गुर्दे और किडनी की पथरी का देसी आयुर्वेदिक घरेलु इलाज

Gurde aur Kidney Ki Pathri ka Desi Aayurvedic Gharelu Ilaaj: पानी की कमी, अयोग्य आहार तथा रहने का ढंग और गलत आदतों से गुर्दे में पथरी होना यह तो कोई आश्चर्य की बात नहीं होती है | पथरी होने से अत्यधिक् पीड़ा होती है क्योंकि गुर्दे में से पथरी मूत्रमार्ग में आ जाती है | जिस के कारण पेट के नीचे के भाग में अत्यधिक तेज दर्द शुरू हो जाता है और पेशाब करते समय भी अत्यंत तकलीफ और दर्द होता है|

पथरी मे परहेज

किडनी की पथरी का इलाज

इसमें साथ ही साथ चक्कर भी आने लगते है, जो की पथरी के लक्षण है | अगर ऐसा होता है, और सोनोग्राफी से भी कन्फर्म होता है तो आप इस किडनी स्टोन के ट्रीटमेंट का इलाज में अगर आयुर्वेदिक उपाय से घर पर ही कर सकते हैं और अगर आपको उस से कोई लाभ न हो तब आप लिथोट्रिप्सी का उपचार करे|

पथरी का होम्योपैथिक इलाज

इन घरलू उपचारो में थोड़ा सा अधिक समय तो लगता है पर इन से आसानी से काम हो जाता है | और दर्द या तकलीफ भी नहीं होती है | जैसे जैसे आप उपाय करते जायेगे वैसे वैसे पथरी का दर्द भी कम होने लगेगा क्यों कि पथरी के कंकर छोटे छोटे होने लगेंगे यानि की वह फिगलने लगते है |

  • प्याज का रस पथरी में सबसे फायदेमद होता है | दो प्याज को हलके से उबाले और इस पानी को पूरे दिन में बार बार पीते रहे|
  • जितना अधिक हो सके उतना पानी पीते रहे और हमेशा गुनगुना पानी का ही सेवन करे | हो सके तो इस में थोड़ा सा नीबू मिला ले |
  • पथरी का इलाज घरेलू रूप से करने के लिए एप्पल साइडर का विनेगर दिन में 3 बार,एक एक चमच्च एक गिलास पानी में मिला कर पीना भी अच्छा होता है |

पथरी में क्या खाये क्या ना खाये

  • पथरी में सवेरे उठ के करेले के जूस के साथ निम्बू को मिला के पीना चाहिए |
  • सब्जी में बथुआ और पालक जैसी सब्जिया बहुत फायदेमद होती है |
  • केला भी एक फायदेमद फल है क्योकि इसमें विटामिन B होता है |
  • गाजर भी पथरी में एक अच्छा विक्लप है|
  • तुलसी के कुछ पत्तो में थोड़ा सा अजवाइन को कूट कर चाय बना ले और उस का सेवन करना भी अच्छा होता है |

पथरी की आयुर्वेदिक दवा

पथरी में क्या नहीं खाना चाहिए

  • खाने में टमाटर, भिंडी, बैंगन, चीकू, काजू, कॉफ़ी, चॉकलेट, मॉस और गुटखा, व बीज वाली सब्जी नही खानी चाहिए | गुर्दे की पथरी में परहेज के दौरान इन सबसे बचना चाहिए|

पथरी की आयुर्वेदिक दवा

  • 3 ग्राम फिटकरी को सेक ले और उस को फुलाने तक सेके और 300 ml छाछ में मिला ले और दिन में 2 बार उस का सेवन करना चाहिए |
  • आमला, हरड़े और दभ की चूर्ण को मिला के पानी में उबाल कर उस का काढ़ा बना ले और हर रोज 25 ml 2 बार ले इस से भी आप को फायदा होगा |
  • पेठे को नियमित रूप से सेवन करने से पथरी मिट जाता है |

ऊपर दिए हुए तरीको में हमने आपको बताया है की गुर्दे और किडनी के पथरी का देसी आयुर्वेदिक घरेलु इलाज कैसे करेंगे यदि आप इन तरीको का अच्छे से पालन करेंगे तो आप जल्दी ही इस समस्या को दूर कर पाएंगे|आप को हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा होगा, ज़्यादा जानकारी के लिए पढ़ते रहे हमारी वेबसाइट|

सम्बंधित सर्च:

पथरी की दवा
पथरी के दर्द की दवा
पित की पथरी का उपचार
पथरी मे परहेज

loading...

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *