Nibandh

पिता दिवस पर निबंध 2019 – Father’s Day Essay in Hindi – Fathers day Speech & Paragraph

पिता दिवस पर निबंध

Father’s day 2019:  वैसे तो कोई भी दिन काफी नहीं है हमें अपने पापा के लिए अपना प्यार दिखाने को पर यह दिन दुनिया भर में पिता के लिए मनाया जाता है| इसलिए हर साल की तरह इस साल भी हम अपने पापा यानी पिताजी के लिए यह दिन मनाएंगे उनके लिए कुछ ख़ास कर के| अगर आप भी अपने पापा के लिए कुछ लाइन डेडिकेट करना चाहते हैं तो आप हमारे द्वारा दिए हुए फादर्स डे शार्ट एस्से , father’s day speech in hindi, grandparents day essay in hindi, speech on father’s day in hindi, .essay for father’s day in hindi,short essay on fathers day in Hindi व हिंदी एस्से ओन फादर्स डे आदि की जानकारी देंगे जिसे आप अपने स्कूल के कार्यक्रम या भाषण प्रतियोगिता में प्रयोग कर सकते है|

Father’s day essay in Hindi

Father’s day 2019 date in India: फादर्स डे यानी की पिता दिवस इस साल 16 जून 2019 को मनाया जाएगा जो की Sunday को है| आइये देखें मेरे माता पिता पर निबंध, मेरे माता पिता निबंध, मेरा आदर्श व्यक्ति पर निबंध, मेरा आदर्श vyakti पर निबंध, मेरे जीवन का आदर्श पर निबंध, मेरे पिता निबंध, फादर्स डे स्टेटस, मेरे पिताजी पर कविता, पिता दिवस पर कविता, मेरे आदर्श निबंध, father’s day shayari in Hindi, father’s day speech from daughter in hindi, father’s day special speech in hindi, Fathers Day per Nibandh, parents day essay in hindi, happy fathers day speech in hindi, Happy Father’s day Message, Fathers Day par nibandh in english, Happy Fathers Day Wishes in Hindi, फादर्स डे पर छोटा निबंध, यानी की फादर्स डे पर निबंध हिंदी में 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|

मेरे पापा पर निबंध

मैं अपने पिता जी से बेहद प्यार करता हूँ. मेरे पिता सचमुच मुझे बहुत प्यार करते हैं. मेरे पिता मेरे लिए महान हैं क्योंकि वे एक आदर्श पिता हैं। वे मेरे लिए केवल एक पिता ही नहीं बल्कि मेरे सबसे अच्छे दोस्त भी हैं, जो समय-समय पर मुझे अच्छी और बुरी बातों का आभास कराकर आगाह करते हैं। पिताजी मुझे हार न मानने और हमेशा आगे बढ़ने की सीख देते हुए मेरा हौसला बढ़ाते हैं। पिता से अच्छा मार्गदर्शक कोई हो ही नहीं सकता। हर बच्चा अपने पिता से ही सारे गुण सीखता है जो उसे जीवन भर परिस्थितियों के अनुसार ढलने के काम आते हैं। उनके पास सदैव हमें देने के लिए ज्ञान का अमूल्य भंडार होता है, जो कभी खत्म नहीं होता। मेरे पिता की कुछ प्रमुख विशेषताएं उन्हें दुनिया का सबसे अच्छा पिता बनाती है जैसे –
धीरज- पिताजी का सबसे महत्वपूर्ण गुण है, कि वे सदैव हर समय धीरज से काम लेते हैं और कभी खुद पर से आपा नहीं खोते। हर परिस्थिति में वे शांति से सोच समझ कर आगे बढ़ते हैं और गंभीर से गंभीर मामलों में भी धैर्य बनाए रखते हैं।
संयम – मैने हमेशा पिता से सीखा है कि चाहे कुछ भी हो जाए, हमें अपने आप पर से नियंत्रण कभी नहीं खोना चाहिए। पिताजी हमेशा संयमित व्यवहारकुशलता से हर कार्य को सफलता पूर्वक समाप्त करते हैं। वे कभी मुझ पर या मां पर बिना वजह छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा नहीं करते।

अनुशासन- पिताजी हमेशा हमें अनुशासन में रहना सिखाते हैं और वे खुद भी अनुशासित रहते हैं। सुबह से लेकर रात तक उनकी पूरी दिनचर्या अनुशासित होती है। वे सुबह समय पर उठकर दैनिक कार्यों से नि़वृत्त होकर ऑफिस जाते हैं और समय पर लौटते हैं। वे प्रतिदिन शाम को मुझे बगीचे में घुमाने भी लेकर जाते हैं। इसके बाद वे मुझे स्कूल के सारे विषयों का अध्ययन करवाते हैं।

