Essay in Hindi - निबंध

हरियाणा दिवस पर निबंध 2022 -23 Haryana Day Essay in Hindi – Haryana Diwas Nibandh in Haryanvi

हरियाणा दिवस 2022: पंजाब से हरियाणा को अलग कर दिया गया था, तभी से 1 नवंबर को हरियाणा में हरियाणा दिवस बड़े ही उत्साह और हर्ष से मनाया जाता है | हरियाणा की स्थापना 1 नबम्बर 1966 में हुई थी | इस दिन चंडीगढ़ से पचकुला शहर में रैली निकली जातीं हैं और अलग-अलग जगह रक्त-दान शिविर भी लगाए जाते हैं | इस दिन हरियाणा के सभी राज्य परिसरों और इमारतों को सजाया जाता है | इस दिन विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिता आयोजित कीजातीं हैं और लोग उत्साहपूर्वक उनमे भाग भी लेते हैं | आप ये जानकारी हिंदी, इंग्लिश, मराठी, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलगु, आदि की जानकारी देंगे जिसे आप अपने स्कूल के निबंध प्रतियोगिता, कार्यक्रम या निबंध प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है| ये निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए दिए गए है|

Haryana diwas par nibandh in hindi

अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है हरियाणा दिवस पर निबंध लिखे| आइये अब हम आपको haryana diwas par nibandh, हरियाणा दिवस पर भाषण, हरियाणा का पुराना नाम, हरियाणा का इतिहास, haryana diwas essay, हरियाणा दिवस पर कविता, हरियाणा स्थापना दिवस, Haryana Day Shayari in Hindi, आदि की जानकारीshort व long essay आदि की जानकारी 100 words, 150 words, 200 words, 400 words में जान सकते हैं |

हरियाणा भारत के उतर में स्थित एक राज्य है और इसकी राजधानी चण्डीगढ़ है। यह पंजाब से अलग हुआ राज्य है और इसका निर्माण 1 नवंबर, 1966 को हुआ था। हरियाणा की सीमा उतर में हिमाचल से और दक्षिण में राज्यस्थान से लगती है। हरियाणा भारत की राजधानी दिल्ली को तीन तरफ से घेरे हुए हैं। हरियाणा के लोग ज्यादातर खेती करते हैं और यहाँ के जवान ज्यादातर सेना में भरती होते हैं। आमतौर पर हरियाणा में हरियाणवी बोली जाती है लेकिन इसकी राजकीय भाषा हिंदी है। हरियाणा की राजकीय पशु नील गाय है और राजकीय पेड़ पीपल है।

Haryana diwas par nibandh in hindi

भारत में मुख्य पर्यटक स्थल कुरूक्षेत्र हैं। यहाँ पर मनाए जाने वाले मुख्य त्योहार में होली ,दीवाली, साँझी आदि आते हैं। यहाँ के लोग ज्यादातर कुश्ती या कबड्डी खेलते हैं। हरियाणा में दुध दही को ज्यादा खाया जाता है। हरियाणा का सांस्कृतिक पहनावा पुरूषों के लिए धोती कुर्ता है और औरतों के लिए दामन और कुर्ती है जिसके उपर वह घोटे वाली चुंदड़ी ओड़ती है। हरियाणा में हर तरफ हरियाली देखने को मिलती है। यहाँ के लोग मिल जुलकर रहते हैं। यह एक बहुत ही प्यारा राज्य है। हरियाणा में बहने वाली प्रमुख नदियों में यमुना और घाघर है।

Haryana day essay in hindi

हरियाणा, उत्तर-मध्य भारत में राज्य। यह उत्तर-पश्चिम में पंजाब राज्य और चंडीगढ़ के केंद्र क्षेत्र, उत्तर और पूर्वोत्तर राज्यों में हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड राज्यों द्वारा पूर्व में उत्तर प्रदेश राज्य और दिल्ली के केंद्रशासित प्रदेश से घिरा हुआ है, और राजस्थान राज्य द्वारा दक्षिण और दक्षिणपश्चिम। चंडीगढ़ शहर, चंडीगढ़ संघ के भीतर, न केवल उस क्षेत्र की राजधानी बल्कि हरियाणा और पंजाब राज्यों की राजधानी के रूप में कार्य करता है।

