Nibandh

डॉक्टर्स डे पर निबंध 2018 – National Doctors Day Essay in Hindi – राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस एस्से

Happy Doctors Day 2018: 1 जुलाई भारत में डॉक्टर दिवस के रूप में मनाया जाता है। डॉक्टर दिवस हमारे दैनिक जीवन में चिकित्सक भूमिका के बारे में जागरूकता बढ़ाने का अवसर है। अक्सर लोग पूछते हैं की हम डॉक्टर डे क्यों मानते हैं? इसकी वजह यह है की यह पौराणिक चिकित्सक डॉ बिधान चंद्र रॉय के जन्म और मृत्यु दिवस के लिए मनाया जाता है| वे पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री भी थे और उन्हें अपने दूरदर्शी नेतृत्व के लिए राज्य का वास्तुकार कहा जाता है। आज के इस पोस्ट में हम आपको डॉक्टर्स डे निबंध, डॉक्टर्स डे एस्से इन हिंदी, few lines on doctors day, doctors day paragraph in hindi, राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस निबंध, राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस एस्से, international doctors day essay, doctors day essay in hindi, अंतर्राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे का महत्व, इंटरनेशनल डॉक्टर्स डे एस्से, इंटरनेशनल डॉक्टर्स डे निबंध इन मराठी, हिंदी, इंग्लिश, बांग्ला, गुजराती, तमिल, तेलगु, आदि की जानकारी देंगे|

Doctors day 2018 Theme

National Doctors’ Day 2018: विश्व चिकित्सक दिवस भारत समेत पूरे विश्व भर में 1 जुलाई 2018 को मनाया जाएगा| इस दिन रविवार का दिन है| इस बार डॉक्टर्स डे थीम २०१८ अभी अनाउंस होना बाकी है|

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस पर निबंध

Doctors day 2018 in India: आइये देखें doctors day essay pdf in hindi, world doctors day essay, national doctors day nibandh, doctors day essay in school, doctors day essay in india, Doctors Day Speech in Hindi, international doctors day essay, डॉक्टर्स डे पर कविता, importance of doctors day essay, national doctors day essay, राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस, डॉक्टर्स डे date, चिकित्सक दिवस, वर्ल्ड डॉक्टर्स डे, डॉक्टर पर कविता, जागतिक डॉक्टर दिवस, Doctors Day Quotes in Hindi, 10 sentences about doctor in hindi, Doctors Day Messages,doctors day special essay, happy doctors day nibandh, doctors day nibandh essay for students, doctors day essay pdf, doctors day short essay for children’s, डॉक्टर्स डे 1st July 2018, Doctor Day Wishes in hindi, doctors day Day Nibandh speech, ppt, डॉक्टर्स डे पर हिंदी निबंध हिंदी में 100 words, 150 words, 200 words, 400 words जिसे आप pdf download भी कर सकते हैं|

प्रस्तावना

भारत में डॉक्टरों को ऊँचा दर्जा दिया जाता है। हालांकि भारत में स्वास्थ्य सेवा उद्योग विश्व के विकसित देशों के समान नहीं है परन्तु हमारे पास चिकित्सा का अध्ययन करने के लिए अच्छी सुविधा है और इसके लिए प्रतिभाशाली डॉक्टरों का एक समूह भी है फिर भी भारत को स्वास्थ्य सेवा में लंबा रास्ता तय करना है।

भारत में डॉक्टर और हेल्थकेयर

यहां स्वास्थ्य सेवा उद्योग की स्थिति और हमारे देश के डॉक्टरों पर एक संक्षिप्त नज़र डाली गई है:

भारत में कई निजी नर्सिंग होम और अस्पतालों की स्थापना की जा रही है। विडंबना यह है कि इनमें से कोई भी जनता की सेवा के उद्देश्य से स्थापित नहीं किया जा रहा है। ये सिर्फ व्यापार करने के लिए हैं।