गंभीरता – पिताजी घर के सभी कार्यों और परिवार के सभी लोगों और उनके स्वास्थ्य के प्रति गंभीर होते हैं। वे कभी छोटी-छोटी बातों को भी नजर अंदाज नहीं करते बल्कि हर बात को गंभीरता से लेकर उसका महत्व हमें समझाते हैं

प्रेम – पिताजी मुझसे, और परिवार के सभी लोगों से बहुत प्रेम करते हैं, वे घर में किसी भी प्रकार की कमी नहीं होने देते और हमारी जरूरतें और फरमाइशें भी पूरी करते हैं। किसी भी प्रकर की गलती होने पर वे हमें डांटने के बजाए हमेशा प्यार से समझाते हैं और गलतियों के परिणाम बताते हुए दोबारा न करने की सीख भी देते हैं।

बड़ा दिल – पिताजी का दिल बहुत बड़ा है, कई बार उनके पास पैसे नहीं होते हुए भी वे अपनी जरूरत भूलकर हमारी जरूरतों और कभी कभी गैरजरूरी फरमाइशों को भी पूरा करते हैं वे कभी हमें या परिवार के सदस्यों को किसी भी चीज के लिए तरसने नहीं देते। बच्चे कोई बड़ी से बड़ी गलती भी क्यों न कर दें, पिताजी हमेशा कुछ देर गुस्सा दिखाने के बाद उसे माफ कर देते हैं ।

पिताजी कभी अपनी कोई तकलीफ नहीं बताते बल्कि वे घर के लोगों की हर जरूरत और तकलीफ का पूरा ध्यान रखते हैं। इन्हीं सब विशेषताओं के कारण पिता की महानता और अधि‍क बढ़ जाती है और उनकी तुलना दुनिया में किसी से भी नहीं की जा सकती। पिता प्रत्येक बच्चे के लिए धरती पर ईश्वर का साक्षात रूप होते हैं। वे अपनी संतान को सुख देने के लिए अपने सुखों को भी भूला देते हैं। वे रात दिन अपने बच्चों के लिए ही मेहनत करते हैं और उन्हें वे हर सुविधा देना चाहते है जो उन्हें भी कभी नहीं मिली। इसीलिए मेरे पिता दुनिया में सबसे अच्छे पिता हैं ।

Short essay on father’s day in Hindi

अक्सर class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है write Short Father’s Day essay in hindi, Fathers Day Essay In Urdu, Fathers Day essay in1000 words, Fathers Day essay in punjabi, लेख एसेज, anuched, short paragraphs, pdf, Composition, Paragraph, Article हिंदी, some lines on Father’s Day in hindi, 10 lines on Fathers Day in hindi, short essay on Fathers Day in hindi font, few lines on Fathers Day in hindi निबन्ध (Nibandh) निबंध लिखें|

मेरे पिता पर निबंध – 100 words

मेरे पिता’ मेरे जीवन में एक आदर्श व्यक्ति हैं। वो मेरे सच्चे हीरो हैं और हमेशा के लिये मेरे सबसे अच्छे दोस्त हैं। किसी भी परेशानी में वो हमेशा मेरी मदद करते हैं। वो नयी दिल्ली के एक लिमिटेड कंपनी में एक इंटरनेट मार्केटिंग मैनेजर हैं। अपनी सौम्यता और विनम्रता के कारण समाज के साथ ही साथ अपने ऑफिस में भी वो बहुत ही प्रसिद्ध इंसान हैं। वो बहुत बुद्धिमान पुरुष हैं और हमेशा दूसरों की परेशानी में उसकी मदद करते हैं।

वो हमारे परिवार के मुखिया हैं और सभी पारिवारिक सदस्यों को सलाह और निर्देश देते हैं। वो पड़ोसियों की भी खूब मदद करते हैं। वो मेरे हर शिक्षक-अभिभावक मीटिंग में मुझे ले जाते हैं और मेरे शिक्षक से मेरे प्रदर्शन के बारे चर्चा करते हैं।