हरियाणा का गठन 1 नवंबर, 1966 को पंजाब के पूर्व राज्य के विभाजन के दो अलग-अलग राज्यों में पंजाबी भाषी पंजाब और हिंदी भाषी हरियाणा में हुआ था। यद्यपि पुनर्गठन ने सिख समुदाय द्वारा पंजाबी उप-पंजाबी भाषी प्रांत के लिए मांगों का पालन किया, लेकिन यह पंजाब के हिंदी भाषी क्षेत्र में विशाल हरियाणा (ग्रेटर हरियाणा) के लोगों की आकांक्षाओं को भी काफी हद तक पूरा करता था। हरिया नाम, हरि (हिंदू भगवान विष्णु) और आयन (घर) से, जिसका मतलब है “भगवान का निवास।”
हरियाणा की मिट्टी आमतौर पर गहरी और उपजाऊ होती है। कुछ अपवाद हैं, हालांकि, पहाड़ी पूर्वोत्तर और दक्षिणपश्चिमी के रेतीले इलाकों की खराब भूमियां शामिल हैं जो राजस्थान के थार (ग्रेट इंडियन) रेगिस्तान को फेंकती हैं। अधिकांश राज्य की भूमि कृषि है, लेकिन सिंचाई की आवश्यकता है।

हरियाणा विभिन्न स्तनधारियों का घर है। तेंदुए, जैकल्स, जंगली सूअर, और कई प्रकार के हिरण समेत बड़ी प्रजातियां आम तौर पर पूर्वोत्तर और दूर दक्षिण के पहाड़ी क्षेत्रों तक ही सीमित होती हैं। छोटे स्तनधारियों, जैसे कि चमगादड़, गिलहरी, चूहों, चूहों, और जर्बिल्स, मैदानी इलाकों में आम हैं। नदियों के पास विभिन्न प्रकार के बतख और तिल पाए जाते हैं। कृषि क्षेत्रों में कबूतर और कबूतर आम हैं, जैसे छोटे, रंगीन पक्षियों जैसे पैराकेट्स, बुनिंग्स, सनबर्ड, बुलबुल और किंगफिशर। राज्य में सांप की कई प्रजातियां पाई जाती हैं; इनमें से अजगर, बोआ, और चूहे सांप, साथ ही जहरीले क्रेट और वाइपर भी हैं। अन्य छिपकलियां, मेंढक और कछुए समेत अन्य सरीसृप भी हरियाणा में रहते हैं।

एक कृषि समृद्ध राज्य, हरियाणा केंद्रीय पूल (अधिशेष खाद्य अनाज की एक राष्ट्रीय भंडार प्रणाली) में बड़ी मात्रा में गेहूं और चावल का योगदान करता है। इसके अलावा, राज्य कपास, बलात्कार और सरसों के बीज, मोती बाजरा, चम्मच, गन्ना, ज्वारी, मक्का (मक्का), और आलू की महत्वपूर्ण मात्रा का उत्पादन करता है। डेयरी मवेशी, भैंस, और बैल, जो भूमि को खेती करने और मसौदे जानवरों के रूप में उपयोग करने के लिए उपयोग किए जाते हैं, पूर्वोत्तर क्षेत्र में प्रमुख हैं।

राज्य के विकास कार्यक्रम में शिक्षा को उच्च प्राथमिकता दी गई है, और सरकार और निजी संगठनों ने सभी स्तरों पर शिक्षा को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। हालांकि, जबकि हजारों प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों ने यह सुनिश्चित किया है कि पूरे राज्य में बुनियादी शिक्षा उपलब्ध है, अधिकांश जनसंख्या-विशेष रूप से ग्रामीण महिलाएं 21 वीं शताब्दी की शुरुआत में पढ़ने में असमर्थ रहीं। इस प्रवृत्ति को दूर करने के प्रयास में, राज्य ने सभी प्रकार की शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए सामाजिक और आर्थिक रूप से वंचित पृष्ठभूमि से छात्रों को सहायता प्रदान करना जारी रखा है।

