Hindi Lekh

डॉक्टर्स डे स्पीच 2018 – Doctors Day Speech in Hindi – राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस Welcome & Celebration Speech in School

Happy Doctors Day 2018: जुलाई के महीने का पहला दिन यानी १ जुलाई भारत में डॉक्टर दिवस के रूप में मनाया जाता है। अक्सर लोग पूछते हैं की हम डॉक्टर डे क्यों मानते हैं? इसकी वजह यह है की यह पौराणिक चिकित्सक डॉ बिधान चंद्र रॉय के जन्म और मृत्यु दिवस के लिए मनाया जाता है| वे पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री भी थे और उन्हें अपने दूरदर्शी नेतृत्व के लिए राज्य का वास्तुकार कहा जाता है। डॉक्टर दिवस हमारे दैनिक जीवन में चिकित्सक भूमिका के बारे में जागरूकता बढ़ाने का अवसर है। आज के इस पोस्ट में हम आपको डॉक्टर्स डे भाषण, डॉक्टर्स डे स्पीच इन हिंदी, few lines on doctors day, doctors day speech in hindi, राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस स्पीच, राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस भाषण, डॉक्टर्स डे स्पीच, international doctors day speech,  अंतर्राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे का महत्व, अंतर्राष्ट्रीय डॉक्टर्स दिवस भाषण, इंटरनेशनल डॉक्टर्स डे एस्से, इंटरनेशनल डॉक्टर्स डे निबंध इन मराठी, हिंदी, इंग्लिश, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलगु, आदि की जानकारी देंगे|

Doctors day speech in hindi

Doctors day 2018 in India: आइये देखें doctors day essay pdf in hindi, doctors day essay in hindi, world doctors day speech, national doctors day speech, Doctors Day Quotes in Hindi, doctors day speech in school, doctors day speech in india, Doctors Day Poem in Hindi, international doctors day speech, 10 sentences about doctor in hindi, doctors day special speech, Doctor Day Wishes sms in hindi, happy doctors day speech, doctors day speech for students, Doctors Day sms in hindi, doctors day speech pdf, doctors day speech for children’s, Doctors day images, डॉक्टर्स डे speech, 1st July 2018, doctors day Day Nibandh speech, ppt, डॉक्टर्स डे पर हिंदी स्पीच हिंदी में 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|

डॉक्टरों को समाज के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक माना जाता है। घर की तलाश करते समय देखे जाने वाली पहली चीजों में से सबसे पहले एक अस्पताल, नर्सिंग होम या डॉक्टर का क्लिनिक है। इसका कारण यह है कि पास में चिकित्सा संबंधी सहायता सुरक्षा की भावना प्रदान करती है।

रोगियों के लिए विशिष्ट उपचार प्रदान करने के लिए डॉक्टर विभिन्न क्षेत्रों में विशेषज्ञ हैं। इसमें से कुछ में एनेस्थिसियोलॉजिस्ट, कार्डियोलॉजिस्ट, एलर्जिस्ट, स्त्री रोग विशेषज्ञ, इम्मुनोलॉजिस्ट, निओनाटोलॉजिस्ट, ऑन्कोलॉजिस्ट, रेडियोलॉजिस्ट, प्रसूति, फिजियोलॉजिस्ट और बाल रोग विशेषज्ञ शामिल हैं। किसी भी मेडिकल समस्या का सामना करते समय अधिकांश लोग सामान्यत: डॉक्टरों के पास जाते हैं। ये डॉक्टर मरीजों की जांच करते हैं और उन्हें दवा लिखते हैं और यदि उन्हें ज़रूरत पड़े तो उसे विशेषज्ञ डॉक्टरों के पास भी भेज देते हैं।

लोगों को जिंदगी को लेकर डॉक्टरों पर भरोसा करना चाहिए पर बहुत से अविश्वासों का भी प्रसार किया जा रहा है। डॉक्टर इन दिनों मरीजों का इलाज करने के उद्देश्य से अभ्यास नहीं करते हैं बल्कि पैसा कमाने के लिए करते हैं। लोगों को एक सरल चिकित्सा संबंधी समस्या का इलाज करने के लिए भी कई परीक्षण कराने का सुझाव दिया जाता है। सरकारी अस्पताल और क्लीनिक चिकित्सा सेवाएं मुहैया कराने का दावा करते हैं लेकिन इन जगहों पर बहुत भ्रष्टाचार है।

हालांकि भारत में कई प्रतिभाशाली डॉक्टर हैं पर यहां स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र अच्छा नहीं है। कई योग्य डॉक्टर इन दिनों विदेशों में बेहतर अवसर तलाशने जा रहे हैं। इच्छुक चिकित्सक भी दवा के अध्ययन के लिए विदेशों में जा रहे हैं और वहां बस जाते हैं।

Doctors Day Speech in Hindi

Doctors day welcome speech

प्रस्तावना

डॉक्टरों को हमारे समाज में एक उच्च दर्जा दिया गया है। चिकित्सा पेशे को सबसे अच्छे व्यवसायों में से एक माना जाता है। यह एक व्यवसाय भी है जो अच्छी आय कमाने में मदद करता है।

डॉक्टर जीवन उद्धारकर्ता हैं

किसी भी समाज के लिए डॉक्टर आवश्यक हैं I उन्हें जीवन उद्धारकर्ता माना जाता है हमारे दैनिक जीवन में हम अक्सर उन स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करते हैं जो हमारी समझ से बाहर हैं। हमें इन समस्याओं को समझने और इसे ठीक करने के लिए डॉक्टर से मदद की ज़रूरत है। मेडिकल हस्तक्षेप के बिना स्थिति खराब हो सकती है। इस प्रकार डॉक्टरों को जीवन सौहार्य माना जाता है। वे चिकित्सा विज्ञान के अध्ययन में अपने जीवन के कई साल लगाते हैं। एक बार जब वे इस क्षेत्र के बारे में सैद्धांतिक और व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त कर लेते हैं तो उन्हें इस पेशे को संभालने के लिए पूरी तरह से प्रशिक्षण दिया जाता है जो उनका लक्ष्य है।

चिकित्सा व्यवसाय सदियों से विकसित हुआ है और अभी भी विकसित हो रहा है। विभिन्न बीमारियों की दवाएं तथा उपचार जो पहले उपलब्ध नहीं थे अब विकसित हुए हैं। चिकित्सा प्रौद्योगिकी ने भी समय गुजरने के साथ प्रगति की है। अगर हमारे पास अच्छे डॉक्टर हैं और हमारे आसपास के क्षेत्र में चिकित्सा सुविधाएं हैं तो यह राहत की भावना देता है क्योंकि हमें पता है कि हमारे पास तत्काल सहायता का साधन है।

एक योग्य डॉक्टर कैसे बने?

कई छात्र चिकित्सकीय पेशे में जाने और डॉक्टर बनने की इच्छा रखते हैं। इस दिशा में पहला कदम देश भर में सरकारी और निजी मेडिकल संस्थानों में एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों के लिए छात्रों का चयन करने के लिए हर साल राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) के लिए उपस्थित होना है। यदि आप इस प्रवेश परीक्षा में उपस्थित होना चाहते हैं तो अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा के दौरान आपके पास भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान प्रमुख विषयों के रूप में होना आवश्यक है। एक न्यूनतम प्रतिशत कसौटी भी निर्धारित है। जो छात्र प्रवेश परीक्षा पास करते हैं उन्हें काउंसलिंग में भी पास होना जरुरी है ताकि उनका दाखिला पक्का माना जाए।

निष्कर्ष

जहाँ लोग अपने जीवन को लेकर डॉक्टरों पर भरोसा करते हैं वहीँ अतीत में कुछ मामलों ने उनके विश्वास को हिला कर दिया है। डॉक्टरों को अपने पेशे के प्रति वफ़ादार रहना आवश्यक है।

Doctors day 2018 Theme

National Doctors’ Day 2018: विश्व चिकित्सक दिवस भारत समेत पूरे विश्व भर में 1 जुलाई 2018 को मनाया जाएगा| इस दिन रविवार का दिन है| इस बार डॉक्टर्स डे थीम २०१८ अभी अनाउंस होना बाकी है|