Fathers Day par nibandh in hindi – 200 words

‘मेरे पिता’ बहुत ही प्यारे और कर्तव्यनिष्ठ व्यक्ति हैं। मैं हमेशा उनके जीवन और अनुभवों से सीखता हूं। वो मुझे अपने जीवन के सभी संघर्ष और सफलताओं के बारे में बताते हैं। वो एक ऐसे इंसान हैं जो मुझे शिष्टाचार, मानवता और नैतिकता के बारे में सिखाते हैं। वो मुझे रोज़ सुबह उठने में और सही समय पर स्कूल के लिये तैयार होने में भी मदद करते हैं। मेरी माँ मेरा नाश्ता और लंच तैयार करती हैं जबकि ‘मेरे पिता’ मुझे तैयार होने में मदद करते हैं। वो हर शाम 6 बजे ऑफिस से ढेर सारी खुशी के साथ आते हैं। वो बहुत ही फुर्तिले व्यक्ति हैं इसलिये ऑफिस से आते ही वो मेरे साथ बैडमिंटन खेलने लगते हैं। वो मेरे लिये चौकोलेट, कुरकुरे, फल, सुंदर खिलौना, चित्र पुस्तक, कॉमेडी पुस्तक, कपड़े, जूते और पढ़ाई के लिये ज़रुरी स्टेशनेरीज़ लाते हैं।

हमारी छुट्टी को एक खुशनुमा छुट्टी बनाने के लिये पार्क या दूसरी मनपसंद जगहों में हर रविवार की सुबह हम सभी को घर से बाहर ले जाते हैं। हर रविवार को हम लज़ीज नाश्ता करते हैं और पूरा परिवार एक साथ मिलकर ढेर सारे क्रिया-कलाप करते हैं। कई बार हम परिवार के सभी सदस्यों के साथ लंबे समय के लिये पिकनिक या प्रसिद्ध घूमने की जगह पर जाते हैं। मेरी गर्मी और सर्दी की छुट्टी में, ‘मेरे पिता’ हम सभी को (मैं, मेरी बहन, माँ और दादा-दादी) कुछ आराम या मनोरंजन के लिये पहाड़ी स्थल, समुद्र के किनारे और होटल ले जाते हैं।

Fathers Day Essay in Hindi – 250 words

आइये अब हम आपको fathers day special speech in hindi, fathers day essay in marathi, fathers day speech in hindi pdf,essay on fathers day in english, happy father’s day

‘मेरे पिता’ दुनिया के सबसे प्यारे पिता हैं। वो मेरे सच्चे हीरो, पक्के दोस्त, मेरी प्रेरणा और अभी तक देखे मेरे जीवन के सबसे अच्छे इंसान हैं। वो एक ऐसे इंसान हैं जो स्कूल के लिये तैयार होने में, बिस्तर से सुबह उठने में और अच्छे से मेरे गृहकार्य पूरा कराने में बहुत मदद करते हैं। वो हमेशा मेरा ध्यान रखते हैं और मेरी माँ को दोपहर में ये जानने के लिये फोन करते हैं कि क्या मैं अपने सही समय पर घर पहुँच गया हूँ कि नहीं। वो बहुत तंदुरुस्त, स्वस्थ, खुश और समयपालक व्यक्ति हैं। वो हमेशा सही समय पर ऑफिस जाते हैं और हमें भी स्कूल सही समय पर जाने के लिये सिखाते हैं। वो हमें जीवन में समय का मूल्य सिखाते हैं और कहते हैं कि अगर कोई अपना समय खराब करता है, समय उसका जीवन नष्ट कर देता है।

वो बहुत अच्छे इंसान हैं और मेरे पड़ोसियों को उनके मुश्किल समय में मदद करते हैं। वो हमेशा मेरी माँ को बहुत प्यार, देख-भाल और सम्मान करते हैं तथा कभी उनसे झगड़ा नहीं करते हैं। वो हमेशा उनका साथ देते हैं और उनकी बीमारी के समय किचन में कई बार मदद भी करते हैं। वो मेरे दादा-दादी को बहुत प्यार और इज़्जत करते हैं और हमें उनका ध्यान रखना सिखाते हैं। वो हमें कहते हैं कि बूढ़े लोग ईश्वर की तरह होते हैं, हमें उनका ध्यान, सम्मान और प्यार करना चाहिये। हमें मुश्किल समय में बूढ़े लोगों की कभी अनदेखी नहीं करना चाहिये क्योंकि ये समय हरेक के जीवन में आता है। वो हमें कहते हैं कि अपनी स्थिति के अनुसार पूरे जीवनभर सभी आयु वर्ग के ज़रुरतमंद लोगों की हमेशा मदद करनी चाहिये। वो हर दिन 15 मिनट हमें अच्छी आदतों और नैतिकता के बारे में बताते हैं।