हरियाणा दिवस पर निबंध इन हरयाणवी

आप इन हरियाणा दिवस एस्से, हरियाणा दिवस एस्से इन हिंदी, हरियाणा पर निबंध, haryana day essay, haryana day essay in hindi language, हरयाणा डे एस्से इन हिंदी, मेरा हरियाणा निबंध, किसी भी भाषा जैसे Hindi, Urdu, उर्दू, English, sanskrit, Tamil, Telugu, Marathi, Punjabi, Gujarati, Malayalam, Nepali, Kannada के Language Font में साल 2007, 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 का full collection whatsapp, facebook (fb) व instagram पर share कर सकते हैं|

जिसे भारत का ग्रीन लैंड कहा जाता है। वो हरियाणा उत्तर भारतीय राज्य है। राज्य के दक्षिण में राजस्थान और पश्चिम में हिमाचल प्रदेश और उत्तर में पंजाब की सीमा और पूर्व में दिल्ली क्षेत्र है। हरियाणा और पडोसी राज्य पंजाब की भी राजधानी चंडीगढ़ ही है। इस राज्य की स्थापना 1 नवम्बर 1966 को हुई। क्षेत्रफल के हिसाब से इसे भारत का 20 वा सबसे बड़ा राज्य बनाता है।

1 नवम्बर 1966 को पंजाब पुनर्गठन अधिनियम एक्ट (1966) के तहत हरियाणा राज्य का गठन हुआ। 23 अप्रैल 1966 को पंजाब राज्य को विभाजित करने और नये हरियाणा राज्य की सीमाए निर्धारित करने के लिए भारत सरकार ने जे.सी. शाह की अध्यक्षता में शाह कमीशन की स्थापना की।

31 मई 1966 को कमीशन ने अपनी रिपोर्ट जारी की। रिपोर्ट के अनुसार कर्नल, गुडगाँव, रोहतक, महेंद्रगढ़ और हिसार जिलो को नये राज्य हरियाणा का भाग बनाया गया। साथ ही इसमें संगरूर जिले की जींद और नरवाना तहसील और नारैनगढ़, अम्बाला और जगाधरी तहसील को भी शामिल किया गया।

साथ ही कमीशन ने सिफारिश भी की के चंडीगढ़ (पंजाब की राजधानी) में शामिल खराद तहसील को भी हरियाणा में शामिल किया जाए। जबकि खराद के छोटे से भाग को ही हरियाणा में शामिल किया गया। चंडीगढ़ राज्य को केन्द्रशासित प्रदेश बनाया गया था, जो पंजाब और हरियाणा दोनों राज्य की राजधानी बनी हुई थी।

Haryana diwas essay in hindi

हरियाणा की स्थापना 1 नबम्बर 1966 में हुई थी। हरियाणा की राजधानी चण्डीगढ़ है। हरियाणा में विधान सभा की 90 लोकसभा की 10 तथा राज्य सभा की 5 सीटें हैं| राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली हरियाणा से तीन ओर से घिरी हुई है। हरियाणा का क्षेञफल 44212 किमी है। राज्य में सडकों की कुल लंबाई 34772 किमी है (2015 के अनुसार)। अम्बाला, पानीपत, और जखाल यहॉ के प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं यहॉ जिलों की संख्या 22 है। हरियाणा की राजकीय भाषा ‘हिंदी’ है। हरियाणा का राजकीय पशु ‘काला हिरन’ है। हरियाणा का राजकीय फूल कमल है। हरियाणा का राजकीय वृक्ष ‘पीपल’ है। हरियाणा का राजकीय पक्षी ‘काला तीतर’ है। यमुना और घाघरा यहॉ बहने वाली प्रमुख नदीयाॅ हैं। हरियाणा देश का पहला राज्य है जहॉ 1970 में सभी राज्यों में बिजली की व्यवस्था की गई थी। हरियाणा, भारत के अमीर राज्यों में से एक है और प्रति व्यक्ति आय के आधार पर यह देश का दूसरा सबसे धनी राज्य है।

