kavita

नरेंद्र मोदी पर कविता – Narendra Modi Poem in Gujarati – Narendra modi kavita in hindi

नरेंद्र मोदी का नाम आज के समय में हर वर्ग के लोग जानते है | चाहे बच्चे या बुज़ुर्ग हर कोई उनके नाम से बहुत अच्छे से वाकिफ है| वे भारत के 15वे प्रधान मंत्री है| उनका पूरा नाम नरेंद्र दामोदर दास मोदी है| उनका जन्म गुजरात में हुआ था| राजनीति में कदम रखते ही वे अटल विहारी वाजपाई जी के दाहिने हाथ बन गए| गुजरात में कई वर्षो से राजनीति में अपना सिक्का चमकाने के बाद वे प्रधानमन्त्री के चुनाव में खड़े हुए जिसमे उन्होंने विपक्ष की सभी पार्टियों के दांत खट्टे कर दिए| भारत की जो भी आज के समय में अर्थव्यवस्था है उनकी वजह नरेंद्र मोदी जी ही है| आज के इस पोस्ट में हम आपको narendra modi poetry, narendra modi poetry book, narendra modi hindi poem, narendra modi poetry in parliament, narendra modi poem in rajya sabha, narendra modi poem in parliament, narendra modi poem download, आदि की जानकारी देंगे|

नरेंद्र मोदी पर कविता

इन कविताएं class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चो को कहा जाता है मैरे देश के प्रधानमन्त्री, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कविता लिखिए | जिसके लिए हम पेश कर रहे हैं poem on pm modi, नरेंद्र मोदी की कविता, Essay on Narendra Modi in Hindi, नरेंद्र मोदी की कविताएं, जिसे आप हिंदी में pdf download भी कर सकते हैं |

जिस देश में जाते हैं वे, मिलता है उन्हें अपूर्व सम्मान।
हर राष्ट्राध्यक्ष से जैसे रही हो, पहले से आत्मिक पहचान।।

सचमुच मोदी के व्यक्तित्व के सौम्य आत्मविश्वास में,
झलकता है तेजी से उभरता विश्व शक्ति सा हिंदुस्तान।।1।।

होते हैं नव निवेशों के समझौते, जो अब तक कभी हुए नहीं।
आतंक पर दृढ संदेशों के समझौते, जो अब तक कभी हुए नहीं।।

एक सूत्र में बंध रहे
देश सब, मोदी
की सघन गुहार से।
हर क्षेत्र में नवोन्मेषों के समझौते, जो अब तक कभी हुए नहीं।।2।।
भारतीय पूर्व को अमेरिकी-पश्चिम से मिला रहे मोदी।
मध्यपूर्व के रेगिस्तान में भी, दोस्ती का शतदल खिला रहे मोदी।।

छोटे बड़े हर
योरोपीय देश में, दे रहे प्यार भरी दस्तक,
अपनी करनी से दुश्मन देश का, दिल दहला रहे मोदी।।3।।

Narendra Modi Par Kavita

आइये अब हम आपको narendra modi poem in sansad , narendra modi kavita in hindi, narendra modi ki kavita, narendra modi ni kavita, नरेंद्र मोदी par kavita,  नरेंद्र मोदी कविता कोश, नरेंद्र मोदी की कविताएँ, narendra modi kavita in मराठी, आदि की जानकारी देते है|

नाम है नरेंद्र दामोदर दास मोदी ,
हैं वह देश के मंत्री प्रधान,
जो चले हैं बढाने दुनिया में
भारत की आन, बान और शान|
आये जबसे मोदी सत्ता में,
दौड गई नई उम्मीद की लहर.
एक अकेले बन्दे ने
बरपा दिया सभी पाटिॅयों पर कहर|
आते ही सरकार में
शुरू कर दी नई योजनायें,
दूर होने लगी जिससे गांवों में
बिजली पानी की समस्यायें|
विदेशों से आकर यहाँ नेताआें नें
मोदी से मिलाया हाथ,
तो जाकर वहाँ मोदी ने भी
खूब selfie खींची सबके साथ|
गये जिस देश भी मोदी
कुछ न कुछ लेकर ही आऐ,
जिससे वह 125 करोड़ देशवासियों के
कल को बेहतर बनायें|
शुरु किया FDI, Make In India
और Skill India Development,
भारत को एक दिन विकसित बनायेगा
मोदी का यही Management.
मोदी ने दुनिया में
भारत का नाम बहुत कराया,
खुश होकर शेख ने UAE में
मंदिर का भरोसा दिलाया|