Father’s day speech in hindi

आइये देखें Mere Pita par nibandh यानी My Father Essay in Hindi जो की हमने नीचे दर्शाया है:

वो व्यक्ति जिसका मैं अपने जीवन में सदा प्रशंसा करता हूँ वो केवल मेरे प्यारे पिता हैं। मैं आज भी अपने पिता के साथ के सभी बचपन के पलों को याद करता हूँ। वो मेरी खुशी और आनन्द के वास्तविक कारण हैं। मैं जो भी हूँ उन्हीं की वजह से क्योंकि मेरी माँ हमेशा किचन और दूसरे घरेलू कार्यों में व्यस्त रहती थीं और ये ‘मेरे पिता’ हैं जो मेरे और मेरी बहन के साथ खुशी मनाते हैं। मैं समझता हूं कि वो दुनिया के सबसे अलग पिता हैं। मैं अपने जीवन में ऐसे पिता को पाकर खुद को बहुत धन्य मानता हूं। मैं हमेशा ईश्वर को धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने मुझे ऐसे अच्छे पिता के परिवार में जन्म लेने का अवसर दिया।

वो बहुत ही विनम्र और शांतिपूर्ण व्यक्ति हैं। वो कभी मुझे डाँटते नहीं हैं और मेरी सभी गलतियों को सरलता से लेते हैं तथा बहुत विनम्रता से मेरी सभी गलतियों का मुझे एहसास कराते हैं। वो हमारे परिवार के मुखिया हैं और बुरे समय में हरेक पारिवारिक सदस्य की मदद करते हैं। मुझे बताने के लिये वो अपने जीवन की कमियाँ और उपलब्धियों को साझा करते हैं। ऑनलाइन मार्केटिंग का उनका अपना व्यवसाय है फिर भी उसी क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिय कभी दबाव नहीं बनाते हैं या उसके प्रति आकर्षित करते हैं, बजाय इसके जो भी मैं अपने जीवन में बनना चाहता हूँ उसके लिये वो हमेशा मुझे बढ़ावा देते हैं। वो वास्तव में एक अच्छे पिता हैं इसलिये नहीं कि वो मेरी मदद करते हैं बल्कि अपने ज्ञान, मजबूती, मददगार स्वाभाव और खासतौर से लोगों को सही तरीके से संभालने की वजह से।

वो हमेशा अपने माता-पिता अर्थात् मेरे दादा-दादी का सम्मान और हर समय उनका ध्यान देते हैं। मुझे आज भी याद है जब मैं छोटा था, मेरे दादा-दादी आमतौर पर ‘मेरे पिता’ की बदमाशियों के बारे में बात करते थे लोकिन वो मुझे कहते थे कि तुम्हारे पिता अपने जीवन में बहुत अच्छे इंसान हैं, उनकी तरह बनो। ये ‘मेरे पिता’ हैं जो परिवार में सभी को खुश देखना चाहते हैं और हमेशा पूछते हैं जब भी कोई दुखी होता है तो उसकी समस्या को सुलझाते हैं। वो मेरी माँ को बहुत प्यार करते हैं और ख्याल रखते हैं तथा उन्हें घरेलू कामों से थक जाने पर आराम करने की सलाह देते हैं। ‘मेरे पिता’ मेरी प्रेरणा हैं, मेरे स्कूल के कामों के लिये वो हमेशा मेरी मदद को तैयार रहते हैं और क्लास में मेरे व्यवहार और प्रदर्शन के ऊपर चर्चा करने के लिये मेरे पीटीएम में भी जाते हैं।

‘मेरे पिता’ बहुत गरीब परिवार में पैदा हुए थे जबकि अपने धैर्य, कड़ी मेहनत और मददगार स्वाभाव के कारण वर्तमान में वो शहर के अमीरों में से एक हैं। मेरे दोस्त आमतौर पर ऐसे पिता का पुत्र होने पर मुझे बहुत सौभाग्यशाली कहते हैं। मैं सामान्यत: ऐसे टिप्पणियों पर हँसता हूँ और अपने पिता को ये बताता हूँ, वो भी हंसते हैं, कहते हैं, कि वो सच नहीं कहते लेकिन सच्चाई ये है कि मैं खुश़नसीब हूँ कि मेरे पास तुम्हारे जैसा बेटा है। वो मुझसे कहते हैं कि वो बनो जो तुम चाहते हो और हमेशा खुद पर विश्वास करो।

