kavita

देशभक्ति कविताएँ 2020 -Desh Bhakti Kavita in Hindi – कविता संग्रह बच्चों के लिए

आज हम आपके सामने कुछ ऐसी ही देश भक्ति की कविताएं पेश करेंगे जिन्हें स्कूल के बच्चे कक्षा 1,2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 व 10 के विद्यार्थी ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं| इन कविताओं को पढ़कर आपके अंदर भी देश के लिए देशभक्ति की भावना जाग उठेगी और आप भी हमारे भारत देश के प्रति अपना प्यार सम्मान जाहिर कर पाएंगे| आइये देखें कुछ देशभक्ति पर सर्वश्रेष्ठ कविताएँ |जय हिन्द ! जय भारत ! भारत माता की जय!

Desh bhakti kavitayen in hindi

Desh bhakti kavita in hindi इस प्रकार हैं | इसके अलावा आप देशभक्ति पोएम इन हिंदी भी देख सकते हैं| जो की class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11, class 12 के बच्चोके लिए यहाँ हमने हर साल 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 व 2020 के अनुसार 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर कविता दर्शाया हुआ है|

जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा

Desh Bhakti Kavita in Hindi

जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा
वो भारत देश है मेरा
जहाँ सत्य, अहिंसा और धर्म का पग-पग लगता डेरा
वो भारत देश है मेरा

ये धरती वो जहाँ ऋषि मुनि जपते प्रभु नाम की माला
जहाँ हर बालक एक मोहन है और राधा हर एक बाला
जहाँ सूरज सबसे पहले आ कर डाले अपना फेरा
वो भारत देश है मेरा

अलबेलों की इस धरती के त्योहार भी हैं अलबेले
कहीं दीवाली की जगमग है कहीं हैं होली के मेले
जहाँ राग रंग और हँसी खुशी का चारों ओर है घेरा
वो भारत देश है मेरा

जब आसमान से बातें करते मंदिर और शिवाले
जहाँ किसी नगर में किसी द्वार पर कोई न ताला डाले
प्रेम की बंसी जहाँ बजाता है ये शाम सवेरा
वो भारत देश है मेरा

– राजेंद्र किशन
आज तिरंगा फहराता है

देशभक्ति कविता बच्चों के लिए | देश भक्ति गीत कविता इन हिंदी

आज तिरंगा फहराता है अपनी पूरी शान से।
हमें मिली आज़ादी वीर शहीदों के बलिदान से।।
आज़ादी के लिए हमारी लंबी चली लड़ाई थी।
लाखों लोगों ने प्राणों से कीमत बड़ी चुकाई थी।।
व्यापारी बनकर आए और छल से हम पर राज किया।
हमको आपस में लड़वाने की नीति अपनाई थी।।

हमने अपना गौरव पाया, अपने स्वाभिमान से।
हमें मिली आज़ादी वीर शहीदों के बलिदान से।।

गांधी, तिलक, सुभाष, जवाहर का प्यारा यह देश है।
जियो और जीने दो का सबको देता संदेश है।।
प्रहरी बनकर खड़ा हिमालय जिसके उत्तर द्वार पर।
हिंद महासागर दक्षिण में इसके लिए विशेष है।।

लगी गूँजने दसों दिशाएँ वीरों के यशगान से।
हमें मिली आज़ादी वीर शहीदों के बलिदान से।।

हमें हमारी मातृभूमि से इतना मिला दुलार है।
उसके आँचल की छैयाँ से छोटा ये संसार है।।
हम न कभी हिंसा के आगे अपना शीश झुकाएँगे।
सच पूछो तो पूरा विश्व हमारा ही परिवार है।।

विश्वशांति की चली हवाएँ अपने हिंदुस्तान से।
हमें मिली आज़ादी वीर शहीदों के बलिदान से।।

सजीवन मयंक
उठो धरा के अमर सपूतों | देश भक्ति कविता लिखी हुई

उठो, धरा के अमर सपूतों।
पुन: नया निर्माण करो।
जन-जन के जीवन में फिर से
नव स्फूर्ति, नव प्राण भरो।
नई प्रात है नई बात है
नया किरन है, ज्योति नई।
नई उमंगें, नई तरंगें
नई आस है, साँस नई।
युग-युग के मुरझे सुमनों में
नई-नई मुस्कान भरो।