डॉक्टर्स डे स्पीच

भारत में राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस एक बड़ा जागरुकता अभियान है जो सभी को मौका देता है डॉक्टरों की भूमिका, महत्व और जिम्मेदारी के बारे में जानकारी प्राप्त करने के साथ ही साथ चिकित्सीय पेशेवर को इसके नजदीक आने और अपने पेशे की जिम्मेदारी को समर्पण के साथ निभाने के लिये प्रोत्साहित करता है। संपूर्णं चिकित्सीय पेशे के लिये सम्मान प्रकट करने के लिये डॉ बिधान चन्द्र रॉय की याद में इस दिन को मनाया जाता है।

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस का इतिहास तथा क्यों 1 जुलाई को राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है

राष्ट्रीय चिकित्सीय दिवस के रुप में हर वर्ष 1 जुलाई को पहचान और मनाये जाने के लिये 1991 में भारतीय सरकार द्वारा डॉक्टर दिवस की स्थापना हुई थी। भारत के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ बिधान चन्द्र रॉय (डॉ.बी.सी.रॉय) को श्रद्धांजलि और सम्मान देने के लिये 1 जुलाई को उनकी जयंती और पुण्यतिथि पर इसे मनाया जाता है। 4 फरवरी 1961 में उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजा गया। उनका जन्म 1 जुलाई 1882 को बिहार के पटना में हुआ था। रॉय साहब ने अपनी डॉक्टरी की डिग्री कलकत्ता से पूरी की और 1911 में भारत लौटने के बाद अपनी एमआरसीपी और एफआरसीएस की डिग्री लंदन से पूरी की और उसी वर्ष से भारत में एक चिकित्सक के रुप में अपने चिकित्सा जीवन की शुरुआत की।

बाद में उन्होंने कलकत्ता मेडिकल कॉलेज से एक शिक्षक के रुप में जुड़ गये और इसके बाद वो कैंपबेल मेडिकल स्कूल गये और उसके बाद कारमाईकल मेडिकल कॉलेज से जुड़ गये। वो एक प्रसिद्ध चिकित्सक थे और नामी शिक्षाविद् होने के साथ ही एक स्वतंत्रता सेनानी के रुप में सविनय अवज्ञा आंदोलन के दौरान महात्मा गाँधी से जुड़े। बाद में वो भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस के नेता बने और उसके बाद पश्चिम बंगाल के मुख्य मंत्री बने। इस दुनिया में अपनी महान सेवा देने के बाद 80 वर्ष की आयु में 1962 में अपने जन्मदिवस के दिन ही उनकी मृत्यु हो गयी। उनको सम्मान और श्रद्धंजलि देने के लिये वर्ष 1976 में उनके नाम पर डॉ.बी.सी. रॉय राष्ट्रीय पुरस्कार की शुरुआत हुई।

राष्ट्रीय डॉक्टर्स दिवस क्यों मनाया जाता है

डॉ बिधान चन्द्र रॉय पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री होने के साथ ही प्रसिद्ध और किंवदंती चिकित्सक को सम्मान देने के लिये 1 जुलाई को पूरे भारत भर में हर वर्ष राष्ट्रीय डॉक्टर्स दिवस को मनाया जाता है।

भारत में ये एक महान रीति है जो अपने महत्वपूर्णं भूमिका और जिम्मेदारी के साथ ही हर एक के जीवन में चिकित्सक की वास्तविक जरुरत को पूरा करने में मदद करती है। डॉक्टर्स की बहुमूल्य सेवा, भूमिका और महत्व के बारे में आम जन को जागरुक करने के लिये इस जागरुकता अभियान का वार्षिक उत्सव मदद करता है।

भारत की विशाल जनसंख्या कई तरीकों से चिकित्सक और उनके गुणवत्तापूर्णं उपचार पर निर्भर करती है जो उपाय और उपचार के तरीकों में उल्लेखनीय सुधार और प्रगति को दिखाता है। अपने पेशे की ओर समर्पण की कमी के कारण अपने गिरते करियर से उठने के लिये भारत के सभी डॉक्टर्स के लिये ये एक आँख खोलने वाला और प्रोत्साहन के तरीके के रुप में डॉक्टर्स दिवस का वार्षिक उत्सव साबित हुआ है।

