Hindi Shayari Hindi Status Messages

वतन परस्ती शायरी – Watan Parasti Shayari 2018 SMS

भारत के गणतंत्र दिवस यानी कि 26 जनवरी को आने में कुछ ही दिन बचे हैं ऐसे में हम सब मिलकर हमारे देश के लिए मर मिटने वाले सच्चे देशभक्तों के लिए शायरियां ला रहे हैं| इन सब शूरवीरों को हमारा शत शत नमन आइए जानें कुछ देश भक्तों की वतन परस्ती शायरी इन हिंदी जिसे आप WhatsApp Status, Facebook, Whatsapp Status, Messages & Greetings के तोर पर शेयर कर सकते हैं|जय हिन्द ! जय भारत ! भारत माता की जय!|

वतन-परस्ती शायरी


जिन्हें है प्यार वतन से, वो देश के लिए अपना लहू बहाते हैं,
माँ की चरणों में अपना शीश चढ़ाकर, देश की आजादी बचाते हैं,
देश के लिए हँसते-हँसते अपनी जान लुटाते हैं..!!
Click To Tweet
26 जनवरी गणतंत्र दिवस आपको मुबारक हो

आओ झुकर सलाम करे उनको जिनके हिस्से मे ये मुकाम आता है,
खुसनसीब है वो खून जा देश के काम आता है..!!
Click To Tweet

कभी सनम को छोड़ के देख लेना, कभी शहीदों को याद करके देख लेना,
कोई महबूब नहीं है वतन जैसा यारो, देश से कभी इश्क करके देख लेना..!!
Click To Tweet

ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हैं शासक कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता..!!
Click To Tweet
वतन परस्ती शायरी - Watan Parasti Shayari 2018 SMS

watan parasti urdu shayari


नक़्शा ले कर हाथ में बच्चा है हैरान
कैसे दीमक खा गई उस का हिन्दोस्तान
Click To Tweet

न होगा राएगाँ ख़ून-ए-शहीदान-ए-वतन हरगिज़
यही सुर्ख़ी बनेगी एक दिन उनवान-आज़ादी
Click To Tweet

ख़ुदा ऐ काश 'नाज़िश' जीते-जी वो वक़्त भी लाए
कि जब हिन्दोस्तान कहलाएगा हिन्दोस्तान-ए-आज़ादी
Click To Tweet

दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की उल्फ़त
मेरी मिट्टी से भी ख़ुशबू-ए-वफ़ा आएगी
Click To Tweet

watan parasti ki shayari


वतन हमारा मिसाल है मोहब्बत की , तोड़ता है दीवार नफरत की ,
मेरी खुश नसीबी है मिली जिंदगी इस चमन में ,भुला ना सके कोई इसकी खुशबू सातों जन्मों में..!!
Click To Tweet

भारत देश हमको जान से प्यारा है
हिन्दुस्तानी नाम हमारा है।
न बर्षा में गलें न सर्दी से डरें न गर्मी से तपें ।
हम फौजी इस देश की शान है..!
Click To Tweet

जब देश में थी दिवाली….. वो खेल रहे थे होली…
जब हम बैठे थे घरो में…… वो झेल रहे थे गोली…
क्या लोग थे वो अभिमानी…
है धन्य उनकी जवानी………
जो शहीद हुए है उनकी… ज़रा याद करो कुर्बानी…
ए मेरे वतन के लोगो… तुम आँख में भर लो पानी..!!
Click To Tweet

तिरंगा हमारा हैं शान- ए-जिंदगी
वतन परस्ती हैं वफ़ा-ए-ज़मी
देश के लिए मर मिटना कुबूल हैं हमें
अखंड भारत के स्वपन का जूनून हैं हमें..!!
Click To Tweet
watan parasti urdu shayari

वतन पर कविता


सीनें में ज़ुनू, ऑखों में देंशभक्ति, की चमक रखता हुँ,
दुश्मन के साँसें थम जाए, आवाज में वो धमक रखता हुँ..!!
Click To Tweet

आन देश की शान देश की,
देश की हम संतान हैं।
तीन रंगों से रंगा तिरंगा,
अपनी ये पहचान हैं..!!
Click To Tweet

कुछ नशा तिरंगे की आन का है;
कुछ नशा मातृभूमि की शान का है;
हम लहराएंगे हर जगह ये तिरंगा;
नशा ये हिंदुस्तान की शान का है..!!
Click To Tweet

कर जस्बे को बुलंद जवान
तेरे पीछे खड़ी आवाम
हर पत्ते को मार गिरायेंगे
जो हमसे देश बटवायेंगे..!!
करता हूँ भारत माता से गुजारिश कि तेरी भक्ति के सिवा कोई बंदगी न मिले,
हर जनम मिले हिन्दुस्तान की पावन धरा पर या फिर कभी जिंदगी न मिले..!!
Click To Tweet

शहीदों की शायरी


करता हूँ भारत माता से गुजारिश कि तेरी भक्ति के सिवा कोई बंदगी न मिले,
हर जनम मिले हिन्दुस्तान की पावन धरा पर या फिर कभी जिंदगी न मिले..!!
Click To Tweet

आओ झुकर सलाम करे उनको जिनके हिस्से मे ये मुकाम आता है,
खुसनसीब है वो खून जा देश के काम आता है…
Click To Tweet

मिटा दिया है वजूद उनका जो भी इनसे भिड़ा है,
देश की रक्षा का संकल्प लिए जो जवान सरहद पर खड़ा है।
Click To Tweet

जिन्हें है प्यार वतन से, वो देश के लिए अपना लहू बहाते हैं, माँ की चरणों में अपना शीश चढ़ाकर,
देश की आजादी बचाते हैं, देश के लिए हँसते-हँसते अपनी जान लुटाते हैं..!!
Click To Tweet

आजादी की शायरी


कभी सनम को छोड़ के देख लेना, कभी शहीदों को याद करके देख लेना !
कोई महबूब नहीं है वतन जैसा यारो, देश से कभी इश्क करके देख लेना..!!
Click To Tweet

कर जस्बे को बुलंद जवान, तेरे पीछे खड़ी आवाम !
हर पत्ते को मार गिरायेंगे जो हमसे देश बटवायेंगे..!!
Click To Tweet

Kuchh Nasha Tirange Ki Aaan Ka Hain,
Kuch Nasha Matrbhumi Ki Shaan Ka Hai
Hum Lahrayenge Har Jagah Ye Tiranga
Nasha Ye Hindustan Ki Shaan Ka Hain
Click To Tweet

ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई, मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हैं शासक कई, मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता..!!
Click To Tweet
Related Search:

राष्ट्रीय शायरी
देशभक्ति शायरी इन हिंदी
देशभक्ति शायरी कविता
देशभक्ति sms
15 अगस्त पर शायरी

1 Comment

Leave a Comment