kavita

बेटे के जन्मदिन पर कविता – पुत्र के जन्मदिवस पर पोएम – Poem on son’s birthday in Hindi

कहा जाता है की पुत्र माँ को भगवान से मिला हुआ तोहफा है जो की उनके जीवन में खुशियों की बहार लेके आता हैं| पुत्र माँ और पिता के जीवन का सहारा बनकर उसे रौशन करता है| आज के समय में कई बार ऐसा होता है की पुत्र पढ़ाई के कारण या नौकरी के वजह से माँ से दूर चला जाता है| इसके कारण उसके जन्मदिन पर माँ उसको शुभकामनाएं नहीं दे पाती है| आज के इस आर्टिकल में हम आपके लिए पुत्र जन्मदिन काव्य इन हिंदी, उर्दू, मराठी, गुजरती, तमिल, तेलगु और इंग्लिश, बेटे के ऊपर कविताएं, माँ बेटे पर कविता आदि की जानकारी देंगे जिससे आप अपने पुत्र को व्हाट्सप्प या फेसबुक के माध्यम से डेडिकेट कर सकते हैं|

बेटे का जन्मदिन पर कविता

तो आइये अब हम आपको बेटे के लिए कविता, बेटे के ऊपर शायरी, बेटे पर कविता, आज मेरे पुत्र का जन्मदिन है, आज मेरे बेटे का जन्मदिन है, आज मेरे बेटे का जन्म दिन है, मेरा बेटा कविता आदि के बारे में जानकारी देते हैं|

बहुत दिनों पर घर आए हो
बेटे कैसे हो ?
चलने फिरने में, दिखने में
मेरे जैसे हो !
मेरे बाद तुम्हें रहना है
दुनिया जीनी है
हर मिठास के साथ जुड़ी
कड़ुवाहट पीनी है
आने वाला कल हो फिर भी
लगते तय से हो !
राजपाट देखना,
समझना ज़िम्मेदारी भी
आने लगीं समझ तुमको
हारी-बीमारी भी
देखो तो आइना, जान लो
कैसे, ऐसे हो !
वैसे ही बोलते, बात करते
हँस देते हो
बात-बात पर वैसे ही
जुमले कस देते हो
मैं अब तक जैसा था
तुम भी बिल्कुल वैसे हो !
अपनी आदत की मत पूछो
अचरज होता है
सूरज का वंशज भी आख़िर
सूरा होता है
बँधी नोट से बँधे,
खुले तो फुटकर पैसे हो !
दुखते हुए घाव,
यात्रा के क़िस्से कहते हैं
पाँव तुम्हारे अब मेरे
जूतों में रहते हैं
कहीं पराजय और कहीं
अपनी ही जय से हो !
अलग तरह से जीने की
तरक़ीबें गुनते हो
सुख मिलता जब अपनी अलग
राह भी चुनते हो
बाक़ायदा ठसक से हो
कब जैसे तैसे हो !

पुत्र के जन्मदिवस पर पोएम

Bete ke birthday par kavita in Hindi

जन्म दिन के शुभ अवसर पर,
मेरे बेटे तुमको मेरा ये आशीष है,
स्वस्थ और सुखमय जीवन हो तुम्हारा,
दीर्घायु तुम्हे प्राप्त हो,
मेरे सुख तुझको लग जाए,
तेरे दुःख मुझको मिल जाए,
ईश्वर से यही मेरी आस है,
उत्कर्ष है नाम तुम्हारा,
इस नाम को सार्थक करना
तुम्हारा काम है,
उन्नति के पथ पर अग्रसर हो तुम,
उत्कर्ष की पराकाष्ठा प्राप्त हो,
सही राह पर बढ़ते जाओ,
ईश्वर हर पल तुम्हारे साथ हो,
और तुम्हे विश्व में प्रसिद्धि प्राप्त हो।