सरकार ने कई सरकारी अस्पतालों का गठन किया है। इनमें से कई में एक अच्छा बुनियादी ढांचा है पर अधिकांश को अच्छी तरह प्रबंधित नहीं किया जा रहा है। स्वास्थ्य सेवा उद्योग में विभिन्न स्तरों पर बहुत भ्रष्टाचार है। हर कोई पैसे कमाना चाहता है भले ही इसके लिए किसी के स्वास्थ्य की कीमत चुकानी पड़े।

सरकारी अस्पतालों में कार्यरत कर्मचारी भी रोगियों को ठीक से सेवा देने के लिए प्रतिबद्ध नहीं हैं। ऐसे कई मामले देखने को मिले हैं जहां रिपोर्ट गलत साबित हो जाती है और रोगियों को समय पर दवा नहीं मिल पाती। इसके अलावा जब अस्पताल में दवाएं और चिकित्सा उपकरणों की आपूर्ति की बात आती है तो कुप्रबंधन देखने को मिलता है।

न केवल मरीजों, डॉक्टरों को भी इस तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। डॉक्टरों का कर्तव्य रोगी की जांच करना, समस्या को दूर करना, इलाज करना और रोगी की स्थिति की निगरानी करना है। हालांकि नर्सों और कर्मचारियों की कमी के कारण डॉक्टरों को भी विभिन्न कार्यों को करने के लिए मजबूर किया जाता है। डॉक्टरों को रिपोर्टों का विश्लेषण करने और रोगी की स्थिति की निगरानी करने के लिए खर्च करने का समय फालतू के कार्यों में खर्च होता है जैसे इंजेक्शन देना और मरीजों को एक वार्ड से दूसरे में लेना ले जाना। यह काम डॉक्टरों पर बोझ और उनके बीच असंतोष पैदा करता है।

क्या हम डॉक्टरों पर विश्वास कर सकते हैं?

जैसा कि ऊपर बताया गया है निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम को व्यवसाय करने के उद्देश्य से स्थापित किया जा रहा है न कि जनता की सेवा के इरादे से। बार-बार धोखाधड़ी के कई मामलों के माध्यम से यह साबित हो गया है। विश्वास के पहलू के कारण भारत में लोग इन दिनों डॉक्टरों से इलाज करवाने में संकोच करते हैं। बहुत से लोग आम सर्दी, फ्लू और बुखार के लिए घर पर ही दवाओं को लेना पसंद करते हैं क्योंकि उनका मानना है कि चिकित्सक इस मुद्दे को अनावश्यक रूप से बढ़ा सकते हैं।

निष्कर्ष

हालाँकि कोई व्यक्ति सामान्य सर्दी और हल्के बुखार के लिए डॉक्टर से नहीं मिले तो चलता है पर अगर स्थिति बिगड़ जाती है तो अनदेखी नहीं करनी चाहिए। डॉक्टरों को ईमानदारी से अपना कर्तव्य पूरा करते हुए विश्वास का निर्माण करना महत्वपूर्ण है।

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस पर निबंध

National doctors day essay in Hindi

अक्सर छोटे बच्चो Kids को स्कूलों में अंतरराष्ट्रीय चिकिस्तक दिवस के बारे में लिखना होता है (वर्ल्ड डॉक्टर्स डे के ऊपर दस लाइन लिखें ) पढ़ाया जाता है तथा उसमे हर क्लास के बच्चे in hindi for class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7, class 8, class 9, class 10, class 11 और class 12 इस तरह से इंटरनेट पर सर्च करते है व स्कूलों के प्रोग्राम व कम्पटीशन में भाग लेते है| ऊपर दी हुई जानकारी में शामिल है इन निबंधों में शामिल है लेख एसेज, anuched, Doctors day images, short paragraphs, pdf, wikipedia, Composition, Paragraph, Article हिंदी, निबन्ध (Nibandh).

