kavita

दीपावली की कविताएं 2018

दीपावली की कविताएं 2017

Diwali ki Kavita: दिवाली हमारे भारत का एक प्रमुख त्योहार है यह अक्टूबर और नवंबर के महीने धूम धाम से मनाया जाता है । इस त्योहार को हिंदू कैलेंडर के अनुसार मनाया जाता है। इस दिन को प्रमुख रूप से भगवान श्री राम के 14 साल के वनवास से वापिस लौटने की ख़ुशी में मनाया जाता है| त्योहारों पर कविताएं सबको अच्छी लगतीं हैं|आइये दीपावली से सम्बंधित कुछ कविताएँ जानते हैं|

यह भी देखें: मानवता पर हिंदी कविता

दीवाली पर छोटी कविता


दीप जलाओ दीप जलाओ
आज दिवाली रे
खुशी-खुशी सब हँसते आओ
आज दिवाली रे।
मैं तो लूँगा खील-खिलौने
तुम भी लेना भाई
नाचो गाओ खुशी मनाओ
आज दिवाली आई।
आज पटाखे खूब चलाओ
आज दिवाली रे
दीप जलाओ दीप जलाओ
आज दिवाली रे।
नए-नए मैं कपड़े पहनूँ
खाऊँ खूब मिठाई
हाथ जोड़कर पूजा कर लूँ
आज दिवाली आई।
Click To Tweet

वह दीपों का आना
पाहुन-सा
फिर लक-दक करना
आंगन में
आस्वादन कुछ मीठा-मीठा
वह खुशी भरा आशियाना
वह किलकारी नूतन वय की
किसलय-सी
युवकों का उल्लास निरंतर
अनवरत झरते निर्झर-सा
बालाओं का सजना-धजना
वह चम-चम
चमकीली बिन्दिया
ओ कंगना हूर परी-सा
नूतन प्रकाश का आना
पाहुन-सा।
- प्रभा चामलीकर
Click To Tweet

दिया जलता रहे
यह ज़िन्दगी का कारवाँ, इस तरह चलता रहे
हर देहरी पर अँधेरों में दिया जलता रहे
आदमी है आदमी तब ,जब अँधेरों से लड़े
रोशनी बनकर सदा ,सुनसान पथ पर भी बढ़े
भोर मन की हारती कब, घोर काली रात से
न आस्था के दीप डरते, आँधियों के घात से
मंज़िलें उसको मिलेंगी जो निराशा से लड़े
चाँद- सूरज की तरह, उगता रहे ढलता रहे
जब हम आगे बढ़ेंगे, आस की बाती जलाकर
तारों भरा आसमाँ, उतर आएगा धरा पर
आँख में आँसू नहीं होंगे किसी भी द्वार के
और आँगन में खिलेंगे, सुमन ममता प्यार के
वैर के विद्वेष के कभी शूल पथ में न उगें
धरा से आकाश तक बस प्यार ही पलता रहे
-रामेश्वर दयाल कांबोज हिमांशु
Click To Tweet

दिवाली पर एक कविता


दीपावली मनाऊँ
जिस दिन सारा जग प्रकाश से सराबोर हो
जी में है उस दिन ही दीपावली मनाऊँ
रहे न कोई कोना जब तम से आच्छादित
मन करता है उस दिन ही मैं दीप जलाऊँ।।
मानवता का चिर प्रकाश फैले हर उर में,
मानव कोई हीन भावना से न ग्रसित हो
अंतर में हो देश प्रेम की उत्कट इच्छा
त्याग और निष्ठा से हर मन उदभासित हो
नव प्रकाश से जिस दिन धरा गगन ज्योतित हो,
उस दिन ही मैं तेरा आरति दीप जलाऊँ।
जी में है उस दिन ही दीपावली मनाऊँ।।
धन-दौलत जब रहे न मानव की परिभाषा
हाथों की मेहनत ही जब पूजा कहलाए
'विश्व बंध' का पाठ पढ़ें और करें अनुसरण
अपना भाग्य विधाता मानव खंद बन जाए
उस दिन ही आराध्य देव तेरी मूरत पर
जी में आता है निज पूजा पुष्प चढ़ाऊँ।
जी में है उस दिन ही दीपावली मनाऊँ।।
जब न धरा का कोई बेटा भूखा सोए
औ' न किसी बेटी की इज़्ज़त लूटी जाए
जब न किसी मां की हड्डी से चिपक ठिठुर कर
कोई बालक रो-रो अपनी रात बिताए
उस दिन ही 'जग के स्वामी' निज थाल सजाकर
जी में आता है मैं तेरा भोग लगाऊँ।
जी में है उस दिन ही दीपावली मनाऊँ।।
-उमाशंकर वर्मा 'साहिल'
Click To Tweet