कई बार सामान्य और गरीब लोग गैर-जिम्मेदार और गैर-पेशेवर के हाथों में फँस जाते हैं जो कई बार डॉक्टरों के खिलाफ लोगों की हिंसा और विद्रोह का कारण बन जाता है। जीवन बचाने वाले चिकित्सीय पेशे की ओर जिम्मेदारी को समझने के लिये तथा सभी डॉक्टर्स को एक ही जगह पर आकृष्ट करने के लिये ये जागरुकता अभियान एक महान रास्ता है।

संपूर्णं पेशेवर डॉक्टरों के लिये सम्मान के दिन के रुप में राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस उत्सव को चिन्हित किया जाता है जो मरीजों के जीवन को बचाने में अपना सारा बेहतरीन प्रयास लगा देते हैं। चिकित्सक दिवस अर्थात् एक पूरा दिन जो मेडिकल पेशे खासतौर से डॉक्टरों के प्रयासों और भूमिका को याद करने के लिये समर्पित हो। ये एक दिन है उन्हें ढ़ेर सारा धन्यवाद कहने का जिन्होंने अपने मरीजों का अनमोल ध्यान रखा, उन्हें लगाव और प्यार दिया।

राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे समारोह

चिकित्सकों के योगदान के साथ परिचित होने के लिये सरकारी और गैर-सरकारी स्वास्थ्य सेवा संबंधी संगठन के द्वारा वर्षोँ से राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस उत्सव मनाया जा रहा है। इस उत्सव को मनाने के लिये स्वास्थ्य सेवा संबंधी संगठन के कर्मचारी विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम और क्रियाकलाप आयोजित करते हैं। “उत्तरी कलकत्ता और उत्तर-पूर्व कलकत्ता समाज कल्याण संगठन” चिकित्सक दिवस के भव्य उत्सव को मनाने के लिये हर साल बड़ा कार्यक्रम आयोजित करती है।

चिकित्सा पेशे के विभिन्न पहलूओं के बारे चर्चा करने के लिये एक चर्चा कार्यक्रम आयोजित किया जाता है जैसे स्वास्थ्य परीक्षण उपचार, रोकथाम, रोग की पहचान करना, बीमारी का उचित इलाज आदि। बेहतर और स्वस्थ सामाजिक विकास के लिये समुदायों में डॉक्टरों के द्वारा भी चक्रिय चिकित्सा सेवाओं को प्रोत्साहन और बढ़ावा दिया जाता है। आमजनों के बीच में बिना पैसे के गुणवत्तापूर्णं चिकित्सीय सेवाओं को बढ़ावा देने के लिये स्वास्थ्य देख-भाल संस्थानों के द्वारा सार्वजनिक जगहों और कई स्वास्थ्य केन्द्रों पर मुफ्त चिकित्सीय परीक्षण कैंप लगाए जाते हैं।

वरिष्ठ नागरिक और गरीब लोगों के बीच स्वास्थ्य पोषण पर बातचीत और स्थायी बीमारी जागरुकता, स्वास्थ्य परामर्श, स्वास्थ्य स्थिति को आँकने के लिये सामान्य प्रदर्शन टेस्ट कैंप भी आयोजित किये जाते हैं। सभी के जीवन में डॉक्टर के बहुमूल्य भूमिका के बारे में लोगों को जागरुक करने के लिये मुफ्त खून जाँच, आकस्मिक खून सूगर जाँच, इसीजी, इइजी, ब्लड प्रेशर जाँच आदि क्रिया-कलाप आयोजित किये जाते हैं।