नरेंद्र मोदी पर कविता

Poem By Narendra Modi

narendra modi poem in Hindi Fonts & language for whatsapp & fb के बारे में जानकारी देते है | इन कविताओं आप Hindi, (हिंदी) Prakrit, urdu (उर्दू) , sindhi, Punjabi, Marathi, Gujarati, Tamil, Telugu, Nepali, सिंधी लैंग्वेज, Kannada व Malayalam hindi language व hindi Font में जानना चाहे जिसमे narendra modi par poem के साथ हर साल 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017, 2018 के लिए कविताएं मिलती है जिन्हे आप Facebook, WhatsApp पर post व शेयर कर सकते हैं

तुम मुझे मेरी तस्वीर या पोस्टर में
ढूढ़ने की व्यर्थ कोशिश मत करो
मैं तो पद्मासन की मुद्रा में बैठा हूँ
अपने आत्मविश्वास में
अपनी वाणी और कर्मक्षेत्र में।
तुम मुझे मेरे काम से ही जानो

तुम मुझे छवि में नहीं
लेकिन पसीने की महक में पाओ
योजना के विस्तार की महक में ठहरो
मेरी आवाज की गूँज से पहचानो
मेरी आँख में तुम्हारा ही प्रतिबिम्ब है
अभी तो मुझे आश्चर्य होता है
कि कहाँ से फूटता है यह शब्दों का झरना
कभी अन्याय के सामने
मेरी आवाज की आँख ऊँची होती है
तो कभी शब्दों की शांत नदी
शांति से बहती है

इतने सारे शब्दों के बीच
मैं बचाता हूँ अपना एकांत
तथा मौन के गर्भ में प्रवेश कर
लेता हूँ आनंद किसी सनातन मौसम का।

Narendra Modi Poem in Hindi

हर दिल में विकास की ललक जगाई किसने ?
नीतियों को परिष्कृत करके संवारा किसने ?
विश्व के मंच पर गुमसुम खड़े एक कोने में,
गुमनामी से भारत को उबारा किसने ?।।1।।

काले धन वालों पर प्रभावी लगाम कसी किसने ?
जी. एस. टी. सा कर सुधार लाया कौन ?
विश्वभर में फैले समर्थ भारतीयों में
आत्मविश्वास, गौरवभाव जगा आया कौन ?।।2।।
चौबीस घंटे अनवरत देश को समर्पित जिसके,
‘या निशा सर्वभूतानां तस्यां जागर्ति संयमी।’
देश सेवा में रत पहले दिन से आज तक,
जिसकी लगन, उत्साह में आई क्या कमी।।3।।

कौन है वह जिसके आत्मीय प्रशंसक,
करोड़ों की तादाद में घर-घर में हैं।
जिसके समर्पण,कर्तव्यनिष्ठता, कुछ कर जानें की लगन,
के अनुसरण की चाह हर जिगर में है।।4।।

अवतारनुमा उभरती हैं ऐसी शख्सियतें
‘एकला चल’ कर अपनी धुन में जो कर जाती हैं।
उनके कार्यों की, उपलब्धियों की अमर खुशबू,
शाश्वत प्रेरणा बन पीढ़ियों पर बिखर जाती है।।5।।

Narendra Modi Poem in Gujarati

Narendra Modi Poems in English

Who is the hood of development in every heart?
By refining the policies, who sanavara?
In a corner standing on the world stage,
Who has raised India from oblivion? .. 1 ..

Who has the effect of the use of black money?
G. S. T. Who brought tax reforms?
Supported Indians spread across the world
Confidence, glory, who came? .. 2 ..
Twenty-four hours of dedicated devoted country,
‘The awareness of all these Nishasa is self-centered.’
From day one to day in service,
Whose perseverance, enthusiasm and lacking.

Who is his kith and kin,
There are millions of people in the house.
Whose dedication, dutifulness, do some diligence,
The desire to follow is in every liver.

Avtaranuma emerges such persons
By doing ‘walk alone’, whatever your tunes do.
His works, the immortal fragrance of achievements,
The eternal inspiration goes on scattering generations.

Leave a Comment