पिता दिवस पर हिंदी निबंध

‘मेरे पिता’ मेरे जीवन के सबसे अच्छे दोस्त और सच्चे हीरो हैं। मैं हमेशा उन्हें डैड बुलाता हूँ। वो मेरे जीवन के सबसे खास व्यक्ति हैं। वो एक बहुत अच्छे खिलाड़ी और कलाकार हैं। वो अपने बचे समय में पेंटिंग करते हैं और हमें भी पेंटिंग करने के लिये प्रोत्साहित करते हैं। वो कहते हैं कि हमें संगीत, गायन, खेल क्रिया, पेंटिंग, नृत्य, कार्टून बनाने आदि में रुचि रखनी चाहिये क्योंकि ऐसी अतिरिक्त गतिविधियाँ हमारे बचे हुए समय को व्यस्त रखती है और पूरे जीवनभर शांतिपूर्ण रहने में मदद करती है। नयी दिल्ली के एक लिमिटेड कम्पनी में वो एक इंटरनेट मैनेजर हैं (एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर)।

ज़रुरतमंद लोगों की मदद के लिये वो कभी पीछे नहीं हटते और हमेशा उनकी मदद के लिये तैयार रहते हैं खासतौर से बूढ़ लोगों की मदद के लिये। वो मेरे सबसे अच्छे दोस्त हैं और मेरी सभी समस्याओं की चर्चा करते हैं। जब कभी-भी मैं परेशान होता हूं, वो मुझे बहुत शांतिपूर्वक कारण बताते हैं और मुझे सबसे ऊपर के कमरे में ले जाते हैं, वो मुझे अपने बगल में बैठाते हैं, अपना हाथ मेरे कंधे पर रखते हैं और अपने जीवन के अनुभवों को साझा करते हैं, मुझे एहसास कराने के लिये अपनी गलतियाँ और सफलता सहित कमियाँ बताते हैं कि मैं क्या सही और क्या गलत कर रहा हूँ। वो जीवन की नैतिकता के बारे में बताते हैं और बड़ों के महत्व को समझाते हैं। वो हमें सिखाते हैं कि हमें पूरे जीवनभर किसी इंसान को दुखी नहीं करना चाहिये और हमेशा ज़रुरतमंद लोगों की मदद करनी चाहिये खासतौर से बूढ़े व्यक्तियों की।

वो हमेशा मेरे दादा-दादी का ध्यान रखते हैं और कहते हैं कि बुजुर्ग लोग घर की बहुमूल्य संपत्ति की तरह होते हैं इनके बिना, हम बिना माँ के बच्चे और पानी बिना मछली की तरह हैं। वो हमेशा किसी भी बात को आसानी से समझने के लिये बहुत अच्छा उदाहरण देते हैं। हर छुट्टी पर अर्थात् रविवार को, वो हमें पिकनिक या पार्क में ले जाते हैं जहां हम सभी कुछ बाहरी क्रियाओं और खेलों के द्वारा खूब मस्ती करते हैं। हम आमतौर पर बाहर के खेल के रुप में बैडमिंटन और घर के खेल में कैरम खेलते हैं।

Fathers Day Paragraph in Hindi

फादर्स डे 2019: यहाँ हमने आपके लिए My Father essay in Hindi language for students in 100, 150, 200, 250, 300, and 400 words पेश किया है जो की यानी माय फादर एस्से दिखाएगा|

वैसे तो पूरी दुनियां में जून माह का तीसरा रविवार फारर्स डे के रूप में मनाया जाता है हर पिता अपना सारा जीवन अपने बच्‍चों के खुशी के लिए समर्पित कर देते हैं।

फादर्स डे की शुरूआत अमेरिका के वाशिंगटन से हुई थी।

सबसे पहले फादर्स डे को 19 जून 1910 मनाया गया था।

सोनोरा डॉड (Sonora Dodd) ने अपने पिता की याद में वॉशिंगटन के स्पोकेन शहर में इस दिन की शुरुआत की थी। सोनोरा डॉड के पिता एक किसान थे और सेना में अपनी भूमिका निभा चुके थे। सोनोरा डॉड की माँ की मृत्‍यु उनके बचपन में हो गई थी। इसके बाद उनके पिता ने उन्‍हें माता और पिता दोंनों का प्‍यार दिया था। फादर्स डे (Father’s Day) को मनाने की बात सोनोरा डॉड के दिमाग में मदर्स डे के दिन से आई थी।

अमेरिकी राष्ट्रपति वुडरो विल्सन (Woodrow Wilson) सन 1916 में ने फादर्स डे को मनाने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी।