समर्पित मेडिकल पेशे की ओर ज्यादा युवा विद्यार्थियों को बढ़ावा देने के लिये स्कूल और कॉलेज स्तर पर कुछ गतिविधियाँ भी आयोजित की जाती है। चिकित्सक मुद्दे पर चर्चा, प्रश्न-उत्तर प्रतियोगिता, खेल क्रियाएँ, रचनात्मक ज्ञान के लिये विद्यार्थियों के लिये वैज्ञानिक औजारों का उपयोग, मेडिकल पेशे को मजबूत और ज्यादा जिम्मेदार बनाने के लिये नयी और असरदार शैक्षणिक रणनीतियों को लागू करना।

मेल के द्वारा ग्रीटिंग संदेश, उन्हें फूलों का गुच्छा या बुके देकर, इ-कार्ड, सराहना कार्ड, अभिवादन कार्ड वितरण करने के द्वारा 1 जुलाई को मरीज अपने डॉक्टर का अभिवादन करते है। मेडिकल पेशे की ओर डॉक्टर के उस दिन के महत्व और योगदान को याद करने के लिये डॉक्टर्स दिवस के द्वारा घर या नर्सिंग होम पर, अस्पाताल में पार्टी और डीनर स्वास्थ्य केन्द्र पर आयोजित किये जाते हैं, तथा खास सभाएँ होती हैं।

Doctors day speech in english

‘National Doctor’s Day’ in India is celebrated on 1st July every year. It is the birthday of Dr Bidhan Chandra Roy. Dr Bidhan Chandra Roy was born on July 1, 1882.

The Doctor’s Day is celebrated on July 1 all across India to honour the legendary physician and the second Chief Minister of West Bengal, Dr Bidhan Chandra Roy. He was honoured with the country’s highest civilian award, ‘Bharat Ratna’.

A doctor dedicates his life to the service of the patients. He or she relieves the sufferings and pain of mankind. He cures them from disease and illness. He strives to make the life of others better and healthier. The observance of National Doctor’s Day fulfills a need to show the doctors and physicians in our lives.

Doctors day celebration speech

अक्सर छोटे बच्चो Kids को स्कूलों में अंतरराष्ट्रीय चिकिस्तक दिवस के बारे में लिखना होता है (वर्ल्ड डॉक्टर्स डे के ऊपर दस लाइन लिखें ) पढ़ाया जाता है तथा उसमे हर क्लास के बच्चे in hindi for class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11 और class 12 इस तरह से इंटरनेट पर सर्च करते है व स्कूलों के प्रोग्राम व कम्पटीशन में भाग लेते है| ऊपर दी हुई जानकारी में शामिल है इन निबंधों में शामिल है लेख एसेज, anuched, short paragraphs, pdf, wikipedia, Composition, Paragraph, Article हिंदी, निबन्ध (Nibandh).

जिस प्रकार सैनिक देश की रक्षा करते हैं उसी प्रकार डॉक्टर हमारे स्वास्थ्य की रक्षा करते हैं । प्रोफेसर और इंजीनियर की भाँति ही डॉक्टर का समाज में महत्त्वपूर्ण स्थान है ।

डॉक्टरों को समाज में सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है । हमारे देश में कई चिकित्सा, आयुर्वेद और ऐलोपैथी के अलग-अलग डॉक्टर होते हैं । डॉक्टर का कार्य रोगों का निदान करना है । जब भी हम बीमार पड़ते हैं, हमें डॉक्टर की शरण लेनी पड़ती है । बुखार से लेकर गंभीर रोगों में डॉक्टर ही हमारी पीड़ा दूर करता है ।

सामान्य रोगों में कोई भी डॉक्टर इलाज कर लेता है, पर दुर्घटना होने पर गुर्दे खराब हाने पर, नेत्र ज्योति नष्ट होने पर हमें शल्य चिकित्सक का ही सहारा लेना पड़ता है । डॉक्टर ऑपेरशन के द्वारा ही हमें नव जीवन प्रदान करता है । टी॰ बी॰, पक्षधात, हृदय रोग, कैंसर आदि बीमारियाँ डॉक्टर ही बड़े प्रयत्न से ठीक कर पाता है ।