Poem on son's birthday in Hindi

उस रात
सूरज उगा था
मेरे आँचल में
तब उजाले से भर गईं थीं मेरी आँखें
और मेरा कमरा
गुनगुनी खुशबु से महकने लगा था
पीड़ा की गठरी में से निकल
सुकून की तितलियाँ
उड़ने लगीं थीं मेरे चारो ओर
मेरी सोच और यथार्थ में ,
परिवर्तन न था
तुमको देखा तो लगा
जानती हूँ हमेशा से
ईश्वर की इस दुआ से
गोद सजाई तो
उसके गुदगुदे पाँव
मेरी हथेलियों को पवित्र कर गए
जीवन का सन्देश देतीं
उसकी अधमुंदी आँखों की चमक
मेरे जीवन की मुंडेर पर
जुगनुओं सी सज गईं
आज स्कूल जाते
उन पाँच वर्षीय नन्हे पैरों को
हौले से सहलाया
उसको हुई थोड़ी गुदगुदी
और मेरी हथेलियाँ पुनः पवित्र हो गईं

पुत्र के जन्मदिन पर हिंदी पोयम

हमारा लाड़ला स्कूल जाता है
बहुत कुछ याद आता है
बहुत कुछ भूल जाता है
टिंफ़िन लेकर हमारा लाड़ला
स्कूल जाता है
कि तुमसे ही सुबह होती
कि तुमसे शाम होती है
कि सारी सल्तनत जैसे
हमारे नाम होती है
तुम्हारी बाँह से झोंका हवा का
झूल जाता है
तुम्हारे हाथ की रोटी
समय का स्वाद होती है
हुँकारी भर रहा मौसम
कहानी याद होती है
दुआएँ साथ देती हैं
कि मन फल-फूल जाता है
तुम्हारी बोलियों में
भोर की चिड़िया चहकती है
पुरानी डायरी में
एक कविता-सी महकती है
लहर में नाव के सँग
गीत का मस्तूल जाता है

बेटे के प्रथम जन्मदिन पर कविता

बेटे के जन्मदिन पर कविता

 

जन्मदिन बेटे तुम्हारा !
साथ लाया नया सूरज
और बीता कल हमारा
आज पंद्रह साल पीछे
देर तक देखा निहारा
जन्मदिन बेटे तुम्हारा !
तुम दुधाइन गन्ध से गेहूँ हुए
कस रही-सी देह की ख़ुशबू हुए
भीगती-सी मसें चेहरे पर उगीं
टिमटिमाती आँख में जुगनू हुए
पर हमारे ख़ून ने ही
हमें बिन बोले पुकारा
उठी गंगा की लहर-सी
झिलमिलाती भावधारा
जन्मदिन बेटे तुम्हारा
एक भाई घर कि इक बाहर खिला
पीढ़ियों तक रोशनी का सिलसिला
बहन चम्पा सी हँसी दालान में
क्यों न गहरा दुख उठे फिर तिलमिला
एक झोंका उठा पल भर
हुआ बरगद भी उधारा
मन हुआ फिर मिले हमको
ज़िन्दगी अपनी दुबारा
जन्म दिन बेटे तुम्हारा
माँ तुम्हारी खीर सी महकी फिरी
हुई दादी बीच हलुए के, गरी
लगी करने याद बाबा को ज़रा
मन भरा तो आँख भी थोड़ी भरी
नाव जैसे पा गई फिर
भँवर में खोया किनारा
सजी टोली की दुआएँ
टँका अक्षत का सितारा
जन्म दिन बेटे तुम्हारा

कभी, अपना भी कुछ ,ख़याल रहे बेटा !
तुम्ही से खुशी है
तुम्ही से है आशा !
तुम्ही से तो चेहरे
पे रौनक, हमेशा !
कठिन हो समय
तो न घबराना बेटा !
न अपमान औरों का, हो तुमसे बेटा !
तुम्ही प्यार का
दूसरा नाम हो !
अपने नन्हे घरौंदे
की तुम जान हो !
ख़याल अपना,मेरे
लिए रखना बेटा !
समय कम बड़ों पर, न सो जाना बेटा !
तुम्ही मेरे जीवन
की पहचान हो !
तुम्हीं मेरे पुण्यों
का परिणाम हो !
मेरे जीवन के मूल्यों
का हो ध्यान बेटा !
खतरनाक काँटों से , सावधान बेटा !
तुम्ही मेरे मंदिर
के इकले कन्हैया
तुम्हीं नाव के अब
बनोगे खिवैय्या !
अगर गहरे जाओ,
तो ध्यान रहे बेटा !
पापा के गौरव का, ख्याल रहे बेटा !