डॉक्टरों को समाज के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक माना जाता है। घर की तलाश करते समय देखे जाने वाली पहली चीजों में से सबसे पहले एक अस्पताल, नर्सिंग होम या डॉक्टर का क्लिनिक है। इसका कारण यह है कि पास में चिकित्सा संबंधी सहायता सुरक्षा की भावना प्रदान करती है।

रोगियों के लिए विशिष्ट उपचार प्रदान करने के लिए डॉक्टर विभिन्न क्षेत्रों में विशेषज्ञ हैं। इसमें से कुछ में एनेस्थिसियोलॉजिस्ट, कार्डियोलॉजिस्ट, एलर्जिस्ट, स्त्री रोग विशेषज्ञ, इम्मुनोलॉजिस्ट, निओनाटोलॉजिस्ट, ऑन्कोलॉजिस्ट, रेडियोलॉजिस्ट, प्रसूति, फिजियोलॉजिस्ट और बाल रोग विशेषज्ञ शामिल हैं। किसी भी मेडिकल समस्या का सामना करते समय अधिकांश लोग सामान्यत: डॉक्टरों के पास जाते हैं। ये डॉक्टर मरीजों की जांच करते हैं और उन्हें दवा लिखते हैं और यदि उन्हें ज़रूरत पड़े तो उसे विशेषज्ञ डॉक्टरों के पास भी भेज देते हैं।

लोगों को जिंदगी को लेकर डॉक्टरों पर भरोसा करना चाहिए पर बहुत से अविश्वासों का भी प्रसार किया जा रहा है। डॉक्टर इन दिनों मरीजों का इलाज करने के उद्देश्य से अभ्यास नहीं करते हैं बल्कि पैसा कमाने के लिए करते हैं। लोगों को एक सरल चिकित्सा संबंधी समस्या का इलाज करने के लिए भी कई परीक्षण कराने का सुझाव दिया जाता है। सरकारी अस्पताल और क्लीनिक चिकित्सा सेवाएं मुहैया कराने का दावा करते हैं लेकिन इन जगहों पर बहुत भ्रष्टाचार है।

हालांकि भारत में कई प्रतिभाशाली डॉक्टर हैं पर यहां स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र अच्छा नहीं है। कई योग्य डॉक्टर इन दिनों विदेशों में बेहतर अवसर तलाशने जा रहे हैं। इच्छुक चिकित्सक भी दवा के अध्ययन के लिए विदेशों में जा रहे हैं और वहां बस जाते हैं।

डॉक्टर्स डे पर निबंध

डॉक्टर्स डे पर हिंदी निबंध

अगर आप इंटरनेशनल डॉक्टर्स डे के लिए हर साल 2008, 2009, 2010, 2011, 2012, 2013, 2014, 2015, 2016, 2017 के लिए Few lines on doctors day in Hindi, Sayings, Slogans, Messages, SMS, Quotes, Whatsapp Status, Words Character तथा भाषा Hindi font, hindi language, English, Urdu, Tamil, Telugu, Punjabi, English, Haryanvi, Gujarati, Bengali, Marathi, Malayalam, Kannada, Nepali के Language Font के 3D Image, Pictures, Pics, HD Wallpaper, Greetings, Photos, Free Download जानना चाहे तो यहाँ से जान सकते है|

प्रस्तावना

डॉक्टरों को हमारे समाज में एक उच्च दर्जा दिया गया है। चिकित्सा पेशे को सबसे अच्छे व्यवसायों में से एक माना जाता है। यह एक व्यवसाय भी है जो अच्छी आय कमाने में मदद करता है।