डॉक्टरों का जीवन सेवा और साधना का होता है । कई बार ऑपरेशन के दौरान डॉक्टर को कई-कई घंटे काम करना पड़ता है । वह आराम से सो भी नहीं पाता । सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों को कई-कई घंटे रोगियों को देखना पड़ता है । रोगी की स्थिति गंभीर होने पर उनकी रात में कई-कई बार जाँच करनी पड़ती है । डॉक्टर मनुष्य को जीवन-दान दे कर उस पर उपकार करता है ।

आज का युग पैसे का युग है । आज डॉक्टर भी अधिकाधिक पैसे कमाना चाहता है । अनेकडॉक्टर इतनी ऊँची फीस लेते हैं कि उच्च मध्यमवर्ग के लोग भी उनकी सेवाओं का लाभ नहीं उठा पाते । निर्धन रोगी तो धन के अभाव में तड़प तड़पकर मर जाता है ।

एक अच्छे डॉक्टर के लिए अच्छा वेतन होना आवश्यक है । उस का स्वभाव मृदुल होना चाहिए । डॉक्टर अपने रोगी को दिलासा और विश्वास देता है । अपनी मुस्कान से उसका कष्ट दूर करता है । डॉक्टर का दृष्टिकोण केवल पैसा बनाना ही नहीं होना चाहिए ।

जो लोग एलोपेथी के डॉक्टरों की फीस नहीं चुका सकते और महंगी औषधियां नहीं खरीद सकते, उन्हें चहिए कि वे होम्योपैथी या आयुर्वेद के डॉक्टर के पास जायें । इन डॉक्टरों की फीस कम और औषधियां कम महँगी हैं । अनेक डॉक्टर धर्मार्थ औषधालयों में रोगियों की सेवा करते हैं । वे बहुत कम वेतन लेते हैं । ऐसे डॉक्टर प्रशंसा के पात्र हैं । वे सही अर्थो में मानवता के सेवक हैं ।

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस स्पीच

Doctors day speech in malayalam

എല്ലാ വർഷവും ജൂലൈ 1 ന് ഇന്ത്യയിൽ ‘നാഷണൽ ഡോക്ടറുടെ ദിനം’ ആഘോഷിക്കുന്നു. ഡോ. ബിഥാൻ ചന്ദ്ര റോയിയുടെ ജന്മദിനമാണ്. 1882 ജൂലൈ 1 ന് ഡോ. ബിഥാൻ ചന്ദ്ര റോയ് ജനിച്ചു.

മഹാനായ ഡോക്ടറേയും ബംഗാൾ രണ്ടാമത്തെ മുഖ്യമന്ത്രിയായിരുന്ന ഡോ. ബിഥാൻ ചന്ദ്ര റോയ്യേയും ബഹുമാനിക്കുന്നതിനായി ജൂലൈ 1 ന് ഡോക്ടർമാരുടെ ഡേ ആഘോഷിക്കുന്നു. രാജ്യത്തെ പരമോന്നത സിവിലിയൻ ബഹുമതിയായ ‘ഭാരതരത്നം’ അദ്ദേഹത്തിനു ലഭിച്ചു.

രോഗികളെ ശുശ്രൂഷിക്കുന്ന ഒരു ഡോക്ടർ തന്റെ ജീവിതം സമർപ്പിക്കുന്നു. അവൻ അല്ലെങ്കിൽ അവൾ മനുഷ്യരാശിയുടെ കഷ്ടപ്പാടുകളും വേദനയും ഒഴിവാക്കും. രോഗം, രോഗം എന്നിവയിൽ നിന്നും അവരെ സുഖപ്പെടുത്തുന്നു. മറ്റുള്ളവരുടെ ജീവിതം മെച്ചപ്പെടുത്താനും ആരോഗ്യം നേടാനും അദ്ദേഹം പരിശ്രമിക്കുന്നു. നാഷണൽ ഡോക്ടറുടെ ദിനാചരണം നമ്മുടെ ജീവിതത്തിൽ ഡോക്ടർമാരും ഡോക്ടർമാരും കാണിക്കേണ്ടതിന്റെ ആവശ്യം നിറവേറ്റുന്നു.