उठो, धरा के अमर सपूतों।
पुन: नया निर्माण करो।।1।।

डाल-डाल पर बैठ विहग कुछ
नए स्वरों में गाते हैं।
गुन-गुन, गुन-गुन करते भौंरें
मस्त उधर मँडराते हैं।
नवयुग की नूतन वीणा में
नया राग, नव गान भरो।

उठो, धरा के अमर सपूतों।
पुन: नया निर्माण करो।।2।।

कली-कली खिल रही इधर
वह फूल-फूल मुस्काया है।
धरती माँ की आज हो रही
नई सुनहरी काया है।
नूतन मंगलमय ध्वनियों से
गुँजित जग-उद्यान करो।

उठो, धरा के अमर सपूतों।
पुन: नया निर्माण करो।।3।।

सरस्वती का पावन मंदिर
शुभ संपत्ति तुम्हारी है।
तुममें से हर बालक इसका
रक्षक और पुजारी है।
शत-शत दीपक जला ज्ञान के
नवयुग का आह्वान करो।

उठो, धरा के अमर सपूतों।
पुन: नया निर्माण करो।।4।।

-द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

देशभक्ति बाल कविता

बच्चों की देशभक्ति कविता इस प्रकार हैं:

ऐ मेरे प्यारे वतन

ऐ मेरे प्यारे वतन, ऐ मेरे बिछड़े चमन तुझ पे दिल कुरबान तू ही मेरी आरजू़, तू ही मेरी आबरू तू ही मेरी जान तेरे दामन से जो आए  उन हवाओं को सलाम चूम लूँ मैं उस जुबाँ को  जिसपे आए तेरा नाम सबसे प्यारी सुबह तेरी सबसे रंगी तेरी शाम तुझ पे दिल कुरबान   माँ का दिल बनके कभी सीने से लग जाता है तू और कभी नन्हीं-सी बेटी बन के याद आता है तू जितना याद आता है मुझको उतना तड़पाता है तू तुझ पे दिल कुरबान   छोड़ कर तेरी ज़मीं को  दूर आ पहुँचे हैं हम फिर भी है ये ही तमन्ना तेरे ज़र्रों की कसम हम जहाँ पैदा हुए उस जगह पे ही निकले दम तुझ पे दिल कुरबान   – प्रेम धवन 16 अगस्त 2006

छोटी देशभक्ति कविताएँ

देशभक्ति कविता बच्चों के लिए इस प्रकार हैं:

Patriotic Hindi Desh Bhakti Poem

छोटी देशभक्ति कविताएँ

होंगे कामयाब

देश भक्ति गीत कविता

होंगे कामयाब,
हम होंगे कामयाब एक दिन
मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
हम होंगे कामयाब एक दिन।
हम चलेंगे साथ-साथ
डाल हाथों में हाथ
हम चलेंगे साथ-साथ, एक दिन
मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
हम चलेंगे साथ-साथ एक दिन।

होगी शांति चारों ओर, एक दिन
मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
होगी शांति चारों ओर एक दिन।

नहीं डर किसी का आज एक दिन
मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास
नहीं डर किसी का आज एक दिन।

– गिरिजा कुमार माथुर
यारा प्यारा मेरा देश

यारा प्यारा मेरा देश,
सजा – संवारा मेरा देश॥

दुनिया जिस पर गर्व करे,
नयन सितारा मेरा देश॥

चांदी – सोना मेरा देश,
सफ़ल सलोना मेरा देश॥

सुख का कोना मेरा देश,
फूलों वाला मेरा देश॥

झुलों वाला मेरा देश,
गंगा यमुना की माला का मेरा देश॥

फूलोँ वाला मेरा देश
आगे जाए मेरा देश॥

नित नए मुस्काएं मेरा देश
इतिहासों में नाम लिखायें मेरा देश॥” via=”no”] सरफ़रोशी की तमन्ना – राम प्रसाद बिस्मिल


”सरफ़रोशी
Click To Tweet
for class 3, for class 1, in hindi language, pdf, mp3, छोटी कविताएँ, kumar vishwas, नेपाली, MARATHI, 5 desh bhakti kavita
desh bhakti kavita audio, kavita kosh desh bhakti, देशभक्ति कविता 2017, देश प्रेम पर छोटी कविता, देशभक्ति कविता 2016, देश भक्ति पोएम, भारत पर कविता, देश भक्ति बाल कविता, काव्य संकलन,  Hindi Film Song Lyrics, Hindi Lyrics,[/su_spoiler]

2 Comments

Leave a Comment