दीपावली कविताएं


मैं दीपक हूँ, मेरा जलना ही तो मेरा मुस्काना है।
मैं दीपक हूँ, मेरा जलना ही तो मेरा मुस्काना है।
आभारी हूँ तुमने आकर
मेरा ताप-भरा तन देखा,
आभारी हूँ तुमने आकर
मेरा आह-घिरा मन देखा,
करुणामय वह शब्द तुम्हारा–
’मुसकाओ’ था कितना प्यारा।
मैं दीपक हूँ, मेरा जलना ही तो मेरा मुस्काना है।
है मुझको मालूम पुतलियों
में दीपों की लौ लहराती,
है मुझको मालूम कि अधरों
के ऊपर जगती है बाती,
उजियाला करदेनेवाली
मुसकानों से भी परिचित हूँ,
पर मैंने तम की बाहों में अपना साथी पहचाना है।
मैं दीपक हूँ, मेरा जलना ही तो मेरा मुस्काना है।
Click To Tweet

आज फिर से
आज फिर से तुम बुझा दीपक जलाओ ।
है कंहा वह आग जो मुझको जलाए,
है कंहा वह ज्वाल पास मेरे आए,
रागिनी, तुम आज दीपक राग गाओ;
आज फिर से तुम बुझा दीपक जलाओ ।
तुम नई आभा नहीं मुझमें भरोगी,
नव विभा में स्नान तुम भी तो करोगी,
आज तुम मुझको जगाकर जगमगाओ;
आज फिर से तुम बुझा दीपक जलाओ ।
मैं तपोमय ज्योती की, पर, प्यास मुझको,
है प्रणय की शक्ति पर विश्वास मुझको,
स्नेह की दो बूंदे भी तो तुम गिराओ;
आज फिर से तुम बुझा दीपक जलाओ ।
कल तिमिर को भेद मैं आगे बढूंगा,
कल प्रलय की आंधियों से मैं लडूंगा,
किन्तु आज मुझको आंचल से बचाओ;
आज फिर से तुम बुझा दीपक जलाओ ।
Click To Tweet

दीपोत्सव कविता


एक दीपक
जूझ कर कठिनाइयों से
कर सुलह परछाइयों से
एक दीपक रातभर जलता रहा
लाख बारिश आँधियों ने सत्य तोड़े
वक्त ने कितने दिए पटके झिंझोड़े
रौशनी की आस पर
टूटी नहीं
आस्था की डोर भी
छूटी नहीं
आत्मा में डूब कर के
चेतना अभिभूत कर के
साधना के मंत्र को जपता रहा
एक दीपक
रातभर जलता रहा
जगमगाहट ने बुलाया पर न बोला
झूठ से उसने कोई भी सच न तौला
वह सितारे देख कर
खोया नहीं
दूसरों के भाग्य पर
रोया नहीं
दिन महीने साल निर्मम
कर सतत अपना परिश्रम
विजय के इतिहास को रचता रहा
एक दीपक
रातभर जलता रहा
--पूर्णिमा वर्मन
Click To Tweet

दीपावली
तुमने दीपावली मनाई है
दीपावली के सुख ख़रीदे हैं
दीपक की ज्योति से
मिष्ठानों से
नए वस्त्र, आभूषण, उपहारों से
ख़रीदे हुए सुख
न फलते हैं
न फूलते हैं।
मैंने दीपावली जी है
हर बार
जब मेरे बच्चे
होस्टल से लौटते हैं।
घर- बाहर
लॉन- दालान
जगमगा उठता है।
बच्चों के कहकहों से
सुर संगीत
हर ओर छा जाता है।
बातचीत से
मिसरी सी
भर आती है मुँह में।
उदासी की सब परतें घोकर
आतिशबाजियों से रोशनी से
चकाचौंध कर देते हैं
बच्चे मेरे मन को।
-डॉ. मधु संधु
Click To Tweet
Related Search:

दिवाली पर गीत

दीपावली 2016कविता

दीपावली कविता मराठी

ऐटिटूड स्टेटस फॉर दिवाली इन हिंदी

दीप, दीया पर कविता

Leave a Comment