Doctors day speech in telugu

భారతదేశంలో ‘నేషనల్ డాక్టర్స్ డే’ ప్రతి సంవత్సరం జూలై 1 న జరుపుకుంటారు. ఇది డాక్టర్ బిధన్ చంద్ర రాయ్ పుట్టినరోజు. డాక్టర్ బిదాన్ చంద్ర రాయ్ జూలై 1, 1882 న జన్మించారు.

డాక్టర్ డే భారతదేశం అంతటా జూలై 1 న జరుపుకుంటారు, ఇది ప్రముఖ వైద్యుడు మరియు పశ్చిమ బెంగాల్ రెండవ ముఖ్యమంత్రి డాక్టర్ బిదాన్ చంద్ర రాయ్ గౌరవించటానికి. దేశంలోని అత్యున్నత పౌర పురస్కారమైన ‘భారత్ రత్న’తో ఆయన గౌరవించారు.

ఒక వైద్యుడు తన జీవితాన్ని రోగుల సేవకు అంకితం చేస్తాడు. అతను లేదా ఆమె మానవజాతి యొక్క బాధలు మరియు నొప్పి నుండి ఉపశమనాన్ని పొందుతుంది. అతను వ్యాధి మరియు అనారోగ్యం నుండి వాటిని నివారిస్తాడు. అతను ఇతరుల జీవితాన్ని మంచిది మరియు ఆరోగ్యకరమైనదిగా చేయటానికి కృషి చేస్తాడు. నేషనల్ డాక్టర్ డే యొక్క ఆచారం మన జీవితాల్లో వైద్యులు మరియు వైద్యులు చూపించే అవసరాన్ని నెరవేరుస్తుంది.

Doctors day speech in tamil

இந்தியாவில் ‘தேசிய டாக்டர் தினம்’ ஒவ்வொரு ஆண்டும் ஜூலை 1 அன்று கொண்டாடப்படுகிறது. டாக்டர் பிதன் சந்திரா ராய் பிறந்தநாள் இது. டாக்டர் பிதன் சந்திரா ராய் ஜூலை 1, 1882 இல் பிறந்தார்.

டாக்டர் தினம் ஜூலை 1 அன்று இந்தியா முழுவதும் பரம்பரையினர் மற்றும் மேற்கு வங்கத்தின் இரண்டாவது முதலமைச்சர் டாக்டர் பிதன் சந்திரா ராய் ஆகியோருக்கு மரியாதை அளிக்கப்படுகிறது. ‘பாரத ரத்னா’ நாட்டின் மிக உயரிய சிவில் விருதை அவர் பெற்றார்.

ஒரு மருத்துவர் நோயாளியின் சேவையை தனது வாழ்க்கையை அர்ப்பணிக்கிறார். அவர் அல்லது அவள் மனிதகுலத்தின் துன்பங்களையும் வேதனையையும் விடுவிப்பார். நோய் மற்றும் நோயிலிருந்து அவர் அவர்களை சுகப்படுத்துகிறார். மற்றவர்களின் வாழ்க்கையை சிறப்பாகவும் ஆரோக்கியமாகவும் செய்ய அவர் முயல்கிறார். தேசிய மருத்துவ டாக்டரின் அனுசரிப்பு எங்கள் வாழ்வில் மருத்துவர்கள் மற்றும் மருத்துவர்கள் காட்ட வேண்டிய அவசியம்.

Doctors day speech in marathi

अगर आप इंटरनेशनल डॉक्टर्स डे के लिए हर साल 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 के लिए Few lines on doctors day in Hindi, Sayings, Slogans, Messages, SMS, Quotes, Whatsapp Status, Words Character तथा भाषा Hindi font, hindi language, English, Urdu, Tamil, Telugu, Punjabi, English, Haryanvi, Gujarati, Bengali, Marathi, Malayalam, Kannada, Nepali के Language Font के 3D Image, Pictures, Pics, HD Wallpaper, Greetings, Photos, Free Download जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है|

भारतातील ‘राष्ट्रीय डॉक्टरांचा दिवस’ प्रत्येक वर्षी 1 जुलै रोजी साजरा केला जातो. हे डॉ. बिधान चंद्र रॉय यांचे वाढदिवस आहे. डॉ. बिधान चंद्र रॉय यांचा जन्म 1 जुलै 1 9 82 रोजी झाला.

