा लागू किया जा रहा है। योजना के तहत 6 दिन की प्रशिक्षण ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी जिसको पूरा हो जाने के बाद महिलाओं को एक परीक्षा भी पास करनी होगी।
  • जो महिलाएं है परीक्षा पास कर लेगी उनको बैंकिंग सखी के रूप में काम करने की मंजूरी दे दी जाएगी।

बीसी सखी योजना के अंतर्गत ऑनलाइन प्रशिक्षण की जानकारी

UP Banking Sakhi Yojana के अंतर्गत बैंकिंग संविदा को ग्रामीण क्षेत्र में आसानी से प्रदान करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा महिलाओं की नियुक्ति की जाएगी। इस योजना के पहले चरण में लगभग 60000 अभ्यर्थियों का चयन किया गया है। योजना का प्रशिक्षण 15 दिसंबर 2020 से शुरू हो चुका है। प्रशिक्षण पूरा हो जाने के बाद ऑनलाइन परीक्षा एवं पुलिस सत्यापन का कार्यान्वयन किया जाएगा जिसके बाद अभ्यार्थी की तैनाती कर दी जाएगी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा यह दिशानिर्देश लागू किए गए हैं कि अभ्यर्थियों का जल्द से जल्द प्रशिक्षण किया जाए तथा उन्हें उनके कार्यस्थल पर तैनाती करवाई जाए।

इस योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्र में जल्दी बैंकिंग सुविधा उपलब्ध कराई जाएंगी। जोड़ना की मदद से कई महिलाओं को रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव द्वारा यह बताया गया है कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में एक अभ्यर्थी को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा जिसके बाद उनका प्रशिक्षण करवाया जाएगा। प्रशिक्षण पूरा होने के बाद एक सर्टिफिकेट भी प्रदान किया जाएगा जो कि आईआईबीएस द्वारा दिया जाएगा।

यदि अभ्यर्थी परीक्षा पास कर पाने में असमर्थ होती हैं तो उनका नाम वेटिंग लिस्ट में भेजा जाएगा। उन्हें पुणे प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। सर्टिफिकेट प्राप्त होने के बाद उनका पुलिस वेरिफिकेशन करवाया जाएगा जिसके बाद उन्हें उनके कार्यस्थल पर नियुक्त कर दिया जाएगा।

योजना के अंतर्गत महिलाओं का चयन

  • योजना के अंतर्गत सिर्फ महिलाएं हैं योजना का हिस्सा बन पाएंगे। उत्तर प्रदेश में कई सारी महिलाएं ऐसी हैं जो कि आर्थिक रूप से कमजोर एवं बेरोजगार हैं। इन सभी महिलाओं को रोजगार प्रदान करने के लिए इस योजना को शुरू किया गया है।
  • देखा जा रहा है कि बीसी सखी योजना के अंतर्गत कहीं महिलाओं ने आवेदन किया है।
  • प्रदेश सरकार द्वारा लगभग 58000 महिलाओं का चयन किया जाएगा जिसके लिए परीक्षा भी नियुक्त की जाएगी।
  • महिलाओं को प्रशिक्षित करने हेतु तथा उनके कार्यस्थल पर तैनात करने हेतु उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा दिशा निर्देश जारी किए गए हैं।
  • साथ ही उन्होंने यह भी बताया है कि इस योजना के माध्यम से ग्राम स्तर पर महिलाओं को रोजगार प्रदान किया जाएगा।
  • नियुक्त की गई बीसी सखी पंचायत भवन से अपना कार्य कर सकती हैं जिससे कि ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को बैंक सुविधा आसानी से प्रदान की जाएगी।

बीसी सखी मोबाइल ऐप

कपड़ा तथा महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी जी द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बीसी सखी एप को भी लांच किया गया था। साथ ही अमेठी जिले के लगभग डेढ़ सौ आंगनवाड़ी केंद्रों को उत्कृष्ट आंगनवाड़ी केंद्रों में विकसित किया गया था। इस ऐप के अंतर्गत आंगनवाड़ी बीसी सखी योजना के तहत आने वाली सभी सुविधाओं को प्रदान किया जाएगा। यह सभी महिलाएं जो इस योजना का लाभ उठाना चाहती हैं एवं रोजगार प्राप्त करना चाहती हैं वह बीसी सखी एप को अपने मोबाइल फोन में आसानी से डाउनलोड कर सकती हैं।

बीसी सखी योजना के अंतर्गत दी जाने वाली धनराशि

बीसी सखी योजना के अंतर्गत नियुक्त की गई महिलाओं को आर्थिक मदद भी प्रदान की जाएगी जो कि इस प्रकार होगी। बिना के तहत महिलाओं को 6 महीने तक ₹4000 प्रतिमा धनराशि दी जाएगी पूर्व राम इसके अलावा बैंकिंग कार्यों के संबंधित महिलाओं को कमीशन के रूप में भी आर्थिक धनराशि दी जाएगी। बैंकिंग डिवाइस खरीदने के लिए सरकार द्वारा ₹50000 की धनराशि प्रदान की जाएगी। 6 महीने की समय सीमा समाप्त हो जाने के बाद सखियों को कमीशन के माध्यम से कमाई करनी होगी।