डॉक्टर जीवन उद्धारकर्ता हैं

किसी भी समाज के लिए डॉक्टर आवश्यक हैं I उन्हें जीवन उद्धारकर्ता माना जाता है हमारे दैनिक जीवन में हम अक्सर उन स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करते हैं जो हमारी समझ से बाहर हैं। हमें इन समस्याओं को समझने और इसे ठीक करने के लिए डॉक्टर से मदद की ज़रूरत है। मेडिकल हस्तक्षेप के बिना स्थिति खराब हो सकती है। इस प्रकार डॉक्टरों को जीवन सौहार्य माना जाता है। वे चिकित्सा विज्ञान के अध्ययन में अपने जीवन के कई साल लगाते हैं। एक बार जब वे इस क्षेत्र के बारे में सैद्धांतिक और व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त कर लेते हैं तो उन्हें इस पेशे को संभालने के लिए पूरी तरह से प्रशिक्षण दिया जाता है जो उनका लक्ष्य है।

चिकित्सा व्यवसाय सदियों से विकसित हुआ है और अभी भी विकसित हो रहा है। विभिन्न बीमारियों की दवाएं तथा उपचार जो पहले उपलब्ध नहीं थे अब विकसित हुए हैं। चिकित्सा प्रौद्योगिकी ने भी समय गुजरने के साथ प्रगति की है। अगर हमारे पास अच्छे डॉक्टर हैं और हमारे आसपास के क्षेत्र में चिकित्सा सुविधाएं हैं तो यह राहत की भावना देता है क्योंकि हमें पता है कि हमारे पास तत्काल सहायता का साधन है।

एक योग्य डॉक्टर कैसे बने?

कई छात्र चिकित्सकीय पेशे में जाने और डॉक्टर बनने की इच्छा रखते हैं। इस दिशा में पहला कदम देश भर में सरकारी और निजी मेडिकल संस्थानों में एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों के लिए छात्रों का चयन करने के लिए हर साल राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) के लिए उपस्थित होना है। यदि आप इस प्रवेश परीक्षा में उपस्थित होना चाहते हैं तो अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा के दौरान आपके पास भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान प्रमुख विषयों के रूप में होना आवश्यक है। एक न्यूनतम प्रतिशत कसौटी भी निर्धारित है। जो छात्र प्रवेश परीक्षा पास करते हैं उन्हें काउंसलिंग में भी पास होना जरुरी है ताकि उनका दाखिला पक्का माना जाए।

निष्कर्ष

जहाँ लोग अपने जीवन को लेकर डॉक्टरों पर भरोसा करते हैं वहीँ अतीत में कुछ मामलों ने उनके विश्वास को हिला कर दिया है। डॉक्टरों को अपने पेशे के प्रति वफ़ादार रहना आवश्यक है।

National Doctors’ Day Essay in Marathi

भारतातील ‘राष्ट्रीय डॉक्टरांचा दिवस’ प्रत्येक वर्षी 1 जुलै रोजी साजरा केला जातो. हे डॉ. बिधान चंद्र रॉय यांचे वाढदिवस आहे. डॉ. बिधान चंद्र रॉय यांचा जन्म 1 जुलै 1 9 82 रोजी झाला.

डॉक्टरांच्या दिनी 1 जुलै रोजी सुप्रसिद्ध चिकित्सक आणि पश्चिम बंगालचे दुसरे मुख्यमंत्री डॉ. बिधान चंद्र रॉय यांच्या सन्मानार्थ संपूर्ण भारतभर साजरा केला जातो. देशाचा सर्वोच्च नागरी सन्मान, ‘भारत रत्न’ या पुरस्कारासह त्यांना सन्मानित करण्यात आले.

डॉक्टरांनी आपले जीवन रुग्णांच्या सेवेला समर्पित केले. तो किंवा ती मानवजातीच्या दुःख आणि वेदना आराम करते. तो त्यांना रोग व आजारांपासून बरे करतो. इतरांच्या जीवनास चांगले आणि निरोगी बनविण्यासाठी तो प्रयत्न करतो. राष्ट्रीय डॉक्टरांच्या दिवसाचे आयोजन आपल्या जीवनात डॉक्टर आणि डॉक्टरांना दाखविण्याची गरज पूर्ण करते.

Leave a Comment