डॉक्टरांच्या दिनी 1 जुलै रोजी सुप्रसिद्ध चिकित्सक आणि पश्चिम बंगालचे दुसरे मुख्यमंत्री डॉ. बिधान चंद्र रॉय यांच्या सन्मानार्थ संपूर्ण भारतभर साजरा केला जातो. देशाचा सर्वोच्च नागरी सन्मान, ‘भारत रत्न’ या पुरस्कारासह त्यांना सन्मानित करण्यात आले.

डॉक्टरांनी आपले जीवन रुग्णांच्या सेवेला समर्पित केले. तो किंवा ती मानवजातीच्या दुःख आणि वेदना आराम करते. तो त्यांना रोग व आजारांपासून बरे करतो. इतरांच्या जीवनास चांगले आणि निरोगी बनविण्यासाठी तो प्रयत्न करतो. राष्ट्रीय डॉक्टरांच्या दिवसाचे आयोजन आपल्या जीवनात डॉक्टर आणि डॉक्टरांना दाखविण्याची गरज पूर्ण करते.

Doctors day speech in kannada

ಭಾರತದಲ್ಲಿ ‘ನ್ಯಾಷನಲ್ ಡಾಕ್ಟರ್ಸ್ ಡೇ’ ಅನ್ನು ಪ್ರತಿವರ್ಷ ಜುಲೈ 1 ರಂದು ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಇದು ಡಾ ಬಿಧನ್ ಚಂದ್ರ ರಾಯ್ ಅವರ ಜನ್ಮದಿನವಾಗಿದೆ. ಡಾ. ಬಿಧಾನ್ ಚಂದ್ರ ರಾಯ್ ಜುಲೈ 1, 1882 ರಂದು ಜನಿಸಿದರು.

ಡಾಕ್ಟರ್ ಡೇಯನ್ನು ಜುಲೈ 1 ರಂದು ಭಾರತದಾದ್ಯಂತ ಪ್ರಸಿದ್ಧ ವೈದ್ಯ ಮತ್ತು ಪಶ್ಚಿಮ ಬಂಗಾಳದ ಎರಡನೇ ಮುಖ್ಯಮಂತ್ರಿ ಡಾ. ಬಿಧಾನ್ ಚಂದ್ರ ರಾಯ್ ಅವರನ್ನು ಗೌರವಾರ್ಥವಾಗಿ ಆಚರಿಸಲಾಗುತ್ತದೆ. ಅವರಿಗೆ ದೇಶದ ಅತ್ಯುನ್ನತ ನಾಗರಿಕ ಪ್ರಶಸ್ತಿ ‘ಭಾರತ್ ರತ್ನ’ ಗೌರವ ನೀಡಲಾಯಿತು.

ರೋಗಿಗಳ ಸೇವೆಗೆ ವೈದ್ಯರು ತಮ್ಮ ಜೀವನವನ್ನು ಅರ್ಪಿಸುತ್ತಿದ್ದಾರೆ. ಅವನು ಅಥವಾ ಅವಳು ಮಾನವಕುಲದ ನೋವು ಮತ್ತು ನೋವನ್ನು ಶಮನಗೊಳಿಸುತ್ತಾನೆ. ರೋಗ ಮತ್ತು ಅನಾರೋಗ್ಯದಿಂದ ಅವರನ್ನು ಗುಣಪಡಿಸುತ್ತಾನೆ. ಇತರರ ಜೀವನವನ್ನು ಉತ್ತಮ ಮತ್ತು ಆರೋಗ್ಯಕರವಾಗಿಸಲು ಅವನು ಶ್ರಮಿಸುತ್ತಾನೆ. ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ಡಾಕ್ಟರ್ ದಿನದ ಆಚರಣೆ ನಮ್ಮ ಜೀವನದಲ್ಲಿ ವೈದ್ಯರು ಮತ್ತು ವೈದ್ಯರನ್ನು ತೋರಿಸಬೇಕಾದ ಅಗತ್ಯವನ್ನು ಪೂರೈಸುತ್ತದೆ.

 

Leave a Comment