इसके अतिरिक्त भारत में सबसे अधिक ग्रामीण करोड़पति भी इसी राज्य में हैं। भारत में हरियाणा यात्रि कारों, द्विचक्र वाहनों और ट्रैक्टरों के निर्माण में सर्वोपरी राज्य है। हाेली, दिवाली, तीज, गुग्गापीर, और सॉझी यहॉ के प्रमुख पर्व हैं। गुडगांव स्थित सुल्तान पुर राष्ट्रीय उद्यान हरियाणा का एकमाञ राष्ट्रीय उद्यान है।

इसकी सीमायें उत्तर में हिमाचल प्रदेश, दक्षिण एवं पश्चिम में राजस्थान से जुड़ी हुई हैं। यमुना नदी इसके उत्तराखण्ड और उत्तर प्रदेश राज्यों के साथ पूर्वी सीमा को परिभाषित करती है। हिन्दू मतों के अनुसार महाभारत का युद्ध कुरुक्षेत्र में हुआ इसमें भगवान कृष्ण ने भागवत गीता का वादन किया । इसके अलावा यहाँ तीन पानीपत की लड़ाइयाँ हुई। हरियाणा के विषय में वैदिक साहित्य में अनेक उल्लेख मिलते हैं। इस प्रदेश में की गई खुदाईयों से यह ज्ञात होता है कि सिंधु घाटी सभ्यता और मोहनजोदड़ों संस्कृति का विकास यहीं पर हुआ था। इस राज्य को ब्रह्मवर्त तथा ब्रह्मर्षि प्रदेश के अतिरिक्त ‘ ब्रह्म की उत्तरवेदी’ के नाम से भी पुकारा गया। इस राज्य को आदि सृष्टि का जन्म-स्थान भी माना जाता है।

यह भी मान्यता है कि मानव जाति की उत्पत्ति जिन वैवस्तु मनु से हुई, वे इसी प्रदेश के राजा थे। ष्अवन्ति सुन्दरी कथाष् में इन्हें स्थाण्वीश्वर निवासी कहा गया है। पुरातत्वेत्ताओं के अनुसार आद्यैतिहासिक कालीन-प्राग्हड़प्पा, हड़प्पा, परवर्ती हड़प्पा आदि अनेक संस्कृतियों के अनेक प्रमाण हरियाणा के वणावली, सीसवाल, कुणाल, मिर्जापुर, दौलतपुर और भगवानपुरा आदि स्थानों के उत्खननों से प्राप्त हुए हैं। प्राचीन हरियाणा की सबल गण-परम्परा के फलस्वरूप ही यहां के लोग सदा जनवादी बने रहे और कालांतर में उन्होने हर उस साम्राज्यवादी शक्ति से टक्कर ली जिन्होने भी उनकी जनवादी व्यवस्था में हस्तक्षेव किया। सन् का जन-विद्रोह भी उसी आस्था का प्रतीक था। तत्कालीन समय में हरियाणा में हसन खाँ मेवाती, जलाल खाँ तथा मोहन सिंह मंढार की रिसायतंें सर्वाधिक प्रसिद्ध थीं। सन 1504 में इस प्रदेश को सरदार शेरशाह सूरी ने हुमायूं से छीन लिया। शेरशाह ने हरियाणा की शासन-व्यवस्था में विशेष-रूचि ली और उसने हरियाणा केकिसानों की स्थिति को उत्तम बनाने के लिए अनेक सुधार किये।

Haryana day essay in english

Imagine a state in India where how wealthy an individual is judged by the number of cattle the individual has! Where the golden rays of the rising sun penetrate the verdant fields and the chirping of birds lend a sweet music to the ears. The hookas, the cows, the khaats, the milk, the paddy fields, the colorful festivals…..Yes, it is Incredible Haryana, also known as the “The Home of Gods”. Haryana shares its borders with several states of India like Rajasthan, Delhi, Uttar Pradesh, Punjab, and Himachal Pradesh. The state is a visitor’s delight because of its friendly people, pleasant climate, lush forests, beautiful fairs, translucent lakes, ancient monuments, serene landscapes, lip-smacking food and more. The list does not end here as there is a plethora of things to do and see things that you will certainly cherish and make you FALL IN LOVE with Haryana.