अमेरिकी राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन ने 1966 में इसे जून के तीसरे रविवार को मनाने का फैसला किया।

राष्ट्रपति निक्सन ने पहली बार 1972 में इस अवसर पर छुट्‌टी की घोषणा की थी।

पितृ दिवस पर निबंध

‘मेरे पिता’ बहुत दयालु व्यक्ति हैं और मेरे सच्चे दोस्त और सबसे पक्के दोस्त हैं। वो हमेशा मेरे साथ अपने सभी बुरे और अच्छे पलों को बाँटते हैं। वो मुझसे कहते हैं कि मुझे अनुभव देने के लिये वो अपने जीवन के सभी घटनाओं की मुझसे चर्चा करेंगे, जिससे कभी उनके न रहने पर मैं सही कदम उठाऊँ। वो जीवन में मुझे एक अच्छा इंसान बनाना चाहते हैं और सबसे ज़रुरी कि सभी शिष्टाचार, मानवता और नीतिशास्त्र का अनुसरण करने के द्वारा एक सफल इंसान बनाना। वो एक ऐसे इंसान हैं जो हमेशा समाज में या राह चलते कहीं भी ज़रुरतमंद लोगों की मदद करते हैं।

वो मुझे सिखाते हैं कि कैसे पूरे जीवनभर तंदुरुस्त, स्वस्थ, खुश और एक शांतिपूर्ण इंसान बनना है। वो हमारे परिवार के अच्छे सलाहकार हैं, जब भी परिवार के किसी सदस्य को परेशानी होती है, वो उनको सलाह देते हैं। वो हमारे परिवार के मुखिया हैं और खाना खाने के दौरान वो हमेशा डाइनिंग टेबल की पहली कुर्सी पर बेठते हैं।

Few lines on father’s day

Here are some father’s day lines in hindi, beautiful lines on father’s day, 10 lines on father’s day, 5 lines on father’s day, lines on father’s day card. Happy Fathers Day 2019

पिता…पिता जीवन है, सम्बल है, शक्ति है,
पिता…पिता सृष्टि मे निर्माण की अभिव्यक्ति है,
पिता अँगुली पकड़े बच्चे का सहारा है,
पिता कभी कुछ खट्टा, कभी खारा है,
पिता…पिता पालन है, पोषण है, परिवार का अनुशासन है,
पिता…पिता धौंस से चलना वाला प्रेम का प्रशासन है,
पिता…पिता रोटी है, कपड़ा है, मकान है,
पिता…पिता छोटे से परिंदे का बड़ा आसमान है,
पिता…पिता अप्रदर्शित-अनंत प्यार है,
पिता है तो बच्चों को इंतज़ार है,
पिता से ही बच्चों के ढेर सारे सपने हैं,
पिता है तो बाज़ार के सब खिलौने अपने हैं,
पिता से परिवार में प्रतिपल राग है,
पिता से ही माँ की बिंदी और सुहाग है,
पिता परमात्मा की जगत के प्रति आसक्ती है,
पिता गृहस्थ आश्रम में उच्च स्थिती की भक्ती है,
पिता अपनी इच्छाओं का हनन और परिवार की पूर्ती है,
पिता…पिता रक्त निगले हुए संस्कारों की मूर्ती है,
पिता…पिता एक जीवन को जीवन का दान है,
पिता…पिता दुनिया दिखाने का एहसान है,
पिता…पिता सुरक्षा है, अगर सिर पर हाथ है,
पिता नहीं तो बचपन अनाथ है,
पिता नहीं तो बचपन अनाथ है,
तो पिता से बड़ा तुम अपना नाम करो,
पिता का अपमान नहीं उनपर अभिमान करो,
क्योंकि माँ-बाप की कमी को कोई बाँट नहीं सकता,
और ईश्वर भी इनके आशीषों को काट नहीं सकता,
विश्व में किसी भी देवता का स्थान दूजा है,
माँ-बाप की सेवा ही सबसे बड़ी पूजा है,
विश्व में किसी भी तीर्थ की यात्रा व्यर्थ हैं,
यदि बेटे के होते माँ-बाप असमर्थ हैं,
वो खुशनसीब हैं माँ-बाप जिनके साथ होते हैं,
क्योंकि माँ-बाप के आशिषों के हाथ हज़ारों हाथ होते हैं
क्योंकि माँ-बाप के आशीषों के हाथ हज़ारों हाथ होते हैं. . .

Leave a Comment