The majestic state of Haryana has progressed leaps and bounds over the years which can be largely attributed to the large number of tourist attractions at its disposal; many of these attractions have religious and historical importance and are effectively maintained and developed by the state’s tourism department. As a result, the state has been able to captivate the attention of the travelers who visit the region to marvel at the several awe-inspiring splendors of this quaint state.

Nestled at the banks of the pious River Saraswati and River Godavari, the sacred Kurukshetra city is situated in Kurukshetra district of Haryana. It is in this place where Lord Krishna narrated the divine Bhagvat Gita to Arjuna during the epic battle of Mahabharata. A trip to this city offers a wonderful opportunity to marvel at the unique culture and remarkable history of Indian civilization.Some of the popular tourist attractions of Kurukshetra that entice the visitors to the magnificent state of Haryana are: Jyotisar, Brahmasrovar, Sannehit Sarovar, Gurudwara Rajghat, Sheikh Chehli’s Tomb Kurukshetra tenders a great insight into the splendor and grandeur of ancient India and the memories of this city will remain etched in the heart forever

कोरोनावायरस महामारी के चलते महाराष्ट्र सरकार ने एक योजना को शुरू किया था जिसका नाम बंधकम कामगार योजना 2022 है। योजना के तहत राज्य के मजदूरों को सरकार द्वारा ₹2000 तक की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। वह सभी लाभार्थियों की योजना का लाभ उठाना चाहते हैं उनको ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म को भरना होगा। इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि काम घर कल्याण योजना 2022 ऑनलाइन अप्लाई कैसे करें। महाराष्ट्र सरकार ने पंजीकृत श्रमिकों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए ₹2000 तक की धनराशि देने का निर्णय लिया है। यदि आप योजना का आवेदन, बांधकाम कामगार योजना 2022 लिस्ट, bandhkam kamgar yojana renewal करना चाहते हैं तो आपको कामगार योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।

बांधकाम कामगार यादी 1500 – www mahabocw in 2022

इस योजना के तहत महाराष्ट्र राज्य के सभी कंस्ट्रक्शन वर्कर यानी मजदूरों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी जिससे कि वह यह करो ना महामारी के समय में किसी भी प्रकार की समस्या का सामना ना कर पाए। इस योजना को कई और नामों से भी जाना जाता है जैसे कि मजदूर सहायता योजना या फिर महाराष्ट्र कोरोना सहायता योजना। बांधकर कामगार योजना 2021 के अंतर्गत मजदूरों को ₹2000 तक की धनराशि प्रदान करने हेतु कई सारे नियम एवं गाइडलाइंस को जारी किया गया था।

इस योजना के अंतर्गत राज्य के 12 लाख से ज्यादा मजदूर इस योजना का लाभ उठा पाएंगे। जो भी श्रमिक विभाग के आधिकारिक वेबसाइट से पंजीकृत है तो उनको यह सहायता राशि सीधे उनके बैंक खाते में ट्रांसफर की जाएगी।

bandhkam kamgar yojana mahiti

या योजनेंतर्गत महाराष्ट्र राज्यातील सर्व बांधकाम कामगारांना आर्थिक सहाय्य केले जाईल जेणेकरुन त्यांना महामारीच्या काळात कोणत्याही प्रकारची समस्या येऊ नये. ही योजना इतर अनेक नावांनी देखील ओळखली जाते जसे की मजदूर सहायता योजना किंवा महाराष्ट्र कोरोना सहायता योजना. बांधकर कामगार योजना 2021 अंतर्गत, मजुरांना ₹ 2000 पर्यंत निधी देण्यासाठी अनेक नियम आणि मार्गदर्शक तत्त्वे जारी करण्यात आली होती. या योजनेंतर्गत राज्यातील 12 लाखांहून अधिक मजुरांना या योजनेचा लाभ घेता येणार आहे. ज्यांनी कामगार विभागाच्या अधिकृत वेबसाइटवर नोंदणी केली असेल, त्यांना ही मदत रक्कम थेट त्यांच्या बँक खात्यात हस्तांतरित केली जाईल.

kamgar yojana online application

बांधकर कामगार योजना के तहत ₹2000 की आर्थिक मदद प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको इस पोर्टल पर bandhkam kamgar yojana registration करना होगा। यदि आप जानना चाहते हैं कि योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन एवं पंजीकरण कैसे करें तो नीचे दी गई प्रक्रिया को ध्यानपूर्वक पढ़ें।

  • सर्वप्रथम इस योजना के आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  • अब आपको वर्कर रजिस्ट्रेशन के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • अब वर्कर के लिंक पर क्लिक करें।

Kamgar Kalyan Yojana Registration

  • अब आपके सामने पात्रता मापदंड की सूची खुल जाएगी।
  • आपको यह पता मापदंड की सूची एवं दस्तावेज की जांच करनी होगी।
  • दिए गए विकल्पों पर क्लिक करें।

Kamgar Yojana Registration

  • अब चेक किया और एलिजिबिलिटी के विकल्प पर क्लिक करें।
  • यदि आप इस योजना के आवेदन के लिए एलिजिबल यानी पात्र होंगे तो आपके स्क्रीन पर एक पॉपअप आएगा जिसके बाद आपको ओके के बटन पर क्लिक करना होगा।

Bandhkam Kamgar Kalyan Yojana Registration

  • अब अपना आधार नंबर एवं आधार नंबर से लिंक मोबाइल नंबर दर्ज करें।
  • ड्रॉपडाउन में से अपना डिस्ट्रिक्ट का चयन करें।

Kamgar Kalyan Yojana

  • अब सेंड ओटीपी के विकल्प पर क्लिक करें।
  • रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर प्राप्त हुए ओटीपी को दर्ज करें।
  • अब रजिस्ट्रेशन फॉर्म को ध्यानपूर्वक भरे।
  • अब क्लेम के बटन पर क्लिक करें।

bandhkam kamgar yojana 2021 online form

जो भी इच्छुक लाभार्थी बांधकर काम घर योजना के लिए ऑनलाइन की जगह ऑफलाइन आवेदन करने के इच्छुक हैं तो वह bandhkam kamgar yojana 2021 form pdf आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं। इसके लिए हमारे द्वारा नीचे प्रदान किया गया लिंक पर क्लिक करें। अब आपके सामने एक आवेदन फॉर्म पीडीएफ फॉर्मेट में खुल जाएगा। डाउनलोड के बटन पर क्लिक करके इस फॉर्म को डाउनलोड करें। यह एक आधिकारिक आवेदन फॉर्म है जो कि सरकार द्वारा आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से डाउनलोड किया जा सकता है।

maharashtra bandhkam kamgar yojana form pdf download: Click here  

महाराष्ट्र बांधकाम कामगार योजना की पात्रता

यदि आप इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं तो निम्नलिखित करना अनिवार्य है। नीचे दिए गए पात्रता मापदंडों को ध्यानपूर्वक पढ़ें।

  • आवेदन श्रमिक की आयु 18 वर्ष से 60 वर्ष के बीच में होनी चाहिए|
  • योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए श्रमिक का महाराष्ट्र इमारत एवं उत्तर बांधकाम कामगार कल्याण विभाग में रजिस्टर होना आवश्यक है।
  • योजना का आवेदन से महाराष्ट्र राज्य के स्थाई निवासी ही कर पाएंगे|
  • इस योजना का लाभ उन्हीं श्रमिकों को मिलेगा जिन्होंने पिछले 12 महीने में कम से कम 90 दिन श्रम किया हो

महाराष्ट्र बांधकाम कामगार योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

अगर आप कामगार योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं तो आपके पास नीचे दिए गए आवश्यक दस्तावेज होने अनिवार्य हैं।

  • आधार कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • 90 दिन का श्रम सर्टिफिकेट
  • मोबाइल नंबर
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पहचान प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र

कामगार कल्याण योजना  मान्यता प्राप्त कार्यों की सूची (बांधकाम कामगार सूची)

  • इमारतें,
  • सड़कें,
  • सड़कें,
  • रेलवे,
  • ट्रामवेज,
  • हवाई क्षेत्र,
  • सिंचाई,
  • जल निकासी,
  • तटबंध और नौवहन कार्य,
  • बाढ़ नियंत्रण कार्य (तूफान जल निकासी कार्य सहित),
  • पीढ़ी,
  • बिजली का पारेषण और वितरण,
  • वाटर वर्क्स (पानी के वितरण के लिए चैनल सहित),
  • तेल और गैस प्रतिष्ठान,
  • विद्युत लाइनें,
  • तार रहित,
  • रेडियो,
  • टेलीविजन,
  • टेलीफोन,
  • टेलीग्राफ और विदेशी संचार,
  • बांध,
  • नहरें,
  • जलाशय,
  • जलकुंड,
  • सुरंगें,
  • पुल,
  • पुलिया,
  • एक्वाडक्ट्स,
  • पाइपलाइन,
  • टावर्स,
  • जल शीतलक मीनार,
  • ट्रांसमिशन टावर्स और ऐसे ही अन्य कार्य,
  • पत्थर को काटना, तोड़ना और पत्थर को बारीक पीसना।
  • टाइलों या टाइलों को काटना और पॉलिश करना।
  • पेंट, वार्निश आदि के साथ बढ़ईगीरी,
  • गटर और नलसाजी कार्य।,
  • वायरिंग, वितरण, टेंशनिंग आदि सहित विद्युत कार्य,
  • अग्निशामक यंत्रों की स्थापना और मरम्मत।,
  • एयर कंडीशनिंग उपकरण की स्थापना और मरम्मत।,
  • स्वचालित लिफ्टों आदि की स्थापना,
  • सुरक्षा दरवाजे और उपकरणों की स्थापना।,
  • लोहे या धातु की ग्रिल, खिड़कियां, दरवाजों की तैयारी और स्थापना।
  • सिंचाई के बुनियादी ढांचे का निर्माण।,
  • बढ़ईगीरी, आभासी छत, प्रकाश व्यवस्था, प्लास्टर ऑफ पेरिस सहित आंतरिक कार्य (सजावटी सहित)।
  • कांच काटना, कांच पर पलस्तर करना और कांच के पैनल लगाना।
  • कारखाना अधिनियम, 1948 के अंतर्गत नहीं आने वाली ईंटों, छतों आदि को तैयार करना।
  • सौर पैनल आदि जैसे ऊर्जा कुशल उपकरणों की स्थापना,
  • खाना पकाने जैसे स्थानों में उपयोग के लिए मॉड्यूलर इकाइयों की स्थापना।
  • सीमेंट कंक्रीट सामग्री आदि की तैयारी और स्थापना,
  • स्विमिंग पूल, गोल्फ कोर्स आदि सहित खेल या मनोरंजन सुविधाओं का निर्माण,
  • सूचना पैनल, सड़क फर्नीचर, यात्री आश्रय या बस स्टेशन, सिग्नल सिस्टम का निर्माण या निर्माण।
  • रोटरी का निर्माण, फव्वारे की स्थापना आदि।
  • सार्वजनिक पार्कों, फुटपाथों, सुरम्य इलाकों आदि का निर्माण।

2021 update

1 Comment

Leave a Comment